शांतिकुंज में निकाली गई जन जागरण रैली

 शांतिकुंज ने निकाली विश्व तंबाकू  निषेध दिवस पर जन जागरण रैली

हरिद्वार 31 मई। विश्व तंबाकू निषेध दिवस के मौके पर शांतिकुंज परिवार ने जन जागरण रैली निकाली। इस वर्ष विश्व तंबाकू निषेध दिवस की थीम बच्चों को तंबाकू उद्योग के हस्तक्षेप से बचाना  है।  इस रैली में शांतिकुंज के अंतेवासी कार्यकर्त्ता सहित विभिन्न साधना व प्रशिक्षण शिविरों में आये प्रशिक्षणार्थियों ने भाग लिया। तंबाकू भगाओ-देश बचाओ, पान बीड़ी और शराब-स्वास्थ्य को करते खराब, नशा नाश की जड़ है भाई जैसे विभिन्न नारे लगाये गये। 

अपने संदेश में अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि किसी भी रूप में तंबाकू का अधिक सेवन क्षय रोग, हृदय रोग, उदर रोग, नेत्रों की खराबी सहित अनेक बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती हैं। पैरों की नसों से लेकर मस्तिष्क तक को भारी नुकसान पहुंचाता है। इस समय युवाओं को तंबाकू जैसी खतरनाक नशे के सेवन से बचना है, तभी हमारा देश विकसित व सभ्य देश बन पायेगा। उन्होंने कहा कि विश्व के अनेक शैक्षणिक संस्थानों में हुए रिचर्स से पता चला है कि भयानक कैंसर रोग का एक बड़ा कारण धूम्रपान ही है। संस्था की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैलदीदी ने कहा कि भूटान सहित अनेक देशों में तंबाकू का प्रयोग निषिद्ध है, भारत को इन देशों से सीख लेना चाहिए। श्रद्धेया दीदी ने कहा कि दुर्व्यसन मनुष्य के वास्तविक प्राणघातक शत्रु हैं। इनमें मादक पदार्थ प्रधान हैं। तंबाकू, चरस, भाँग, अफीम, शराब आदि नशीली चीजें एक से एक बढ़कर हानिकारक हैं।

शांतिकुंज के संस्थापक युगऋषि पं श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने इस कई दशक पूर्व ही दुर्व्यसन मुक्त भारत की परिकल्पना की थी और अपने शिष्यों को इस दिशा में कार्य करने के लिए सदैव प्रेरित करते रहे। वर्तमान समय में श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या जी व श्रद्धेया शैलदीदी ने मार्गदर्शन एवं युवा आइकान डॉ चिन्मय पण्ड्या के नेतृत्व में राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं।

            

शांतिकुंज में दो दिवसीय शिक्षक गरिमा शिविर का समापन  

हरिद्वार 31 मई। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में दो दिवसीय शिक्षक गरिमा शिविर का आज समापन हो गया। इस शिविर में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा से जुड़े मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र राज्य के शिक्षक व शिक्षिकाएँ शामिल रहे।

शिविर के समापन समारोह को संबोधित करते हुए शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री शिवप्रसाद मिश्र ने कहा कि  प्राचीनकाल में जिस तरह गुुरुओं ने अपने आचरण व व्यवहार से शिष्यों को संस्कृति को पढ़ाने और उन्हें संस्कार देने का कार्य किया करते थे। युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य ने भी अपने शिष्यों को तैयार किया है, उसी तरह आज शिक्षकों को शिक्षण के साथ अपने आचरण व व्यवहार से विद्यार्थियों को तैयार करना चाहिए। देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलपति श्री शरद पारधी ने अध्यापकोंं को युग निर्माता बताया। 

समापन अवसर पर मध्यप्रदेश के सीमा नामदेव, चंद्रमोहन गौड़, ज्योति दीक्षित, राजेश कुमार त्रिवेदी, रविशंकर पारखे तथा महाराष्ट्र के रजनी लुंगसे, हनुमंत गौर गोरखनाथ शिंदे, प्रसन्न बुलढाणा, नीता संतोष, गणेश पिंडरी आदि को उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए सम्मानित किया गया। दो दिवसीय इस शिविर में कुल दस सत्र हुए, जिसमें श्री वीरेन्द्र तिवारी, श्री योगेन्द्र गिरि, श्री


रामयश तिवारी, श्रीमती शशिकला साहू, श्री अभय सक्सेना आदि ने भी संबोधित किया।

बजरंग दल का प्रशिक्षण वर्ग हुआ संपन्न

 संविधान बदलने और आरक्षण खत्म करने की बात कर विपक्ष फैला रहा भ्रम-आलोक कुमार



हरिद्वार, 31 मई। विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में संविधान बदलने का जो मुद्दा विपक्ष द्वारा उठाया जा रहा है। वह पूरी तरह झूठ है। संविधान बदलने जैसी कोई बात नहीं है। इससे बड़ा कोई झूठ नहीं है। गुरूकुल महाविद्यालय में आयोजित बजरंग दल के प्रशिक्षण वर्ग के समापन के दौरान पत्रकारों से वार्ता करते हुए आलोक कुमार ने कहा कि संविधान बदलने और आरक्षण खत्म करने जैसे मुद्दे उठाकर विपक्ष भ्रम फैला रहा है और समाज को बांटने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि विहिप का स्पष्ट मत है कि आरक्षण तब तक चलना चाहिए। जब तक समाज में समानता नहीं आ जाती। जब अनुसूचित समाज स्वयं कहे कि समाज में व्याप्त असमानता समाप्त हो चुकी है तो इस पर विचार किया जाना चाहिए। 


अयोध्या राममंदिर के संबंध में विहिप अध्यक्ष ने कहा कि मंदिर की पहली मंजिल पर महर्षि वाल्मीकि, माता शबरी, जटायु, वशिष्ठ और विश्वामित्र की मूर्तियां स्थापना करने का काम चल रहा है। जो कि इस वर्ष के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा। काशी मथुरा के सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार पक्ष में है। इसलिए किसी आंदोलन की जरूरत नहीं है। मामला न्यायालय में विचाराधीन है। हमारे तथ्य और तर्क मजबूत हैं। फैसला हिंदू समाज के पक्ष में आने की पूरी उम्मीद है। हाल ही में आयी देश में मुस्लिम आबादी बढ़ने और हिंदू आबादी घटने की रिपोर्ट पर उन्होंने कहा कि जनसांख्यिकी संतुलन बनाए जाने की आवश्यकता है। हिंदू समाज को कम से कम दो बच्चे पैदा करने के लिए जागरूक किया जाएगा। 


विश्व हिन्दू परिषद प्रचार प्रसार विभाग के प्रांत प्रमुख पंकज चौहान ने बताया कि 24 मई से शुरू हुए बजरंग दल के प्रशिक्षण वर्ग में 23 सांगठनिक जिलों के 122 प्रशिक्षणार्थियों को संगठन की रीति नीतियों का प्रशिक्षण दिया गया। इस अवसर पर स्वामी रूपेंद्र प्रकाश, स्वामी आर्षदेव, योगी सोमनाथ, विहिप प्रांत मंत्री धीरेंद्र शर्मा, प्रांत संगठन मंत्री अजय कुमार, बजरंग दल प्रांत संयोजक अनुज वालिया, विहिप प्रांत प्रचार प्रसार प्रमुख पंकज चौहान, मोहित प्रधान, नवीन तेश्वर, भूपेंद्र सैनी, अमित मुल्तानिया, रोहित शास्त्री, अक्षय शर्मा, अमित कुमार, कुलदीप कुमार, शिवम सिंह बिष्ट, जिवेंद्र तोमर, भूपेंद्र सैनी आदि मौजूद रहे।




गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय शोध गोष्ठी का हुआ आयोजन

 वैदिक जीवन पद्धति से ही श्रेष्ठ मानव निर्माण सम्भव 

हरिद्वार 30 मई गुरुकुल काँगड़ी समविश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग में द्विदिवसीय  अंतरराष्ट्रीय


शोध-संगोष्ठी का प्रारम्भ हुआ। कार्यक्रम में गुरुकुल के कुलपति प्रो० अम्बुज शर्मा ने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि वैदिक शिक्षाएँ वर्तमान में अत्यधिक प्रासंगिक है। कार्यक्रम के  मुख्यातिथि, उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० दिनेशचन्द्र शास्त्री ने कहा कि भारतीय संस्कृति के सम्पोषण से ही विश्व की वर्तमानकालीन समस्याओं का समाधान सम्भव है। मुख्यवक्ता केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, नई दिल्ली के प्रो० विजयपाल प्रचेता ने “आधुनिक समस्याएं एवं वैदिक जीवन पद्धति” विषय पर अपना पक्ष प्रस्तुत किया। संस्कृत विभागाध्यक्ष प्रो० ब्रह्मदेव विद्यालंकार ने स्वागत उद्बोधन से अतिथियों का स्वागत किया। विभाग के वरिष्ठ प्रोफेसर सोमदेव शतांशु ने कहा कि मानवीय मूल्यों में ह्रास के कारण वर्तमानकालीन समाज में विविध प्रकार की समस्याएँ निरंतर बढ़ती जा रही है, पारिवारिक विघटन, सामाजिक वैमनस्यता, संस्कार एवं संवेदनाओं की शून्यता, क्षेत्रवाद, जातिवाद, आतंकवाद, राजनीतिक कलुषता, आर्थिक कदाचार तथा पर्यावरण विषयक समस्याएँ निरंतर विकराल रूप धारण करती जा रही है, उक्त समस्त समस्याओं का समाधान वेद एवं संस्कृतसाहित्य में जीवन पद्धति के आचरण से ही संभव है वैदिक जीवन पद्धति मनुष्य को श्रेष्ठता प्रदान करती है श्रेष्ठ मानव ही एक आदर्श परिवार व समाज का निर्माण कर सकता है तथा श्रेष्ठ परिवार व समाज एक श्रेष्ठ राष्ट्र को द्योतित करता है आधुनिक सभी समस्याओं के समाधान के लिए वैदिक जीवन पद्धति का प्रचार प्रसार परमावश्यक है। सत्र का संयोजन डा० सुनीति आर्या, कन्यापारिसर, गु०का० ने किया। मध्याह्नोपरान्त आनलाइन एवं आफलाइन के माध्यम से देश-विदेश से ४० से अधिक शोधछात्र-छात्राओं ने, शिक्षक तथा विद्वानों ने अपना शोधपत्र प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में डा० वेदव्रत, डा० बबलू वेदालंकार, डा० शिवानन्द, डा० भारत वेदालंकार आदि उपस्थित रहे।

