कोड ऑफ कंडक्ट विषय पर गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

 हरिद्वार 30 जून ( संजय वर्मा ) गुरुकुल कांगड़ी सम विश्वविद्यालय के आई. क्यू. ए. सी. विभाग द्वारा "गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय कोड ऑफ कंडक्ट विषय पर वार्षिक जागरूकता कार्यक्रम" का आयोजन किया गया।  उत्तराखंड सरकार में एडीशनल सेक्रेटरी रहे किशन नाथ ने मुख्य वक्ता के रुप में बोलते हुए कहा कि किसी भी संगठन की अपनी प्रकृति होती है उसी के अनुरूप नियम एवं उपनियम होते हैं। उन्हीं के द्वारा वह संस्थान परिभाषित होता है। गुरुकुल काँगड़ी की स्थापना आदर्श मूल्यों एवं संस्कृति पर आधारित होने के साथ-साथ यह नए भारत में गुरुकुल शिक्षा प्रणाली प्रारंभकर्ता भी है। अतः यह देश और दुनिया के शिक्षण संस्थानों के लिए आदर्श भी है। साथ ही प्रत्येक संस्थान के कोड ऑफ कंडक्ट के अन्तर्गत इमानदारी, शुचिता और सत्यनिष्ठा ये तीन स्तम्भ महत्वपूर्ण होते हैं। इन्हीं के अनुपालन से संस्थान उन्नति की ओर अग्रसर होता है। जिन संस्थानों में ये तीनों इमानदारी, शुचिता और सत्यनिष्ठा का पालन किया जाएगा वह संस्थान समाज में प्रतिष्ठित हो जाएगा। 

हमें इस विश्वविद्यालय के अंग होने



के नाते इस प्रकार व्यवहार करना है कि जिससे किसी को किसी प्रकार की असहजता, असुविधा न हो। हम संस्थान के लिए इस प्रकार बनें कि सब कोई हम पर गर्व करने वाले हों न कि संस्थान हमारे द्वारा किए गए कृत्यों से लज्जित हो। अतः विश्वविद्यालय द्वारा निर्मित कोड ऑफ कंडक्ट का पालन करना प्रत्येक शिक्षक, कर्मचारी एवं विद्यार्थी का उत्तरदायित्व है।

इस अवसर पर आई क्यू ए सी के निदेशक प्रो विवेक कुमार ने कहा कि गुरुकुल कांगड़ी समविश्विद्यालय के कोड ऑफ कंडक्ट के तहत सभी शिक्षकों, कर्मचारियों, अधिकारियों एवं विद्यार्थियों को आचरण करके उत्कृष्टतम स्थिति उत्पन्न करनी है। हम यूजीसी एवं भारत सरकार के नियमों के अनुरूप नियमों का पालन करते हुए विश्वविद्यालय की उन्नति में अपनी भागीदारी निभा सकते हैं। उन्होने कहा कि शिक्षकों, कर्मचारियों, अधिकारियों एवं विद्यार्थियों के व्यवहार उनके आचरण की परिपक्वता एवं  कर्तव्यनिष्ठा से जुड़ी है। हम नियमों के अनुरूप आचरण करके व्यक्तिगत एवं संस्थागत हितों को कई गुना वृद्धि कर सकते हैं।

कार्यक्रम का संचालन डॉ ऊधम सिंह ने किया। इस अवसर पर प्रो. कर्मजीत भाटिया प्रो. एल पी पुरोहित, प्रो.  नमिता जोशी, प्रो.  मुकेश कुमार,  डॉ कृष्ण कुमार,  डॉ अजय मलिक,  डॉ शिवकुमार,  कुलभूषण  पंकज कुमार, अंकित कुमार आदि उपस्थित रहे।

पेयजल की अनियमित आपूर्ति से उतरी हरिद्वार की जनता त्रस्त :-अनिरुद्ध भाटी

 उत्तरी हरिद्वार में पेयजल आपूर्ति की जाये सुचारू :


अनिरूद्ध भाटी

पेयजल की अनियमित आपूर्ति, नलों में दूषित पानी आने से आक्रोशित भाजपा कार्यकर्त्ताओं ने जल संस्थान के कार्यालय पर अधिशासी अभियन्ता व एई को व्यवस्था सुधार हेतु सौंपा ज्ञापन 

हरिद्वार, 30 जून ( अमर शदाणी संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार)  उत्तरी हरिद्वार में पेयजल की अनियमित आपूर्ति, नलों में दूषित पानी आने से आक्रोशित भाजपा कार्यकर्त्ताओं ने भाजपा पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में जल संस्थान के अधिकारियों को दूषित पानी की बोतल दिखाते हुए अधिशासी अभियन्ता व एई को पेयजल व्यवस्था सुधार हेतु ज्ञापन सौंपा।

उत्तराखण्ड जल संस्थान के अधिशासी अभियन्ता मदन सैन को ज्ञापन सौंपते हुए भाजपा पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि विगत काफी समय से मुखिया गली, दुर्गानगर, पावन धाम मार्ग, कैलाश गली, इन्द्रा बस्ती, कोरा देवी कॉलोनी, खड़खड़ी, नई बस्ती, शिव नगर, सप्त सरोवर मार्ग क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति अनियमित बनी हुई हैं। यात्री बाहुल्य क्षेत्र में सुबह-शाम मात्र दो-दो घंटे ही पानी की आपूर्ति होती हैं, जिस कारण स्थानीय निवासियों व तीर्थयात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्रवासियों की दैनिक दिनचर्या भी प्रभावित हो रही है। उन्होंने कहा कि जल संस्थान की लापरवाही के चलते विगत दो दिनों से नलों में दूषित पानी आ रहा है जिस कारण संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा उत्पन्न हो गया है। उत्तरी हरिद्वार में निर्बाध पेयजल आपूर्ति हेतु कुम्भ मेले में बने नलकूप से सूखी नदी के पास लाईन को जोड़ना अति आवश्यक है। साथ ही साथ क्षतिग्रस्त लाईनों की मरम्मत करवाते हुए लाईनों की नियमित रूप से वाशिंग भी आवश्यक है। 

पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा ने कहा कि अधिकांश धार्मिक संस्थाएं आश्रम, अखाड़े, होटल, धर्मशालाएं उत्तरी हरिद्वार में ही स्थित हैं, ऐसे में पानी की अनियमित आपूर्ति व दूषित पानी की सप्लाई से पूरे देश में तीर्थनगरी हरिद्वार की छवि धूमिल हो रही है। अधिकारियों की संवेदनहीनता के चलते गंगा तट के वासी ही पानी से वंचित हो रहे हैं। उन्हांेने कहा कि यदि शीघ्र ही व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ तो स्थानीय विधायक व मुख्यमंत्री से मिलकर लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करवायी जायेगी।

युवा नेता आकाश भाटी व नीरज शर्मा ने कहा कि मुखिया गली, पावन धाम मार्ग, मस्तराम गली जैसे क्षेत्रों में दिन भर में कुछ ही समय पानी आता है जिस कारण दूसरी मंजिल पर पानी नहीं चढ़ता है। मोटर का प्रयोग किये बिना पानी आता नहीं है यदि मोटर का ज्यादा प्रयोग किया जाये तो कीचड़युक्त पानी की आपूर्ति होने लगती है। यदि व्यवस्था में सुधार नहीं किया गया तो क्षेत्र की जनता और भाजपा कार्यकर्त्ता जल संस्थान के कार्यालय की ताला बंदी करेंगे।

शिव शक्ति व्यापार मण्डल के अध्यक्ष विपिन शर्मा व कोषाध्यक्ष मान्धाता गिरि ने कहा कि हरिद्वार में पर्याप्त मात्रा में पानी की उपलब्धता होने के बावजूद पानी की अनियमित आपूर्ति अधिकारियों की घोर लापरवाही का परिणाम है। अधिकारियों की उदासीनता के चलते भूपतवाला, खड़खड़ी, नई बस्ती के निवासी दूषित पानी पीने को मजबूर हैं, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। वरिष्ठ समाजसेवी डॉ. श्यामलाल पुरी ने कहा कि जल संस्थान को क्षेत्रवासियों की परेशानी के दृष्टिगत त्वरित गति से पेयजल व्यवस्था को दुरूस्त करना चाहिए।

क्षेत्रवासियों के आक्रोश के दृष्टिगत मौके पर पहुंचे जल संस्थान के अधिशासी अभियन्ता मदन सैन ने वार्ता के पश्चात भाजपा कार्यकर्त्ताओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि वह शीघ्र ही स्वच्छ पानी की नियमित आपूर्ति हेतु व्यवस्था सुनिश्चित करवा रहे हैं। इस संदर्भ में क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी के प्रस्ताव पर हाईवे पर बने नलकूप से सूखी नदी तक लाईन को जोड़ा जायेगा तथा प्राइमरी स्कूल भूपतवाला पर जिला योजना से एक और नलकूप की स्थापना करवायी जा रही है। उन्होंने एई राकेश बमराडा को तुरन्त क्षतिग्रस्त लाईनों की मरम्मत व वाशिंग के निर्देश दिये।

इस मौके पर ज्ञापन सौंपने वालों में मुख्य रूप से वरिष्ठ समाजसेवी डॉ. श्यामलाल पुरी, पार्षद सुनीता शर्मा, पार्षद प्रतिनिधि दिनेश शर्मा, विदित शर्मा, आकाश भाटी, भाजपा वार्ड अध्यक्ष नीरज शर्मा, विपिन शर्मा, मान्धाता गिरि, आशु आहूजा, ऑटो यूनियन के महामंत्री राघव ठाकुर, आदित्य यादव, हंसराज आहूजा, सुखेन्द्र तोमर, रामवीर पाल, संजय पाल, विजय पाल, नरेश पाल, प्रमोद पाल, सन्नी गिरि, गोपी सैनी समेत अनेक क्षेत्रवासी व भाजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित रहे।

वर्ल्ड चैंपियन को किया गया सम्मानित

 वर्ल्ड पावर लिफ्टिंग चैम्पियनिशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली हरिद्वार की रेनू को सम्मानित किया

प्रेरणादायी है रेनू की कामयाबी-डा.विशाल गर्ग

हरिद्वार, 30 जून ( वीरेंद्र शर्मा संवादाता गोविंद कृपा हरिद्वार )


वरिष्ठ भाजपा नेता एवं समाजसेवी डा.विशाल गर्ग ने वर्ल्ड पा़वर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली हरिद्वार की रेनू को सम्मानित किया। विवेक विहार स्थित कार्यालय पर रेनू को सम्मानित करते हुए डा.विशाल गर्ग ने कहा वल्र्ड पावर लिफ्टिंग चैम्पियन में स्वर्ण पदक जीतकर रेनू ने देश, उत्तराखण्ड और हरिद्वार का नाम रोशन किया है। डा.विशाल गर्ग ने बताया कि भेल में रह रही रेनू के सिर से पति का साया पहले ही उठ चुका था। रेनू के पति का सपना था कि वह वल्र्ड पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप में भाग लेकर स्वर्ण पदक जीत और देश का नाम रोशन करे। इसके लिए रेनू के पति उन्हें बहुत सपोर्ट किया और रेनू ने कठिन प्रयास और मेहनत से पति के सपन को साकार कर दिखाया। डा.विशाल गर्ग ने कहा कि सभी को रेनू की कामयाबी से प्रेरणा लेनी चाहिए कि मेहनत और कड़ी लगन से किसी भी मुकाम को पाया जा सकता है। रेनू ने बताया कि पति के सपने को साकार करने के लिए उन्हें कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लेकिन उन्होंने अपने लक्ष्य को नजरअंदाज नहीं किया। रेनू ने बताया कि उनकी कामयाबी में उनके गुरूओं का बड़ा योगदान रहा। जिसमें रक्षा मंत्रालय में कार्यरत राजेश सर, शिवा चैधरी, शुभम राठौर का विशेष योगदान रहा। रेनू ने बताया कि डा.विशाल गर्ग और सुनील गाबा ने भी उन्हें बहुत सपोर्ट किया और आर्थिक रूप से मदद कर रशिया तक पहुंचने में मदद की। इसके अलावा मनजीत और भेल कर्मचारियों ने भी आर्थिक सहायता के रूप में महत्वपूर्ण योगदान दिया।


