निरन्तर सफाई व कीटनाशक दवाओं के छिड़काव से ही मिलेगी डेंगू व कोरोना से मुक्ति : अनिरूद्ध भाटी कर अधीक्षका सुनीता सक्सेना, कर निरीक्षक नवीन कुमार के संयोजन में भाजपा मण्डल अध्यक्ष वीरेन्द्र तिवारी, क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी की उपस्थिति में कैलाश गली, रामायण सत्संग भवन में क्षेत्रवासियों के सहयोग से चलाया गया सघन सफाई अभियान घर-घर जाकर किया कीटनाशक दवाओं का छिड़काव व सेनेटाइज तथा पत्रक वितरित क्षेत्रवासियों को डंेगू व कोरोना से बचाव हेतु किया गया जागरूक हरिद्वार, 30 अगस्त।(विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के आवाह्न पर प्रदेश भर में डेंगू व कोरोना से बचाव हेतु रविवार को चलाये जा रहे सफाई व जागरूकता अभियान के तहत वार्ड नं. 3 में नगर निगम की कर अधीक्षका सुनीता सक्सेना व कर निरीक्षक नवीन कुमार के संयोजन में क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में सघन सफाई अभियान चलाया गया। समाजसेवी पं. नारायणदत्त भट्ट ने छिड़काव मशीन चलाकर सफाई अभियान का शुभारम्भ किया। पूर्व डीजीसी भाजपा मण्डल अध्यक्ष वीरेन्द्र तिवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के आवाह्न पर रविवार को समूचे उत्तराखण्ड में डंेगू को परास्त करने के लिए स्वच्छता व जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसमें भाजपा कार्यकर्त्ता क्षेत्रवासियों व व्यापार मण्डल के पदाधिकारियों का सहयोग लेकर प्रत्येक गली-मौहल्ले में जाकर नगर निगम की टीम के साथ सफाई करवाते हुए लोगों को डंेगू व कोरोना से बचाव हेतु जागरूक करने का कार्य कर रहे हैं। क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि निरन्तर सफाई व कीटनाशक दवाओं के छिड़काव से ही डेंगू व कोरोना से मुक्ति मिलेगी। प्रत्येक नागरिक को जागरूक रहते हुए अपने आस-पास की स्वच्छता को कायम करना होगा जिससे डेंगू व कोरोना को परास्त करने में सफलता मिलेगी। अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि महिलाओं व बच्चों को विशेष रूप से जागरूक रहना होगा क्योंकि वह अधिकांश समय घर पर ही बीताते हैं। डेंगू का मच्छर सदैव साफ पानी में ही पनपता है। इसलिए अपने घर के आस-पास, कूलर, फ्रिज, पुराने टायर, बड़े बर्त्तनों में पानी जमा न होने दें। अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि आज समूचे कैलाश गली, रामायण सत्संग भवन में वृहद स्तर पर नगर निगम की टीम ने नमामि गंगे, आकांक्षा इण्टर प्राइजेज व क्षेत्रवासियों के सहयोग से सफाई अभियान चलाया गया है। इसके तहत सभी गलियों में साफ-सफाई कराते हुए चूने व कीटनाशक दवाओं का छिड़काव किया गया तथा कोरोना व डेंगू के दृष्टिगत प्रत्येक घर को सेनेटाइज करने के साथ-साथ कीटनाशक दवा का छिड़काव भी किया गया है। भाजपा मण्डल महामंत्री तरूण नैयर ने कहा कि क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में जिस प्रकार निरन्तर वार्ड नं. 3 दुर्गानगर भूपतवाला में स्वच्छता व जन जागरूकता के लिए अभियान चलाया जा रहा है वह अत्यन्त सराहनीय व प्रेरणादायक है। मां गंगा भगीरथी व्यापार मण्डल के अध्यक्ष सूर्यकान्त शर्मा ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण जन मानस में भय का वातावरण है। ऐसे में बरसात के मौसम में डंेगू का खतरा बना रहता है। कोरोना महामारी के चलते साफ-सफाई की विशेष आवश्यकता रहती है। क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी के प्रयास से नगर निगम की टीम ने अन्य समाजसेवी संस्थाओं व क्षेत्रवासियों के सहयोग से समूचे वार्ड में बेहतर सफाई करने के साथ-साथ बिजली व पानी की लाइन डालने के कारण हुए गड्ढों को भरने के साथ-साथ मलवा व रोड़े-पत्थरों को हटाने का भी कार्य किया है जिससे क्षेत्रवासियों को काफी राहत मिलेगी। शहर व्यापार मण्डल के कोषाध्यक्ष अमित गुप्ता व समाजसेवी बलदेव कश्यप ने कहा कि आज जिस प्रकार कैलाश गली व रामायण सत्संग भवन में नगर निगम की टीम ने स्वच्छता अभियान चलाते हुए कीटनाशक दवाओं के छिड़काव के साथ-साथ अनेक स्थानों में पानी में उत्पन्न डंेगू के लार्वा को नष्ट करने का काम किया है, जिससे क्षेत्रवासियों को डंेगू के प्रकोप से मुक्ति मिलेगी। युवा भाजपा नेता दीपांशु विद्यार्थी ने कहा कि क्षेत्र में चलाये जा रहे स्वच्छता अभियान से जहां क्षेत्र को कूड़े की गंदगी व बीमारियों से मुक्ति मिली है वहीं क्षेत्रवासियों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता भी बढ़ेगी। व्यापारी नेता अनुपम त्यागी व भाजयुमो के वार्ड अध्यक्ष भारत नन्दा ने कहा कि पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में समूचे वार्ड में सफाई अभियान चलाया जा रहा है। अगले चरण में शेर गली व पावनधाम मार्ग पर सफाई अभियान चलाया जायेेगा। इस अवसर पर समूचे कैलाश गली व रामायण सत्संग भवन क्षेत्र की प्रत्येक गलियों में नगर निगम कर्मियों व क्षेत्रवासियों ने सामूहिक रूप से सफाई करते हुए क्षेत्रवासियों को पत्रक देकर डंेगू के प्रति जागरूक किया। साथ ही कीटनाशक दवाओं का छिड़काव व प्रत्येक घर व गली में किया गया। इस अवसर पर मुख्य रूप से पं. नारायणदत्त भट्ट, प्रदीप कुमार मिश्रा, सूर्यकान्त शर्मा, दीपांशु विद्यार्थी, मुकुल नारायण झा, विकास शर्मा, रूपेश शर्मा, मोहित विश्वनोई, भारत नन्दा, सोनू पंडित, अनुपम त्यागी, अश्विनी विश्वनोई, अमित भट्ट, हरीश अरोड़ा, लवली, मनोज कुमार, ओमकार प्रजापति, विक्की प्रजापति, देवेन्द्र रिक्खी, दीपक चौहान, शरद यादव, अजय, पवन, सुशील शर्मा, विशाल सहगल, सन्नी अरोड़ा, गीता यादव, दिनेश शर्मा, आदि के साथ ही नगर निगम की कर अधीक्षका सुनीता सक्सेना, कर निरीक्षक नवीन कुमार, सफाई नायक सुभाष खैरवाल, गोपाल हवलदार, आकांक्षा इण्टर प्राइजेज से अनिल त्रिपाठी, अर्जुन कुमार, अरूण कुमार, अर्जुन, काली चरण समेत अनेक क्षेत्रवासियों ने सफाई अभियान में अपना सहयोग प्रदान किया।


: हरिद्वार 29 अगस्त l (रजत अरोड़ा सवांददाता गोविंद कृपा ज्वालापुर) राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर वाइस आँफ हेल्दी नेशन एवं क्रीड़ा भारती हरिद्वार के संयुक्त तत्वावधान में एक जन जागरूकता के लिए साइकिल यात्रा का आयोजन किया गया, जो कि प्रेमनगर पुल से आरम्भ होकर चंद्राचार्य चौक से आर्यनगर चौक से ऊँची सड़क से पंजाबीधर्मशाला होते हुए रेल पुलिस चौकी के समीप शिव विहार में श्री प्रवीन अरोड़ा जी के आवास पर संपन्न हुई l साईकिल यात्रा से पूर्व महाराजा अग्रसेन घाट पर पर खेल दिवस के अवसर पर क्रीड़ा भारती के राष्ट्रीय संरक्षक स्व.श्री चेतन चौहान जी पूर्व क्रिकेटर एवं कैबिनेट मंत्री उ.प्र. की त्रयोदशी तिथि पर एक उन्हें पुष्पांजलि सभी सदस्यों ने अर्पित की। इस अवसर पर क्रीड़ा भारती के प्रदेश सह मंत्री सोहन वीर राणा ने कहा है कि क्रीड़ा भारती द्वारा देशभर में विभिन्न प्रकार के खेलों को प्रोत्साहित किया जा रहा हैl प्रत्येक खिलाड़ी के मन में एक उत्साह रहता है और हर खिलाड़ी को प्रोत्साहन देने के लिए क्रीड़ा भारती नियमित कार्य कर रही है l वाँइस आफ हेल्दी नेशन के वरिष्ठ सदस्य डॉ जितेन्द्र सिंह ने बताया कि कोरोना वैश्विक महामारी के कारण कीड़ा भारती द्वारा व्यापक स्तर पर खेल के आयोजन नहीं कर पाए परंतु खेल दिवस के अवसर पर खिलाड़ियों को प्रोत्साहन करने की दृष्टि से साइकिल यात्रा का आयोजन किया गया जिसमें 30 से अधिक खिलाड़ियों ने अपने साइकिल पर यात्रा कर खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए एक संदेश देने का काम किया गया l वरिष्ठ सदस्य डॉ संदीप कपूर जी ने पहला सुख निरोगी काया का सूत्र देते हुए कहा कि आज कोरोना संकट के समय सबसे पहले अपने शरीर को स्वस्थ रखना है, इसलिए हम सभी सदस्य निरन्तर प्रति सप्ताह जन जागरूकता के लिए साईकिल यात्रा का आयोजन करते हैं। इस साइकिल यात्रा के अवसर पर क्रीड़ा भारती की ओर से चन्दन सैनी-जिला संयोजक हरिद्वार श्रीमती गीता नेगी- अध्यक्ष महिला विंग हरिद्वार, राजवीर सिंह तोमर- प्रांत मीडिया प्रभारी नरेंद्र गिरी- सह संयोजक हरिद्वार, वह वॉइस ऑफ हेल्दी नेशन की ओर से , विकास गुलाटी, सुदीप बेनर्जी, संजीव मेहता, हरविंदर उप्पल, पंकज कुमार, गौरव अरोरा, पंकज सेठी, प्रवीन अरोड़ा, अपूर्व दुबे, निशांत यादव, अनूप कुमार, देवेंद्र मनचंदा जी उपस्थित रहे l