हरिद्वार मुक्केबाजी संघ ने किया खिलाड़ियों को सम्मानित

हरिद्वार 30 मई हरिद्वार मुक्केबाजी संघ के तत्वधान में वंदना कटारिया स्टेडियम, रोशनाबाद बॉक्सिंग हॉल में 29 में को  संघ द्वारा आयोजित जिला हरिद्वार मुक्केबाजी प्रतियोगिता में लगभग 155 खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया। इस प्रतियोगिता में मिनी आयु वर्ग में 8 से 12 वर्ष की बालिकाओं का मुक्केबाजी प्रदर्शन अत्यंत सुंदर एवं मनमोहक रहा। एवं विभिन्न प्रशिक्षण केंद्रो


के अंतर्गत विगत वर्षों से प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे खिलाड़ियों को अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए एक संघ द्वारा प्लेटफॉर्म दिया गया। जिसमें सभी खिलाड़ियों ने बढ़ चढ़कर प्रतिभाग किया और अपनी मुक्केबाजी कल का प्रदर्शन किया। 

इस मौके पर अध्यक्ष डॉ विशाल गर्ग ने जिले के विभिन्न पदाधिकारी का माल्यार्पण एवं पुष्पगुच्छ द्वारा स्वागत किया गया, जिसमें नवनियुक्त उपाध्यक्ष किशन सिंह महर एवं विभिन्न पदाधिकारी को भेंट किए गए। 

डॉ विशाल गर्ग ने बताया की जिला मुक्केबाजी प्रतियोगिता में हरिद्वार के विभिन्न जगह प्रशिक्षण दे रहे सभी प्रशिक्षण केदो के खिलाड़ियों को आमंत्रित किया गया है, जिसमें हरिद्वार स्थित हरिद्वार बॉक्सिंग अकैडमी, पतंजलि कन्या गुरुकुलम तथा ज्वालापुर स्थित दीक्षा राइजिंग स्कूल, रुड़की स्थित प्रहार बॉक्सिंग क्लब, मंगलोर स्थित नवीन बॉक्सिंग अकैडमी और नारसन गोकुलपुर में स्थित GFA आर्मी स्पोर्ट्स अकैडमी। 

सभी जगह से लगभग 155 खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता में मुख्य निर्णायक संरक्षक नरेंद्र सिंह, सदस्य शिखा चौहान, सुधीर जोशी और निर्णायक नवीन चौहान , किशन महर आदि की भूमिका में मुक्केबाजी की बारीकी से जानकारी रखने वाले सभी निर्णायक को द्वारा निर्णय बालक बालिकाओं के प्रदर्शन के बाद सर्व समिति से विजेता की घोषणा की गई।  

विजेता खिलाड़ियों को स्वर्ण पदक स्वर्ण पदक तथा उपविजेता को रजत पदक देकर सम्मानित किया 29 मई को विभिन्न भार वर्गों में विजेता खिलाड़ी इस प्रकार है रोशनाबाद स्टेडियम से आदित्य सिंह ,पंतञ्जली  गुरुकुलम से अंशराज , रविरंजन, अंकित, वंदना , सोनम, दिव्यांका, नक्श, अंजलि, प्रशंशा, स्नेहा, उर्वशी, ख़ुशी दीक्षा राइजिंग स्कूल ज्वालापुर से पुनीत, आदित्य भट्ट, आर्नव तोमर, माहि वर्मा  GFA आर्मी स्पोर्ट्स अकैडमी गोकुलपुर से गौरव, चेनिका, युवराज शिवांक, प्रहार बॉक्सिंग क्लब, रूडकी से रविंदर सिंह , दिया कुमारी, आदित्य तोमर तथा नवीन बॉक्सिंग अकादमी, रूडकी से शौर्य, अधिराज सिंह, रियांश,अश्विन , अक्षित डबास, प्रतिष्ठा चौधरी,पूर्वी चौधरी, आदित्य, वशी, जतिन कुमार, आरव गर्ग रहे तथा उपविजेता खिलाड़ी पंतञ्जली  गुरुकुलम से दिव्यज्योति,अनिमिषा, आद्या, भव्य, गीतांजलि, आश्था, सरस्वती  दीक्षा राइजिंग स्कूल ज्वालापुर से  मो आरहाम , जावेद, आर्नव गुप्ता GFA आर्मी स्पोर्ट्स अकैडमी गोकुलपुर से यशवी, चिराग , वंश प्रहार बॉक्सिंग क्लब, रूडकी से वंश, नवीन बॉक्सिंग अकादमी, रूडकी से यथार्थ भारद्वाज, शौर्य चौधरी, हर्ष चौधरी, अमन पाल, आराध्या, निहाल रहे। 

प्रतियोगिता के दौरान कोषाध्यक्ष सुधीर जोशी ने बताया की हरिद्वार जिले में स्थित सभी मुक्केबाजी प्रशिक्षक केदो में आए हुए उनके प्रशिक्षकों को संघ की तरफ से मान्यता प्रमाण पत्र वितरित किए गए और सभी प्रशिक्षकों को मुक्केबाजी संघ द्वारा आयोजित बैठक में आने के लिए भी आमंत्रित किया जाएगा। 

इस मौके पर आगे कोषाध्यक्ष सुधीर जोशी ने बताया की पूर्व खिलाड़ियों को भी हरिद्वार मुक्केबाजी संघ ने उनके स्थानीय निवास के आसपास मुक्केबाजी प्रशिक्षण केंद्र खोलने हेतु प्रोत्साहन योजना बनाई है कि यह पूर्व खिलाड़ी अपने निवास स्थान जगह पर मुक्केबाजी प्रशिक्षण केंद्र खोले और उसके लिए जो भी आर्थिक और खेल संबंधित मदद हर संभव मदद का प्रयास मुक्केबाजी संघ के द्वारा किया जाएगा इससे की यह खेल हर गली मोहल्ले के बच्चों तक पहुंच सके और सभी लक बालिका मुक्केबाजी खेल के प्रति आकर्षित हो ।

संघ द्वारा आमंत्रित सेंट थॉमस स्कूल की प्रधानाचार्य श्रीमती बीता गर्ग के द्वारा इस मुक्केबाजी प्रतियोगिता का प्रथम मुक्केबाजी मुकबला परिचय प्राप्त करने के उपरांत शुरू हुआ। प्रधानाचार्य ने बताया की मुक्केबाजी खेल एक अत्यंत अच्छा स्पेशलाइज्ड खेल है, इस खेल में सभी बालक और खासकर बालिकाओं को जरूर आना चाहिए क्योंकि खेल सीखने के उपरांत अगर आप एक सफल मुक्केबाज़ बनते हैं तो खिलाड़ी विभिन्न सरकारी विभागो के अंतर्गत खेल कोटे से नौकरी प्राप्त कर सकते हैं और आप अगर मुक्केबाजी में एक अत्यंत सफल मुक्केबाज ना भी बन पाए, तो आप स्वस्थ है के प्रति जागरूक रहते हैं तथा मुक्केबाजी खेल सीखने के उपरांत बालिकाओं में भी आत्मविश्वास भर जाता है आगे उन्होंने बताया की जो बालिकाएं विगत दो-तीन वर्षों से प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं उनके चेहरे पर आत्मविश्वास की झलक अलग ही दिख जाती है, उन बालिकाओं को किसी भी असामाजिक तत्व से डरने की जरूरत नहीं है और हम भी अपने स्कूल में बालिकाओं को मुक्केबाजी प्रतियोगिता के प्रति जागरूक करने के लिए अभियान चलाएंगे। 

तथा हरिद्वार मुक्केबाजी संघ का इस जागरूकता अभियान में एक अटूट भागीदार बनके रोशनाबाद के सभी सभी स्कूलों के बालक-बालिकाओ में मुक्केबाज़ी खेल के प्रति आकर्षण को जागृत करने में और खिलाड़ी बनने में मदद करेंगे। 

इस मौके पर सभी विजेता खिलाड़ियों को ट्रैकसूट और शर्ट देकर सम्मानित किया गया।  प्रतियोगिता के दौरान आए विभिन्न विशिष्ट अतिथिगण जिनमें अर्पित पंजवानी, प्रकाश शर्मा, उमेश बंदोलिया, अरविंद चौहान आदि ने हरिद्वार मुक्केबाजी संघ के प्रयास की तारीफ करी तथा संघ को हर संभव मदद देने के लिए इच्छा जताई।

श्रमजीवी पत्रकार संघ ने किया राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्वागत

 *भारती श्रमजीवी पत्रकार संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष  का तीर्थ नगरी में किया भव्य स्वागत*



हरिद्वार 24 मई  भारती श्रमजीवी पत्रकार संघ के राष्ट्रीय पदाधिकारी के साथ चंद्राचार्य चौक स्थित कॉफी डे रेस्टोरेंट में उत्तराखंड श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की बैठक संपन्न हुई बैठक में आगामी दो माह के अंदर हरिद्वार में यूनियन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक करने  के  विषय पर चर्चा हुई। बैठक में उत्तराखंड श्रमजीवी पत्रकार यूनियन को मजबूत करने के लिए सभी पदाधिकारी ने जोर दिया । भारती श्रमजीवी पत्रकार संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक पांडे जो की उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले से लोकसभा के प्रत्याशी भी है।  राष्ट्रीय पदाधिकारी का हरिद्वार  आगमन होने पर उनका जोरदार स्वागत किया गया ।बैठक मे राष्ट्रीय अध्यक्ष  अशोक पांडेय , राष्ट्रीय सचिव व मध्य प्रदेश प्रेस क्लब के अध्यक्ष नवीनानंद जोशी और राष्ट्रीय संगठन सचिव  गिरिधर शर्मा के साथ ही उत्तराखण्ड श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के महासचिव अमित कुमार गुप्ता, वरिष्ठ उपाध्यक्ष संजय रावल ,कोषाध्यक्ष डॉ हिमांशु द्विवेदी और कार्यकारणी सदस्य  संजय संतोषी उपस्थित रहे । बैठक के पश्चात उत्तराखंड श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के समस्त पदाधिकारी ने भारती श्रमजीवी पत्रकार संघ के राष्ट्रीय