भाजपा ओबीसी मोर्चा ने प्रदेश अध्यक्ष राकेश गिरी के नेतृत्व में चलाया जनसंपर्क अभियान

  

भाजपा ओबीसी मोर्चा ने उत्तरी हरिद्वार में संत समाज से किया संपर्क



हरिद्वार 30 जून (  संजय वर्मा  ) नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में सेवा, सुशासन एवं गरीब-कल्याण को समर्पित गौरवशाली सफल 09 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में महाजनसंपर्क अभियान के अंतर्गत आज हरिद्वार विधानसभा के उत्तरी हरिद्वार भूपतवाला में स्वामी राम मुनि जी महाराज एवं प्रदेश अध्यक्ष ओबीसी मोर्चा राकेश गिरी जी के नेतृत्व में जनसंपर्क अभियान चलाया गया जिसमें संत महात्माओं से लेकर व्यापारी भाइयों से जनसंपर्क किया कार्यक्रम में ओबीसी मोर्चा के जिला अध्यक्ष डॉ प्रदीप कुमार जी हरिद्वार जिले के प्रभारी भरतलाल जी प्रदेश कार्यकारणी सदस्य संदीप सिंघानिया जी महामंत्री पवनदीप जी उपाध्यक्ष संदीप अरोड़ा जी आदित्य गिरी जी रवि कश्यप एवं मंत्री विपिन चौधरी जी सोशल मीडिया प्रभारी आशीष चौधरी जी एवं जिला कार्यकारी सदस्य बबीता योगाचार्य जी आदित्य प्रजापति सर्वेश प्रजापति जी एवं अनेक कार्यकर्ता साथ रहे।

. समर्थ पोर्टल पर पंजीकरण की अंतिम तारीख हुई 2 जुलाई


 समर्थ पोर्टल पर हो सकेगा 2 जुलाई तक पंजीकरण :-डॉ0 सुनील बत्रा 

 हरिद्वार 30 जून ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार )  एसएम जेएन पीजी कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ सुनील बत्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि समर्थ पोर्टल पर पंजीकरण की तिथि 30 जून से बढ़कर 2 जुलाई 2023 हो गई है , उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ने छात्र हितों को ध्यान में रखते हुए उक्त तिथि को 2 दिन के लिए और बढ़ाया है । उन्होंने उन समस्त छात्र-छात्राओं से कहा कि जिन लोगों ने अब तक अपना पंजीकरण नहीं कराया है वह इन 2 दिनों में अपना पंजीकरण अवश्य करा लें ।

नेहरू युवा केंद्र ने शुरू किया कैच द रेन अभियान

 नेहरू युवा केंद्र ने एस एम जे एन पीजी कॉलेज से शुरू किया कैच द रेन अभियान

एक सशक्त राष्ट्र की परिकल्पना पर्यावरण के बिना अधूरी - बलूनी।

पर्यावरण संरक्षण में जल की हर एक बूंद अहम - प्रो बत्रा।

हरिद्वार 30 जून, ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) एस.एम.जे.एन.पी.जी. काॅलेज में शुक्रवार को   पर्यावरण प्रकोष्ठ, आन्तरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ तथा भारत सरकार के युवा कार्यक्रम खेल मंत्रालय की स्वायत्तशासी संस्था




नेहरू युवा केंद्र, हरिद्वार द्वारा  ‘कैच द रेन अभियान’ के अन्तर्गत जनजागरुकता हेतु जल संरक्षण एवं जल संवर्धन विषय पर नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर  स्टेट एग्रीकल्चर मार्केटिंग बोर्ड्स की राष्ट्रीय परिषद के सलाहकार श्री गिरीश चंद्र बलूनी कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। श्री बलूनी ने इस अवसर पर उत्तराखंड के जल संसाधन में लगातार हो रही कमी को  समझाते हुए कहा कि पर्यावरण संरक्षण के बिना एक सशक्त राष्ट्र की परिकल्पना नही की जा सकती हैं। उन्होंने उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में हो रही जल संकट की समस्या का उल्लेख करते हुए बताया कि वैश्विक स्तर पर हो रही जल संकट की समस्या को स्थानीय स्तर पर किए गए प्रयासों से ही हल किया जा सकता हैं। श्री बलूनी ने एस एम जे एन पी जी कॉलेज एवं नेहरू युवा केन्द्र हरिद्वार द्वारा पर्यावरण संरक्षण की दिशा में चलाए जा रहे संयुक्त प्रयासों की भूरि भूरि प्रशंसा    करते हुए कहा कि सरकार के साथ मिलकर महाविद्यालय  एवं नेहरू युवा केन्द्र के संयुक्त तत्वावधान द्वारा चलाए जा रहे जनजागरुकता कार्यक्रमों को उत्तराखंड समेत पूरे देश तक पहुंचाए जाएंगे।

 काॅलेज के प्राचार्य प्रोफेसर सुनील कुमार बत्रा ने  समाज के प्रत्येक वर्ग को पर्यावरण संरक्षण में योगदान देने का संदेश दिया। उन्होंने धारणीय विकास की अवधारणा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को बनाए रखने हेतु संसाधनों का संरक्षण आवश्यक हैं। 

कार्यक्रम में अर्शिका, श्रेया नामदेव, गायत्री पंवार, हर्षित प्रजापति तथा अंजली भट्ट की टीम ने नुक्कड़ नाटक का मंचन किया।

कार्यक्रम का सफल संचालन पर्यावरण प्रकोष्ठ के समन्वयक डॉ विजय शर्मा ने किया। डॉ शर्मा ने भूजल स्तर में हो रही गिरावट तथा उसके समाधान के लिए वैज्ञानिक पक्ष रखा। 

इस अवसर पर श्री परवीन गोयल, श्री प्रदीप गोस्वामी, डॉ शिवकुमार चौहान, डाॅ. लता शर्मा, डॉ अमिता मल्होत्रा, डॉ महिमा नागयान, कार्यालय अधीक्षक मोहन चन्द्र पाण्डेय, आलोक शर्मा, अनन्या भटनागर, मधुर अनेजा, भावेश, जॉनी कश्यप आदि छात्र छात्राऐं उपस्थित रहे।

दयालबाग आगरा में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हुआ संपन्न

 डीईआई, डीएससी और एनएससी का पांचवां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन संपन्न, सर्वश्रेष्ठ शोध पत्र पुरस्कृत



आगरा 29 जून डी.ई.आई.(डीम्ड टू बी



यूनिवर्सिटी), दयालबाग़, आगरा में आयोजित संयुक्त अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (डीएससी-एनएससी) के दूसरे दिन के शाम के सत्र के अंत में, पुरस्कारों की विभिन्न श्रेणियों और मानदंडों को शामिल करते हुए एक अभिनंदन समारोह आयोजित किया गया। सबसे प्रतिष्ठित एसएसआई पुरस्कार सिस्टम्स सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा प्रदान किए गए, जहां अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कई व्यक्तियों को निम्नलिखित पुरस्कार प्रदान किए गए।  जैसे, 'लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड्स' वर्तमान में इंडियन काउंसिल फॉर रिसर्च ऑन इंटरनेशनल इकोनॉमिक रिलेशंस के प्रतिष्ठित प्रोफेसर प्रो अशोक गुलाटी, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रतिष्ठित प्रोफेसर प्रो अनिल के. जैन को दिए गए। प्रोफेसर वी.बी.  गुप्ता, एक शीर्ष पॉलिमर वैज्ञानिक और शिक्षा पर सलाहकार समिति के उपाध्यक्ष, डीईआई को उनके क्षेत्रों में उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित किया गया।  'नेशनल सिस्टम्स गोल्ड मेडल' वर्तमान में आईआईटी, मंडी के निदेशक प्रोफेसर लक्ष्मीधर बेहरा को प्रदान किया गया।  'एसएसआई वार्ष्णेय पुरस्कार' एम्स के डॉ. संजीव शर्मा और डीईआई की प्रोफेसर अनीता लखानी को प्रदान किया गया, 'विक्रम पुरस्कार' आईआईटी दिल्ली के श्री तन्मय बुनकर और गैर-विश्वविद्यालय संस्थानों की डीन प्रोफेसर सोना आहूजा को प्रदान किया गया। डी. ई. आई. एसएसआई 'यंग सिस्टम साइंटिस्ट अवार्ड' सतत विकास के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए डॉ. अर्श धीर, दयालबाग़, आगरा को और डॉ. रोहन पॉल, आईआईटी दिल्ली और डॉ. अनुराग मूर्ति नारेडला, बॉन विश्वविद्यालय, जर्मनी को प्रदान किया गया।

 46वें नेशनल सिस्टम्स कॉन्फ्रेंस के प्रतिनिधियों को सर्वश्रेष्ठ पेपर पुरस्कार प्रदान किए गए, जहां डेमिसेट्टी गीता प्रेम चंदू, सीएम मार्कन, सोना आहूजा, मंजरी त्रिपाठी ने चेतना-आधारित और साहित्यिक प्रणालियों में सर्वश्रेष्ठ पेपर पुरस्कार जीता, रोहित सिंह, ऋषभ कुमार, शिखर पाठक ने सर्वश्रेष्ठ पेपर पुरस्कार जीता। सत्यम शर्मा, प्रिया अस्थाना ने एग्रोइकोलॉजी-कम-प्रिसिजन फार्मिंग सिस्टम में पुरस्कार जीता, श्रद्धा किशोर, कुशल किशोर, कुशाग्र किशोर ने इंजीनियरिंग सिस्टम में, मुस्कान अग्रवाल, ईशा गोयल, गुंजन गोस्वामी, सिमरन बमोला, अनीता लखानी ने पर्यावरण सिस्टम में, सारिका सिंह ने पुरस्कार जीता। सी वसंता लक्ष्मी, संचार प्रणालियों में सी पटवर्धन, हेल्थकेयर और शिक्षा प्रणालियों में प्रीत कुमारी, जिंसी चेरियन और सर्वश्रेष्ठ पोस्टर प्रस्तुति के लिए शब्द साहनी, सूरत साहनी।


 दयालबाग़ (कला) विज्ञान (और इंजीनियरिंग) (विकासवादी/पुनः-विकासवादी) चेतना (डीएससी) पर पांचवें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के प्रतिभागियों को सर्वश्रेष्ठ पेपर पुरस्कार भी प्रदान किए गए। 'सर्वश्रेष्ठ पोस्टर पुरस्कार' स्वाति इदनानी, सुरेश इदनानी, स्नेहा इदनानी, पशपा इदनानी और टीना इदनानी को प्रदान किया गया और साथ ही अमी पाराशर और सत्यम शरण को 'सर्वश्रेष्ठ पेपर' पुरस्कार श्वेता प्रसाद, शालिनी निगम और कविता कुमार को प्रदान किया गया।


 प्रो. पी.एस. सत्संगी साहब, दयालबाग एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस की शिक्षा सलाहकार समिति (थिंक टैंक के रूप में कार्यरत एक गैर-वैधानिक निकाय) के अध्यक्ष ने, बैकुंठ धाम, दयालबाग़, आगरा के पास यमुना नदी में नाव की सवारी करते हुए, वस्तुतः सम्मेलन के पोस्टर सत्र को देखा और युवा शोधकर्ताओं को प्रोत्साहित किया।

