17 मई को हरिद्वार आएगी बाबा विश्वनाथ मां जगदीश शीला डोली यात्रा




भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाडे के महामंडलेश्वर स्वामी ललितानंद गिरी जी महाराज के सानिध्य में होगा डोली यात्रा का भव्य स्वागत 


 हरिद्वार  10 मई ( संजय वर्मा )  बाबा श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली की 25वीं रथ यात्रा 16 मई को  शुरु होगी, जो कि 16 जून तक चलेगी। यह 31 दिवसीय डोली यात्रा सम्पूर्ण उत्तराखण्ड का भ्रमण करेगी। 17 मई को हरिद्वार हर की पौड़ी पर डोली स्नान के पश्चात रथ यात्रा जनपद हरिद्वार एवं कुमाऊँ मंडल के लिए रवाना होगी उपरोक्त जानकारी डोली यात्रा के संयोजक पूर्व कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद नैथीनी में देते हुए बताया कि हरिद्वार में भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज के सानिध्य में और वरिष्ठ समाजसेवी आमेश शर्मा के संयोजन में डोली यात्रा का प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी होटल हर की पौड़ी पर भव्य स्वागत होगा साथ ही हरिद्वार के प्रबुद्ध जनों की उपस्थिति में डोली को स्नान कराया जाएगा, उन्होंने बताया कि 25वीं यात्रा होने पर इस बार समिति और भक्तजन इसे रजत जयन्ती वर्ष के रूप में मनाने जा रहे हैं। इसके तहत 11 सूत्रीय कार्यक्रम मई 2024 से लेकर अप्रैल 2025 तक उत्तराखण्ड के 13 जनपदों में चलाए जाएगें जो उत्तराखण्ड को तीर्थाटन प्रदेश, जड़ी बूटी उत्पादन एवं स्वावलंबी प्रदेश की और अग्रसर करेंगे।

कचहरी स्थित एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में डोली यात्रा के संयोजक पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने डोली यात्रा कार्यक्रम के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 16 जून को गंगा दशहरा के पावन पर्व पर भक्तगण अपने-अपने जनपदों में गाय माता को फलाहार देकर पूजन एवं उत्तराखण्ड की जमीन बचाने हेतु संकल्प लेंगे। 25 जुलाई को अमर शहीद श्रीदेव सुमन के बलिदान दिवस पर सम्पूर्ण प्रदेश में जनपद मुख्यालयों पर रक्तदान शिविर लगवाये जाएंगे। 31 जुलाई को 325 देवालयों में विश्व शाति एवं शहीदों की आत्मा की शांति हेतु एक दिवसीय यज्ञ का आयोजन किया जायेगा। 31 अगस्त 2024 को संस्कृत भाषा के उन्नयन हेतु संस्कृत विद्यालय खोलने की शुरूआत की जाएगी। क्योंकि इस दिन 1969 में पहली बार भारत में संस्कृत दिवस मनाया गया था। 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों की दशा और दिशा पर विचार गोष्ठी का आयोजन पूरे प्रदेश. मुख्यालयों पर किया जाएगा। 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी जयन्ती एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व० श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जयन्ती पर पूरे उत्तराखण्ड में बंजर पड़े खेतों के स्वामियों द्वारा जड़ी बूटी उत्पादन, फल उत्पादन का कृषिकरण हेतु वृहत कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

14 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में सम्पूर्ण उत्तराखंड में नशे के खिलाफ अभियान की शुरुआत की जाएगी, जिसके तहत बेसिक स्कूल से लेकर विश्वविद्यालयों, मेडिकल कॉलेजों, इंजीनियरिंग कॉलेजों के छात्र छात्राओं को प्रतिज्ञा दिलाने का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। 14 दिसम्बर 2024 को राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर शारीरिक एवं मानसिक ऊर्जा के विकास के लिए अब तक डोली द्वारा जो 325 स्थान डोली द्वारा चिन्हित किये गये हैं उनमें ध्यान केन्द्रों के संचालन हेतु अभियान का शुभारंभ किया जाएगा। 11 जनवरी 2025 को स्व० लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्य तिथि पर (जिन्होंने जय जवान जय किसान का नारा दिया) 13 जनाब्दों में चिन्हित बंजर खेतों पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा।

फरबरी 10.12 2025 को राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस पर पूरे उत्तराखण्ड मे जड़ी-बूटी एवं फल-फूल उत्पादन हेतु कृषिकरण का शुभारंभ किया जाएगा।

22 मार्च 2025 को विश्व जल दिवस पर जल संरक्षण हेतु उत्तराखण्ड के 13 जनपदों के जिला मुख्यालयों पर कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। इस प्रकार इस बार श्री विश्वनाथ-जगदीशिला डोली यात्रा के रजत जयन्ती पर पुरे वर्षभर जून 2024 से अप्रैल 2025 तक का कार्यक्रम सम्पूर्ण उत्तराखण्ड में आयोजित किया जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...