पदाधिकारियों को  गंगाजी का प्रसाद गंगाजली व रुद्राक्ष की माला भेंट की ।

आर एस एस ने मनाए नरद जयंती

 *वर्तमान पत्रकारिता को नारद जी से प्रेरणा की आवश्यकता : डॉ.शैलेन्द्र* 

-उत्तराखंड सँस्कृत विश्वविद्यालय में नारद जयंती कार्यक्रम आयोजित

हरिद्वार 24 म ई  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचार विभाग द्वारा आयोजित देवर्षि नारद जयंती समारोह में मुख्य वक्ता के रूप में आरएसएस के प्रांत प्रचारक डा शैलेंद्र जी ने अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय की पत्रकारिता में भी देवर्षि नारद से प्रेरणा लेने की जरूरत है। मीडिया के बदलते स्वरूप को हमे चुनौती के रूप में लेने की जरूरत है। प्रिंट मीडिया, टीवी मीडिया और सोशल मीडिया का स्वरूप हमने देखा है और आगे 5G/ 6G के इंटरनेट के दौर में ये चुनौतियां और भी सामने आने वाली हैं।

डा शैलेंद्र ने कहा कि 2013 के बाद दुनिया भर में भारत को एक नया सम्मान मिल रहा है। अमेरिका, ब्रिटेन और अरब देशों में भारत के त्योहार वहां के राष्ट्रध्यक्ष के कार्यालयों में मनाए जा रहे हैं। हमारे मंदिर, सांस्कृतिक केंद्र वहां सक्रिय होकर दुनिया नया संदेश दे रहे हैं। भारत के जीवन मूल्य दुनिया में स्वीकार किए जा रहे हैं। योग, आर्युवेद, अध्यात्म की तरफ दुनिया खिंची चली आ रही है।

प्रांत प्रचारक ने बताया कि कैसे दूसरे देशों में सनातन संस्कृति का बोलबाला रहा और आज भी कई देशों में हमारी संस्कृति को स्वीकार किया जा रहा है। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लेते हुए कहा कि वहां के लोग भारत में मिलना चाहते हैं। वहां की हालत क्या हो गई किसी से छिपी नहीं है। भुखमरी के हाल पर वहां के लोग पहुंच गए हैं। हमें अपनी संस्कृति पर गर्व करना होगा। पुरानी बातें, पुराने संस्कारों को नई पीढ़ी को नए रूप में ढालकर देने की जरूरत है, जिसमें मीडिया को बड़ी भूमिका निभाने की जरूरत है।

इससे पूर्व वरिष्ठ पत्रकार रजनीकांत शुक्ला ने नारद के विषय में जानकारी दी। प्रेस क्लब हरिद्वार के अध्यक्ष अमित शर्मा ने बताया कि देवऋषि नारद जयंती के कार्यक्रम अब जनसंचार विश्वविद्यालयों के परिसर में ही होंगे, इससे नई पीढ़ी को नया अनुभव मिलेगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति डा दिनेश शास्त्री ने सभी अतिथियों का धन्यवाद दिया। इस अवसर पर विभाग प्रचारक अनिल गुप्ता, सेवा प्रमुख वीर प्रताप चौहान,अमित चौहान,आदित्य,अभिषेक,अमित शर्मा, विवेक कंबोज, विभाग प्रचारक चिरंजीव जी, जिला प्रचारक जगदीश,आयोजन समिति के डॉ. प्रविंद्र सिंह, डॉ. रूपेश शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार बीबी चंदेला, पंकज चौहान,विनय सैनी,करणसिंह चौहान,गनपत सैनी,प्रवीण कुमार, सचिन पालीवाल,अर्पित अग्रवाल,उमेश कुमार आदि मौजूद रहे।



गुरुकुल आयुर्वैदिक कॉलेज में संपन्न हुआ प्रशिक्षण कार्यक्रम

 पंचकर्म सहायकों का तृतीय प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न (दिनांक 20 मई से 24 मई 2024)




हरिद्वार 24 मई  उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के गुरुकुल परिसर के पंचकर्म विभाग में आयोजित पांच दिवसीय(20 से 24 मई  2024)पंचकर्म सहायक प्रशिक्षण तृतीय का समापन कार्यक्रम शुक्रवार को


संपन्न हुआ। इस अवसर पर उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के गुरुकुल परिसर के परिसर निदेशक प्रोफेसर विपिन कुमार पांडे ने पंचकर्म सहायकों को आयुर्वेद चिकित्सा की महत्वपूर्ण कड़ी बताया एवं पंचकर्म थेरेपी को पूर्ण मनोयोग एवं कुशलता से करने के लिए प्रेरित किया। पंचकर्म विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर उत्तम कुमार शर्मा ने  पंचकर्म विधा के आवश्यक पहलुओं जैसे कार्य कुशलता स्वच्छता एवं कार्य में सावधानी आदि की ओर पंचकर्म सहायकों का ध्यान आकर्षित किया एवं अपने कार्य से पीड़ित मानवता की सेवा करने को प्रेरित किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ मयंक भट्टकोटी ने किया एवं डॉ ज्ञानेंद्र शुक्ला ने धन्यवाद ज्ञापन किया।


 यह प्रशिक्षण कार्यक्रम पंचकर्म विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर उत्तम कुमार शर्मा के निर्देशन में संपन्न हुआ। इस प्रशिक्षण के अंतर्गत उत्तराखंड के विभिन्न राजकीय चिकित्सालयों  में कार्यरत 20 पंचकर्म सहायकों को पंचकर्म की विधियों जैसे वमन कर्म, विरेचन कर्म, नस्य कर्म, शिरोधारा, कटि वस्ति, पत्र पिंड स्वेद आदि का प्रत्यक्ष ज्ञान कराया गया एवं थेरेपी के नवाचार के बारे में भी उन्हें प्रशिक्षित किया गया। 


प्रशिक्षण का कार्य विभाग के शिक्षकों डा उत्तम कुमार शर्मा,डॉ मयंक भटकोटि, डॉ ज्ञानेंद्र शुक्ला, डॉ शिखा पांडे एवं अन्य संस्थाओं पतंजलि आयुर्वेद संस्थान हरिद्वार, चरक आयुर्वेद संस्थान दिल्ली, राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान जयपुर के विद्वानों द्वारा किया गया। गुरुकुल परिसर के परिसर निदेशक प्रोफेसर विपिन कुमार पांडे ने बताया कि उत्तराखंड सरकार द्वारा इस माह एक अन्य प्रशिक्षण कार्यक्रम दिनांक 26 मई से 30 मई तक संपन्न किया जाना है ।

स्वामी विवेकानंद अकैडमी मे संपन्न हुआ गायत्री यज्ञ

 हरिद्वार 24 अप्रैल बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर पूज्य गुरुदेव पं0 श्रीराम शर्मा जी एवं परम वंदनीय माताजी की असीम कृपा से, श्रद्धये


डॉ0 प्रणव पंड्या जी, डॉ0 चिन्मय पंड्या जी, स्नेह सलिला शैली दीदी के आशीर्वाद से शेफाली दीदी के स्नेह सौजन्य से गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वाधान में संपन्न हुआ।

 जिसमें प्रतिनिधियों के संरक्षण में प्रगत भारत संस्था द्वारा सेवार्थ संचालित विद्यालय स्वामी विवेकानंद एकेडमी जूनियर हाई स्कूल, ग्राम-कांगड़ी, श्यामपुर, हरिद्वार में हवन-यज्ञ संपन्न कराया गया।  उपस्थित प्रतिनिधि श्रीमती विजयलक्ष्मी यादव, श्री श्याम यादव, श्री कैलाश श्रीवास्तव, शिवम मार्सकोले, विशाल यादव, द्वारा संगीतमय-यज्ञ संपन्न कराया गया। जिसमे विद्यालय के बच्चों ने अनेक प्रकार के प्रेरणादायक गीत, प्रार्थनाएं व देशभक्ति गीत भी गाये। विद्यालय का संपूर्ण आभामंडल भक्तिमय  रहा। आयोजन के समापन होने पर विद्यालय के प्रबंधक सुदीप बनर्जी ने सभी आगंतुकों का हृदय से आभार व्यक्त किया। आयोजन में विद्यालय के समस्त अध्यापक-गण उप प्रधानाचार्य श्रीमती कविता बनर्जी, कार्यालय प्रमुख-मीनाक्षी भट्ट, मीनू सैनी, कुमारी स्वाति, दीपा गहतोड़ी, रीना नेगी, संगीता व बच्चों के अभिभावक उपस्थित रहे।

भीषण गर्मी में धूप और लू से बचे


 *लू लगना

जीवन अनमोल है अपना ध्यान रखें



लू लगने से मृत्यु क्यों होती है? 

दिल्ली से आंध्रप्रदेश तक.... सैकड़ो लोग लू लगने से मर रहे हैं। 


हम सभी धूप में घूमते है, फिर कुछ लोगो की ही धूप में जाने के कारण अचानक मृत्यु क्यों हो जाती है?


👉 हमारे शरीर का तापमान हमेशा 37° डिग्री सेल्सियस होता है, इस तापमान पर ही हमारे शरीर के सभी अंग सही तरीके से काम कर पाते है।


👉 पसीने के रूप में पानी बाहर निकालकर शरीर 37° सेल्सियस टेम्प्रेचर मेंटेन रखता है, लगातार पसीना निकलते वक्त भी पानी पीते रहना अत्यंत जरुरी और आवश्यक है।


👉 पानी शरीर में इसके अलावा भी बहुत कार्य करता है, जिससे शरीर में पानी की कमी होने पर शरीर पसीने के रूप में पानी बाहर निकालना बंद कर देता है।


👉 जब बाहर का टेम्प्रेचर 45° डिग्री के पार हो जाता है और शरीर की कूलिंग व्यवस्था ठप्प हो जाती है, तब शरीर का तापमान 37° डिग्री से ऊपर पहुँचने लगता है।


👉 शरीर का तापमान जब 42° सेल्सियस तक पहुँच जाता है, तब रक्त गरम होने लगता है और रक्त मे उपस्थित प्रोटीन पकने लगता है (जैसे उबलते पानी में अंडा पकता है)


👉  स्नायु कड़क होने लगते है, इस दौरान सांस लेने के लिए जरुरी स्नायु भी काम करना बंद कर देते हैं।


👉 शरीर का पानी कम हो जाने से रक्त गाढ़ा होने लगता है, ब्लडप्रेशर low हो जाता है। महत्वपूर्ण अंग (विशेषतः ब्रेन) तक ब्लड की सप्लाई रुक जाती है।


👉 व्यक्ति कोमा में चला जाता है और उसके शरीर के एक-एक अंग कुछ ही क्षणों में काम करना बंद कर देते हैं, जिससे उसकी मृत्यु हो जाती है।


👉 गर्मी के दिनों में ऐसे अनर्थ टालने के लिए लगातार थोडा थोडा पानी पीते रहना चाहिए, जिससे हमारे शरीर का तापमान 37° मेन्टेन किसी तरह रह पायेगा, इस ओर ध्यान देना चाहिए।