29 जून 2023, अंतिम दिन की कार्यवाही 'ह्यूमन-आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टीमिंग' पर एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी (यूएसए) की प्रोफेसर डॉ. नैन्सी जे. कुक की पूर्ण वार्ता के साथ शुरू हुई।  प्रोफेसर कुक ने एआई के साथ बातचीत पर किए गए विभिन्न रोचक प्रयोगों के बारे में बताया और यह भी बताया कि एआई मानव कल्याण को बढ़ाने के लिए कैसे कार्य कर सकता है और विभिन्न संचार नेटवर्क की निगरानी में सहायता कर सकता है।  उन्होंने बताया कि पारस्परिक विश्वास, स्वायत्तता स्पष्टीकरण और पारदर्शिता से संबंधित स्थितियों और मुद्दों को ध्यान में रखा जाना चाहिए।  एआई के उपयोग के लिए प्रभावी टीमिंग और मानव प्रणाली एकीकरण एक महत्वपूर्ण पहलू है।  सत्र की अध्यक्षता डॉ. दयाल प्यारी श्रीवास्तव, दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई), आगरा, भारत ने की।

 प्रोफेसर डॉ. जॉन स्पैकमैन, मिडिलबरी कॉलेज, दर्शनशास्त्र विभाग, यूएसए। गैर-संकल्पना, ध्यान और चेतना की प्रतिवर्ती संरचना पर मुख्य भाषण दिया।  उन्होंने गैर-वैचारिक जागरूकता, चेतना की विभिन्न प्रकार की प्रतिवर्ती संरचनाओं, चेतना के प्रतिवर्ती सिद्धांतों, जानबूझकर और गैर-इरादतन जागरूकता, चेतना की प्रकृति, विभिन्न प्रकार की ध्यान प्रथाओं की प्रभावकारिता और सचेतन ध्यान के उदाहरणों का हवाला देते हुए विषयों पर चर्चा की।  बौद्ध दर्शन सत्र की अध्यक्षता डॉ अमी कुमार ने की;  कोलंबिया विश्वविद्यालय, यूएसए।

 डॉ. नताली ग्रुबर, एरिज़ोना स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए ने 'माता-पिता को सचेतनता सिखाकर विनियमन की पीढ़ियों का निर्माण' विषय पर अपने मुख्य व्याख्यान में विस्तार से बताया कि अनुलग्नक पैटर्न और टेम्पलेट्स में तंत्रिका संबंध होते हैं।  उन्होंने भावनात्मक नियमन और दैनिक जीवन में सचेतनता लाने पर अपने प्रयोग के बारे में बताया, जिससे माता-पिता के पैनिक अटैक ठीक हुए और उनमें कमी आई, स्व-नियमन हुआ और स्वयं के बारे में जागरूकता बढ़ी, साझा समझ और संबंध संबंध बढ़े।  सचेतनता सीखने से व्यवहार में परिवर्तनकारी परिवर्तन आए।  सत्र की अध्यक्षता एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए की प्रोफेसर डॉ. सरूप रानी माथुर ने की।  सुबह के सत्र के अंत में डॉ. अप्रुवा नारायण ने वक्ताओं और दर्शकों को धन्यवाद दिया।

 शाम के सत्र में राधास्वामी सत्संग सभा और डीईआई प्रशासनिक निकायों के विभिन्न पदाधिकारियों के बीच एक संयुक्त पैनल चर्चा आयोजित की गई।  चर्चा के बाद, सर्वसम्मति निर्माण और प्रस्तावित डीएससी और एनएससी 2024 पर एक सत्र की अध्यक्षता प्रोफेसर डॉ. प्रेम कुमार कालरा, निदेशक, दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई), आगरा ने की।

इस सम्मेलन ने विद्वानों के मध्य चर्चा- परिचर्चा और विचार-विमर्श के साथ चेतना की समझ में गहरी अंतर्दृष्टि उत्पन्न की।

सक्षम नैनीताल ने मनाई हेलेन केलर जयंती


* नैनीताल मे हेलेन केलर का जन्मोत्सव  मनाया गया 


नैनीताल 28 जून समदृष्टि क्षमता विकास एवं अनुसंधान मंडल ( *सक्षम* )  जिला इकाई *नैनीताल* द्वारा *हेलन केलर*  जन्मोत्सव समारोह के साथ



बड़े ही धूमधाम से *हल्द्वानी बद्रीपुरा* स्थित प्रांतीय उपाध्यक्ष श्री पृथ्वी पाल रावत जी के कार्यालय में मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ *संघटना सूत्र* पढ़कर किया गया। आज के इस भव्य कार्यक्रम में अनेक वक्ताओं ने अपने अपने विचार हेलन केलर के संबंध में व्यक्त किए। प्रांतीय उपाध्यक्ष *श्री पृथ्वीपाल रावत जी* ने बताया की *हेलेन केलर* द्वारा दी शिक्षा आज अनेक *नेत्र बाधित* एवं *दिव्यांगों* के लिए वरदान साबित हो रही है। उन्होंने बताया कि हेलेन केलर *संघर्ष और साहस* की प्रतिमूर्ति थी। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला संरक्षक श्री *दया किशन बलुटिया जी* ने हेलेन केलर के *जीवन वृतांत* को विस्तार पूर्वक बताते हुए कहा कि वह मात्र *19 महीने* की उम्र में ही अपनी *सुनने और देखने* की  शक्ति को खो चुकी थी। लेकिन उसके बाद भी अपने *जज्बे और जीवटता* को कायम रखते हुए आज सभी दिव्यांगों के लिए *प्रेरणा स्रोत और आदर्श* बनी हुयी हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष *श्री अरुण कुमार जी एवं संचालन श्री विपिन बहुगुणा जी* द्वारा किया गया। आज के इस कार्यक्रम में  प्रांतीय सह सचिव *श्री भुवन गुणवंत, कोषाध्यक्ष श्री सुरेश कपिल,श्रीमती जया जोशी, श्री विष्णु रावत, श्री दिनेश पन्तोला, श्रीमती तनुजा तकवाल, गिरीश चंद्र त्रिपाठी एवं श्री असलम जी सहित अनेक कार्यकर्ता एवं दिव्यांग* उपस्थित रहे। कार्यक्रम का समापन जिला सचिव *श्रीमती लता पंत जोशी जी* द्वारा *कल्याण मंत्र* पढ़कर किया गया।


        

दयालबाग आगरा में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के दूसरे दिन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विषय विशेषज्ञों ने रखे विचार

 द्वितीय दिवस  डीएससी- एनएससी 28  जून 2023 


आगरा 28 जून



दयालबाग़, आगरा में आयोजित होने वाले संयुक्त अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन डीएससी [(5 वां संस्करण) और एनएससी (46 वां संस्करण)] के दूसरे दिन का सुबह का सत्र वीडियो कॉन्फ्रेंस मोड के माध्यम से प्रस्तुत प्रसिद्ध विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों द्वारा मुख्य भाषण के साथ शुरू हुआ। इस सत्र की  प्रथम  वक्ता कोलंबिया विश्वविद्यालय, अमेरिका की  प्रोफेसर डॉ. एमी चैपमैन थीं । उन्होंने 'शोविंग अप एस द होल सेल्फ इन द क्लास रूम -नेर्चेरिंग स्पिरिचुअलिटी इन एजुकेटर्स एंड स्टूडेंट्स' विषय पर बात की। डॉ. चैपमैन ने संयुक्तराज्य  के बीस स्कूलों में आयोजित तीन- वर्षीय अध्ययन के परिणामों को साझा किया, उनकी टीम ने इन स्कूलों में आध्यात्मिकता- समर्थक प्रथाओं और संस्कृति के पोषण पर शोध किया था । इस व्याख्यान  के दौरान अध्यक्ष प्रो. (डॉ.) सरूप रानी माथुर, एरिज़ोना स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए थीं। दूसरा मुख्य व्याख्यान प्रो. (डॉ.) मार्क जुएर्गेंसमेयर, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सांता बारबरा, यूएसए द्वारा प्रस्तुत किया गया। उन्होंने 'सोशल इवैल्यूएशन ऑफ़ रिलीजियस कॉनशिअस्नेस' पर विचार- विमर्श किया और अपने नए उद्यम की खबर साझा की, वह राधास्वामी आस्था पर अपनी पुस्तक का दूसरा संस्करण प्रकाशित करने जा रहे हैं जिसमें वह  उत्तर- आधुनिक धर्म के बारे में बात करेंगे। उन्होंने मूल्यों और आध्यात्मिकता को विकसित करने के लिए वैज्ञानिक तरीकों का पालन करने के लिए डीईआई (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी) की भी सराहना की। डॉ. अपूर्व रतन मूर्ति, एमआईटी, यूएसए इस व्याख्यान  के दौरान अध्यक्ष थे। इसके बाद मर्डोक विश्वविद्यालय (ऑस्ट्रेलिया) के प्रोफेसर राजीव वार्ष्णेय ने पूर्ण भाषण दिया, उन्होंने 'जीनोमिक्स फॉर फ़ूड सिक्योरिटी इन डेवलपिंग कंट्रीज़ ' पर एक दिलचस्प बातचीत प्रस्तुत की, जिसमें  उन्होंने खाद्य सुरक्षा प्राप्त करने के लिए फसल सुधार के लिए जीनोमिक्स- सहायता प्राप्त प्रजनन के महत्त्व  पर प्रकाश डाला। विश्व की बढ़ती जनसंख्या के लिए. डॉ. राज कमल भटनागर, सेवानिवृत्त वैज्ञानिक, आईसीजीईबी, भारत ने इस वार्त्ता  के दौरान अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।


अल्प  समयांतराल के बाद, एनएससी की मौखिक प्रस्तुतियाँ आयोजित की गईं, जिन्हें तीन उप- सत्रों में विभाजित किया गया: पर्यावरण प्रणाली, सूचना और संचार प्रणाली और स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा प्रणाली। कुल मिलाकर, तीन उप- सत्रों में बीस शोध पत्र प्रस्तुत किए गए, जहां प्रतिनिधियों द्वारा कुछ प्रेरक शोध कार्य और नए विचार साझा किए गए। एनएससी का पोस्टर प्रेजेंटेशन सत्र भी समानांतर रूप से आयोजित किया गया जिसमें प्रतिनिधियों द्वारा उनतालीस लघु पोस्टर प्रस्तुतियां प्रस्तुत की गईं।


संयुक्त सम्मेलन के शाम के सत्र में मुख्य वक्ताओं द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंस मोड के माध्यम से कई वार्त्ताएँ  शामिल थीं, जिसमें एम्स्टर्डम विश्वविद्यालय, नीदरलैंड और बर्लिन, जर्मनी के प्रोफेसर डॉ. रेइनहार्ड ब्लुटनर की  वार्त्ता  शामिल थी, जिन्होंने 'क्वांटम कॉग्निशन एंड नेचुरल लैंग्वेज  इंटरप्रिटेशन'' पर अपने विचार साझा किए। प्रोफेसर डॉ. अन्ना मारग्रेटा होरात्शेक, कील विश्वविद्यालय, जर्मनी ने 'सोशल इंजीनियरिंग एंड इंडिविजुअल कॉनशिअस्नेस इन इंग्लिश लिटरेचर्स फ्रॉम द  19th  टू द 20st  सेंचुरी' शीर्षक से अपना ज्ञानवर्धक व्याख्यान प्रस्तुत किया, प्रोफेसर डॉ. वोल्फगैंग जे. डस्चल, कील विश्वविद्यालय, जर्मनी का व्याख्यान एक रोमांचक विषय , 'द नाइ ट बिफोर द बिग बैंग' पर था , प्रोफेसर डॉ. एंड्रियास नेह्रिंग, फ्रेडरिक- अलेक्जेंडर- विश्वविद्यालय, नूर्नबर्ग- एरलांगन, जर्मनी द्वारा, ' स्पिरिचुअलिटी एंड आर्ट: ट्रांसग्रेशन्स इन द कॉन्टेक्स्ट ऑफ़ रिलीजियस प्रुलेरिस्म ' एक व्याख्यान दिया गया और यूके के ईस्ट एंग्लिया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. राल्फ यारो द्वारा एक  वार्त्ता प्रस्तुत की गई , उन्होंने 'परफॉरमेंस, कॉनशिअस्नेस एंड इकोलॉजी ' विषय पर विचार- विमर्श किया। डॉ. आरत कालरा, प्रिंसटन यूनिवर्सिटी, यूएसए, डॉ. वसंत लक्ष्मी, दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, डॉ. शिरोमन प्रकाश, दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, डॉ. वोल्फगैंग जे. डस्चल, कील यूनिवर्सिटी, जर्मनी और प्रोफेसर गुर प्यारी जंडियाल, दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट  क्रमशः अध्यक्ष के रूप में उपस्थित थे ।