केआरएल कम्पनी व मेयर की मिलीभगत से शहर की सफाई व्यवस्था बदहाल : अनिरूद्ध भाटी शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को ज्ञापन देकर की केआरएल कम्पनी व मेयर की मिलीभगत की जांच की मांग हरिद्वार, 27 अगस्त। ( विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) केआरएल कम्पनी कर्मचारियों द्वारा सोमवार से कूड़ा नहीं उठाने के ऐलान से शहर की बिगड़ी सफाई व्यवस्था बदहाल स्थिति में पहुंच जायेगी। मेयर व केआरएल कम्पनी की मिलीभगत ने शहर की सफाई व्यवस्था को चौपट कर दिया है। यह विचार भाजपा पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को भेजे ज्ञापन में व्यक्त किये। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को भेजे ज्ञापन में अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि नगर निगम क्षेत्र में कूड़ा उठाने व उसे डपिंग जोन तक पहुंचाने की जिम्मेदारी केआरएल कम्पनी की है जिसके बाबत केआरएल को नगर निगम द्वारा ट्रिपिंग फीस व शहरवासियों द्वारा यूजर्स चार्ज का भुगतान किया जाता है। अफसोसजनक स्थिति यह है कि केआरएल कम्पनी द्वारा शहर से कूड़ा उठाने में लापरवाही बरती जा रही है। केआरएल कम्पनी की लचर कार्यशैली से अनेक मौहल्लों में कई बार कूड़े के ढेर लग जाते हैं। जब कूड़ा उठवाने के लिए केआरएल कम्पनी के अधिकारियों पर दवाब बनाया जाता है तब बामुश्किल कूड़ा उठ पाता है। इस कारण नगर निगम के समस्त भाजपा पार्षद केआरएल कम्पनी की कार्यशैली से असंतुष्ट हैं। अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि बिना बोर्ड व पार्षदों को विश्वास में लिये मेयर महोदया द्वारा विगत डेढ़ साल से केआरएल कम्पनी को निरन्तर भुगतान किया जा रहा है। केआरएल कम्पनी जहां कूड़ा उठाने में अक्षम साबित हो रही है वहीं दूसरी ओर केआरएल कम्पनी ने विगत चार माह से अपने सफाईकर्मियों के वेतन का भी भुगतान नहीं किया है। साथ ही केआरएल कम्पनी अपने कर्मचारियों को नियमानुसार सुविधाएं व वेतन नहीं दे रही है। जिस कारण केआरएल के कर्मचारियों ने आने वाले सोमवार से कूड़ा न उठाने का ऐलान कर दिया है। इस समूचे घटनाक्रम में मेयर व केआरएल कम्पनी प्रबंधन की मिलीभगत साफ नजर आ रही है। बोर्ड के अधिकांश पार्षद जब केआरएल की कार्यशैली से संतुष्ट नहीं है तो मेयर द्वारा केआरएल कम्पनी को भुगतान क्यों किया जा रहा है इसकी जांच होना अत्यन्त आवश्यक है। जब भी केआरएल कम्पनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाती है तो कम्पनी अपने कर्मचारियों को आगे कर हड़ताल की धमकी दे देती है। नगर निगम से हुए अनुबंध के अनुसार शहर से कूड़ा उठाने व अपने कर्मचारियों को वेतन देने की जिम्मेदारी केआरएल कम्पनी प्रबंधन की है। मेयर महोदया व केआरएल कम्पनी प्रबंधन की मिलीभगत से बाद में कम्पनी को भुगतान कर दिया जाता है। जिस कारण शहर की जनता व केआरएल कर्मचारियों को शोषण का शिकार होना पड़ रहा है। उन्हांेने शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक से मांग करते हुए कहा कि मेयर व केआरएल कम्पनी की मिलीभगत की जिलाधिकारी अथवा किसी सक्षम अधिकारी से जांच करवाकर ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दे जिससे शहर में कूड़ा निस्तारण की समस्या समाप्त हो सके व केआरएल कम्पनी में कार्यरत सफाई कर्मियों को नियमानुसार प्रत्येक माह वेतन मिल सके। अनिरूद्ध भाटी ने भाजपा पार्षद दल के नेता सुनील अग्रवाल, उपनेता राजेश शर्मा व सभी पार्षदों के साथ बैठक कर इस संदर्भ में आन्दोलन की रूपरेखा तैयार की जायेगी।


8.8 km long, 3,000 metre above sea: Know everything about Atal Tunnel. 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 The 8.8-km strategic Rohtang Tunnel, being built at 3,000 metre above sea level between Himachal Pradesh’s Manali and Leh in Ladakh, will be opened by September-end. The Rs 3,200-crore tunnel will shorten the 474-km distance between Manali and Leh by 46km, which means the eight-hour journey will be cut by two-and-a-half hours. The tunnel is also called Atal Tunnel after former prime minister Atal Bihari Vajpayee, who had announced the project on June 3, 2000. The work was entrusted to the Border Roads Organisation (BRO). The project has faced geological challenges which have pushed the deadline since digging started in 2011. The project was to be completed in February 2015, but water ingress from Seri Nullah, ban on rock mining and delay in allotment of land needed for quarrying, and loose rock strata in the middle caused the slow progress. Here is everything you need to know about the Atal Tunnel: • More than 700 men are working in shifts to complete the work of the tunnel. When the coronavirus pandemic-enforced lockdown was imposed, proactive measures were taken to recommence work in active coordination with the state government. • Defence minister Rajnath Singh was to inspect the work at the tunnel last month, but due to the stand-off between India and Chinese troops, this trip was cancelled. Singh is likely to visit the Rohtang tunnel in at the end of this month. • The speed limits in the tunnel will be 80km per hour. The tunnel will accelerate troop mobility to strategic frontiers in Jammu and Kashmir, besides providing a road link to Lahaul and Spiti in the winters. • The tunnel has the capacity to ply 3,000 vehicles per day under any weather condition. The cost of the project has escalated from Rs 1,700 crore in 2010 to almost its double to Rs 3,200 crore by September 2020. • Himachal Pradesh will run Vistadome buses inside Atal tunnel when it is inaugurated next month. Vistadome buses will have a glass rooftop for a panoramic view through the hilly region.


हरिद्वार 26 अगस्त (गगन नामदेव संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार,) भारतीय जनता पार्टी मंडल हरिद्वार के वार्ड नंबर 4 व 5 की एक बैठक भाजपा मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र तिवारी की अध्यक्षता में रामलीला मैदान भीमगोडा हरिद्वार में सम्पन्न हुई । जिसमें रामलीला मैदान भीमगोड़ा के पूरे परिसर में टीन शेड लगवाने और बनखंडी आश्रम की सुरक्षा दीवार बनाने के लिए शहरी विकास मंत्री माननीय मदन कौशिक जी का भी अभिनंदन कार्यक्रम क्षेत्र की जनता द्वारा किया गया बैठक में मुख्य अतिथि भाजपा जिला महामंत्री विकास तिवारी माननीय मंत्री जी के प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित रहे । बैठक का आयोजन शहरी विकास मंत्री माननीय श्री मदन कौशिक (कैबिनेट मंत्री) का आभार व्यक्त करने के लिए आहुत की गई थी । बैठक में सैकड़ो कार्यकर्ता मोजुद रहे। सप्तऋषि मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र तिवारी ने सभी कार्यकर्ताओं को बताया कि माननीय मंत्री जी द्वारा भीमगोडा के पूरे रामलीला मैदान में टीन शेड लगाने का प्रस्ताव एवं वनखंडी आश्रम के पीछे पहाड़ की और सुरक्षा दिवार बनाने का प्रस्ताव स्वीकृत होकर धन भी आवंटित हो गया है जल्दी ही निर्माण कार्य शुरू कर दिया जायेगा । इस पर सभी कार्यकर्ताओं ने माननीय मंत्री जी का आभार व्यक्त किया । वीरेंद्र तिवारी ने अपने सम्बोधन में कहा कि मदन कौशिक जी विकास पुरुष है और जब से वह हरिद्वार के विधायक एवं प्रदेश सरकार में मंत्री बने हैं तभी से हरिद्वार का चहूंमुखी विकास हुआ है तथा हरिद्वार को वह सभी सुविधाएं मिलने जा रही है जो बड़े बड़े शहरों मेट्रो सिटी में होती हैं । जैसे भूमि गत विधुत सप्लाई, भूमिगत गैस, भूमि गत टेलिफोन ,सभी चौराहों एवं पार्कों का सौन्दर्य करण सुंदर सड़कों का निर्माण एवं हरकिपौड़ी एवं हरकिपौड़ी क्षेत्र का एवं हरिद्वार स्थित अन्य घाटों का सौन्दर्य करण सभी सड़कों पर आधुनिक लाईट लगना, नेशनल हाईवे का जल्द निर्माण , हाईवे पर शहर क्षेत्र में पुलों का निर्माण का कार्य व शहर के गली मौहल्लों में पानी व सीवर का कार्य माननीय मंत्री जी द्वारा कराया जा रहा है । जिला महामंत्री विकास तिवारी जी ने कहा है कि एक तरफ मंत्री जी द्वारा विकास के कार्य कराये जा रहे हैं वहीं दुसरी और कांग्रेस पार्टी विकास के कार्य में अड़चन पैदा कर रही है । उन्होंने कहा कि जीओ कंपनी सड़कों को खोद कर केबिल डालने का कार्य कर रही है । जीओ कंपनी ने नगर निगम से सड़क खोदने हेतु केवल १४०० मीटर की अनुमति ली है परन्तु १०० किमी० से अधिक सड़क खोद चुके हैं । नगर निगम की मेयर का करोड़ों रुपए के इस भ्रष्टाचार ‌में लिप्त नजर आ रही है। जिसकी भाजपा आला अधिकारियों से जाँच की मांग भी कर चुकी है कि इस भ्रष्टाचार की जांच की जाये । इस अवसर पर मंडल महामंत्री तरुण नैयर, कोषाध्यक्ष बलकेश राजोरिया,विमल त्यागी,मंयक मूर्ति भट्ट, सुशील कर्णवाल, श्रीमती बीना कम्बोज, ने भी अपने विचार रखे बैठक में श्रीमती उमा गिरी, श्रीमती उमा विष्ट, श्रीमती बीना पंत,संजना,राधा,संगीता,पवन सक्सैना, हिमांशु पंत, राहुल पाठक,अजय चंचल,अशुंल,गोयल ,सुरज निषाद,देव गिल, सचिन श्री वास्तव,अणु चौहान आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे । वीरेंद्र तिवारी अध्यक्ष भाजपा मंडल हरिद्वार।