Equinox phenomenon: इक्विनॉक्स प्रभाव अगले 5 -7 दिनों मे एशिया के अधिकतर भूभाग को प्रभावित करेगा।


कृपया 12 से 3 बजे के बीच ज्यादा से ज्यादा घर, कमरे या ऑफिस के अंदर रहने का प्रयास करें।


तापमान 40 डिग्री के आस पास विचलन की अवस्था मे रहेगा।


यह परिवर्तन शरीर मे निर्जलीकरण और सूर्यातप की स्थिति उत्पन्न कर देगा।


(ये प्रभाव भूमध्य रेखा के ठीक ऊपर सूर्य चमकने के कारण पैदा होता है)


कृपया स्वयं को और अपने जानने वालों को पानी की कमी से ग्रसित न होने दें।


किसी भी अवस्था मे कम से कम 3 लीटर पानी जरूर पियें। किडनी की बीमारी वाले प्रति दिन कम से कम 6 से 8 लीटर पानी जरूर लें।


जहां तक सम्भव हो ब्लड प्रेशर पर नजर रखें। किसी को भी हीट स्ट्रोक हो सकता है।


ठंडे पानी से नहाएं। मांस का प्रयोग छोड़ें या कम से कम करें।


फल और सब्जियों को भोजन मे ज्यादा स्थान दें।


हीट वेव कोई मजाक नही है।


एक बिना प्रयोग की हुई मोमबत्ती को कमरे से बाहर या खुले मे रखें, यदि मोमबत्ती पिघल जाती है तो ये गंभीर स्थिति है।


शयन कक्ष और अन्य कमरों मे 2 आधे पानी से भरे ऊपर से खुले पात्रों को रखकर कमरे की नमी बरकरार रखी जा सकती है।


अपने होठों और आँखों को नम रखने का प्रयत्न करें।


जनहित में इस सन्देश को ज्यादा से ज्यादा प्रसारित करें।

🙏🙏🙏

सी ओ शांतनु पाराशर और डॉक्टर विशाल गर्ग ने किया बैडमिंटन चैंपियनशिप का शुभारंभ

 4जी श्मेसर बैडमिंटन चैंपियनशिप का भाजपा नेता डा.विशाल गर्ग और सीओ शांतनु पराशर ने किया शुभारंभ

हरिद्वार, 23 मई। ज्वालापुर स्थित एसके अकेडमी में आयोजित 4जी स्मेशर बैडमिंटन चैंपियनशिप का शुभारंभ भाजपा नेता एवं समाजसेवी डा.विशाल गर्ग एवं सीओ ज्वालापुर शांतनु पराशर ने फीता काटकर किया। अंडर 11, 13, 15, एवं 17 अलग-अलग श्रेणियों में बच्चों ने प्रतिभाग किया। तीन दिन तक चलने वाली प्रतियोगिता का फाइनल 27 मई को खेला जाएगा। विशाल गर्ग ने कहा की आज के समय में खेलों को लेकर बच्चो में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार लगातार खेलो और खिलाड़ियों को बढ़ावा देने के लिए प्रयास कर रही है। जिसका लाभ भी देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर इस तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन खिलाड़ियों की प्रतिभा को निखारने का काम करता है। सीओ ज्वालापुर शांतनु पराशर ने कहा की बच्चो में खेलो के प्रति रुचि बढ़ाने के लिए यह प्रयास सराहनीय है। उन्होंने आयोजक मंडल की प्रशंसा करते हुए कहा कि कमेटी का प्रयास शानदार है और इसका लाभ खेल और खिलाड़ी दोनो को मिलेगा। प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर भाजपा मंडल अध्यक्ष पुष्पेंद्र जोशी, सुमन कुमार, राजीव बजाज, करण बिष्ट, अमित दानी, अंकित बिश्नोई, मनोज खन्ना, विक्रम उर्फ नंदू, धनसुख, हिमांशु सैनी, राजबीर चौहान आदि उपस्थित रहे।


देशभर में एक साथ 24 लाख घरों में गूंजे गायत्री मंत्र

 गृहे-गृहे यज्ञ के अंतर्गत देश भर के 24 लाख घरों में एक साथ गायत्री यज्ञ

यज्ञ संसार चक्र की धुरी: डॉ पण्ड्या

हरिद्वार 23 मई। गायत्री परिवार की अधिष्ठात्री माता भगवती देवी शर्मा की साल 2026 जन्मशताब्दी वर्ष है। इस हेतु अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा विश्वभर में यज्ञीय आयोजन सम्पन्न कराने की योजना है। इस अभियान की कड़ी में बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर शांतिकंुज के तत्वावधान में गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ अभियान के अंतर्गत देश भर के 24 लाख से अधिक घरों में एक साथ एक ही समय में गायत्री यज्ञ किया गया। इसमें गायत्री परिवार के हजारों स्वयंसेवकों ने सर्वे भवंतु सुखिनः की भावना से यज्ञ सम्पन्न कराया और विश्व कल्याण की प्रार्थना की। 

अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या ने बताया कि गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ अभियान एक विश्वस्तरीय आध्यात्मिक प्रयोग है। बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर लगभग 24 लाख से अधिक घरों में एक साथ एक ही समय में यज्ञीय आयोजन सम्पन्न हुआ। इस बार लक्ष्य से अधिक घरों में गायत्री यज्ञ हुए। उन्होंने बताया कि आयोजन के लिए देश भर के गायत्री परिवार के सदस्यों द्वारा विगत एक सप्ताह से घर-घर संपर्क किया गया था और सोशल मीडिया के माध्यम से भी जन-जन तक यह संदेश पहुंचाया था। देवसंस्कृति विश्व विद्यालय के कुलाधिपति श्रद्ेधय डॉ पण्ड्या ने बताया कि यज्ञ ही संसार चक्र की धुरी है। विश्व की प्रथम एवं श्रेष्ठतम संस्कृति के माता-पिता गायत्री और यज्ञ हैं। संस्था की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैलदीदी ने कहा कि सद्बुद्धि की अधिष्ठात्री माता गायत्री की इस सामूहिक आराधना से देशभर में शांति की स्थापना होगी और भारत को समर्थ, शक्तिशाली व पुनः विश्व गुरु बनने की दिशा में अग्रसर होगा। साथ ही यज्ञ से देश के चहुंमुखी विकास में दैवीय अनुग्रह प्राप्त होगा, ऐसा विश्वास है।

आयोजन संयोजक श्री श्याम बिहारी दुबे ने बताया कि शांतिकंुज, हरिद्वार के निकटवर्ती क्षेत्रों सहित उत्तराखण्ड, मप्र, उप्र, बिहार, झारखण्ड, दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र सहित देश भर के करीब 25 राज्यों में एक साथ एक ही समय में गायत्री यज्ञ का आयोजन हुआ। इसके लिए उच्च प्रशिक्षित स्वयंसेवक याजकों के घरों में पहुंचे और निःशुल्क यज्ञ सम्पन्न कराया। साथ ही आस्ट्रेलिया, कनाडा, अमेरिका, फीजी, न्यूजीलैण्ड, यूरोप के सभी देश के अलावा अनेक देशों में भी गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ताओं ने यज्ञ सम्पन्न कराया।


बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली का हर की पौड़ी पर हुआ आगमन




 हर की पौड़ी पर गंगा पूजन के साथ शुरू हुआ बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह 

हंस फाउंडेशन की अध्यक्षा पूज्य मंगला माता जी भोले जी महाराज एवं श्रीमहंत ललिता नंद गिरी जी महाराज के सानिध्य में यात्रा के संयोजक उत्तराखंड सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे ,मंत्री प्रसाद नैथानी ने मां गंगा पूजन कर लिया गंगा मैया का आशीर्वाद 


हरिद्वार 17 मई   उत्तराखंड के जिला टिहरी गढ़वाल में विशौन पर्वत पर स्थित बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला  धाम से हरिद्वार आई डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह  हर की पौड़ी पर गंगा पूजन, देव डोलियों के गंगा स्नान के साथ प्रारंभ हुआ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हंस फाउंडेशन की अध्यक्षा मंगला माता जी एवं भोले जी महाराज रहे।  हरिद्वार में इस यात्रा के संयोजक भारत माता मंदिर के श्री महंत ललिता नंद गिरी जी ने हर की पौड़ी पर डोली यात्रा का स्वागत किया और पूज्य मंगला माताजी ,भोले जी महाराज ने मुख्य  रूप से बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला  डोली का पूजन कर डोली यात्रा को जनपद हरिद्वार भ्रमण और उसके पश्चात संपूर्ण उत्तराखंड के लिए रवाना किया।  इस अवसर पर पूज्य मंगला माता जी ने कहा कि उत्तराखंड सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे मंत्री प्रसाद नैथानी बाबा विश्वनाथ और मां जगदीशीला के अनन्य भक्त है


मंत्री प्रसाद नैथानी  का यह एक शुभ कार्य है जिसके माध्यम से उत्तराखंड में स्थित देवालयों , तीर्थ स्थलों को एक नई पहचान मिली है और उत्तराखंड में तीर्थाटन को बढ़ावा मिला है । इस रजत जयंती वर्ष में हमें भी इस डोली यात्रा में शामिल होने का अवसर प्राप्त हुआ है यह सौभाग्य की बात है । भारत माता मंदिर के श्रीमहंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज ने बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा के सामाजिक ,धार्मिक पहलू पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह डोली यात्रा संपूर्ण उत्तराखंड को धार्मिक ,सांस्कृतिक, एकता के सूत्र में बांधने का काम करती है यह कार्य पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे मंत्री प्रसाद नैथानी के द्वारा शुरू किया गया था जो अब एक परंपरा बन गई है। कैबिनेट मंत्री एवं इस यात्रा के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी ने इस  जयंती समारोह के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि इस बार रजत जयंती समारोह के अंतर्गत पूरे वर्ष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे जिसके अंतर्गत संपूर्ण उत्तराखंड में के  कुछ विशेष कार्य भी किए जाएंगे । हरिद्वार पहुंचने पर डोली यात्रा के स्थानीय संयोजक आमेश शर्मा , संजय अत्री , मनोज झा, विनोद नेगी, रुद्राक्ष,एडवोकेट वरुणेश चौधरी, समाजसेवी अनीता वर्मा ,संजय वर्मा ने डोली यात्रा का स्वागत किया। डोली यात्रा में देहरादून से शिक्षाविद कैलाशपति मैठाणी, ऋषिकेश से केदार सिंह लुठयागी, रुद्रपुर से दिनेश भट्ट, अल्मोड़ा से मुकेश कुमार, गोविंद सिंह पेटवाल ,सोनू सिंह ,इंद्र भूषण बडोनी , समिति के अध्यक्ष रूप सिंह बजयाला ,मनोज राणा तथा ग्यारह गांव हिदांव टिहरी गढ़वाल से बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्तजन शामिल रहे।

इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट संस्था का जाट संवाद कार्यक्रम हुआ आयोजित




 हरिद्वार १६  मई इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट संस्था का जाट संवाद कार्यक्रम का आयोजन जमालपुर स्थित राज राणा काम्प्लेक्स परिसर में हुआ जिसमें इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट संस्था के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष रामावतार परसानिया एवं संस्था के उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष टोनी वर्मा ने कार्यक्रम में आए हुए जाट समाज के युवाओं एवं गणमान्य लोगों से आह्वान करते हुए कहा कि वर्तमान समय में समाज में अपनी राजनीतिकऔर आर्थिक स्थिति में सुधार करने के लिए शिक्षा और व्यवसाय ही एकमात्र विकल्प है उन्होंने जाट समाज से अपने बच्चों को शिक्षित करने का आह्वान करते हुए कहा कि नेता विधायक और एमपी तो मात्र 5 वर्ष तक प्रभावशाली रहते हैं लेकिन उच्च शिक्षित युवक 40 साल तक आईएएस पीसीएस और बड़ा अधिकारी बनकर अपने समाज और राष्ट्र की सेवा कर सकते है इसलिए अपने बच्चों को संपत्ति ना देकर शिक्षा दे जमालपुर कला के पूर्व प्रधान सुशील राज राणा के संयोजन में आयोजित कार्यक्रम में शहर से बड़ी संख्या में समाजसेवी ,शिक्षक, डॉक्टर अधिवक्ता और युवाओं ने एकत्र होकर इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट के संवाद कार्यक्रम में प्रतिभाग किया ,आए हुए अतिथियों का स्वागत आजाद वीर, मोहित चौधरी, विपिन चौधरी, जगबीर सिंह, संजय चौधरी, झबरू सिंह शेखावत आदि ने किया।

गायत्री विद्यापीठ के होनहारों ने लिया डॉक्टर प्रणव पांडया एवं शैल दीदी से आशीर्वाद

 गायत्री विद्यापीठ के टॉपरों ने गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से लिया आशीर्वाद

हरिद्वार 15 मई। सीबीएसई के बोर्ड परीक्षा के परिणाम देख गायत्री विद्यापीठ के 12वीं व 10वीं विद्यार्थी झूम उठे। विद्यापीठ के टॉपरों नेे आज अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख एवं गायत्री विद्यापीठ के अभिभावकद्वय श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या एवं श्रद्धेया शैलदीदी ने भेंट की और अपने अपने भविष्य के लिए मार्गदर्शन पाया। इस अवसर पर श्रद्धेय डॉ पण्ड्या ने कहा कि गायत्री विद्यापीठ का शैक्षणिक स्तर साल दर साल उंचा उठ रहा है और विद्यापीठ विद्यार्थियों को उचित वातावरण देने के लिए संकल्पित है। विद्यापीठ के समस्त शिक्षक विद्यार्थियों के चहुंमुखी विकास के लिए संकल्पित हो, मनोयोगपूर्वक कार्य करते हैं। श्रद्धेया शैलदीदी ने कहा कि कड़ी मेहनत कभी भी निष्फल नहीं होती, समय के साथ अपना परिणाम अवश्य देता है, इसलिए सदैव कड़ी मेहनत करते रहना चाहिए। उन्हांेने महापुरुषों, संतों की कहानी से सीख लेकर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। 


गायत्री विद्यापीठ की व्यवस्था मण्डल प्रमुख श्रीमती शैफाली पण्ड्या ने उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं दी और उनके उज्ज्वल भविष्य के मार्गदर्शन दिया। प्रधानाचार्य श्री सीताराम सिन्हा आदि शिक्षकों ने भी उत्तीर्ण विद्यार्थियों को बधाई दी।

ऋषिकुल के छात्र-छात्राओं ने किया योग ग्राम का भ्रमण


*उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ऋषिकुल परिसर, हरिद्वार के बी. ए. एम. एस. तृतीय वर्ष एवं द्वितीय व्यावसायिक के छात्र / छात्राओं का योग, प्राकृतिक एवं पंचकर्म चिकित्सा एवं रिसर्च केंद्र, औरंगाबाद,योगग्राम(हरिद्वार) का शैक्षणिक भ्रमण कराया*

 

हरिद्वार 15 मई उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ऋषिकुल परिसर, स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग द्वारा बी. ए. एम. एस. तृतीय वर्ष एवं द्वितीय व्यावसायिक के कुल 91 छात्र / छात्राओं को स्वस्थवृत्त एवं योग विषय में आवश्यक प्रात्यक्षिक शैक्षणिक भ्रमण के अंतर्गत पतंजलि के योग, प्राकृतिक एवं पंचकर्म चिकित्सा एवं रिसर्च केंद्र,औरंगाबाद,योगग्राम(हरिद्वार) का शैक्षणिक भ्रमण  डॉ शोभित कुमार वार्ष्णेय एसो. प्रो. एवं विभागाध्यक्ष स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग, डॉ  प्रियंका शर्मा, असिस्टेंट प्रो.स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग, साथ ही योग, प्राकृतिक & पंचकर्म चिकित्सा एवं रिसर्च केंद्र के एच. आर श्री मनोज एवं योग, आयुर्वेद एवं प्राकृतिक चिकित्सा के चिकित्सक डॉ अनुराग शर्मा के मार्गदर्शन में कराया गया। इस केंद्र में पंचकर्म एवं विशेषता प्राकृतिक चिकित्सा के  पंच तत्वों (पृथ्वी, वायु, जल, अग्नि, आकाश ) के द्वारा विभिन्न रोगों का इलाज किया जा रहा है,इस शैक्षणिक भ्रमण में ऋषिकुल परिसर के बी.ए.एम.एस. तृतीय वर्ष 2020 बैच एवं द्वितीय व्यावसायिक 2021बैच के छात्र छात्राओं ने सूर्य चिकित्सा, मिट्टी चिकित्सा, जल चिकित्सा,वायु चिकित्सा,अग्नि चिकित्सा और एनिमा के प्रैक्टिकल अभ्यास पेशेंट को दिए जा रहे संपूर्ण चिकित्सा का अवलोकन किया साथ ही प्राकृतिक


चिकित्सा के सिद्धांतों का विस्तृत वर्णन प्राकृतिक चिकित्सक विशेषज्ञ से प्राप्त किया।इस शैक्षणिक भ्रमण के अंत में डॉ शोभित कुमार वार्ष्णेय एवं डॉ प्रियंका शर्मा ने संस्थान के चिकित्सक डॉ अनुराग शर्मा एवं संस्थान के एच. आर. श्री मनोज को विद्यार्थियों का ज्ञानवर्धन करने के लिए  उनकी पूरी टीम का धन्यवाद ज्ञापित किया।

शुक्रवार को हरकी पौडी पहुँचेगी बाबा विश्वनाथ मां जगदीशिला डौली यात्रा

 17 मई को हर की पौड़ी पहुंचेगी बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा :- महामंडलेश्वर स्वामी ललितानंद गिरी 


डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह पूरे वर्ष मनाया जाएगा


हरिद्वार 15 मई विशौन पर्वत टिहरी गढ़वाल स्थित बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा 25वें वर्ष में प्रवेश कर रही है इस वर्ष रजत जयंती समारोह का शुभारंभ 16 मई को देहरादून से होगा जिसमें इस यात्रा के संयोजक और सूत्रधार पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे मंत्री प्रसाद नैथानी डोली यात्रा को लेकर 17 मई दिन शुक्रवार को प्रातः  हर की पौड़ी पहुंचेंगे उपरोक्त जानकारी भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज ने प्रदान करते हुए बताया कि उत्तराखंड भ्रमण के लिए हर की पौड़ी पर गंगा पूजन के साथ बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा को गंगा स्नान करवाने के पश्चात इस बार पहले जनपद हरिद्वार के भ्रमण के लिए रवाना किया जाएगा उसके पश्चात उत्तराखंड भ्रमण के लिए देव डोलिया जाएगी हरिद्वार में इस यात्रा के संयोजक समाजसेवी अमेश शर्मा ने बताया कि इस बार डोली यात्रा का राजत जयंती समारोह धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है इस परिपेक्ष में विशौन पर्वत टिहरी गढ़वाल से तीर्थ यात्रियों का जत्था देव डोलियों को लेकर पहले हर की पौड़ी पहुंचेगा जहां पर होटल हर की पौड़ी पर प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोलियों का स्वागत किया जाएगा इसके बाद यह डोली यात्रा मंत्री प्रसाद नैथानी के नेतृत्व में एक माह के लिए उत्तराखंड भ्रमण पर रवाना होगी 16 जून को यात्रा का समापन


विशौन पर्वत स्थित बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला तीर्थ पर होगा।

संत सम्मेलन के साथ संपन्न हुआ श्री स्वामिनारायण आश्रम का पाटोत्सव

 संत सम्मेलन के साथ मनाया गया श्री स्वामीनारायण आश्रम का 21 वां पाटोत्सव


श्री स्वामिनारायण आश्रम में  सम्पन्न हुआ 21वां पाटोत्सव


श्री स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री जी महाराज ने किया मंदिर में स्थापित घनश्याम  महाराज एवं गंगा मैया का अभिषेक छप्पन भोग किए गए समर्पित 


हरिद्वार 14 मई तीर्थ नगरी हरिद्वार के भूपत वाला क्षेत्र में स्थित श्री स्वामिनारायण आश्रम का 21 वा पाटोत्सव संस्था के अध्यक्ष एवं संस्थापक श्री स्वामी हरिबल्लभ दास शास्त्री जी महाराज के पावन सानिध्य में गंगा पूजन ,गौ पूजन ,यज्ञ हवन के साथ संपन्न हुआ , राजकोट से आए यजमान परिवार हिरल बेन, राजेश भाई मैधानी,स्वाति बेन, उर्वेश कुमार ,सराबेन ,वीर कुमार जियाबेन, कृष आदि के साथ गुजराती श्रद्धालुओं ने श्री स्वामिनारायण घाट से गंगाजल कलशो में भरकर शोभा यात्रा के साथ मंदिर पहुंचकर श्री घनश्याम महाराज एवं गंगा मैया का अभिषेक किया,