इमैक ने मनाया अपना स्थापना दिवस



*इमैक समिति के स्थापना दिवस पर आयोजित हुई संगीत और काव्य गोष्ठी।*



हरिद्वार 28 जून (  वीरेंद्र शर्मा संवादता गोविंद कृपा हरिद्वार ) इमैक समिति जिसकी स्थापना संगीत, कला और सांस्कृतिक विरासत के प्रति प्रेम और लगाव के चलते हुई थी आज कला को सामाजिक विषयों के प्रति जनमानस को जागरूक करने में कर्मठता के साथ प्रयासरत है। समिति कला के प्रति संवेदनशील होने के साथ साथ अपने सामाजिक कर्तव्य का भी बेहद ईमानदारी और जिम्मेदारी के साथ निर्वहन करने का प्रयास कर रही है। 

समिति की स्थापना 2015 में हुई थी जिसके स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में कनखल स्थित 'स्वर गंगा अकादमी' में संगीत और काव्य कला गोष्ठी का आयोजन किया गया। मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर और मां के चरणों में पुष्प अर्पित कर मुख्य अतिथि और कलाकारों ने मां का आह्वान किया। स्वर गंगा एकेडमी के छात्रों अपराजिता रतूड़ी, पावनी भारद्वाज और अहान ने दीप प्रज्वलन में मंत्रों और मां शारदा के स्तुति के साथ गोष्ठी का शुभारंभ किया। तत्पश्चात समिति की होनहार युवा सदस्या अनन्या भटनागर ने अतिथियों का स्वागत अपने मधुर कंठ द्वारा स्वागत गीत के माध्यम से किया। जिसकी रचना समिति के ही आजीवन सदस्य गीतकार अभिनंदन गुप्ता द्वारा की गई है। समिति के संस्थापक अध्यक्ष आशीष कुमार झा ने सभी का स्वागत करते हुए समिति के उद्देश्य और समिति के पिछले आठ वर्षों के कार्यों को सभी के समक्ष रखा। साथ ही अपनी वाणी द्वारा समिति के भावों को दर्शाती हुई कुछ पंक्तियां गुनगनाई । हरिद्वार में बहुत समय से अनेकों कलाकारों को संगीत की कुशल शिक्षा प्रदान करते आए और शास्त्रीय संगीत के पुरोधा गुरु पंडित राजीव लोचन भट्ट जी मुख्य अतिथि के रूप में गोष्ठी में उपस्थित रहे। भट्ट जी ने समिति की प्रशंसा करते हुए कहा कि संगीत के प्रति गहन आस्था और कला को सामाजिक विषयों के साथ जोड़ कर कार्य करने का अनूठा संगम अत्यंत मुश्किल से मिलता है। समिति को आशीर्वाद स्वरूप पंडित भट्ट जी का आशीर्वाद मिला और आपने अपनी मधुर आवाज द्वारा मां गायत्री एवम् मां शारदा को समर्पित शास्त्रीय संगीत की प्रस्तुति से सबको मंत्र मुग्ध भी किया। समिति के पदाधिकारियों द्वारा पंडित भट्ट जी को स्मृति चिन्ह और शॉल द्वारा सम्मानित किया गया। गोष्ठी में सुनील मुखर्जी ने "प्रभु जी अवगुण चित न धरो" भजन प्रस्तुत किया। भूदत शर्मा ने "है अमृत की धारा जिसे कहते हैं गंगा, इसके ही तो गोद में फहरे है तिरंगा" स्वरचित कविता का मधुर गायन प्रस्तुत किया। कवि अरुण पाठक ने अपनी रचना समिति को समर्पित करते हुए  "चल चल रे पथिक तू चल, तेरी दूर नहीं मंजिल" स्वरचित गीत प्रस्तुत किया। गायक विपुल रुहेला ने अपनी मधुर आवाज में "दिल जो दर्द आशना नहीं होता, वो किसी काम का नही होता" गजल प्रस्तुत की। कवयित्री राजकुमारी ने "महादेव मृत्युंजय तुम ही हो, जग के पालनहार" और देशभक्ति पर अपनी रचना प्रस्तुत की। कवयित्री कल्पना कुशवाहा ने श्रृंगार रस की अपनी रचना "मैंने तुझको चाहा है, तुझसे ही है प्यार किया"  प्रस्तुत की। कवि सुभाष मल्लिक ने अपनी रचना "मेरा मन चला गांव की ओर" से सबको भावविभोर किया। हरिद्वार के उभरते युवा गायक कुणाल धवन ने अपने मधुर आवाज में गीत प्रस्तुत किया। गायक गजेंद्र कौशिक ने "दिल न मिलते तो मुलाकात अधूरी रहती" गजल प्रस्तुत की। कवयित्री लक्ष्मी नेगी ने अपनी ओजस्वी वाणी में कविता पाठ किया। इसके अलावा संगीत शिक्षिका अमिता मल्होत्रा एवम् अर्चना ने भी मधुर प्रस्तुति दी। मुंबई से संगीत की शिक्षा ले रहे पीयूष कश्यप ने भी शास्त्रीय संगीत के साथ अपनी प्रतुति दी। तबला वादक निखिल घोष ने पंडित भट्ट जी एवम् अन्य कलाकारों के साथ संगत की। समिति की उपाध्यक्ष हेमा भंडारी ने सभी उपस्थित कलाकारों के समक्ष अपने विचार रखे। गोष्ठी के बाद सभी कलाकारों को उनके क्षेत्र में समर्पित होकर कार्य करने के लिए स्मृति चिन्ह और अंगवस्त्र प्रदान कर समिति द्वारा सम्मानित किया गया। गोष्ठी के अंत में समिति की सचिव डॉ० मौसमी गोयल ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा की संगीत और कविताएं हमारे भावो को व्यक्त करने के सशक्त माध्यम है। जब हम खुश होते है या जब उदास होते हैं तो हमे सकारात्मक ऊर्जा देने का कार्य संगीत करता है। समिति का प्रयास रहेगा आगे भी इस प्रकार की गोष्ठी सभी के साथ मिलकर करते रहेंगे। गोष्ठी का कुशल संचालन डॉ० श्याम सिसोदिया ने अपनी मधुर और पारंगत हृदय स्पर्शी वाणी में किया जिसे सभी ने सराहा। आयोजन में उपस्थित रही साहित्यकार और पत्रकार राधिका नागरथ ने भी समिति की सराहना की। इस अवसर पर कोषाध्यक्ष विभव भटनागर, कोर सदस्या सुनीता झा,  समिति की सदैव सहयोग करने वाले पत्रकार और एडवोकेट कुलदीप खंडेलवाल और जितेंद्री खंडेलवाल के साथ इमैक समिति से राखी धवन, भूषण धवन, अजय ममगाईं, आयुष डंगवाल, आस्था गोयल, स्वाति उपाध्याय, शुभम, लक्ष्य, सक्षम, श्रुति, निधि भारद्वाज, श्यामल भारद्वाज, संदीप डोगरा आदि उपस्थित रहे।

सक्षम देहरादून ने मनाया हेलेन केलर का जन्मदिन



 सक्षम देहरादून के तत्वाधान में मनाया गया हेलेन केलर का जन्मदिन 

प्रेरणा दिवस के रूप में


हेलेन केलर का 143 वा जन्म दिवस मनाया गया।

देहरादून 27 जून (  जेके रस्तोगी संवाददाता गोविंद कृपा देहरादून ) सम दृष्टि क्षमता विकास एवं अनुसंधान मंडल (सक्षम) के मार्गदर्शन में जिला दिव्यांग पुनर्वास केंद्र देहरादून उप कार्यालय राजा रोड देहरादून स्थित डैफ वोकेशनल सेंटर पर आज हेलन केलर जयंती मनाई गई।

कार्यक्रम संचालक अनंत मेहरा प्रांत सह-सचिव सक्षम प्रांत उत्तराखंड ने किया। उन्होंने बताया दिव्यांग जनों को केवल दिशा की आवश्यकता होती है ऐसी ही हेलेन केलर जो कि न केवल दृष्टिबाधित अपितु वह श्रवण बाधित भी थी परंतु वह विभिन्न क्षेत्रों में  अपनी सेवाएं देती रही । हमें उनका अनुसरण करना चाहिए तथा समाज में सभी दिव्यांग जनों को दिशा प्रदान करना चाहिए आज दिव्यांग विभिन्न उच्च पदों पर आसीन है तथा वह स्वयं के साथ-साथ समाज को भी उचित दिशा प्रदान कर रहे हैं उन्होंने देहरादून के परिपेक्ष में बताया कि देहरादून जनपद में शीघ्र अति शीघ्र दिव्यांगजन सर्वेक्षण का कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है उन्होंने आह्वान किया जनपद देहरादून के विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर रहे समाजसेवियों तथा क्षेत्रों के प्रतिनिधित्व कर्ता प्रधान, पार्षद एवं अन्य जनों से कि वह दिव्यांग जनों के सर्वेक्षण में सहायता करें तथा भविष्य में दिव्यांग जनों के लिए उचित योजना बन सके उसके लिए यह सर्वेक्षण नितांत आवश्यक होगा सर्वेक्षण से दिव्यांग जनों के पेंशन , छात्रवृत्ति, शिक्षा ,पुनर्वास तथा रोजगार एवं स्वरोजगार, दिव्यांगजन प्रमाण पत्र, दिव्यांगजन विशिष्ट पहचान पत्र से संबंधित सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं पर अच्छा कार्य करने में जिला दिव्यांग पुनर्वास केंद्र अपनी अग्रणी भूमिका निभाएगा। सर्वेक्षण के लिए उन्होंने किसी भी जानकारी हेतु 89545 08145 नंबर पर जानकारी प्राप्त करने के लिए आह्वान किया

 इस अवसर पर विकलांग अभिभावक एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय सैनी उत्तराखंड डैफ वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं सक्षम के श्रवण बाधित प्रकोष्ठ प्रमुख उमेश ग्रोवर तथा समाजसेवी कृष्णा मेहरा , ऋषभ प्रकाश, पूजा मेहरा उत्तम टॉक के अतिरिक्त यूपीईएस यूनिवर्सिटी के छात्र अतुल रावत चिन्मय परिधि राघव सार्थक एवं अनुराग आदि उपस्थित रहे।

दयालबाग एजुकेशनल इंस्टीट्यूट में प्रारंभ हुआ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन




आगरा 27 जून 27-29 जून 2023, (विकासवादी/पुनः-विकासवादी) चेतना (डीएससी) के दयालबाग़  (कला) विज्ञान (और इंजीनियरिंग) पर 5 वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन और 46 वां (इंटर) नेशनल सिस्टम्स कॉन्फ्रेंस (एनएससी) जिस का विषय है, इवैल्यूएशन ऑफ होमो सेपियंस टू होमो स्प्रिच्युअल्स फॉर बेटर वर्डलीनेस' , प्रोफेसर डॉ. आनंद श्रीवास्तव, समन्वयक आयोजक डीएससी, कील विश्वविद्यालय, जर्मनी, प्रोफेसर डॉ. सरूप रानी माथुर, सह-अध्यक्ष (पश्चिम) डीएससी, एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए, प्रोफेसर डॉ. अपूर्वा नारायण, सह-आयोजक डीएससी, यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ओंटारियो और यूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू, कनाडा, और प्रोफेसर प्रेम कुमार कालरा, अध्यक्ष, सिस्टम्स सोसाइटी ऑफ इंडिया, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली के उद्घाटन के साथ प्रारंभ हुआ।