जागरूकता व स्वच्छता से ही डेंगू व कोरोना को किया जा सकता है परास्त : अनिरूद्ध भाटी सफाई निरीक्षक के संयोजन में नगर निगम के सफाई कर्मियों ने आकांक्षा इण्टर प्राइजेज, एशियन पेंट्स, क्षेत्रवासियों के सहयोग से दुर्गानगर में चलाया सघन सफाई अभियान समूचे दुर्गानगर में घर-घर जाकर किया कीटनाशक दवाओं का छिड़काव व सेनेटाइज तथा पत्रक वितरित क्षेत्रवासियों को डंेगू व कोरोना से बचाव हेतु किया गया जागरूक हरिद्वार, 25 अगस्त(विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) । डेंगू व कोरोना से बचाव हेतु चलाये जा रहे सफाई व जागरूकता अभियान के तहत वार्ड नं. 3 दुर्गानगर में सफाई निरीक्षक विकास छाछर के संयोजन व क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में सघन सफाई अभियान चलाया गया। समाजसेवी जनेश्वर त्यागी ने छिड़काव मशीन चलाकर सफाई अभियान का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि जागरूकता व अपने आस-पास की स्वच्छता से ही डेंगू व कोरोना को परास्त किया जा सकता है। डेंगू का मच्छर सदैव साफ पानी में ही पनपता है। इसलिए अपने घर के आस-पास, कूलर, फ्रिज, पुराने टायर, बड़े बर्त्तनों में पानी जमा न होने दें। अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि आज समूचे दुर्गानगर में वृहद स्तर पर नगर निगम की टीम ने नमामि गंगे, एशियन पेंट्स, आकांक्षा इण्टर प्राइजेज व क्षेत्रवासियों के सहयोग से सफाई अभियान चलाया गया है। इसके तहत सभी गलियों में साफ-सफाई कराते हुए चूने व कीटनाशक दवाओं का छिड़काव किया गया तथा कोरोना व डेंगू के दृष्टिगत प्रत्येक घर को सेनेटाइज करने के साथ-साथ कीटनाशक दवा का छिड़काव भी किया गया है। समाजसेवी जनेश्वर त्यागी व मा. गंगाराम पाल ने कहा कि बरसात के मौसम में डंेगू का खतरा बना रहता है। कोरोना महामारी के चलते साफ-सफाई की विशेष आवश्यकता रहती है। क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी के प्रयास से नगर निगम की टीम ने अन्य समाजसेवी संस्थाओं व क्षेत्रवासियों के सहयोग से समूचे दुर्गानगर में बेहतर सफाई करने के साथ-साथ बिजली व पानी की लाइन डालने के कारण हुए गड्ढों को भरने के साथ-साथ मलवा व रोड़े-पत्थरों को हटाने का भी कार्य किया है जिससे क्षेत्रवासियों को काफी राहत मिलेगी। शहर व्यापार मण्डल के कोषाध्यक्ष अमित गुप्ता व समाजसेवी सुखेन्द्रसिंह तोमर ने कहा कि जिस प्रकार नगर निगम की टीम ने स्वच्छता अभियान चलाते हुए कीटनाशक दवाओं के छिड़काव के साथ-साथ अनेक स्थानों में पानी में उत्पन्न डंेगू के लार्वा को नष्ट करने का काम किया है, जिससे क्षेत्रवासियों को डंेगू के प्रकोप से मुक्ति मिलेगी। समाजसेवी रामदयाल यादव व राजेश सूद ने कहा कि स्वच्छता अभियान से जहां क्षेत्र को कूड़े की गंदगी व बीमारियों से मुक्ति मिली है वहीं क्षेत्रवासियों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता भी बढ़ेगी। भाजयुमो के वार्ड अध्यक्ष भारत नन्दा ने कहा कि पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में समूचे वार्ड में सफाई अभियान चलाया जा रहा है। अगले चरण में कैलाश गली व शेर गली में सफाई अभियान चलाया जायेेगा। इस अवसर पर समूचे दुर्गानगर क्षेत्र की प्रत्येक गलियों में नगर निगम कर्मियों व क्षेत्रवासियों ने सामूहिक रूप से सफाई करते हुए क्षेत्रवासियों को पत्रक देकर डंेगू के प्रति जागरूक किया। साथ ही कीटनाशक दवाओं का छिड़काव व प्रत्येक घर व गली में किया गया। इस अवसर पर मुख्य रूप से सुखेन्द्रसिंह तोमर, मा. गंगाराम पाल, जनेश्वर त्यागी, राजेश सूद, रामदयाल यादव, शहर व्यापार मण्डल के कोषाध्यक्ष अमित गुप्ता, भाजयुमो के वार्ड अध्यक्ष भारत नन्दा, रूपेश शर्मा, राघव ठाकुर, सचिन शर्मा, भगत सिंह रावत, बंटी चौधरी, सोनू पंडित, श्यामसुन्दर शर्मा, ऋषभ, नाथीराम प्रजापति, ज्ञानी हरभजन सिंह, रोहित यादव, आदित्य यादव, कमल अरोड़ा, महंत सूरज दास, महंत सुमित दास, महंत मुकेश, विनोद शर्मा, प्रमोद पाल, विजय उप्रेती, सूर्यकान्त शर्मा, नीरज शर्मा, आशू आहूजा, दिनेश शर्मा, मनोज पाल, रमेश कुमार, अनुपम त्यागी, संदीप गोस्वामी, विशाल गुप्ता के साथ ही नगर निगम के सफाई निरीक्षक विकास छाछर, सफाई नायाक सुभाष खैरवाल, गोपाल हवलदार, काका हवलदार, आकांक्षा इण्टर प्राइजेज से अनिल त्रिपाठी, अरूण कुमार, अर्जुन, काली चरण समेत अनेक क्षेत्रवासियों ने सफाई अभियान में अपना सहयोग प्रदान किया।


स्नातक प्रथम सेमेस्टर हेतु प्रवेश की कट मैरिट सूची जारी प्रवेश हेतु कालेज आने की बाध्यता समाप्त आनलाईन वैरिफिकेशन फार्म भरना होगा आवश्यक मैरिट प्रकिया 28 अगस्त से होगी प्रारम्भ हरिद्वार 26 अगस्त (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) स्थानीय एस.एम.जे.एन.पी.जी. काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि बी.काॅम., बी.ए. तथा बी.एससी. प्रथम सेमेस्टर सत्र 2020-21 में प्रवेश हेतु इच्छुक अभ्यर्थियों की प्रथम मैरिट सूची महाविद्यालय द्वारा जारी कर दी गयी है जिसको महाविद्यालय की वेबसाईट पर आॅनलाईन भी देखा जा सकता हैै। डाॅ. बत्रा ने बताया कि समस्त प्रवेशार्थी बड़ी सावधानी पूर्वक मैरिट सूची में अपना नाम देख लें। डाॅ. बत्रा ने जानकारी दी कि जिन अभ्यर्थियों का मैरिट सूची में नाम प्रकाशित हुआ है, उन्हें अथवा उनसे सम्बन्धित किसी भी व्यक्ति को महाविद्यालय में कोरोना वायरस महामारी के दिशा-निर्देशों के तहत कॉलेज में उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है। सम्बन्ध्ति संकाय की प्रवेश समिति द्वारा प्रवेशार्थी के आॅनलाईन भरे आवेदन-पत्र तथा प्रमाण-पत्रों की सत्यता आॅनलाईन चैक करते हुए प्रवेश की संस्तुति की जायेगी तथा इस आधार पर प्रवेश नितान्त अस्थायी होगा। मुख्य प्रवेश समन्वयक डाॅ. संजय कुमार माहेश्वरी ने बताया कि बी.काॅम. प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश हेतु सामान्य जाति के अभ्यर्थियों की मैरिट 97.80 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर कटआॅफ 85.40 प्रतिशत तक, अन्य पिछड़ा वर्ग अभ्यर्थियों की मैरिट 83.60 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर कटआॅफ 74.60 प्रतिशत तक, अन्य राज्य हेतु 91.20, अनुसूचित जाति वर्ग के अभ्यर्थियांे की मैरिट 82.40 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर कटआॅफ 61.80 प्रतिशत तक तथा अनुसूचित जन जाति वर्ग के अभ्यर्थियों की मैरिट 63 प्रतिशत तक गयी है। बी.ए. प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश हेतु सामान्य जाति के अभ्यर्थियों की मैरिट 97.00 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर कटआॅफ 59.20 प्रतिशत तक, अन्य पिछड़ा वर्ग अभ्यर्थियों की मैरिट 58.60 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर कटआॅफ 47.60 प्रतिशत तक, अन्य राज्य हेतु 60, अनुसूचित जाति वर्ग के अभ्यर्थियांे की मैरिट 59.40 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर कटआॅफ 43.40 प्रतिशत तक तथा अनुसूचित जन जाति वर्ग के अभ्यर्थियों की मैरिट 58.40 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 57.20 प्रतिशत तक गयी है। बी.एससी. कम्प्यूटर साईंस वर्ग प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश हेतु सामान्य जाति के अभ्यर्थियों की मैरिट मैरिट 85.40 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 53.20 प्रतिशत तक, अन्य पिछड़ा वर्ग अभ्यर्थियों की मैरिट 45.60 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 45 प्रतिशत तक, अनुसूचित जाति वर्ग के अभ्यर्थियांे की मैरिट 52.40 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 48.20 प्रतिशत तक। बी.एससी. पीसीएम वर्ग प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश हेतु सामान्य जाति के अभ्यर्थियों की मैरिट 86.20 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 56.00 प्रतिशत तक, अन्य पिछड़ा वर्ग अभ्यर्थियों की मैरिट 55 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 51 प्रतिशत तक, अनुसूचित जाति वर्ग के अभ्यर्थियांे की मैरिट 54 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 48.60 प्रतिशत तक। बी.एससी. सीबीजेड वर्ग प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश हेतु सामान्य जाति के अभ्यर्थियों की मैरिट 89.8 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 57 प्रतिशत तक, अन्य पिछड़ा वर्ग अभ्यर्थियों की मैरिट 53.4 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 52.60 प्रतिशत तक, अन्य राज्य के अभ्यर्थियों हेतु मैरिट 57.40 तथा अनुसूचित जाति वर्ग के अभ्यर्थियांे की मैरिट 53.8 प्रतिशत से प्रारम्भ होकर 48.20 प्रतिशत तक मैरिट सूची की कटआॅपफ गयी है। मैरिट सूची आये समस्त अभ्यर्थियों की प्रवेश प्रक्रिया दिनांक 28 अगस्त, 2020 से आॅनलाईन प्रारम्भ कर दी जायेगी। मुख्य अनुशासन अधिकारी डाॅ. सरस्वती पाठक ने महत्वपूर्ण जानकारी देते हुए बताया कि जिन प्रवेशार्थियों का नाम मैरिट सूची में आ चुका है वे अपना प्रवेश वैरीफाई कराने हेतु महाविद्यालय की एडमिशन आॅनलाईन वेबसाईट पर निर्धारित प्रपत्र को दिनांक 31 अगस्त, 2020 तक अवश्य भर दें तथा जिस किसी प्रवेशार्थी को प्रवेश से सम्बन्धित कोई भी समस्या है तो वह काॅलेज कार्यालय में अपनी समस्या का समाधान पा सकता है। सह प्रवेश समन्वयक विनय थपलियाल ने बताया कि मैरिट सूची में अंकित प्रवेश की तिथियों में प्रवेशार्थी अपने रजिस्टर्ड मोबाईल नम्बर को प्रातः 10 बजे से सायं 03ः00 बजे तक चालू स्थिति में रखेंगे, जिससे उनसे महाविद्यालय द्वारा सम्पर्क किया जा सके।