प्रातः काल संतों का भोजन भंडारा गौ सेवा कर श्रद्धालु भक्तों ने संत जनों से आशीर्वाद प्राप्त किया। श्री स्वामीनारायण आश्रम में विगत एक सप्ताह से चल रही श्रीमद् भागवत कथा का संत सम्मेलन के साथ समापन हुआ जिसकी अध्यक्षता गुजरात वड़ताल गादी से आए हुए संत श्री स्वामी माधव दास ने की इस अवसर पर संत सम्मेलन मे भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज ने श्री स्वामिनारायण आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री के प्रति मंगल कामनाएं प्रकट करते हुए कहा कि तीर्थ नगरी हरिद्वार में श्री स्वामिनारायण आश्रम स्थापित कर स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री ने गुजराती समाज के लिए एक बड़ा काम किया है। महामंडलेश्वर स्वामी हरि चेतनानंद महाराज ने श्रीमद् भागवत कथा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए विचार प्रकट किये महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद ,महामंडलेश्वर प्रेमानंद, श्री पंचायती बड़ा अखाड़ा के कोठारी राघवेंद्र दास, कारोबारी महंत गोविंद दास, बाबा हठ योगी, स्वामी ज्ञानानंद , महंत केशवानंद ,वेदांत प्रकाश, महंत  सूरज दास महंत दिनेश दास,आदि ने श्री स्वामिनारायण आश्रम में आयोजित 21वें पाटोत्सव के अवसर पर पधारे श्रद्धालुओं को अपने आशीर्वचनों से अभिसिंचित किया ,कार्यक्रम के संयोजक स्वामी आनंद स्वरुप शास्त्री महाराज ,कोठारी जयेंद्र स्वामी , गंगा सागर स्वामी ,योगेश भगत, पार्षद अनिरुद्ध भाटी,एडवोकेट अरविंद शर्मा आदि ने आए हुए संत जनों का स्वागत किया संत सम्मेलन का संचालन  महंत रवि देव शास्त्री ने किया ।

कलश यात्रा के साथ शुरू हुआ श्री स्वामिनारायण आश्रम का 21 वा पाटोत्सव





 श्री स्वामिनारायण आश्रम में शुरू हुआ 21 व स्थापना समारोह

श्री स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री जी महाराज के सानिध्य में गंगा पूजन गौ पूजन ,यज्ञ हवन के साथ शुरू हुआ श्री घनश्याम महाराज एवं गंगा मैया का स्थापना समारोह

हरिद्वार 13 मई तीर्थ नगरी हरिद्वार के भूपत वाला क्षेत्र में स्थित श्री स्वामिनारायण आश्रम का 21 वा पाटोत्सव संस्था के अध्यक्ष एवं संस्थापक श्री स्वामी हरी बल्लभ दास शास्त्री जी महाराज के पावन सानिध्य में गंगा पूजन गौ पूजन यज्ञ हवन के साथ प्रारंभ हुआ , राजकोट से आए यजमान परिवार के साथ गुजराती श्रद्धालुओं ने श्री स्वामिनारायण घाट से गंगाजल कलशो में भरकर शोभा यात्रा के साथ मंदिर पहुंचकर श्री घनश्याम महाराज एवं गंगा मैया का अभिषेक किया प्रातः काल संतों का भोजन भंडारा गौ सेवा कर श्रद्धालु भक्तों ने संत जनों से आशीर्वाद प्राप्त किया ,श्री स्वामी हरिबल्लभ दास शास्त्री जी महाराज ने बताया कि मुख्य समारोह कल मंगलवार को सुबह श्री स्वामिनारायण मंदिर में पूजा अर्चना के साथ संपन्न होगा जिसमें संत समाज भक्त जन मिलकर पूजा अर्चना करेंगे आज के कार्यक्रम में गुजरात के राजकोट से आए यजमान परिवार ने चंदू भाई चुन्नीलाल ,पुनीत कुमार ,हिरल बेन ,राकेश भाई मेधानी, वीर कुमार आदि ने संत जनों के लिए भोजन भंडारे आदि का आयोजन किया।

गुरुकुल कांगड़ी भेषज विज्ञान विभाग में हुआ विदाई समारोह

 हरिद्वार 12 मई भेषज विज्ञान विभाग में डी फार्मा, बी फार्मा एवं एम फार्मा के अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए  सौप्रस्थानिक समारोह का आयोजन किया गया l इस अवसर पर छात्रों के भविष्य की मंगल कामना, उत्तम स्वास्थ्य, दीर्घायु हेतु यज्ञ का आयोजन हुआ जिसमें विश्वविद्यालय के डॉक्टर भारत वेदालंकार ने ब्रह्मा के रूप में उपस्थित होकर यज्ञ संपन्न कराया l यज्ञ में विभाग के सभी छात्रों द्वारा  आहुति  दी गई जिसमें अपना आशीर्वचन प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सोमदेव  शतानशु, कुलसचिव प्रोफेसर सुनील कुमार, संकायाध्यक्ष  प्रोफेसर डीएस मलिक ने अपने शुभाशीष छात्रों को दिए l इस अवसर पर प्रोफेसर सोमदेव शैतांशु ने कहा कि छात्रों का विद्यार्जन काल बहुत महत्वपूर्ण होता है l इस समय छात्र धनोपाजर्न की शिक्षा के साथ-साथ ज्ञानार्जन एवं मानव उद्देश्यों की पूर्ति के लिए आदर्श शिक्षा की भी शिक्षा ग्रहण करते हैं जिनकी उनके भविष्य में समाज में रहने के लिए बहुत अधिक आवश्यकता होती है l उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के छात्र जब समाज में होते हैं तो आर्य समाज एवं वैदिक संस्कृति से ओतप्रोत होने के कारण उनकी अलग पहचान होती है l उन्होंने इस अवसर पर छात्रों के उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं प्रेषित की l प्रोफेसर मलिक ने इस अवसर पर छात्रों को हमेशा ऊर्जावान एवं नई-नई तकनीकी के लिए तत्पर रहने का आह्वान किया l कार्यक्रम के समन्वयक डॉ अश्वनी कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय से शिक्षा ग्रहण  करके जाने वाले छात्रों एवं वर्तमान में शिक्षा प्राप्त कर रहे छात्रों के बीच परस्पर बड़े भाई एवं छोटे भाई का संबंध होता है और इस अवसर पर जब छात्र शिक्षा ग्रहण करके समाज में जाते हैं तो उनका दायित्व दो गुना हो जाता है वह अपने अनुजों के लिए नए मार्ग प्रशस्त करते हैं एवं दूसरी ओर अपने भविष्य को उज्जवल भी बनाते हैं l इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डॉ विपिन कुमार ने बताया कि जब छात्र उत्तीर्ण होकर जाते हैं तो उनकी बहुत सारी स्मृतियां विभाग में संजोही जाती हैं जिसके लिए सौप्रस्थानिक समारोह एक माध्यम है l उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष अंतिम सेमेस्टर में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को सम्मानित करने के लिए मेडल, प्रमाण पत्र एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किए जाते हैं l इस वर्ष बी फार्म प्रथम सेमेस्टर के छात्र प्रशांत मिश्रा, मोहित, हर्ष राजवत्स को मेडल एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए l बी फार्म तृतीय सेमेस्टर के गौरव पाल,  कृष्णा घई, अंश गर्ग एवं बी फार्म पंचम सेमेस्टर के प्रियांशु कुमार, युवराज सिंह करायत, गौतम अरोड़ा तथा बी फार्म सप्तम सेमेस्टर के उज्जवल धीमान, आदित्य कौशिक, नीरज वर्मा को सम्मानित किया गया l इसी श्रृंखला में एम फार्म फार्मास्यूटिक्स के प्रथम सेमेस्टर के छात्र नैतिक गोयल, हर्ष पांडे अनुज कुमार,  एम फार्म फार्मास्यूटिक्स तृतीय सेमेस्टर के जतिन कुमार, जतिन कुमार, शिवम प्रताप सिंह एवं एम फार्म फार्मोकोलॉजी के प्रथम सेमेस्टर के छात्र रितेश सिंह, आकाश त्यागी, नवनीत सिंह तथा एवं एम  फार्म फार्मोकोलॉजी तृतीय सेमेस्टर के यशोधर चौधरी हर्ष शारदा, वेद प्रकाश एवं एम फार्म फार्मास्यूटिकल केमेस्ट्री प्रथम सेमेस्टर के शिवम शर्मा को स्मृति चिन्ह एवं मेडल से सम्मानित किया गया l इस अवसर पर सभी छात्रों को आर्य समाज के सिद्धांतों को अपने जीवन में उतरने के लिए भेंट स्वरूप सत्यार्थ प्रकाश प्रदान किया गया l इस अवसर पर विभाग के शिक्षक प्रो सत्येंद्र राजपूत, डॉक्टर कपिल कुमार गोयल, डॉ विनोद नौटियाल, डॉ रविंद्र कंबोज, डॉ तरुण कुमार, डॉ दीपक नेगी, डॉ राजेंद्र यादव, डॉ रवि प्रताप, ने आगंतुकों का स्वागत किया l इस मौके पर डॉक्टर रोशन लाल,  नरेश त्यागी,  रविंद्र कुमार, राजेश कुमार,  मनोज कुमार,  संतोष कुमार, सूरज, मुनेश, संजय आदि उपस्थित रहे l


मंगलवार को मनाई जाएगी गंगा सप्तमी



श्रद्धा व धूमधाम के साथ 14 मई 2024 को मनाई जाएगी माँ गंगा सप्तमी*


हरिद्वार 12 मई मां गंगा जन्मोत्सव 14 मई 2024 को बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है माँ गंगा जी की पालकी बैंड बाजे,ढोल नगाड़ों के साथ 14 मई 2024 सांय 5:00 बजे स्थान:- श्री गुरु सेवक उछाली आश्रम निकट हिमालय डिपो की गली ललतारापुल हरिद्वार से निकली जाएगी ।जिसमें हरिद्वार जिले के पूजनीय महंत संत नेतागण और सम्मानित व्यापारीगण सम्मलित रहेंगे।माँ गंगा जन्मोत्सव सेवा संघ के अध्यक्ष विशाल गोस्वामी ने बताया की हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मां गंगा जन्मोत्सव शोभा यात्रा बड़े ही भव्य और दिव्य रूप से निकाली जाएगी। उन्होंने बताया कि विशेष रूप से मां गंगा जी की पूजा अर्चना के लिए गंगा सप्तमी का पर्व बहुत ही शुभ माना गया है। माँ गंगा जी की उत्पत्ति वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को हुई थी।इसलिए हर वर्ष इस दिन को उनके जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