 "सिविलाइजेशन एंड कल्चर द अडवेंट ऑफ कॉन्शसनेस " शीर्षक से अपने उद्घाटन भाषण में, प्रोफेसर  प्रेम कुमार कालरा, निदेशक, दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई), आगरा, भारत ने नैतिकता, सामाजिक संवेदनाओं और मूल्यों पर विचारों के विकास का पता लगाया। चेतना के विविध पक्षों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने बताया कि वे संस्कृति और सभ्यता में कैसे योगदान करते हैं । प्रो. कालरा ने 21 वीं सदी के खतरों के बारे में चिंता व्यक्त की और बताया कि कैसे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा जीवन के प्रति कर्तव्यनिष्ठ दृष्टिकोण अपनाने में सक्षम बना सकती है।  सत्र की अध्यक्षता एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए की प्रोफेसर डॉ. सरूप रानी माथुर ने की।

 दयालबाग़ एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डी.ई.आई), आगरा, भारत की शिक्षा सलाहकार समिति के अध्यक्ष प्रोफेसर प्रेम सरन सत्संगी साहब ने इस बात पर प्रकाश डाला कि शिक्षा का दयालबाग़  मॉडल वास्तविक जीवन की परिस्थितियों में सफल है, जो प्रकृति में जटिल हैं, न कि केवल शुद्ध धार्मिकता का मिश्रण।  लेकिन आध्यात्मिकता हमारे धर्मार्थ कार्यों से जुड़ी हुई है, इसलिए यह सफल हो गया है और दुनिया भर में अब हमारे पास अकादमिक और साथ ही पेटेंट अर्जित करने वाले क्षेत्रों में मूल शोध के लिए काफी कवरेज और गुंजाइश है ताकि ये उद्योग हमारे स्नातकों को अधिक से अधिक रोज़गार दे सकें, भले ही वे लाभ के लिए काम करते हों।  लाभ को अपनी मूल अनुसंधान क्षमता में सहायक बनाए रखने की भावना रखते हैं जो 'अंतिम और सबसे कम के संदर्भ में  है। प्रोफेसर प्रेम सरन सत्संगी साहब की विज़न टॉक उनकी ओर से डॉ. अर्श धीर द्वारा प्रस्तुत की गई, जिसका शीर्षक था "रोल ऑफ कम्युनिटीज़ इन अचिविंग सस्टेनेबल डेवलपमेंट : ए केस स्टडी" । सत्र की अध्यक्षता कील विश्वविद्यालय, जर्मनी के प्रोफेसर डॉ. आनंद श्रीवास्तव ने की।  संत(सु)परमैन इवोल्यूशनरी स्कीम के छात्रों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया, जिसे दर्शकों ने खूब सराहा।

दूसरे सत्र में प्रोफेसर सुखदेव रॉय, डीईआई, भारत, प्रोफेसर वंदना शर्मा, पंजाब विश्वविद्यालय, भारत की अध्यक्षता में  “कोन्शिऔसनेस एंड लिटरेरी सिस्टम्स” विषयों पर प्रस्तुतियाँ शामिल थीं|  प्रोफेसर जीपी सत्संगी, डीईआई, भारत और डॉ. भूपिंदर सिंह, आईसीएआर, भारत ने  "एग्रोइकोलॉजी -कम -प्रिसिजन फार्मिंग सिस्टम" की अध्यक्षता की ;  "इंजीनियरिंग सिस्टम्स" की अध्यक्षता प्रोफेसर डीके चतुर्वेदी, डीईआई, भारत और प्रोफेसर राजीव कुमार उपाध्याय, एचसीएसटी, भारत ने की।  शाम के सत्र में, यूके के एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के डॉ. अल्फी गैथोर्न-हार्डी ने "व्हाट वुड एग्रीकल्चर लुक लाइक इफ डिज़ाइंड बाय एन ईकोलोजिस्ट? मोर गार्डन्स फ्युवर फ़ील्ड्स ’’  शीर्षक पर एक व्याख्यान दिया, इसकी अध्यक्षता डॉ. बानी दयाल धीर, दयालबाग़  एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई), आगरा, भारत ने की। डॉ. दयाल प्यारी श्रीवास्तव, दयालबाग़  एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई), आगरा, भारत ने "क्रिएटिविटी, कोन्शिऔसनेस कॉनसैनसिऔसनेस  " पर व्याख्यान दिया।  डॉ. बानी दयाल धीर ने “ ओ बेंग्स ! फोंड्ली टर्न टू योर ट्रू होम!: ए ब्रीफ एनालिसिस ऑफ़ हुजूर साहबजी महाराज्स प्ले  दीन ओ दुनिया " विषय पर व्याख्यान दिया।  दयालबाग़  एजुकेशनल इंस्टीट्यूट की श्रीमती प्रेम प्यारी दयाल ने "कर्माज़  एंड द  नेस्सिसिटी ऑफ़ द संत सतगुरु ऑफ़ द टाइम टू अटेन सैल्वेशन’’ अर्थात् मुक्ति प्राप्त करने के लिए उपस्थित संत सतगुरु की आवश्यकता पर बात की। पश्चिमी ओंटारियो विश्वविद्यालय और वाटरलू विश्वविद्यालय, कनाडा के प्रोफेसर डॉ. अपूर्वा नारायण ने आमंत्रित वार्त्ता की अध्यक्षता की।


तत्पश्चात  शाम को, डॉ. क्रिस्टीन मान, लेखिका, थियोलॉग, मनोवैज्ञानिक, म्यूनिख, जर्मनी द्वारा "क्वांटम फिज़िक्स एंड द डेवलपमेंट ऑफ़ कोन्शिऔसनेस " पर मुख्य व्याख्यान दिया गया, जिसकी अध्यक्षता कील विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. वोल्फगैंग जे. डशल ने की।  जर्मनी.  प्रोफेसर डॉ. एनेट विल्के, वेस्टफैलिस विल्हेल्म्स-यूनिवर्सिटेट मुंस्टर, जर्मनी ने प्रोफेसर डॉ. अन्नामार्गरेटा होरात्शेक, कील विश्वविद्यालय, जर्मनी की अध्यक्षता में “आर्ट, साइंसेज, एंड द इंजीनियरिंग ऑफ़ स्पिरिचुअल एवोल्यूशन  : थ्री इंडियन नारेटिव्स ऑन द आर्ट ऑफ़ सेल्फ कल्टीवेशन” विषय पर अपना संबोधन दिया।   प्रोफेसर डॉ. एंड्रियास मुलर, कील विश्वविद्यालय, जर्मनी ने "द स्प्रिचुअलिटी ऑफ़ द क्रिश्चियन डेजर्ट एस ए बेसिस फॉर देयेर रिलेशनशिप टू द एनवायरनमेंट " विषय पर अपना भाषण दिया, जिसकी अध्यक्षता दयालबाग़  एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई, आगरा) के प्रोफेसर डॉ. सी. पटवर्धन ने की। 

 दिन का अंतिम सत्र योगदान पत्रों और पोस्टरों (डीएससी) के साथ संपन्न हुआ, जिसकी अध्यक्षता प्रोफेसर सोना आहूजा, दयालबाग़  एजुकेशनल इंस्टीट्यूट  (डीईआई), आगरा, भारत ने की।

 प्रत्येक सत्र में चेतना के विभिन्न पहलुओं पर आकर्षक और विचारोत्तेजक इंटरैक्टिव चर्चाएँ शामिल थीं।  विशेषज्ञों और प्रस्तुतकर्त्ताओं  द्वारा साझा किये गए और खोजे गए दृष्टिकोणों ने दर्शकों को हमारे दैनिक जीवन में मौजूद निर्विवाद धारणाओं का पुनर्मूल्यांकन करने के लिए प्रोत्साहित किया।

पेटल वुड अपार्टमेंट में चोरी से रहने वालों में भय व्याप्त

 चोरी की घटना में पेटल वुड अपार्टमेंट बिल्डर की भूमिका संदिग्ध होने से अपार्टमेंट में रहने वाले लोगों में रोष





पेटल वुड अपार्टमेंट में दो संदिग्ध व्यक्तियों द्वारा चोरी, परिजनों में भय का माहौल

हरिद्वार 27 जून (  संजय वर्मा  ) नगर में नेशनल हाईवे पर स्थित एक अपार्टमेंट में दो संदिग्ध व्यक्तियों ने चोरी की और चोरी करने के साथ-साथ जो कि हथियारबंद थे और सीसीटीवी कैमरे पर भी उनको स्पष्ट रूप से देखा गया उन्होंने फ्लैट नंबर 204 श्रीमती अंजलि चौहान के घर पर चोरी की जिस समय चौहान दंपत्ति घर पर नहीं थे और उनको  सीसीटीवी फुटेज पर स्पष्ट रूप से देखा गया आश्चर्य की बात यह है कि अपार्टमेंट के सब सीसीटीवी कैमरे केवल वारदात के दौरान बंद थे यहीं के निवासी रवि चौहान के फुटेज से यह देखा गया जिसके बाबत पुलिस को यह बताया भी गया और इसके साथ-साथ पुलिस को सीसीटीवी कैमरे के द्वारा यह अवगत भी कराया गया कि वह दो संदिग्ध व्यक्ति जो हथियारबंद थी वह रात को लगभग 1:30 बजे लगभग अपार्टमेंट में घुसे तथा सिक्योरिटी गार्ड ने उनका कोई भी रजिस्टर में एंट्री भी नहीं की जिन्होंने चोरी को अंजाम दिया और इसके साथ-साथ उस दौरान उस तल पर 2 घंटे मौजूद रहे 2 घंटे मौजूद होने के साथ-साथ उन्होंने इस चोरी को अंजाम दिया और उस चोरी में लगभग ₹70000 नगदी तथा बारह से पंद्रह तोले सोने के गहने चोर लेकर चंपत बने । इसके बाबत पुलिस ने अंजलि चौहान के एप्लीकेशन  के आधार पर f.i.r.  नही लिखी बल्कि उनसे अपने मुताबिक पुलिस ने एप्लीकेशन लिखाई फिर f.i.r. लिखी गई । स्पष्ट होता है कि अपार्टमेंट बिल्डर्स का प्रभाव पुलिस पर भी खासा गहरा है । जबकि सच्चाई यह है कि प्रबंधन व्यवस्था एवं सुरक्षा देने की जिम्मेदारी पेटलवुड डेवलपर्स व बिल्डर्स के की है।

ज्ञातव्य हो कि यह अपार्टमेंट अब तक  भी बिल्डर के हाथों में है, ना तो यहां पर कोई अभी किसी आरडब्ल्यूए एसोसिएशन का गठन हुआ है । अपार्टमेंट के बिल्डर के अधूरे कार्यों व लचर प्रबंधन व्यवस्था के मद्देनजर लगभग दो वर्षों से  कई बार जनपद के आला अधिकारियों को गुहार करते रहे है परंतु अभी तक यहां पर हरिद्वार विकास प्राधिकरण के बाबत मानक के आधार पर कोई भी मानक पूरे नहीं किए है जिसके कारण पेटलवुड वासियों में आक्रोश का माहोल है । पेटलवुड वासी पूर्व में भी इसके बाबत कई बार उच्च अधिकारियों से मिलेअब तक और कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं है, ना ही यहां के प्रबंधन की कोई व्यवस्था सुचारु रूप से चल रही है जिसके कारण पूर्व से ही भय का मामला बना हुआ है पुलिस को जिन संदिग्ध व्यक्तियों के बारे में बताया गया रसूकदार बिल्डर्स के कारण उन पर भी कोई कार्यवाही नहीं हुई और उनको पुलिस ने जाने दिया जबकि गार्ड ने उनके हुलिए की पहचान कर पुलिस को बता दिया था , दरअसल बिल्डर्स के आधीन यह अपार्टमेंट होने के कारण बिल्डर्स लीपापोती करने में लगे है , अपार्टमेंट वासियों का कहना है कि यदि कोई सुनवाई नहीं होती तो मजबूरन पेटलवुड वासियों को बिल्डर्स के विरुद्ध कठोर कदम उठाने होंगे ।