*दिव्यंगो की सुविधा के लिए केंद्र सरकार द्वारा बदले नियमों के लिए पर्वतीय विकलांग सेवा संस्थान ने संस्थापक गुलशन बाहरी एवं संरक्षक जगदीश लाल पाहवा ने किया आभार व्यक्त |* *दिव्यंगो की सुविधा हेतु गाड़ी की खरीद पर माफ़ होगा GST* *दिव्यंगो को व्यवसायिक या निजी वाहनों की खरीद पर दिव्यांगो को 18 फीसदी जी.एस.टी. से छुट के लिए केंद्र सरकार नियमों में बदलाव करने जा रही है | इसके तहत वाहनों के रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में वाहन मालिक और संस्थान के अलावा वाहन किस श्रेणी का है इसका भी उल्लेख किया जायेगा दरअसल सदा परिवहन और राज मार्ग मंत्रालय ने मोटर वाहन अधिनियम 1989 में फ़ार्म 20 के क्रम संख्या 4 ए में वाहनों की श्रेणी को दर्ज कराने को लेकर अधिसूचना जारी कर दिया है | मंत्रालय ने लोगो को इस मामले में सुझाव या आपत्ति दर्ज करने के लिए समय दिया है | इस प्रक्रिया को पूरा होने के बाद इसे लागु कर दिया जायेगा |* *दिव्यंगो को मिलेंगे ये लाभ – 8 लाख रूपये तक की कीमत पर 18 फीसदी GST पूरा माफ़ होगा, इन्वेलिड केरिज वाहन का ड्राइविंग लाइसेंस मिलेगा, टोल प्लाजा और आर.सी. 100 फीसदी टैक्स माफ़ होगा, रोड टैक्स माफ़ होगा, बीमा राशि में 50 फीसदी तक की छुट मिलेगी |* *सरकार द्वारा दिव्यंगो के लिए किये जा रहे कार्य की पर्वतीय विकलांग सेवा संस्थान प्रशंसा करती है एवं हार्दिक आभार व्यक्त करती है |*


हास परिहास बताओ तो, पूरा देश 'रिया' - 'रिया' हो रिया जिनकी नौकरी गयी, वो रो रिया जिनकी सैलरी कटी, वो भी रो रिया जिनको कोरोना हुआ, वो रो रिया जो कोरोना वॉरीअर है, वो भी रो रिया है जिसकी दुकान,फैक्टरी धन्धा बंद हुआ वो सब रो रिया ... मुंबई पुलिस, बिहार पुलिस, सीबीआई, न्यूज चैनल्स भी रिया रिया,कर रिया... और जो रिया है उसकी समझ में नहीं आ रिया कि उसके साथ हो क्या रिया है...... 😜😞😫😃🤣


झबरेड़ा* विधान सभा के *ग्राम नौबतपुर मुलेवाला* में हुआ सुबोध राकेश और जिला पंचायत अध्यक्ष का स्वागत *विधानसभा झबरेड़ा के गांव नौबतपुर मुलेवाला मैं जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा एवं प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश, प्रदीप चौधरी अध्यक्ष जिला सहकारी बैंक, का हुआ स्वागत* *भगवानपुर* ।24 अगस्त (कमल वर्मा नामदेव संवाददाता गोविंद कृपा भगवान पुर) विधानसभा झबरेड़ा के गांव नौबतपुर मुलेवाला में पवन तोमर के आवास पर सुभाष वर्मा अध्यक्ष जिला पंचायत,प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रदीप चौधरी,का हुआ स्वागत, जिला पंचायत अध्यक्ष सुभाष वर्मा ने ग्राम नौबतपुर मुलेवाला में कई योजनाओं की घोषणा की और तत्काल प्रभाव से लागू करने का भी वादा किया वही प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश ने कहां माननीय अध्यक्ष जी के माध्यम से पूरे हरिद्वार जिले में सभी काम संपूर्ण रूप से कराए जा रहे हैं और उन्होंने कहा कोरोनावायरस से बचाव के लिए तथा आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए प्रेरित किया इस मौके पर राजवीर सिंह,ऋषि पाल, सोनू, विकास,प्रदीप चौधरी,धर्मपाल, सिंह कुंजा, सुनील बंसल मंडल अध्यक्ष भगवानपुर,कंवरपाल सिंह, मोहर सिंह , मास्टर नागेंद्र सिंह, संदीप रघुवंशी, अजीत सिंह, लाहौर सिंह,महेंद्र सिंह, खूब सिंह सत कुमार त्यागी, संजय मित्तल,महकार सिंह, गजेंद्र चौधरी, देवपुर,राजकुमार सिंह, बबलू मास्टर ब्रह्मपाल, मैनपाल सिंह, आदि मौजूद रहे।


श्रमिकों के हितों की रक्षा को प्रदेश सरकार प्रयासरत : मदन कौशिक विद्युत स्वयं सहायता समूह समिति के पदाधिकारियों ने शहरी विकास मंत्री को ज्ञापन सौंपकर की 10 कर्मचारियों की नियुक्ति की मांग हरिद्वार, 24 अगस्त। (गगन नामदेव संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) प्रदेश सरकार श्रमिकों के हितों की रक्षा को प्रयासरत है। कोरोना महामारी के बावजूद प्रदेश सरकार का प्रयास रहा है कि श्रमिकों को उचित सुविधाएं व संरक्षण प्राप्त हो सकें। यह विचार शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने अपनी समस्याओं के निदान हेतु ज्ञापन सौंपने आये विद्युत स्वयं सहायता समूह समिति के पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि विद्युत विभाग एक आवश्यक सेवा है जिसमें विद्युत वितरण में एसएचजी कर्मचारियों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। उनकी परेशानियों व समस्याओं का निदान करने का सरकार प्रयास करेगी। विद्युत स्वयं सहायता समूह समिति के संरक्षक अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि स्वयं सहायता समूह के माध्यम से विद्युत विभाग में 54 कर्मचारी कार्यरत चले आ रहे थे। वर्तमान में उनकी संख्या 38 रह गयी है जिसके चलते शेष कार्यरत कर्मचारियों पर कार्य भार बढ़ता जा रहा है। वहीं दूसरी ओर उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ रही है तथा स्थायी कर्मचारी सेवानिवृत्त हो रहे हैं ऐसे में न्यूनतम 10 कर्मचारियों की शीघ्र नियुक्ति स्वयं सहायता समूह के माध्यम से होनी चाहिए। राजकुमार एडवोकेट ने कहा कि विद्युत स्वयं सहायता समूह समिति के कर्मचारी न्यूनतम वेतन पर अपनी जान जोखिम में डालकर विद्युत विभाग में सेवाएं दे रहे हैं। इनके कर्मचारियों की संख्या व इनके वेतन में प्रदेश सरकार को वृद्धि करनी चाहिए। समिति के सचिव सुनील कुमार ने कहा कि प्रदेश सरकार को आवश्यक सेवा में रात-दिन अपना योगदान देने वाले कर्मचारियों की सुध लेनी चाहिए। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने प्रतिनिधि मण्डल को आश्वासन दिया कि वह उनकी समस्याओं को मुख्यमंत्री के समक्ष रखकर उनका निदान कराने का प्रयास करेंगे। इस अवसर पर मुख्य रूप से राजकुमार एडवोकेट, सुनील कुमार, सुशील कुमार, मनीष कुमार चंचल, चन्द्रकिरण, रूपेश शर्मा, संजय शर्मा, संदीप विश्वनोई, चन्द्रमोहन समेत अनेक कर्मचारी उपस्थित रहे।


जिओ कम्पनी की खुदाई की हो निष्पक्ष जांच : सुनील अग्रवाल नेता प्रतिपक्ष सुनील अग्रवाल, उपनेता राजेश शर्मा, अनिरूद्ध भाटी ने एसएनए को ज्ञापन सौंपकर की जिओ कम्पनी से अधिक खुदाई के राजस्व वसूली की मांग हरिद्वार, 24 अगस्त।(विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) जिओ कम्पनी द्वारा नगर निगम से ली गई अनुमति के सापेक्ष अधिक खुदाई किये जाने से आक्रोशित भाजपा पार्षद दल ने एमएनए की अनुपस्थिति में एसएनए तनवीर मारवाह को ज्ञापन देकर जिओ कम्पनी द्वारा की जा रही खुदाई की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। इस अवसर पर भाजपा पार्षद दल के नेता सुनील अग्रवाल गुड्डू ने कहा कि जिओ कम्पनी द्वारा मानकों को ताक पर रख कर अनुमति से अधिक खुदाई नगर निगम सीमा में की जा रही है जिसे मेयर का मूक समर्थन हासिल है। अनुमति से अधिक खुदाई की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए जिससे नगर निगम को राजस्व की प्राप्ति हो सके। पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि जिओ कम्पनी ने विगत वर्षों में कितने किमी खुदाई केबल डालने के लिए की है इसकी तकनीकी जांच नगर निगम को शीघ्र करानी चाहिए। साथ ही इस बात का भी खुलासा होना चाहिए है कि जिओ कम्पनी ने मेयर व मेयरपति की शह पर अनुमति से अधिक खुदाई कैसे की इसका आंकलन कर अनुमति से अधिक खुदाई के राजस्व की वसूली नगर निगम को जिओ कम्पनी से करनी होगी। पार्षद दल के उपनेता राजेश शर्मा ने कहा कि मेयर की हठधर्मिता के चलते नगर निगम के मूल कार्य सफाई व्यवस्था, पथ प्रकाश व्यवस्था बदहाल स्थिति में है ऐसे में जिओ कम्पनी ने मात्र 1400 मी की अनुमति लेकर कई किमी सड़क शहर में खोद दी है। मरम्मत के नाम पर ली गयी अनुमति में नई केबिल डालने का कार्य जिओ कम्पनी ने किया है जिसमें अप्रत्यक्ष रूप से मेयर महोदया का सहयोग मिल रहा है। इसे भाजपा पार्षद दल बर्दाश्त नहीं करेगा। पार्षद प्रतिनिधि सचिन बेनीवाल ने कहा कि नगर निगम प्रशासन को जिओ कम्पनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए राजस्व वसूली की प्रक्रिया प्रारम्भ करनी चाहिए। एसएनए तनवीर मारवाह ने भाजपा पार्षद दल के नेताओं को आश्वस्त किया कि शीघ्र ही इस संदर्भ में उचित कार्रवाई की जायेगी। यदि अनुमति से अधिक खुदाई की गयी है तो उसकी जांच करवाकर नियमानुसार राजस्व वसूली की जायेगी।


कुँवर प्रणव सिंह चैम्पियन पर भाजपा ने जताया विश्वास प्रदेश अध्यक्ष ने करवाई भाजपा में पुनः वापसी खानपुर विधान सभा में जशन का माहौल चैम्पियन ने कहा कि मैं तो शुरू से ही भाजपा का वफादार सिपाही हूँ हरिद्वार 24 अगस्त (संजय वर्मा संपादक गोविंद कृपा) खानपुर विधान सभा के लोकप्रिय विधायक कुँवर प्रणव सिंह चैम्पियन पर प्रदेश भाजपा ने विश्वास जताते हुए उन्हें पुनः भाजपा में शामिल किया। जिससे खानपुर विधान सभा में जश्न का माहौल बन गया है। भाजपा के सभी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश नेतृत्व का आभार प्रकट कर। विधायक कुँवर प्रणव सिंह चैम्पियन की भाजपा मे पुनः वापी का स्वागत किया। कुँवर प्रणव सिंह चैम्पियन ने प्रदेश भाजपा संगठन और नेतृत्व का आभार प्रकट करते कहाँ की मै भाजपा का वफादार सिपाही था और अंतिम दम तक रहुँगा। पार्टी ने मुझ पर विश्वास जताया हैं ये मेरा सौभाग्य है। चैम्पियन की वापसी पर खानपुर विधान सभा के लंढौरा और खान पुर के मंडल पदाधिकारीयो,कार्यकर्ताओ ने प्रशंता प्रकट करते हुए पार्टी नेतृत्व का आभार प्रकट किया। खान पुर विधान सभा के पूर्व भाजपा विस्तारक संजय वर्मा, ने पार्टी के इस सकारात्मक कदम की प्रशंसा करते हुए संगठन और नेतृत्व का आभार प्रकट किया। तथा कुँवर प्रणव सिंह चैम्पियन को बँधाई दी।