संस्था के महामंत्री आशीष गौड़ व मीडिया प्रभारी नरेंद्र सिंह नेगी ने कहा कि पौराणिक कथाओं के अनुसार यह वही दिन है जब ब्रह्मा जी के कमंडल से मां गंगा का जन्म हुआ था। पतितपावनी, मोक्षदायिनी मां गंगा हिमालय से निकली केवल एक सामान्य जलधारा नहीं, बल्कि भारतीय सांस्कृतिक वैभव, श्रद्धा एवं आस्था की प्रतीक मानी जाती हैं। सदियों से भारतीय समाज के हर वर्ग और समुदाय ने इसे अपनी भावनात्मक आस्थाओं का प्रतीक मानकर वंदना की है। भारतवर्ष के विशाल जन-समुदाय ने ममतामयी मां के रूप में गंगा को एक विशिष्ट मान्यता दी है। भारत ही नहीं, पूरे संसार में किसी अन्य जलधारा को इतना महत्व और प्रतिष्ठा नहीं मिली है, जितनी गंगा को युगों-युगों से प्राप्त होती रही है।

हरिद्वार में मनाई गई शंकराचार्य जयंती

 आद्य जगदगुरु शंकराचार्य ने किया राष्ट्र को धार्मिक, सांस्कृतिक, एकता के सूत्र में बांधने का काम :-जगद्गुरु राजराजेश्वराश्रम

तीर्थ नगरी हरिद्वार में मनाई गई 




आद्य जगतगुरु शंकराचार्य जयंती

हरिद्वार 12 मई श्री जगद्गुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के तत्वाधान में भाष्यकर भगवान आद्य शंकराचार्य जी महाराज की 1236वीं जयंती श्रद्धा भाव के साथ मनाई गई इस  अवसर पर शंकराचार्य चौक पर जहां जगतगुरु भाष्यकर भगवान आद्य शंकराचार्य जी महाराज  के श्री विग्रह का पूजन तीर्थ नगरी के षडदर्शन साधु समाज ने किया वहीं विभिन्न आखाडो के महामंडलेश्वरों ,संत महंत जनों ने शंकराचार्य चौक पर विधि विधान के साथ भगवान आद्य शंकराचार्य को श्रद्धा सुमन अर्पित किए, इसके पश्चात श्री मानव कल्याण आश्रम में श्री जगतगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरि जी महाराज की अध्यक्षता एवं महामंडलेश्वर स्वामी प्रेमानंद जी महाराज के संचालन में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन हुआ जिसमें अपने उद्बोधन में जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज ने कहा कि भारत को धार्मिक, सांस्कृतिक, एकता के सूत्र में बांधने का कार्य भगवान आद्य शंकराचार्य जी महाराज ने किया उन्होंने भारत की चारों दिशाओं में पीठों की स्थापना कर और उनमें विपरीत दिशाओं के आचार्य को प्रतिष्ठित कर भारत को उत्तर से दक्षिण पूरब से पश्चिम तक धार्मिक ,सांस्कृतिक एकता के सूत्र में बांधने का कार्य किया, महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरी जी महाराज ने सनातन हिंदू धर्म की रक्षा के लिए आद्य शंकराचार्य जी महाराज के किए गए कार्यों को स्मरण करते हुए कहा कि वर्तमान में जो सन्यास परंपरा दृष्टिगोचर हो रही है उसका उन्नयन संरक्षण और संवर्धन जगतगुरु  भगवान  शंकराचार्य जी महाराज ने किया वर्तमान में सनातन हिंदू धर्म की रक्षा का कार्य संत समाज ने करना है। श्री जगतगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के महामंत्री श्री महंत देवानंद सरस्वती महाराज के संयोजन में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में महामंडलेश्वर एवं भारत माता मंदिर के श्री महंत स्वामी ललिता नंद गिरी महाराज, महामंडलेश्वर स्वामी रामेश्वरानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर स्वामी गिरधर गिरी, आदि ने जगतगुरु शंकराचार्य को वॉक श्रद्धांजलि अर्पित की शंकराचार्य जयंती समारोह में तेराह अखाड़ों के महंत महामंडलेश्वर और संत जनो ने प्रतिभाग किया। श्री मानव कल्याण आश्रम में आयोजित श्रद्धांजलि समारोह में पधारे संत महंत जनों का स्वागत श्री ललितामबा देवी ट्रस्ट के  मैनेजिंग ट्रस्टी  अनिरुद्ध भाटी , महंतस्वामी दुर्गेशानंद , स्वामी हंसानंदआदि ने किया ।

रविवार को तीर्थ नगरी में मनाई जाएगी शंकराचार्य जयंती

 शंकराचार्य चौक पर पूजन के साथ कल ( रविवार ) को मनाई जाएगी जगदगुरु आद्य शंकराचार्य जी की 1236 वीं जयंती 


श्री मानव कल्याण आश्रम में उत्साह के साथ मनायी जाएगी  आद्य शंकराचार्य जयंती :-श्रीमहंत देवानंद सरस्वती 

हरिद्वार 9 मई जगदगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के तत्वाधान में  एवं महामंडलेश्वर श्री स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरी जी महाराज के पावन सानिध्य में श्री मानव कल्याण आश्रम एवं शंकराचार्य चौक पर श्रद्धा व उत्साह के साथ मनायी जाएगी आद्य शंकराचार्य जयंती उपरोक्त जानकारी श्री जगदगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के महामंत्री श्रीमहंत देवानंद सरस्वती महाराज जी ने प्रदान करते हुए बताया कि रविवार 12 मई को प्रातः शंकराचार्य चौक पर भाष्यकार भगवान आद्य  शंकराचार्य श्री विग्रह के पूजन के साथ शंकराचार्य जयंती का शुभारंभ होगा और श्री मानव कल्याण आश्रम में समस्त सन्यासी अखाड़े महामंडलेश्वर संतजन भगवान आद्य शंकराचार्य जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे , श्री महंत देवानंद सरस्वती जी महाराज ने बताया कि हर की पौड़ी पर चारों शिष्य सहित जगतगुरु आद्य शंकराचार्य जी का प्रतिवर्ष पूजन अभिषेक श्री महंत केदार पुरी जी महाराज के सानिध्य में होता आ रहा है वह कार्यक्रम भी हर की पौड़ी पर श्रद्धापूर्वक आयोजित किया जाएगा , इस अवसर पर तपोनिधि निरंजनी अखाड़ा के सचिव श्री महंत रवींद्र पुरी जी महाराज, निर्वाणी अखाड़ा सचिव श्री महंत विश्वनाथ गिरी जी महाराज एवं अनेक महामंडलेश्वर गण तथा विशिष्ट जनों ,संत महापुरुषों का श्री मानव कल्याण आश्रम में आयोजित


श्रद्धांजलि समारोह में आगमन होगा।

रक्षित वालिया का अब तक नहीं लगा सुराग


हरिद्वार 11 मई तीन दिन पूर्व घर से ऋषिकेश जाने की बात कह कर निकले 19 वर्षीय रक्षित वालिया पुत्र अमित वालिया निवासी शिव मंदिर जगजीतपुर कनखल अब तक घर नहीं लौटा है। 

लापता पोते की तलाश में जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष राकेश वालिया एवं उनका पूरा परिवार दर-दर भटक रहा है।  पुत्र के इंतजार में मां की आंखें  टकटकी लगाए घर के दरवाजे पर देख रही हैं। मां का रो-रो कर बुरा हाल है। पूरा परिवार मानसिक परेशानियों से जूझ रहा है। प्रेस क्लब अध्यक्ष राकेश वालिया ने बताया कि रिश्तेदारों दोस्तों सभी से संपर्क कर लिया गया है लेकिन पोत्र रक्षित वालिया के संबंध में कोई जानकारी प्राप्त नहीं हो रही है। कनखल थाना पुलिस लगातार रक्षित वालिया की तलाश में लगी हुई है। अब तक दोनों मोबाइलों के नंबर बंद आ रहे है रक्षित वालिया के पिता अमित वालिया ने सोशल मीडिया के माध्यम से भी रक्षित वालिया को घर लौटने की मार्मिक अपील की है। रक्षित वालिया की मां का बुरा हाल है पुत्र के कही चले जाने से काफी दुखी हैं। पुत्र के इंतजार में आंखों  के आंसू भी नहीं थम रहे हैं। पूरा परिवार परेशान है।


 परिवार ने लोगों से अपील की है कि रक्षित वालिया की कोई भी जानकारी मिले तो इन मोबाइल नंबर 9837135028 /8475024071 पर अवश्य दें। कनखल पुलिस को भी सूचना दे सकते हैं।

गुरुकुल कॉगडीआयुर्वेद चिकित्सालय के चिकित्सकों ने किया विरोध प्रदर्शन

 *शिक्षकों द्वारा किया गया विरोध प्रदर्शन  

हरिद्वार 11 मई उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के गुरुकुल परिसर,हरिद्वार में पिछले 2 माह से वेतन का भुगतान नहीं होने से तथा नियमित वेतन का भुगतान नहीं किए जाने की दशा में शिक्षक संघ के अध्यक्ष प्रो. अवधेश कुमार मिश्रा के बैनर तले समस्त शिक्षकों द्वारा परिसर के निदेशक समक्ष विरोध प्रदर्शन किया गया तथा निर्णय लिया गया की जल्दी ही यदि वेतन का भुगतान नहीं किया गया तो अनिश्चितकालीन कार्य का बहिष्कार किया जाएगा ।


17 मई को हरिद्वार आएगी बाबा विश्वनाथ मां जगदीश शीला डोली यात्रा




भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाडे के महामंडलेश्वर स्वामी ललितानंद गिरी जी महाराज के सानिध्य में होगा डोली यात्रा का भव्य स्वागत 


 हरिद्वार  10 मई ( संजय वर्मा )  बाबा श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली की 25वीं रथ यात्रा 16 मई को  शुरु होगी, जो कि 16 जून तक चलेगी। यह 31 दिवसीय डोली यात्रा सम्पूर्ण उत्तराखण्ड का भ्रमण करेगी। 17 मई को हरिद्वार हर की पौड़ी पर डोली स्नान के पश्चात रथ यात्रा जनपद हरिद्वार एवं कुमाऊँ मंडल के लिए रवाना होगी उपरोक्त जानकारी डोली यात्रा के संयोजक पूर्व कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद नैथीनी में देते हुए बताया कि हरिद्वार में भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज के सानिध्य में और वरिष्ठ समाजसेवी आमेश शर्मा के संयोजन में डोली यात्रा का प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी होटल हर की पौड़ी पर भव्य स्वागत होगा साथ ही हरिद्वार के प्रबुद्ध जनों की उपस्थिति में डोली को स्नान कराया जाएगा, उन्होंने बताया कि 25वीं यात्रा होने पर इस बार समिति और भक्तजन इसे रजत जयन्ती वर्ष के रूप में मनाने जा रहे हैं। इसके तहत 11 सूत्रीय कार्यक्रम मई 2024 से लेकर अप्रैल 2025 तक उत्तराखण्ड के 13 जनपदों में चलाए जाएगें जो उत्तराखण्ड को तीर्थाटन प्रदेश, जड़ी बूटी उत्पादन एवं स्वावलंबी प्रदेश की और अग्रसर करेंगे।