देश के इतिहास में काला अध्याय है 25 जून आपातकाल :- डॉ निशंक


हरिद्वार 25 जून (  संजय वर्मा ) विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के गौरवमयी इतिहास पर काले दाग के रूप में दर्ज है 25 जून 1975 का दिन यह शब्द आज जिला भाजपा कार्यालय हरिद्वार पर आयोजित काला दिवस के प्रबुद्ध सम्मेलन में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने बोलते हुए कहा कि जो राजनीतिक दल आज लोकतंत्र की दुहाई देते है उन्हीं के द्वारा देश के राजनीतिक कार्यकर्ताओं और आम जनता का अंग्रेजों से भी ज्यादा बुरी तरह दमन किया गया वह यह भूल जाते हैं कि उन्हीं की सरकार के कार्यकाल में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जब इमरजेंसी लागू की तो लोकतंत्र के चारों स्तंभों को ध्वस्त करते हुए देश में 6 लाख से अधिक लोगों की जबरन नसबंदी कर दी गई 300 से अधिक अखबारों को बंद कर दिया गया कई हजार पत्रकारों को जेल भेज दिया गया देश के प्रत्येक प्रमुख विपक्षी राजनेता को या तो जेल भेज दिया गया अथवा नजरबंद कर उनका उत्पीड़न किया गया आज देश की युवा पीढ़ी को काले इतिहास को विस्तार से बताने की आवश्यकता है जिससे उन्हें मालूम पड़े कि जो लोग विश्व पटल पर जाकर लोकतांत्रिक भारत में लोकतांत्रिक हनन की बात करते हैं उनका स्वयं का इतिहास कितना बदनुमा और दागदार है।

हरिद्वार विधायक मदन कौशिक ने कहा कि हरिद्वार से वैसे तो सैकड़ों की संख्या में जनसंघ और आर एस एस कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न सरकारी मशीनरी द्वारा आपातकाल में तत्कालीन प्रधानमंत्री के इशारों पर किया गया था जिनमें प्रमुख रूप से पूर्व विधायक राजकुमार शर्मा, डॉ द्वारिका कुमार, रामबाबू पचभैया, वेद पदमचंद गुप्ता, डॉ श्रीराम, मंसाराम, सोमदत्त श्रोत्रीय आदि को जेल में यातनाएं सहनी पड़ी।

उन्होंने कार्यकर्ताओं से आव्हान किया कि हमें घर घर जाकर भारतीय लोकतंत्र के इस स्वर्णिम युग में पूर्व के काले इतिहास को भी बताना पड़ेगा जिससे कि हमारी आने वाली पीढ़ी यह तय कर सके कि इस देश का भविष्य किन हाथों में सुरक्षित रहेगा।

जिला अध्यक्ष संदीप गोयल ने कहा कि आज से 48 वर्ष पूर्व आपातकाल का दंश संपूर्ण देश को झेलना पड़ा था भारतीय लोकतंत्र और राजनीति का यह सबसे दुखद दिन था आज इस अवसर पर आपातकाल के विरोध में उठी हर आवाज को मैं नमन करता हूं।

आज कार्यक्रम में लोकतंत्र सेनानियों के परिजनों श्री राजीव कुमार, श्री अभिनंदन गुप्ता, श्री राजीव शर्मा, आदि को सम्मानित करने के पश्चात आपातकाल पर एक विशेष डॉक्यूमेंट्री को भी प्रदर्शित किया गया।

इस कार्यक्रम में कार्यक्रम संयोजक विमल कुमार, नगर पालिका अध्यक्ष अमरीश गर्ग, राजीव शर्मा, जिला महामंत्री आशु चौधरी ,आशुतोष शर्मा, ओमप्रकाश जमदग्नि, लव शर्मा, रश्मि चौहान, विकास तिवारी, नेत्रपाल चौहान ,मोहित वर्मा, डॉ प्रदीप कुमार, मनीष कुमार, सुरेश भाटिया, संजय सहगल ,प्रीति गुप्ता, नकली राम सैनी, दर्शना सिंह, इरफान अंसारी, तौसिफ अंसारी, जमीर अहमद, हीरा सिंह बिष्ट, तरुण नैयर, प्रमोद शर्मा, राधे कृष्ण, कैलाश भंडारी, अभिनव चौहान, सचिन शर्मा अरुण आर्य, हिमांशु शर्मा ,बृजमोहन पोखरियाल, धर्मेंद्र चौहान, अरुण चौहान, सोनिया अरोड़ा, निपेंद्र चौधरी, सुषमा चौहान ,अश्विनी चौहान, भूषण सिंह, वीरेंद्र सिंह, आजाद वीर, नवजोत वालिया, तिलक राम सैनी आदि उपस्थित रहे।

शहर भर में जलभराव के खिलाफ भाजपा पार्षदों ने किया प्रदर्शन

 शहर में जल भराव की मेयर जिम्मेदार : अनिरूद्ध भाटी

भाजपा पार्षदों व कार्यकर्त्ताओं ने बाल्मीकि चौक पर मेयर के खिलाफ प्रदर्शन कर युद्ध स्तर पर नालों की सफाई की उठायी आवाज

हरिद्वार, 25 जून ( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार )


नालों की सफाई न होने के चलते समूचे नगर निगम क्षेत्र मे हुए जल भराव से आक्रोशित भाजपा पार्षदों व कार्यकर्त्ताओं ने भाजपा पार्षद दल के नेता सुनील अग्रवाल गुड्डू व उपनेता अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में बाल्मीकि चौक पर मेयर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए युद्ध स्तर पर नालों की सफाई की मांग की।

उपस्थित कार्यकर्त्ताओं को सम्बोधित करते हुए सुनील अग्रवाल गुड्डू ने कहा कि नालों की सफाई न होने के चलते कुछ देर की बरसात में ही समूचा शहर जल भराव की चपेट में आ गया है। नालों की सफाई कराने का मेयर का दावा खोखला साबित हुआ है। मेयर बताये कि मानसून प्रारम्भ होने के पश्चात भी वह किस दवाब में शहर की नालों की सफाई नहीं करवा पायी है। 

उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि नालों की सफाई कराने में मेयर विफल साबित हुई हैं जिसका परिणाम पूरे शहर को भुगतना पड़ रहा है। गली-मौहल्ले व शहर के प्रतिष्ठानों में जल भराव के चलते सैकड़ों करोड़ रूपये का नुकसान आज हरिद्वार में हुआ है। भाजपा पार्षद दल की आवाज सुनकर यदि मेयर महोदया ने अप्रैल माह से नालों की सफाई प्रारम्भ करवा दी होती तो आज शहर को जल भराव की विभिषिका नहीं भुगतनी पड़ती। जहां हरिद्वार की जनता को जल भराव के चलते भारी परेशानी का सामना करना पड़ है वहीं चारधाम यात्रा के चलते उमड़े श्रद्धालुओं के समक्ष भी आज के जल भराव ने सफाई व्यवस्था की पोल खोल दी है। 

भाजपा मण्डल अध्यक्ष राजेश शर्मा व तरूण नैयर ने कहा कि जून माह समाप्ति पर है। अफसोसजनक स्थिति यह है कि नालों की सफाई का काम कछुआ गति से चल रहा है। वहीं शहर के अधिकांश नाले मेयर की लापरवाही के चलते सफाई के टेण्डर में शामिल नहीं किये गये, जिसका खामियाजा हरिद्वार की जनता जल भराव के रूप में भुगत रही है जिसे भाजपा कार्यकर्त्ता बर्दाश्त नहीं करंेगे।

पार्षद राधेकृष्ण शर्मा, मोनिका सैनी व निशा नौडियाल ने कहा कि मेयर व  मेयरपति राजनीतिक नौटंकी खेलने में व्यस्त रहते हैं, उन्हें शहर की सफाई व्यवस्था की कोई चिंता नहीं हैं। बारिश का मौसम प्रारम्भ हो गया है और नालों की सफाई का कार्य अभी तक सही से प्रारम्भ भी नहीं हो पाया है। शहर में कूड़ा सड़कों पर बह रहा है। 

पार्षद प्रशान्त सैनी व सुनीता शर्मा ने कहा कि पूरे शहर में जल भराव नालों की सफाई न होने के चलते हुआ है जिसकी जिम्मेदार कांग्रेस की मेयर अनिता शर्मा है जो शहरहित में काम करने के स्थान पर अपने पतिदेव की स्वार्थपूर्ति में जुटी हैं।

इससे पूर्व भाजपा पार्षदों ने समूचे शहर का निरीक्षण कर सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए एनएचआई व नगर निगम समेत अनेक संस्थानों की जेसीबी लगवाकर नालों से कचरा हटवाते हुए जल निकासी का कार्य प्रारम्भ करवाया। भाजपा पार्षदों ने जिलाधिकारी व नगर आयुक्त से युद्ध स्तर पर नालों की सफाई की मांग की है।    

इस अवसर पर भाजपा पार्षद दल के नेता सुनील अग्रवाल गुड्डू, उपेनता अनिरूद्ध भाटी, भाजपा मण्डल अध्यक्ष राजेश शर्मा, तरूण नैयर, पार्षद मोनिका सैनी, निशा नौडियाल, प्रशान्त सैनी, विनित जौली, नितिन शर्मा माणा, राधेकृष्ण शर्मा, दीपक शर्मा, सुनीता शर्मा, विकास कुमार, सचिन अग्रवाल, शुभम मंदोला, सुरेन्द्र मिश्रा, ललित सिंह रावत, आशा सारस्वत, पिंकी चौधरी, भाजपा मण्डल महामंत्री देवेश ममगाई, विक्की आडवाणी, व्यापारी नेता विजय शर्मा, हरीश शर्मा, गुलशन, निमेश शर्मा, गोपी सैनी समेत अनेक भाजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित रहे।

रुद्रपुर में शुरू हुआ सक्षम दिव्यांग सेवा केंद्र

 रूद्रपुर में हुआ जिला सक्षम, "दिव्यांग सेवा केंद्र" का  उद्घाटन , 

 रुद्रपुर नगर निगम सभागार में आयोजित की गई विचार गोष्ठी-

रुद्रपुर 24 जून ( हरीश पंत ) समदृष्टि ,




क्षमता विकास एवं अनुसंधान मंडल, सक्षम के पूर्व नियोजित कार्यक्रमों के अनुसार उत्तराखंड की विभिन्न जिलों  में सक्षम का स्थापना दिवस बड़ी धूम-धाम और हर्षोउल्लास से मनाया गया। जगह जगह विचार गोष्ठियों एवं दिव्यांग जागरुकता रैलीयों का आयोजन हुआ।

रुद्रपुर स्थित दरिया नगर उत्तरायणी कॉटेज में *जिला सक्षम, दिव्यांग सेवा केंद्र* का उद्घाटन सक्षम प्रांत अध्यक्ष ललित पन्त एवं प्रांत संरक्षक डॉ एल, एम ,उप्रेती ने संयुक्त रुप से किया।

    इस अवसर पर सक्षम के जिला व नगर के दायित्व धारी एवं दिव्यांग उपस्थित थे। प्रांत के दोनों दायित्व धारियों ने फीता काटकर  एवं दीप प्रज्वलित कर कार्यालय का उद्घाटन किया ।