*नालायक* (विश्वास सक्सेना जी की वाल से साभार) देर रात अचानक ही पिता जी की तबियत बिगड़ गयी। आहट पाते ही उनका नालायक बेटा उनके सामने था। माँ ड्राईवर बुलाने की बात कह रही थी, पर उसने सोचा अब इतनी रात को इतना जल्दी ड्राईवर कहाँ आ पायेगा ????? यह कहते हुये उसने सहज जिद और अपने मजबूत कंधो के सहारे बाऊजी को कार में बिठाया और तेज़ी से हॉस्पिटल की ओर भागा। बाउजी दर्द से कराहने के साथ ही उसे डांट भी रहे थे "धीरे चला नालायक, एक काम जो इससे ठीक से हो जाए।" नालायक बोला "आप ज्यादा बातें ना करें बाउजी, बस तेज़ साँसें लेते रहिये, हम हॉस्पिटल पहुँचने वाले हैं।" अस्पताल पहुँचकर उन्हे डाक्टरों की निगरानी में सौंप,वो बाहर चहलकदमी करने लगा , बचपन से आज तक अपने लिये वो नालायक ही सुनते आया था। उसने भी कहीं न कहीं अपने मन में यह स्वीकार कर लिया था की उसका नाम ही शायद नालायक ही हैं । तभी तो स्कूल के समय से ही घर के लगभग सब लोग कहते थे की नालायक फिर से फेल हो गया। नालायक को अपने यहाँ कोई चपरासी भी ना रखे। कोई बेवकूफ ही इस नालायक को अपनी बेटी देगा। शादी होने के बाद भी वक्त बेवक्त सब कहते रहते हैं की इस बेचारी के भाग्य फूटें थे जो इस नालायक के पल्ले पड़ गयी। हाँ बस एक माँ ही हैं जिसने उसके असल नाम को अब तक जीवित रखा है, पर आज अगर उसके बाउजी को कुछ हो गया तो शायद वे भी.. इस ख़याल के आते ही उसकी आँखे छलक गयी और वो उनके लिये हॉस्पिटल में बने एक मंदिर में प्रार्थना में डूब गया। प्रार्थना में शक्ति थी या समस्या मामूली, डाक्टरों ने सुबह सुबह ही बाऊजी को घर जाने की अनुमति दे दी। घर लौटकर उनके कमरे में छोड़ते हुये बाऊजी एक बार फिर चीखें, "छोड़ नालायक ! तुझे तो लगा होगा कि बूढ़ा अब लौटेगा ही नहीं।" उदास वो उस कमरे से निकला, तो माँ से अब रहा नहीं गया, "इतना सब तो करता है, बावजूद इसके आपके लिये वो नालायक ही है ??? विवेक और विशाल दोनो अभी तक सोये हुए हैं उन्हें तो अंदाजा तक नही हैं की रात को क्या हुआ होगा .....बहुओं ने भी शायद उन्हें बताना उचित नही समझा होगा । यह बिना आवाज दिये आ गया और किसी को भी परेशान नही किया भगवान न करे कल को कुछ अनहोनी हो जाती तो ????? और आप हैं की ???? उसे शर्मिंदा करने और डांटने का एक भी मौका नही छोड़ते । कहते कहते माँ रोने लगी थी इस बार बाऊजी ने आश्चर्य भरी नजरों से उनकी ओर देखा और फिर नज़रें नीची करली माँ रोते रोते बोल रही थी अरे, क्या कमी है हमारे बेटे में ????? हाँ मानती हूँ पढाई में थोङा कमजोर था .... तो क्या ???? क्या सभी होशियार ही होते हैं ?? वो अपना परिवार, हम दोनों को, घर-मकान, पुश्तैनी कारोबार, रिश्तेदार और रिश्तेदारी सब कुछ तो बखूबी सम्भाल रहा है जबकि बाकी दोनों जिन्हें आप लायक समझते हैं वो बेटे सिर्फ अपने बीबी और बच्चों के अलावा ज्यादा से ज्यादा अपने ससुराल का ध्यान रखते हैं । कभी पुछा आपसे की आपकी तबियत कैसी हैं ?????? और आप हैं की .... बाऊजी बोले सरला तुम भी मेरी भावना नही समझ पाई ???? मेरे शब्द ही पकङे न ?? क्या तुझे भी यहीं लगता हैं की इतना सब के होने बाद भी इसे बेटा कह के नहीं बुला पाने का, गले से नहीं लगा पाने का दुःख तो मुझे नही हैं ???? क्या मेरा दिल पत्थर का हैं ?????? हाँ सरला सच कहूँ दुःख तो मुझे भी होता ही है, पर उससे भी अधिक डर लगता है कि कहीं ये भी उनकी ही तरह *लायक* ना बन जाये। इसलिए मैं इसे इसकी पूर्णताः का अहसास इसे अपने जीते जी तो कभी नही होने दूगाँ .... माँ चौंक गई ..... ये क्या कह रहे हैं आप ??? हाँ सरला ...यहीं सच हैं अब तुम चाहो तो इसे मेरा स्वार्थ ही कह लो। "कहते हुये उन्होंने रोते हुए नजरे नीची किये हुए अपने हाथ माँ की तरफ जोड़ दिये जिसे माँ ने झट से अपनी हथेलियों में भर लिया। और कहा अरे ...अरे ये आप क्या कर रहे हैं मुझे क्यो पाप का भागी बना रहे हैं । मेरी ही गलती हैं मैं आपको इतने वर्षों में भी पूरी तरह नही समझ पाई ...... और दूसरी ओर दरवाज़े पर वह नालायक खड़ा खङा यह सारी बातचीत सुन रहा था वो भी आंसुओं में तरबतर हो गया था। उसके मन में आया की दौड़ कर अपने बाऊजी के गले से लग जाये पर ऐसा करते ही उसके बाऊजी झेंप जाते, यह सोच कर वो अपने कमरे की ओर दौड़ गया। कमरे तक पहुँचा भी नही था की बाऊजी की आवाज कानों में पङी.. अरे नालायक .....वो दवाईयाँ कहा रख दी गाड़ी में ही छोड़ दी क्या ?????? कितना भी समझा दो इससे एक काम भी ठीक से नही होता .... नालायक झट पट आँसू पौछते हुये गाड़ी से दवाईयाँ निकाल कर बाऊजी के कमरे की तरफ दौङ गया ।।


हरिद्वार 23 अगस्त (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) *सक्षम द्वारा नेत्र जागरूकता हेतु कार्यकर्ताओं एवम् आमजन में जागरूकता लाने हेतु प्रयास* *सक्षम जिला हरिद्वार की मासिक बैठक आज आयोजित की गयी जोकि राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य / उत्तर पश्चिम क्षेत्र प्रभारी श्री राम मिश्र का सानिध्य, प्रान्त मंत्री ललित पन्त की उपस्थिति एवम् सक्षम जिला अध्यक्ष हरिद्वार जगदीश लाल पाहवा की अध्यक्षता में संपन्न हुई | जिसमें सक्षम द्वारा आयोजित होने वाले नेत्र जागरूकता पखवाड़े पर चर्चा की गयी |* *सक्षम द्वारा नेत्र पखवाड़े के तहत 25 अगस्त से 8 सितम्बर तक नेत्र जागरूकता हेतु कार्यकर्ताओं एवम् आमजन में जागरूकता लाने हेतु रोज 15 दिनों तक लगातार ई - बैठक की जाएगी। जिसमें नेत्र चिकित्सकों , योग शिक्षकों एवम् नेत्र विशेषज्ञों के माध्यम से नेत्र जागरूकता पखवाड़ा मनाया जाएगा इस की तैयारी हेतु अनन्त मेहरा , सक्षम प्रान्त प्रचार प्रमुख को प्रभारी बनाया गया है।* *सक्षम जिलाध्यक्ष हरिद्वार जगदीश लाल पाहवा ने बताया कि कोरोना काल के दौरान जागरूकता अभियान को आगे बढाने के लिए सोशल मिडिया बहुत अच्छा प्लेटफॉर्म है जिसके माध्यम से हम घर बेठे लोगो को जागरूक कर सकते हैं |* *जिला उपाध्यक्ष प्रमोद शर्मा ने बताया कि हरिद्वार धार्मिक स्थल है जहाँ हमेशा यात्रियों का आवागमन रहता है हमें मंदिरों एवं धार्मिक स्थलों पर नेत्र दान सम्बंधित साइन बोर्ड लगाये जाये जिससे लोगो को नेत्र दान के लिए जगुरुक किया जा सकेगा |* *बैठक के दौरान उत्तर पश्चिम क्षेत्र प्रभारी श्री राम मिश्र जी द्वारा घोषणा की गयी जिसमें हरिद्वार ईकाई में राकेश जी मंत्री अनुसंधान प्रमुख का स्थान लेंगे, डाक्टर विनोद उनियाल मंत्री हरिद्वार रहेंगे, डाक्टर प्रोमिला महिला टोली हरिद्वार में, मनोज नौटियाल एंव अजय परमार हरिद्वार उपाध्यक्ष रहेंगे, डाक्टर हितेंद्र सिंह रुड़की सहमंत्री रहेंगे* *महिला प्रमुख नेहा मलिक एवं सीमा चौहान ने नेत्र दान पखवाड़े के दौरान लोगो को हर प्रकार से जागरूक करने के साथ साथ सक्षम इकाई के सदस्यों को भी यह संकल्प लेने की बात कही |* ई बैठक में मुख्य रूप से डा. दीपेश, डा. पवन सिंह, कुलभूषण शर्मा आदि भी शामिल रहे तथा सभी सदस्यों ने कहा कि पखवाड़े को सफल बनाने में योगदान प्रदान करेंगे |*