कचहरी स्थित एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में डोली यात्रा के संयोजक पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने डोली यात्रा कार्यक्रम के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 16 जून को गंगा दशहरा के पावन पर्व पर भक्तगण अपने-अपने जनपदों में गाय माता को फलाहार देकर पूजन एवं उत्तराखण्ड की जमीन बचाने हेतु संकल्प लेंगे। 25 जुलाई को अमर शहीद श्रीदेव सुमन के बलिदान दिवस पर सम्पूर्ण प्रदेश में जनपद मुख्यालयों पर रक्तदान शिविर लगवाये जाएंगे। 31 जुलाई को 325 देवालयों में विश्व शाति एवं शहीदों की आत्मा की शांति हेतु एक दिवसीय यज्ञ का आयोजन किया जायेगा। 31 अगस्त 2024 को संस्कृत भाषा के उन्नयन हेतु संस्कृत विद्यालय खोलने की शुरूआत की जाएगी। क्योंकि इस दिन 1969 में पहली बार भारत में संस्कृत दिवस मनाया गया था। 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों की दशा और दिशा पर विचार गोष्ठी का आयोजन पूरे प्रदेश. मुख्यालयों पर किया जाएगा। 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी जयन्ती एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व० श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जयन्ती पर पूरे उत्तराखण्ड में बंजर पड़े खेतों के स्वामियों द्वारा जड़ी बूटी उत्पादन, फल उत्पादन का कृषिकरण हेतु वृहत कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

14 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में सम्पूर्ण उत्तराखंड में नशे के खिलाफ अभियान की शुरुआत की जाएगी, जिसके तहत बेसिक स्कूल से लेकर विश्वविद्यालयों, मेडिकल कॉलेजों, इंजीनियरिंग कॉलेजों के छात्र छात्राओं को प्रतिज्ञा दिलाने का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। 14 दिसम्बर 2024 को राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर शारीरिक एवं मानसिक ऊर्जा के विकास के लिए अब तक डोली द्वारा जो 325 स्थान डोली द्वारा चिन्हित किये गये हैं उनमें ध्यान केन्द्रों के संचालन हेतु अभियान का शुभारंभ किया जाएगा। 11 जनवरी 2025 को स्व० लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्य तिथि पर (जिन्होंने जय जवान जय किसान का नारा दिया) 13 जनाब्दों में चिन्हित बंजर खेतों पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा।

फरबरी 10.12 2025 को राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस पर पूरे उत्तराखण्ड मे जड़ी-बूटी एवं फल-फूल उत्पादन हेतु कृषिकरण का शुभारंभ किया जाएगा।

22 मार्च 2025 को विश्व जल दिवस पर जल संरक्षण हेतु उत्तराखण्ड के 13 जनपदों के जिला मुख्यालयों पर कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। इस प्रकार इस बार श्री विश्वनाथ-जगदीशिला डोली यात्रा के रजत जयन्ती पर पुरे वर्षभर जून 2024 से अप्रैल 2025 तक का कार्यक्रम सम्पूर्ण उत्तराखण्ड में आयोजित किया जाएगा।

12 मई को मनाई जाएगी शंकराचार्य जयंती

 श्री मानव कल्याण आश्रम में उत्साह के साथ मनायी जाएगी  आद्य शंकराचार्य जयंती :-श्रीमहंत देवानंद सरस्वती 

हरिद्वार 9 मई आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के तत्वाधान में श्री मानव कल्याण आश्रम एवं शंकराचार्य चौक पर श्रद्धा व उत्साह के साथ मनायी जाएगी आद्य शंकराचार्य जयंती उपरोक्त जानकारी आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के महामंत्री श्रीमहंत देवानंद सरस्वती ने प्रदान करते हुए बताया कि आगामी 12 म


ई को प्रातः शंकराचार्य चौक पर भाष्यकार भगवान आद्य शंकराचार्य के श्री विग्रह के पूजन के साथ शंकराचार्य जयंती का शुभारंभ होगा और श्री मानव कल्याण आश्रम में समस्त सन्यासी अखाड़े महामंडलेश्वर , संत समाज भगवान शंकराचार्य जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे।

पतंजलि ने डॉक्टर कल्पना शर्मा को लाइफ टाइम अचीव अवार्ड से किया सम्मानित


हरिद्वार,9 मई *पतंजलि योगपीठ में “गर्भ संस्कार संतति सृजनम्” विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का हुआ आयोजन*

·         इस कार्यक्रम के माध्यम से गर्भ संस्कार आयुर्वेद जीवन की प्रतिकूलता और भौतिकता के समक्ष एक दिव्य शस्त्र है : *स्वामी रामदेव जी*

·         माता-पिता और गुरुजन हमारी गति को अधिक गतिवान बनाते हैं : *आचार्य बालकृष्ण जी*

·         आज आयुर्वेद को विज्ञान मानकर डाटा एकत्रित करने की आवश्यकता है : *डॉ. (प्रो.) कल्पना शर्मा*

·         ऐसी कार्यशालाएँ जीवन को समग्रता से जीने की सकारात्मक दृष्टि प्रदान करती हैं : गिरीश केजे

09 मई, 2024 हरिद्वार| पतंजलि आयुर्वेद कॉलेज एवं हॉस्पिटल, पतंजलि अनुसंधान और पतंजलि विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में “गर्भ संस्कार” आधारित एक दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला “संतति सृजनम्” का आयोजन पतंजलि विश्वविद्यालय के सभागार में हुआ| कार्यशाला का उद्घाटन परम पूज्य स्वामी रामदेव जी, आयुर्वेद शिरोमणि आचार्य बालकृष्ण जी एवं विशिष्ट अतिथि डॉ. (प्रो.) कल्पना शर्मा को उनके आयुर्वेद के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्यों के लिए ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड’ प्रदान किया गया|

      कार्यक्रम के प्रारंभ में पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज ने कहा कि भारत भूमि गौरवशाली आदर्श माताओं से सुसमृद्ध है, इनमें जीजाबाई, पुतलीबाई, मदालसा, सीता ऐसी माताएँ रही हैं जिन्होंने सुसंस्कारित सन्तान को आकार दिया, आज भारत भूमि को ऐसी ही संततियों की आवश्यकता है। एक माँ विपरीत परिस्थितियों में भी अपने अथक प्रयासों से सुसंस्कारित नागरिकों का सृजन करती है|

 

     कार्यक्रम में पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी ने मातृत्व की महिमा का उल्लेख करते हुए कहा कि वेदों और ग्रंथों में सोलह संस्कारों का वर्णन किया गया है जिनमें तीन संस्कार गर्भाधान, पुंसवन और सीमंतोन्नयन जन्म से पूर्व के है, उनका संयोजन भावी शिशु के माता-पिता द्वारा गर्भ की रक्षा-भावना से किया जाता है| यदि एक माँ स्वस्थ है तो ही वह स्वस्थ बालक को जन्म दे सकती है| भावी माता को अपने शिशु को कुपोषण से बचाने के लिए संतुलित भोजन, योग, ध्यान एवं चिंतन-मनन पर ध्यान देना आवश्यक है| पतंजलि जड़ी-बूटी अनुसंधान की प्रमुख डॉ. वेद्प्रिया आर्या ने वर्तमान में स्त्रियों में बढ़ रही पीसीओडी (पालीसिस्टिक ओवरी डिसिज) के कारण सामान्य प्रजनन चक्र अवरुद्ध होने पर चिंतन प्रस्तुत किया|

  

     विशिष्ट वक्ता के रूप में डॉ. (प्रो.) कल्पना शर्मा ने कहा कि आयुर्वेद का प्रमुख उद्देश्य स्वास्थ्य को बनाए रखना, बीमारी की रोकथाम और इलाज करना है| आयुर्वेद वह संजीवनी है जो जीवन को आध्यात्मिक दृष्टि से अलौकिक शक्ति प्रदान करती है| पुरुष बीज–स्त्री बीज के तथ्यों में यह प्रकृति का सृजनम करते हैं जिससे सभ्यता का निर्माण होता है| आयुर्वेदिक सिद्धांत वैज्ञानिक दृष्टिकोण के साथ अपार संभावनाओं पर आधारित बताया| एक व्यापक दृष्टिकोण में प्राचीन ज्ञान और आधुनिक विज्ञान दोनों का मिश्रण स्वस्थ जीवन की समग्रता में वृद्धि करता है|

       

    समारोह को संबोधित करते हुए आयुर्वेद कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल गिरीश केजे ने विभिन्न आयुर्वेदिक कॉलेजों द्वारा इस क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की| राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न शोधार्थियों ने अपने शोध पत्र प्रस्तुत किए| कार्यक्रम का संचालन डॉ. सुमन सिंह एवं डॉ. ग्रेसी सोकिया ने किया| कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए प्रिंसिपल, आयुर्वेद कॉलेज, हरिद्वार के डॉक्टर अनिल  कुमार ने कहा कि ऐसी व्याख्यानमालाएँ जीवन को समग्रता से जीने की नवीन दृष्टि प्रदान करती है| इस अवसर पर पतंजलि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक उपस्थित रहे।


श्री सत्य साँई सेवा समिति ने विवेकानंद कुष्ठ आश्रम में किया सेवा कार्य

हरिद्वार 9  मई  श्री सत्य साईं सेवा समिति हरिद्वार के नारायण सेवा प्रभारी श्री राजकुमार मित्तल की पूज्य माता जी की स्मृति में दिनाँक 8 मई, 2024 को


अपराह्न में श्री विवेकानंद कुष्ठ आश्रम लालजी वाला हरिद्वार में भोजन मंत्र के साथ ही विशेष नारायण सेवा का आयोजन किया गया जिसमें कुष्ठ रोगियों को पूरी सब्जी चावल एवं छोला साथ ही हलवा प्रसाद रूप में वितरित किया l प्रकाश चंद्र जोशी सहित समिति के कुल 5 सदस्यों ने इस कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी

Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...