    *प्रांत अध्यक्ष ललित पन्त ने इस अवसर पर बताया कि *सक्षम दिव्यांगो के सशक्तिकरण हेतु समर्पित एक राष्ट्रीय संगठन है* और उत्तराखंड के सभी जिलो में यह संगठन दिव्यांग को विभिन्न प्रकार की सेवाएं उपलब्ध कराने में उनकी मदद करता है ।

दिव्यांगों के लिए जारी सरकार की विभिन्न योजनाओं व अधिनियमों की जानकारी व लाभ दिव्यांगों तक पहुंचाने में सक्षम सरकार व दिव्यांगों के बीच एक सेतु के रूप में कार्य कर रहा है।

उन्होंने बताया कि जिला दिव्यांगं सेवा केंद्र में आकर दिव्यांगं अपनी समस्याओं को बता सकते हैं दिव्यांग प्रमाण पत्र,  यूडीआइडी कार्ड बनाना हो , पेंशन के मामले हो , दिव्यांगों पर किसी प्रकार के उत्पीड़न अत्याचार के मामले हो,  किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए दिव्यांग सेवा केंद्र कार्यालय से संपर्क स्थापित करें ।

उन्होंने जिला व नगर दायित्व धारियों को कार्यालय स्थापना पर  बधाई व शुभकामनाएं प्रेषित की। 

उन्होंने दिव्यांगों को संबोधित करते हुए कहा कि यह कार्यालय दिव्यांगों के कल्याण व उनके हितों में मील का पत्थर साबित होगा।

*प्रांत संरक्षक डा. एल.एम. उप्रेति* ने इस अवसर पर बताया कि सरकार ने अब दिव्यांगों का दायरा बढ़ा दिया है । पहले 14 प्रकार की दिव्यांगता हुआ करती थी अब 21 प्रकार की दिव्यताएं हैं। जिनका  प्रचार प्रसार किया जाना चाहिए। दिव्यांगों के प्रति प्रेम व सौहार्दपूर्ण व्यवहार अपनाकर , उन्हें विकास की मुख्यधारा में जोड़ने का प्रयास किया जाना चाहिए, दिव्यांगों की सेवा ईश्वर सेवा के ही समान है।

सक्षम जिला अध्यक्ष व वरिष्ठ चिन्हित राज्य आंदोलनकारी महेश चंद्र पंत ने इस अवसर पर जिले व नगर के सभी दायित्व धारियों व कार्यकर्ताओं को शुभकामनाएं और बधाइयां प्रेषित की तथा सेवा भाव से दिव्यांगों के हितों में कार्य करने की अपील की।

    सक्षम जिला उपाध्यक्ष रेखा मुंजाल ने दिव्यांग सेवा केंद्र के उद्घाटन से दिव्यांगों को बड़ी मदद मिलने की उम्मीद जताई है और दिव्यांगों के यूडी आईडी कार्ड , पेंशन , राशन कार्ड, स्वास्थ्य बीमा कार्ड आदि बनाने में व उनकी मदद करने में यह कार्यालय उपयोगी सिद्ध होगा।

    सायं 4 बजे से , *दिव्यांग सशक्तिकरण एवं पुनर्वास हेतु  जनसहभागिता* विषय पर संगोष्ठी ,स्थानीय नगर निगम रूद्रपुर सभागार में आयोजित हुई जिसमें दिव्यांग प्रांत , जिला व नगर के दायित्वधारियों व कार्यकर्ताओं, कई सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों, नगर निगम के मेयर रामपाल सिंह एवं स्थानीय एवं दूर दराज क्षेत्रों से आए दिव्यांगों ने भाग लिया।

सक्षम हरिद्वार ने रैली निकालकर मनाया संगठन का स्थापना दिवस


*मूक बधिरजनो और दिव्यांगजनो ने मनाया सक्षम का स्थापना दिवस समारोह*

डॉक्टर हरिराम आर्य इंटर कॉलेज




के*पुरातन छात्र भी हुए शामिल*

हरिद्वार 23 जून  (  संजय वर्मा  ) हरिद्वार में दिव्यांगजनों के लिए कार्य करने वाले राष्ट्रव्यापी संगठन समदृष्टि क्षमता विकास एवं अनुसंधान मंडल (सक्षम) ने 15वे स्थापना दिवस के अवसर पर सक्षम दिव्यांग जागरूकता रैली निकाली और मूक बधिरजनो और दिव्यांगजनों के साथ गंगा आरती में सहभागिता की। रैली श्रीचंद्राचार्य चौक से गोविंद घाट तक निकाली गई। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में मूक बधिरजनो और दिव्यांगजनो के साथ साथ डा. हरिराम आर्य इंटर कॉलेज के पूर्व छात्रों, नगर के गणमान्य लोगो और सक्षम के दायित्ववान कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। सभी ने दिव्यांगजनों के साथ रैली में दिव्यांगजनों के साथ कदमताल किया और गंगा आरती में सहभागिता की। रैली में पूरे रास्ते भारत माता की जय, गंगा मैय्या की जय, सक्षम भारत समर्थ भारत, वंदेमातरम् के नारे लगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता सक्षम के जिलाध्यक्ष संदीप अरोड़ा और संचालन जिला सहसचिव कुलदीप सिंह राजयान ने किया। जिलाध्यक्ष संदीप अरोड़ा ने कहा कि सक्षम मूक बधिर और दिव्यांगजनों के हितो को लेकर लगातार प्रयासरत है और ज्यादा से ज्यादा दिव्यांग मित्र बनाने के प्रयास में लगे है। सक्षम के जिला संरक्षक विनोद कुमार शर्मा, जिला सचिव मानसी मिश्रा, कोषाध्यक्ष देवेंद्र सिंह, देवभूमि बधिर एसोसिएशन की प्रदेश प्रवक्ता सोनिया अरोड़ा, सक्षम के जिला उपाध्यक्ष उमंग डियोंडी, जिला सहसचिव आरती मेहता, सविता प्रकोष्ठ जिला प्रमुख सुमंत पंत, सदस्य विमलेश गौड़, दीपिका राणा, शास्त्री जी, एडवोकेट रजनी अहलूवालिया ने अपने विचार रखे। रैली में दिव्यांग गिरीश पपने, खिदमत सोसाइटी के अध्यक्ष मोहम्मद तनवीर, अक्षित चौहान, पंकज, शिखर, ओमपाल सिंह, चिंतन सकलानी, मूक बधिरजनो विवेक केशवानी, देव शर्मा, रोहित प्रजापति, अतुल राठौर, पंकज गर्ग, राकेश कुमार, रजत कुमार, राजकुमार, अभय सिंह, शुभम चौधरी आदि ने भाग लिया। डा. हरिराम आर्य इंटर कॉलेज के पूर्व छात्र समूह जितेंद्र वीर सैनी, सत्यप्रकाश, विपुल शर्मा, सत्यदेव राठी, दिनेश शर्मा, प्रमोद कुशवाहा, प्रदीप चौहान, पूरन कश्यप, डा. मुकेश शर्मा, नंदकिशोर काला, नीरज गुप्ता, जय गुप्ता, अनिल चौधरी, प्रदीप त्यागी, सुमित यशकल्याण ने बढ़चढ़ कर भाग लिया। 


राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य बने सरदार गुरदीप सिंह सहोता


देहरादून 23 जून ( जेके रस्तोगी संवाददाता गोविंद कृपा देहरादून ) देहरादून मैं सिख समाज के नेता सरदार गुरदीप सिंह सहोता को  राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग , भारत सरकार के सलाहकार बोर्ड में सदस्य नामित किया गया है । भारत सरकार के अनु सचिव श्री शारिक सईद   द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है की श्री सहोता  अल्पसंख्यक समुदायों के  मामलों बाबत राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग को परामर्श देंगे ।
श्री सहोता पूर्व में लम्बे समय तक उत्तराखंड सरकार की राज्य स्तरीय  प्रधानमंत्री १५ सूत्रीय कार्यक्रम समिति के सदस्य नामित रहने के साथ साथ राज्य सरकार के भाषा संसथान में पंजाबी भाषा के प्रतिनिधि भी नामित रहे हैं । वर्तमान में वह माइनॉरिटी रिसर्च फाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक भी हैं । श्री सहोता द्वारा अल्पसंख्यक 
कल्याणकारी योजनाओं का प्रचार प्रसार पिछले लम्बे समय से किया जाता रहा है ।

     राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री इक़बाल सिंह लालपुरा जी ने श्री सहोता को नामांकन पत्र सौंपकर उज्वल भविष्य हेतु बधाई दी है । हरिद्वार से सिख समाज के नेता एवं ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के मैनेजिंग कमेटी के सदस्य सरदार डी एस मान ने अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष का आभार व्यक्त करते हुए सरदार गुरदीप सिंह सहोता को बधाई दी ।


. अखिल भारतीय सनातन परिषद ने किया आदि पुरुष के खिलाफ प्रदर्शन

 पेंटागन मॉल के बाहर अखिल भारतीय सनातन परिषद ने किया विरोध प्रदर्शन, आदिपुरुष फिल्म पर बैन लगाने की मांग की


अखिल भारतीय सनातन परिषद ने किया हनुमान चालीसा का पाठ, सनातन सेंसर बोर्ड बनाने की मांग की


सनातन परिषद ने आदिपुरुष फिल्म के विरोध में पेंटागन मॉल के बाहर धरना प्रदर्शन, उग्र विरोध की दी चेतावनी 


 


हरिद्वार 22 जून ( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) आदिपुरुष फिल्म के विरोध में अखिल भारतीय सनातन परिषद से जुड़े कार्यकर्ताओं ने पेंटागन मॉल के बाहर धरना प्रदर्शन किया और तत्काल फिल्म पर रोक लगाने की मांग की मांग को दोहराया। धरने के दौरान कार्यकर्ताओं ने हनुमान चालीसा का पाठ भी किया और केंद्र सरकार से एक अलग से सनातन सेंसर बोर्ड बनाने की मांग भी की। 

दरअसल अखिल भारतीय सनातन परिषद, सनातन संस्कृति को एकजुट करने का लगातार प्रयास कर रही है। उसी उद्देश को आगे बढ़ाने के लिए गुरुवार को अखिल भारतीय सनातन परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा सिडकुल स्थित पेंटागन मॉल में बने वेव सिनेमा के बाहर धरना दिया और तत्काल फिल्म पर रोक लगाने की मांग की।

अखिल भारतीय सनातन परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री पुरुषोत्तम शर्मा ने कहा कि देश में ऐसी फिल्मों का बहिष्कार किया जाए जो देश की सनातन संस्कृति को उजाड़ने का प्रयास कर रही है। आदिपुरुष फिल्म में जो दिखाया गया है वो सनातन सभ्यता और संस्कृति के लिए सही नहीं है। फिल्म के जरिए भगवान श्री राम की मर्यादा और हनुमान जी की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया गया है।  

सनातन परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ विशाल गर्ग ने कहा कि यदि ऐसी फिल्में देश में बनती रही तो हमारी सनातन संस्कृति खत्म होने के कगार पर आ जाएगी। सेंसर बोर्ड द्वारा ऐसी फिल्मों को अनुमति नहीं देनी चाहिए।

युवा विंग के प्रदेश अध्यक्ष मानवेंद्र सिंह और सावन लखेरा ने कहा अखिल भारतीय युवा सनातन परिषद ऐसे कृत्यों को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी जो देश की सभ्यता और संस्कृति के खिलाफ हैं। यदि जल्द ही आदिपुरुष फिल्म पर रोक नहीं लगाई गई तो उग्र विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

प्रचार प्रसार सचिव सतीश वन ने कहा कि हिंदू संस्कृति पर लगातार कुठाराघात किया जा रहा है जिसे बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वो केंद्र सरकार से मांग करते हैं कि सनातन धर्म पर बनने वाली फिल्मों के लिए अलग से सनातन सेंसर बोर्ड बनाया जाए ताकि आगे से कोई निर्माता निर्देशक ऐसी गलती न कर सके।