(वरिष्ठ समाजसेवी जगदीश लाल पाहवा जी की कलम से साभार) बूढ़ापे की चिंता से मत हों परेशान सरकार ने प्लान किया एक्शन प्लान : टोल फ्री नम्बर से पहुचेगी हर एक मदद बुढ़ापा भले ही सच्चाई हो लेकिन इसके बारे में सोच कर हर किसी के मन में आशंका पैदा होती है | और वजह है अनिश्द्धिता कौन ख्याल रखेगा दवा का इन्तेजाम कैसे होगा इसके साथ साथ सबसे बड़ी चिंता है रहती है सुरक्षा की इसी तरह के ना जाने कितने सवाल होते है लेकिन अब बुढ़ापे को लेकर बिलकुल भी फ़िक्र मंद होने की जरुरत नहीं है | सरकार इसे लेकर एक बड़े प्लान पर काम कर रही है जिसमें बुजुर्गों की देखरेख, खाने पिने, दवा इलाज व सम्पत्ति की सुरक्षा आदि का पूरा ख्याल रखा जायेगा | देश भर में बुजुर्गों का एक डाटा बैंक तैयार किया जा रहा है ताकि उन्हें लेकर योजनाबद्द तरीके से काम किया जा सके | बुज्रुगों को लेकर सरकार का जोर इसलीए भी है क्यूंकि देश में इनकी संख्या तेजी से बढ़ रही है | फिलहाल बुजुर्गों की संख्या में करीब आधे ऐसे है जो गरीबी रेखा के निचे जीवन गुजार रहे है | सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने इसे लेकर एक विस्तृत प्लान तैयार किया है जिसमें बेसहारा बुजुर्गों को रहने – खाने के लिए प्रत्येक जिले में कम से कम एक ओल्ड एज होम बनाया जायेगा जोकि 25 से 50 सीटर होगा | जिसका सञ्चालन स्थानीय प्रशासन की देख रेख में स्वयंसेवी संस्थाएं करेगी | प्रत्येक ओल्ड एज होम में डॉक्टर एवं पैरामेडिकल स्टाफ तैनात किये जायेगे | जो बुजुर्ग अपने घरों में रह रहे है और उनकी देखभाल और सुरक्षा के लिए कोई नहीं है तो ऐसे लोगो तक पहुँचने की व्यवस्था भी बनाई गयी है | यासे बुजुर्गों की भी पहचान की जाएगी जो सक्रिय है और देश के विकास में अपना योगदान देना चाहते है | तो उन्हें मुख्य धारा से जोड़ा जायेगा | इसके तहत उनके स्किल को पहचानकर उनके मन पसंद के काम से जोड़ जायेगा | बुजुर्गों को बेसहारा न छोड़ने की सरकार की इस पहल को माता – पिता की देखभाल से जुड़े कानून के आने से और भी मजबूती मिलेगी | फिलाहल इससे जुड़ा विधायक संसद में लंबित है | इसे विधेयक में माता – पिता की देखभाल न करने पर बच्चो को जेल भी हो सकेगी | बुजुर्गों से जुड़े मामले सुनने के लिए प्रत्येक थाने में एक अलग से इंस्पेक्टर रहेगा |         सरकार द्वारा की जा रही इस प्लानिंग के लिए वरिष्ठ नागरिक महासभा हार्दिक आभार प्रकट करती है जगदीश लाल पाहवा संस्थापक अध्यक्ष वरिष्ठ नागरिक महासभा हरिद्वार


स्वच्छता व सजगता से ही डंेगू से बचाव संभव : अनिरूद्ध भाटी जिलाधिकारी, एमएनए के निर्देश पर क्षेत्रीय पार्षद व सफाई निरीक्षक की उपस्थिति में नगर निगम की टीम ने वार्ड नं. 3 में किया कीटनाशक दवा का छिड़काव व पत्रक वितरित कर क्षेत्रवासियांे को किया जागरूक अनेक स्थानों पर जमा पानी में डेंगू के लार्वा को किया नष्ट हरिद्वार, 23 अगस्त।(विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) जिलाधिकारी के निर्देश पर एमएनए ने नगर निगम के समस्त सफाई निरीक्षकों को अपने-अपने क्षेत्रों को सेनेटाइज कराने, कीटनाशक दवाओं के छिड़काव व डंेगू से बचाव हेतु जागरूकता के लिए सघन अभियान चलाने के निर्देश दिये। इसी के अनुपालन में सफाई निरीक्षक विकास छाछर के संयोजन में वार्ड नं. 3 दुर्गानगर भूपतवाला में क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी ने डेंगू से बचाव हेतु जागरूकता अभियान प्रारम्भ किया। क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि स्वच्छता व सजगता से ही डेंगू से बचाव संभव है। डंेगू फैलाने वाला मच्छर हमेशा साफ पानी में ही पनपता है। अपने घर के आस-पास पानी जमा न होने दे। कूलर, पानी की टंकी, फ्रिज, गमले व टायर आदि में जमा पानी को तुरन्त साफ करंे। कोरोना महामारी में डेंगू जानलेवा साबित हो सकता है। अतः शरीर पर पूरे कपड़े पहनें क्योंकि डंेगू का मच्छर दिन में ही काटता है। अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि क्षेत्रवासियों को जागरूक करने के लिए घर-घर जाकर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव व पत्रक वितरित कर जागरूक करने का कार्य किया जा रहा है। शहर व्यापार मण्डल के कोषाध्यक्ष अमित गुप्ता व सूर्यकान्त शर्मा ने कहा कि विगत कुछ समय से क्षेत्र में डंेगू पांव पसार रहा है, इस अभियान के लिए क्षेत्रीय पार्षद अनिरूद्ध भाटी व नगर निगम की टीम बधाई की पात्र है। समाजसेवी सुरेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि कोरोना महामारी से रक्षा प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से ही हो सकती है। डंेगू हमारी प्रतिरोधक क्षमता को कम करता है। ऐसे में डेंगू से बचाव के लिए निरन्तर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव, साफ-सफाई व जन जागरूकता आवश्यक है। वरिष्ठ भाजपा नेता मुकेश राणा व सुमन बब्बर ने कहा कि वर्तमान में पानी की बाल्टी व बर्तनों को ढककर रखना तथा कूलर को खाली करके सुखाना अत्यन्त आवश्यक है। साफ पानी में ही डेंगू का लार्वा पनपता है। सफाई निरीक्षक विकास छाछर, सफाई नायक सुभाष कुमार के नेतृत्व में नगर निगम की टीम ने मुखिया गली क्षेत्र में सघन छिड़काव कराते हुए अनेक स्थानों पर जमा पानी में पनप रहे लार्वा को नष्ट किया। जागरूकता अभियान के तहत क्षेत्र की समस्त दुकानों व घरों को सेनेटाइज किया गया तथा क्षेत्रवासियों को जागरूक करने के लिए पत्रक वितरित किये गये। इस अवसर पर मुख्य रूप से वार्ड अध्यक्ष नीरज शर्मा, भाजयुमो अध्यक्ष भारत नन्दा, सोनू पंडित, मां गंगा भागीरथी व्यापार मण्डल के अध्यक्ष सूर्यकान्त शर्मा, मुकेश राणा, संजय पाल, विजय पाल, आदित्य यादव, राजेन्द्र यादव, सुरेन्द्रसिंह रावत, किरणपाल प्रजापति, प्रकाश वीर, रूपेश शर्मा, मुकेश राणा, सुमन बब्बर, प्रमोद पाल, नूरहसन, भगत योगेश शास्त्री, राजा सैनी, सोम, पुष्कर उपाध्याय, वैद्य उमेश वेदी, सतीश यादव, सुनील सैनी, संदीप गोस्वामी, अनुपम त्यागी, महंत देवेन्द्र गिरि, विशाल गुप्ता, सचिन शर्मा, आदर्श पाण्डे, हंसराज आहूजा, अजीत पाण्डे, आशु आहूजा, भागीरथ प्रजापति, अम्बूराम प्रजापति, रामदयाल यादव समेत अनेक क्षेत्रवासी उपस्थित रहे।


*ऋषिकेश 23 अगस्त (दीपक पंत) मानव स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं की रोकथाम पर आयोजित हुआ राष्ट्रीय वेबीनार* पंडित ललित मोहन शर्मा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय,ऋषिकेश (श्री देव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय परिसर) के मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी विभाग के द्वारा दिनांक 21 अगस्त 2020 सांय 4 से 6 तक एक राष्ट्रीय वेबीनार आयोजित किया गया, जिसमें मुख्य वक्ता एम्स भटिंडा के प्रो॰ भोला नाथ, व एम्स ऋषिकेश की प्रो सत्यवती राणा रहे। कार्यक्रम की शुरुआत छात्रा वैष्णवी तिवारी के द्वारा सरस्वती वंदना कर की गई, कार्यक्रम के आरंभ में आयोजन सचिव प्रो गुलशन कुमार ढींगरा ने मुख्य वक्ताओं का परिचय दिया व वनस्पति विज्ञान विभाग की प्रभारी प्रो सुषमा गुप्ता ने कार्यक्रम की रूप रेखा पर प्रकाश डाला। महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो सुधा भारद्वाज ने अतिथियों का स्वागत उदबोधन किया व उनका धन्यवाद ज्ञापित किया । पहले सेशन में प्रो भोला नाथ, अडिशनल प्रोफेसर कम्युनिटी मेडिसीन विभाग ने मौसमी बीमारी जैसे डेंगू, मलेरिया से जुड़े पहलू एवं उनकी रोकथाम संबंधित जानकारियाँ साझा की, उन्होंने 2019 में उत्तराखंड के अपने डेंगू पर किये गए रिसर्च के बारे में बताया, उन्होंने बताया कि उत्तराखंड में 2019 में डेंगू से लगभग 10500 लोग प्रभावित हुए थे तथा भारत में यह आंकड़ा लगभग 1 लाख से अधिक था उन्होंने डेंगू के कारक तथा उनके निदान के बारे में बताया जिसमें उन्होंने बरसात में इससे बचने के उपाय के बारे में डेंगू वायरस एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। साथ ही उन्होंने डेंगू के बीमारी के लक्षणों के बारे में विस्तार से चर्चा की उन्होंने बताया कि डेंगू की कोई भी वैक्सीन या दवा नहीं है इसके बचाव के लिए घर में तुलसी, लेमन, पुदीना आदि लगाने से मच्छर को दूर रख सकते हैं। वेबिनार की दूसरी मुख्य वक्ता प्रो०(डॉ०) (श्रीमती) सत्यवती राणा, सीनियर प्रोफ़ेसर, डिपार्टमेंट ऑफ बायोकेमिस्ट्री,एम्स(ऋषिकेश) ने हाइड्रोजन ब्रेथ टेस्ट से बीमारी का पता लगाने के बारे में चर्चा की। उन्होंने बताया कि हाइड्रोजन स्वास टेस्ट से पेट में बैक्टीरियल ग्रोथ का पता लगाते हैं यह मरीजों में लेक्टोज इंट्रोलरेंस को डिटेक्ट करने के लिए करते हैं, कई प्रोटोजोअल बीमारियां जैसे कि अमीबिक डायरिया, जीआरडिया बीमारी में यह महत्वपूर्ण है, उन्होंने बताया कि हमारे खानपान का काफी प्रभाव हमारे शरीर की आंतों पर पर पड़ता है उन्होंने लेक्टोज इंट्रोलरेंस के लक्षणों के बारे में बताया जिसमें मरीज को डायरिया,पेट में दर्द तथा गैस की गंभीर समस्या होती है, यह एक नॉन इन्वेसिस तकनीक है, जिसके जरिए बिना चीरा टांका के सांस के द्वारा जांच की जाती हैं। व्याख्यान के पश्चात प्रतिभागियों द्वारा प्रश्न उत्तर सेशन हुआ जिसका वक्ताओं द्वारा समाधान किया गया, वेबीनार का संचालन ज़ूम ऐप के माध्यम से हुआ, वेबीनार का संचालन पैथोलॉजी की प्रवक्ता सफ़िया हसन के द्वारा किया किया । अंत मे उच्च शिक्षा के भूतपूर्व निदेशक प्रो एन पी माहेश्वरी ने कहा कि यह वेबीनार प्रतिभागियों के लिये अत्यन्त महत्वपूर्ण सिध्द होगा एवं मौसमी रोगों से बचाव के प्रति जागरूकता आएगी। वेबिनार के मुख्य संरक्षक प्रो॰ पी.पी ध्यानी,कुलपति, श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय ने व्यस्त होने के कारण अपना संदेश दिया और वेबिनार के आयोजन के लिए महाविद्यालय व मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी विभाग को शुभकामनाएं दी। अंत मे माइक्रोबायोलॉजी की प्रवक्ता श्रीमती शालिनी कोटियाल, द्वारा सभी वक्ताओ का धन्यवाद ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम संचालन में डॉ अनिल कुमार, अर्जुन पालीवाल, देवेंद्र भट्ट, विवेक राजभर, पवन कुमार, श्रवण दास आदि ने सहयोग दिया।


उत्तम स्वास्थ्य ही सच्चा धन : प्रोफेसर सतपाल सिंह देहरादून, 23 अगस्त। भारत सरकार के फिट इंडिया अभियान के अंतर्गत भारत स्काउट एवं गाइड उत्तराखंड द्वारा प्रदेश के सभी महाविद्यालयों में विभिन्न खेलकूद की गतिविधियां ऑनलाइन सम्पन्न कराने के आदेश के दृष्टिगत राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मालदेवता (रायपुर) देहरादून की रेंजर्स द्वारा साइकिलिंग, जॉगिंग, बैडमिंटन, योगा आदि शारीरिक तौर पर फिट रहने वाली गतिविधियों में भाग लिया जा रहा है तथा विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर, इंस्टाग्राम आदि पर हैशटैग का प्रयोग कर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर सतपाल सिंह साहनी ने रेंजर्स का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि उत्तम स्वास्थ्य ही सच्चा धन है क्योंकि स्वस्थ मनुष्य ही अपने परिवार, देश और समाज के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान दे सकता है। उन्होंने रेंजर्स को प्रेरित करते हुए कहा कि कोविड-19 जैसी महामारी के दौर में आवश्यक सावधानी बरतते हुए वे अपने आस -पास रहने वाले लोगों को इस बारे में जागरूक करने का प्रयास करें। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस से मध्य सितम्बर माह तक चलने वाले इस अभियान के लिए रेंजर लीडर डॉ. सरिता तिवारी के प्रयासों की सराहना की तथा रेंजर्स किरण रौथान, नताशा, आयुषी, संध्या, शीतल नौटियाल, मोनिका आदि को शुभकामना देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।


हरदिल अजीज दोस्त गुरूजी ---------------------------- स्व0 अनिल गुप्ता जी जो अभी 31 जुलाई को हम से हमेशा के लिए बिछड गए। मित्रमंडली में इन्हें गुरूजी कहा जाता है। जिसकी वजह है इनका अध्ययन। गजब के पढ़ाकू हैं, इसीलिए टीचर बन गए। कयी वर्ष प्रायमरी, जूनियर हाई स्कूल मे पढाते रहे फिर पी डब्लू डी में इंजीनियर बने।एक साधारण परिवार में पैदा हुए गुरु जी का जीवन और संघर्ष हमारे लिए आदर्श है, इनकी प्रतिभा कुछ ऐसे दिखती :- पॉलीटेक्निक से सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोेमा, मगर नौकरी के लिए नहीं निकले, जल्द ही भांप गए कि दुनिया की देखादेखी में पॉलीटेक्निक हो गई। अब कुछ अलग करना है, उसके बाद प्राईवेट बीए करने में जुट गए । जिसमें हिंदी, इतिहास और राजनीति शास्त्र विषय के साथ 70 फीसदी अंक पाए। फिर एमए हिंदी प्राईवेट। जिसमें विषयो में एम ए कर के मन नहीं भरा तो मास कम्यूनिकेशन का गूढ़ ज्ञान भी प्राप्त कर लिया।जब भी मिलते कुछ नयी पढाई की बात करते रहते थे। अपनी युवा अवस्था में बच्चों को टयूशन पढा कर आत्मनिर्भर बने रहे गणित के तो वो मास्टर थे। 30 वर्ष के लंबे समय से दोस्त दुःख सुख के साथी काफी साथ में रहना हुआ। लेकिन इन्होंने कभी अपने ज्ञान से हमें आतंकित नहीं किया। बल्कि सहज ढंग से हम जैसे कई हाली मवाली दोस्तों के सूखे दिमागों को सींचते रहे। कई बड़े उद्भट विद्वान भी हैं, कि इधर हमने कुछ लिखने की कोशिश की तो उधर उनका अकादमिक आतंकवाद हमारे खिलाफ खड़ा हो जाता। लेकिन गुरूजी की बात अलग थी - हमारे आत्मबल को बनाए रखने के लिए वे अपने पिटारे से कुछ ना कुछ निकाल लेते हैं। उन्होंने ही बताया कि गुरुनानक और कबीर जैसे संत पढ़े लिखे नहीं थे। लेकिन उनके दर्शन को ही ज्ञान मार्ग कहा जाता है। हालांकि हम ना तो कबीर हो सकते हैं और ना ही गुरूनानक देव, हमें तो बस ज्ञान का‍ वो सिरा पकड़ना है जो हमारे काम का है। तो बस लिखने पढ़ने के काम में सिर घुसाकर सीखते रहने का सूत्र हमें मिल गया। स्वभाव से बेहद शालीन गुरूजी के व्यक्तित्व की कई परतें थी। ये परतें परिस्थितियों के अनुसार खुलती और बंद होती थी । कई किस्से ऐसे हैं जहां गुरूजी पढ़ाकू के साथ आला दर्जे के लड़ाकू भी साबित हुए। इस बात की थाह नहीं ली जा सकती कि गुरू जी कौन सी गलत बात पर क्रोधित हो उठेंगे। लेकिन ऐसा हुआ तो फैसला ऑन दि स्पॉट ही होता है। अक्सर समाज के लिए फिक्रमंद नजर आने वाले गुरूजी कई सामाजिक गतिविधियों में हमारे साथ शामिल रहे। जहां वे नेतृत्व करते नहीं बल्कि चुपचाप मजदूर की तरह जमीनी काम करते नजर आते हैं। पुराने फिल्मीत गीत उनके लिए ऐसे हैं जैसे घाव पर मरहम। कोई बेहतर गाना गुनगुना भर दो तो गुरुजी से आपकी दोस्ती हो जाया करती थी। आप सदैव हमारी स्मृतियो में बने रहेंगे।


(डा0 एस के कुलश्रेष्ठ) *ये कहानी आपके जीने की सोच बदल देगी !* एक दिन एक किसान का बैल कुएँ में गिर गया। वह बैल घंटों ज़ोर -ज़ोर से रोता रहा और किसान सुनता रहा और विचार करता रहा कि उसे क्या करना चाहिऐ और क्या नहीं। अंततः उसने निर्णय लिया कि चूंकि बैल काफी बूढा हो चूका था अतः उसे बचाने से कोई लाभ होने वाला नहीं था और इसलिए उसे कुएँ में ही दफना देना चाहिऐ।। किसान ने अपने सभी पड़ोसियों को मदद के लिए बुलाया सभी ने एक-एक फावड़ा पकड़ा और कुएँ में मिट्टी डालनी शुरू कर दी। जैसे ही बैल कि समझ में आया कि यह क्या हो रहा है वह और ज़ोर-ज़ोर से चीख़ चीख़ कर रोने लगा और फिर ,अचानक वह आश्चर्यजनक रुप से शांत हो गया। सब लोग चुपचाप कुएँ में मिट्टी डालते रहे तभी किसान ने कुएँ में झाँका तो वह आश्चर्य से सन्न रह गया.. अपनी पीठ पर पड़ने वाले हर फावड़े की मिट्टी के साथ वह बैल एक आश्चर्यजनक हरकत कर रहा था वह हिल-हिल कर उस मिट्टी को नीचे गिरा देता था और फिर एक कदम बढ़ाकर उस पर चढ़ जाता था। जैसे-जैसे किसान तथा उसके पड़ोसी उस पर फावड़ों से मिट्टी गिराते वैसे -वैसे वह हिल-हिल कर उस मिट्टी को गिरा देता और एक सीढी ऊपर चढ़ आता जल्दी ही सबको आश्चर्यचकित करते हुए वह बैल कुएँ के किनारे पर पहुंच गया और फिर कूदकर बाहर भाग गया । ध्यान रखे आपके जीवन में भी बहुत तरह से मिट्टी फेंकी जायेगी बहुत तरह की गंदगी आप पर गिरेगी जैसे कि , आपको आगे बढ़ने से रोकने के लिए कोई बेकार में ही आपकी आलोचना करेगा कोई आपकी सफलता से ईर्ष्या के कारण आपको बेकार में ही भला बुरा कहेगा कोई आपसे आगे निकलने के लिए ऐसे रास्ते अपनाता हुआ दिखेगा जो आपके आदर्शों के विरुद्ध होंगे... ऐसे में आपको हतोत्साहित हो कर कुएँ में ही नहीं पड़े रहना है बल्कि साहस के साथ हर तरह की गंदगी को गिरा देना है और उससे सीख ले कर उसे सीढ़ी बनाकर बिना अपने आदर्शों का त्याग किये अपने कदमों को आगे बढ़ाते जाना है। सकारात्मक रहे.. सकारात्मक जिए! इस संसार में.... सबसे बड़ी सम्पत्ति *"बुद्धि "* सबसे अच्छा हथियार *"धैर्य"* सबसे अच्छी सुरक्षा *"विश्वास"* सबसे बढ़िया दवा *"हँसी"* है और आश्चर्य की बात कि *"ये सब निशुल्क हैं "* सोच बदलो जिंदगी बदल जायेगी — 💪


रूडकी 22 अगस्त (अनिल लोहानी संवाददाता गोविंद कृपा रूडकी) पार्षद की सकारात्मक पहल और जन सहयोग से हो रहा है हो रहा है वार्ड न0 10 की समस्याओं का समाधान, सोच सकारात्मक हो तो उसके परिणाम भी अच्छे होते हैं इसका एक उदाहरण नगर निगम क्षेत्र के वार्ड नंबर 10 के निगम पार्षद प्रमोद पाल एवं क्षेत्र के गणमान्य व्यक्तियों के मध्य वैचारिक एवं सकारात्मक सोच के कारण आज 400 केवीए का ट्रांसफार्मर लगाया गया जिससे काफी वर्षों से चली आ रही बिजली से संबंधित परेशानियों से निजात मिली वार्ड नंबर 10 में कुछ दिन पूर्व ही गहरा नाला की खुदाई करके काफी हद तक पानी की समस्या से छुटकारा मिला उसके पश्चात ट्रांसफार्मर के लगने से सोने पर सुहागा हो गया यह सब यहां की जनता के आपसी सहयोग के कारण ही संभव हो सका क्षेत्र के प्रत्येक व्यक्ति ने अपने स्तर पर इन सब कार्यों को कराने के लिए प्रयास किया जिसके परिणाम स्वरूप पार्षद प्रमोद पाल जी को सही दिशा प्रदान करने में ज्यादा कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ा उपरोक्त कार्यो को कराने मे लोमस ऋषि मुकेश पाल राजेंद्र पाल ठाकुर संजय सिंह ध्रुव गुज्जर राजपाल बृजेश त्यागी फौजी एवं बिजली विभाग के अधिकारियों का सहयोग सराहनीय हैं