विरोध प्रदर्शन करने वालो में अभिजीत चौहान, दीपक ठाकुर, हरीश कपिल, राकेश, सचिन शर्मा, नवनीत चौधरी, सौरभ चौधरी, देवा सैनी, रजनीश, जितेंद्र आशु, सचिन दुबे, अंकुश चौधरी, अंशुल भारद्वाज, जितेंद्र चौधरी, अरुण चौधरी, प्रदीप नेगी और गीता नेगी समेत कई कार्यकर्ता शामिल रहें।

दून डिफरेंटली एबल ट्रस्ट ने कुष्ठ रोगियों की सेवा कर मनाया स्थापना दिवस


*दून डिफरेंटली एबल ट्रस्ट का स्थापना दिवस जन जागरूकता कार्यक्रम के रूप में मनाया गया


देहरादून 22 जून  ( जेके रस्तोगी संवाददाता गोविंद कृपा देहरादून ) दिव्यांगजन मातृशक्ति सम्मान एवं सशक्तिकरण हेतु देहरादून उत्तराखंड में कार्य कर रहे संस्थान दून डिफरेंटली एबल ट्रस्ट का आज स्थापना दिवस मनाया गया। इस अवसर पर संस्थान ने तपोवन स्थित कुष्ट बस्ती में जाकर वहां 35 कुष्ट बाधित महिलाओं के साथ एक संगोष्ठी आयोजित की संगोष्ठी में कुछ महिलाओं से बातचीत कर पता चला उनकी विभिन्न आवश्यकताएं हैं जो उनको जीवन यापन में कठिनाई का सामना करना पड़ता है उनकी आवश्यकताओं में ऐसे कुछ बाधित जिनका लोक प्रमाण पत्र तो बना है परंतु दिव्यांग प्रमाण पत्र बनने में परेशानी आ रही है इसके अतिरिक्त ऐसी माताएं बहने जो कुछ कार्य घर से ही करना चाहती हैं एवं अपने परिवार का पालन पोषण करना चाहती हैं ऐसे में उनके लिए घर पर ही राशन आदि पैकिंग करने का कार्य हेतु स्वीकार आ गया।

 संस्थान की संस्थापिका अध्यक्ष निरुपमा सूद का कहना है संस्थान को आज 7 वर्ष हो गए हैं एवं इस के उपलक्ष में आगामी जुलाई के प्रथम सप्ताह में दिव्यांग जनों के लिए समर्पित महिलाओं एवं दिव्यांग महिलाओं को सम्मानित करने हेतु एक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। 7 वी वर्षगांठ के उपलक्ष में हमारा प्रण है दिव्यांगजन महिलाओं के सशक्तिकरण में आने वाली सभी बाधाओं को हम दूर करेंगे तथा उनको सक्षम बनाकर सशक्त समाज की परिकल्पना पूर्ण करेंगे। निरुपमा सूद विगत 7 वर्षों से दून उत्तराखंड में दिव्यांग महिलाओं तथा बालिकाओं के लिए उनके पुनर्वास पर कार्य कर रही हैं विगत 7 वर्षों में उन्होंने दिव्यांगजन महिलाओं को रोजगार से जोड़ा है तथा उनके अधिकारों को लेकर भी ज्यादा से ज्यादा जागरूकता फैलाई है। जिसके लिए संस्थान को वर्ष 2018 में निफा जैसी अंतरराष्ट्रीय संस्था से भी सम्मानित किया गया है कुष्ठ बाधित महिलाओं को आवश्यक राशन सामग्री एवं वस्त्र उपलब्ध कराए गए हैं एवं 50 घरों के बरसात के दिनों में पानी की समस्या का का समाधान उनको बरसाती उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है। सभी कुष्ठ बाधित महिलाओं ने संस्थान के कार्यों को साधुवाद तथा संस्थापिका अध्यक्ष को आशीर्वाद दिया। शीघ्र अति शीघ्र सभी कुष्ठ बाधितों के 50 घरों पर बरसाती की व्यवस्था संस्थान करेगी। इस मौके पर संस्थान से संस्थापिका अध्यक्ष निरुपमा, सूद उमेश ग्रोवर, आकाश, अनंत मेहरा, यूपीईएस के छात्र आर्यन, चिन्मय, अतुल एवं राघव आदि उपस्थित रहे।


लाल माता वैष्णो देवी मंदिर में मनाया गया हीरा बा का जन्मदिन


 स्वामी परमानंद जी महाराज के सानिध्य में लाल माता वैष्णो देवी मंदिर में मनाया गया स्वर्गीय हीरा बा का जन्मदिन 


लाल माता वैष्णो देवी मंदिर के संचालक भक्त दुर्गा दास के संयोजन में यज्ञ ,पूजन  हवन  एवं संत भंडारे का किया गया आयोजन 


हरिद्वार 22 जून (संजय  वर्मा )


  भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की पूज्य माता स्वर्गीय हीरा बा का जन्मदिन सप्त सरोवर क्षेत्र स्थित लाल माता वैष्णो देवी गुफा वाले मंदिर में युगपुरुष स्वामी परमानंद जी महाराज के पावन सानिध्य में

श्रद्धा भाव के साथ मनाया गया । इस अवसर पर आश्रम के संचालक भक्त दुर्गादास के संयोजन में यज्ञ ,हवन, पूजन का आयोजन किया गया ।इस अवसर पर संत जनों को भोजन वस्त्र एवं दक्षिणा वितरित की गई ।भक्त दुर्गादास ने स्वर्गीय हीरा बा को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि देश को नरेंद्र मोदी जैसा हीरा देने वाली हीरा बा की तपस्या और संस्कारों का ही परिणाम है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत का नाम पूरे विश्व में प्रकाशित कर रहे हैं , यह सब हीरा बा की शिक्षा दीक्षा और बचपन में उनके हृदय में रोपित किए गए देशभक्ति की भावना का ही परिणाम है । इस अवसर पर राकेश सकलानी , पं0 हीरा बल्लभ जोशी ,  पं0 हेमंत जशी ,श्याम सुंदर अश्वनी दीक्षित आदि ने संतो को भोजन आदि प्रदान करने में सहयोग दिया

सक्षम देहरादून ने मनाया संगठन का स्थापना दिवस

 जिला देहरादून (महानगर,ऋषिकेश एवं विकास नगर इकाई) सक्षम स्थापना दिवस 2023 कार्यक्रम हुआ संपन्न।*

 

सक्षम विकासनगर इकाई का हुआ गठन



 देहरादून 21 जून ( जेके रस्तोगी संवाददाता गोविंद कृपा 



देहरादून )  सक्षम जिला देहरादून उत्तराखंड  का सक्षम स्थापना दिवस देहरादून* जिले के भाऊवाला देहरादून में संपन्न हुआ। 

कार्यक्रम का शुभारंभ संगठना सुक्तम एवं मां भारती एवं सूरदास जी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन से हुआ। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में प्रांत संरक्षक आदरणीय प्रीतम कुमार गुप्ता जी ने दिव्यांगों के सशक्तिकरण में समाज की सहभागिता के संबंध में अपने विचार व्यक्त किए और सभी को इस देवतुल्य कार्य को आगे बढ़ाने पर जोर दिया। 

कार्यक्रम के वक्ता प्रांत सह सचिव सक्षम अनन्त प्रकाश मेहरा जी ने योग का दिव्यांगों की जीवन में महत्व एवं प्रभाव पर अपने विचार किए और उन्होंने बताया शारीरिक एवं मानसिक रूप से मजबूत होने के लिए योग आवश्यक है। दिव्यांगों को भी अपने शारीरिक क्षमता के अनुसार उचित चिकित्सक के निरीक्षण में योग करना आवश्यक है। इसके पश्चात मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व प्रधान एवं विभिन्न संगठनों से जुड़ी मातृशक्ति श्रीमती बाला डबराल जी ने अपने विचार व्यक्त किए उन्होंने सक्षम बहुत अच्छा कार्य कर रहा है और उन्होंने कहा हम भी इस के देवतुल्य कार्य में अपना सहयोग देंगे और दिव्यांगों के जीवन में आने वाली कठिनाईयों को दूर करने का प्रयास करेंगे ।

इसके पश्चात देहरादून जिला के अध्यक्ष श्री बिरेंद्र मुंडेपी जी ने सभी को योग दिवस की बधाई देते हुए अपने विचार व्यक्त किए उन्होंने सक्षम की 21 प्रकार की दिव्यांगता ओं को सात प्रकार के प्रकोष्ठों विषय में अपने विचार व्यक्त किए । 

उसके पश्चात प्रांतीय संरक्षक एवं प्रांतीय सह सचिव जी की सहमति से उन्होंने विकासनगर इकाई के पदाधिकारियों की घोषणा की है ।

जिसमें *श्री हयात सिंह चौहान जी को विकासनगर ईकाई का संरक्षक  श्री दरवान सिंह नेगी जी को अध्यक्ष, विद्या दत्त नौगाई जी को उपाध्यक्ष, प्रेम सिंह नेगी जी को सचिव ,  कीर्ति मोहन भट्ट जी को सह सचिव, मोहन सिंह बिष्ट जी को कोषाध्यक्ष  कैलाश चंद्र बौंठियाल जी को सह कोषाध्यक्ष, आरसी कोटनाला जी को कार्यालय प्रमुख, श्रीमती बाला डबराल जी को महिला प्रमुख और शैलेश डबराल को युवा प्रमुख* की जिम्मेदारी दी गई ।

साथ ही कार्यकारिणी में शिवराज सिंह नेगी ,भारत भूषण जखमोला जी ,आलम सिंह नेगीजी, विनीता नेगी ,कलावती चौड़ियाल  कृष्णा देवी डोभाल, विक्रम सिंह नेगी, रेनू रावत, बाग सिंह कठैत जी को सम्मिलित किया गया । 

कार्यक्रम का संचालन दरबान सिंह नेगी जी ने किया।

कार्यक्रम का समापन कल्याण मंत्र से हुआ।

 कार्यक्रम मे प्रांत कार्यकारिणी सदस्य प्रवीण त्रिपाठी जी ,महानगर अध्यक्ष भगवान  सिंह केड़ा जी,जिला सह सचिव प्रकाश चंद्र डबराल जी एवं मधु पटवाल जी, जिले की सविता प्रकोष्ठ से कृष्णा भंडारी जी, जिला युवा प्रमुख मानवेंद्र सती जी  महानगर कोषाध्यक्ष सज्जन सिंह नेगी जी, महानगर युवा प्रमुख राहुल जी,स्वाति डबराल,  दीक्षा नेगी  ,साहिल   , रिया   ,सुनैना   रंजना ,  शुभा , सुभाष   संदर्व अनुराग ,  संजय , शैलेश आदि ने प्रतिभाग किया।

. लाल माता वैष्णो देवी मंदिर में मनाया गया योग दिवस

 लाल माता वैष्णो देवी मंदिर में मनाया गया विश्व योग दिवस 


हरिद्वार 21 जून ( अमर शदाणी


संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार )तीर्थ नगरी हरिद्वार में विश्व योग दिवस की धूम रही जहां पतंजलि ,उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय, ऋषि कुल,, गुरुकुल जैसी संस्थाओं के माध्यम से लोगों को योग सिखाया गया वही आध्यात्मिक संस्था माता लाल देवी वैष्णो देवी गुफा वाले मंदिर हरिद्वार में भी  यात्रियों एवं आश्रम के कर्मचारियों ने आश्रम के संचालक भक्त दुर्गादास के साथ योग , प्राणायाम आसन कर योग दिवस मनाया। इस अवसर पर योगाचार्य गौरव दत्ता ने यात्रियों एवं आश्रम के कर्मचारियों को योग ,आसन करवाएं कार्यक्रम में राकेश सकलानी ,दीवान सिंह राणा , अश्वनी दीक्षित  पंडित हेमंत जोशी ,पंडित हीरा बल्लभ जोशी ,श्याम सुंदर आदि ने सहयोग प्रदान किया ।

Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...