अपरिग्रह और वैराग्य की प्रतिमूर्ति परम पूज्य डोगरे जी महाराज ,पत्नी की अस्थियां प्रवाहित करने के लिए भी पैसे नहीं थे ##कथा वक्ताओं के प्रेरणा स्रोत####संपूर्ण भारत वर्ष में कथावाचक के रूप में ख्याति अर्जित कर चुके डोंगरेजी महाराज एकमात्र ऐसे कथावाचक थे जो दान का रूपया अपने पास नही रखते थे और न ही लेते थे। जिस जगह कथा होती थी लाखों रुपये उसी नगर के किसी सामाजिक कार्य के लिए दान कर दिया करते थे। उनके अन्तिम प्रवचन में गोरखपुर में कैंसर अस्पताल के लिये एक करोड़ रुपये उनके चौपाटी पर जमा हुए थे। उनकी पत्नी आबू में रहती थीं। पत्नी की मृत्यु के पांचवें दिन उन्हें खबर लगी । बाद में वे अस्थियां लेकर गोदावरी में विसर्जित करने मुम्बई के सबसे बड़े धनाढ्य व्यक्ति रति भाई पटेल के साथ गये। नासिक में डोंगरेजी ने रतिभाई से कहा कि रति हमारे पास तो कुछ है ही नही, और इनका अस्थि विसर्जन करना है। कुछ तो लगेगा ही क्या करें ? फिर खुद ही बोले - "ऐसा करो कि इसका जो मंगलसूत्र एवं कर्णफूल हैं, इन्हे बेचकर जो रूपये मिले उन्हें अस्थि विसर्जन में लगा देते हैं।" इस बात को अपने लोगों को बताते हुए कई बार रोते - रोते रति भाई ने कहा कि "जिस समय यह सुना हम जीवित कैसे रह गये, बस हमारा हार्ट फैल नही हुआ।" हम आपसे कह नहीं सकते, कि हमारा क्या हाल था। जिन महाराजश्री के इशारे पर लोग कुछ भी करने को तैयार रहते हैं, वह महापुरूष कह रहे हैं कि पत्नी के अस्थि विसर्जन के लिये पैसे नही हैं और हम खड़े-खड़े सुन रहे थे ? फूट-फूट कर रोने के अलावा एक भी शब्द मुहँ से नही निकल रहा था। ऐसे वैराग्यवान और तपस्वी संत-महात्माओं के बल पर ही सनातन धर्म की प्रतिष्ठा है।


सीवर कार्य में अनियमितता नहीं की जायेगी बर्दाश्त: अनिरूद्ध भाटी खड़खड़ी क्षेत्र में सीवर कार्य लेट-लतीफे से होने से क्षेत्रवासी बेहाल पार्षद अनिरूद्ध भाटी, युवा भाजपा नेता दीपांशु विद्यार्थी ने अधिकारियों से वार्ता कर कराया कार्य प्रारम्भ आक्रोशित क्षेत्रवासियों ने अधिकारियों व ठेकेदार को जमकर लगायी लताड़ हरिद्वार, 22 अगस्त। (विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) कुम्भ मेला योजना के अन्तर्गत खड़खड़ी क्षेत्र में सीवर डालने का कार्य 5 जून को प्रारम्भ किया गया था। अधिकारियों की हठधर्मिता व ठेकेदार की लापरवाही के चलते मात्र कृष्णा गली में ही सीवर लाईन डल पायी है। कुंज गली व बसंत गली में अभी तक सीवर लाईन का कार्य गति नहीं पकड़ गया है। विगत दो माह से बसंत गली में ठेकेदार ने अनियमित तरीके से गली में खुदाई कर दी थी तथा सीवर डालने का कार्य अधूरा पड़ा था तथा खुदाई किये हुए गड्ढा वर्षा के चलते तालाब बन गये थे जिस कारण क्षेत्रवासियों में गहरा आक्रोश व्याप्त हो गया था। आज आक्रोशित क्षेत्रवासियों ने मण्डल अध्यक्ष वीरेन्द्र तिवारी, पूर्व मण्डल अध्यक्ष पार्षद अनिरूद्ध भाटी, युवा भाजपा नेता दीपांशु विद्यार्थी के नेतृत्व में गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारियों से इस संदर्भ में वार्ता करते हुए उनके पेंच कसे तथा ठेकेदार को जमकर लताड़ लगायी। पार्षद अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि प्रदेश सरकार जहां हरिद्वार के समग्र विकास को समर्पित है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक तीर्थनगरी के विकास के लिए अवस्थापना कार्यों को धरातल पर उतारने का काम कर रहे हैं। वहीं गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारियों की लापरवाही व ठेकेदार की हठधर्मिता के चलते बसंत गली, कुंज गली के नागरिक दो महीने से बेहाल स्थिति में हैं। उन्हें अपने वाहन भी सड़क पर ही खड़े करने पड़ रहे हैं। युवा भाजपा नेता दीपांशु विद्यार्थी ने कहा कि ठेकेदार की लापरवाही जानलेवा साबित हो रही है। गली के अनेक बच्चे व बुर्जुग गड्ढ़ों में गिरकर चोटिल हो रहे हैं। गड्ढों में भरा सीवर का पानी डेंगू व मलेरिया को दावत दे रहा है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। भाजपा मण्डल अध्यक्ष वीरेन्द्र तिवारी ने कहा कि गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के उच्चाधिकारियों से इस संदर्भ में वार्ता की गयी है। यदि ठेकेदार ने एक सप्ताह में सीवर लाईन डालने का कार्य पूर्ण नहीं किया तो उसके खिलाफ व सम्बन्धित अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करायी जायेगी। मण्डल महामंत्री तरूण नैयर ने कहा कि विकास कार्यों में अधिकारी व ठेकेदार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। एसडीओ राकेश चौहान व ठेकेदार ने लिखित आश्वासन दिया कि वह 2 सितम्बर तक सीवर लाईन का कार्य पूर्ण करेंगे तथा गड्ढों को तुरन्त भरवाने का कार्य किया जायेगा। भाजपा नेताओं के अधिकारियों से वार्त करने के पश्चात ठेकेदार ने तेजी से कार्य प्रारम्भ करा दिया। इस अवसर पर डॉ. प्रदीप सतलेवाल, स्वामी प्रेमानन्द, विवेक सतलेवाल, केके सतलेवाल, स्वामी सच्चिदानन्द, सर्वेश्वर मूर्ति भट्ट, दीपकनाथ गोस्वामी, हरीश शर्मा, विनोद गिरि, रूपेश शर्मा, रमाकान्त शर्मा, अनुज गुप्ता समेत अनेक क्षेत्रवासी उपस्थित रहे।


एनसीसी का समाज में होता है अलग महत्व : डॉ. सतेन्द्र कुमार प्रचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज ने एनसीसी कैडेट्स को प्रमाण पत्र देकर किया सम्मानित हरिद्वार, 22 अगस्त।(दीपक पंत संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश) एक भारत-श्रेष्ठ भारत ऑनलाइन एनआईसी कैम्प के सफल आयोजन के पश्चात ऋषिकेश महाविद्यालय की प्रचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज ने ऑनलाइन एनआईसी कैम्प में प्रतिभाग करने वाले सभी कैडेट्स को उच्च प्रदर्शन के लिए महाविद्यालय कैम्पस में प्रमाण पत्र व मेडल देकर सम्मानित किया गया जिसमें थल सैनिक कैम्प कर लौटे पांच एनसीसी कैडेट्स योगेश, जतिन, संतोषी, मनीषा और आशुतोष को भी सम्मानित किया गया है। इसके साथ ही एनसीसी के कैप्टेन डॉ. सतेंद्र कुमार को भी कैम्प के सफल आयोजन के लिये प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। प्राचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज ने कहा कि सभी कैडेट्स प्रधानमंत्री जी के कार्यक्रम फिट इंडिया के लिए भी सभी को सोशल मीडिया के माध्यम से जाग्रत करने हेतु जागरूकता अभियान चला रहे हैं जिसके लिए वे सभी बधाई के पात्र हैं। इस अवसर पर एनसीसी के कैप्टेन डॉ. सतेंद्र कुमार ने सभी कैडेट्स को सम्बोधित करते हुए कहा कि एनसीसी का समाज में अलग महत्व होता है। प्राकृतिक आपदा, चिकित्सा, पल्स पोलियो जैसे राष्ट्रीय कार्यक्रम में एनसीसी के कैडेट्स महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे हैं। उन्होंने कहा कि एनसीसी छात्रों के बीच भाईचारा बढ़ाता है और आपसी भेदभाव को समाप्त करता है। जो छात्र एनसीसी की ट्रेनिंग पूरी कर लेते हैं, वह निश्चित ही सफलता प्राप्त करते हैं। इस दौरान एनसीसी कैडेट्स योगेश, इशिका, आशीष, आयुष, ममता, हिमांशु, मंजीत, साक्षी आदि उपस्थित रहे।


'जब तक सिंधु नदी भारत के ध्वज के नीचे से न बहे, तब तक मेरी अस्थियां प्रवाहित मत करना :-नाथू राम गौडसे 🙏🙏🙏🙏 गोडसे की जन्म तिथि पर मानव कल्याण आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी दुर्गेशा नंद जी महाराज की वाल से साभार। वर्षों बाद किसी कवि ने दबे सच को फिर से उजागर करने की कोशिश की है ! यह कविता आज सुबह से सोशल मीडिया पर भारी संख्या में शेयर की जा रही हैं ! 🙏🙏 🇮🇳 🙏🙏 _______________________ माना गांधी ने कष्ट सहे थे, अपनी पूरी निष्ठा से। और भारत प्रख्यात हुआ है, उनकी अमर प्रतिष्ठा से ॥ किन्तु अहिंसा सत्य कभी, अपनों पर ही ठन जाता है। घी और शहद अमृत हैं पर, मिलकर के विष बन जाता है।। अपने सारे निर्णय हम पर, थोप रहे थे गांधी जी। तुष्टिकरण के खूनी खंजर, घोंप रहे थे गांधी जी ॥ महाक्रांति का हर नायक तो, उनके लिए खिलौना था । उनके हठ के आगे, जम्बूदीप भी बौना था ॥ इसीलिये भारत अखण्ड, अखण्ड भारत का दौर गया। भारत से पंजाब, सिंध, रावलपिंडी, लाहौर गया॥ तब जाकर के सफल हुए, जालिम जिन्ना के मंसूबे । गांधी जी अपनी जिद में, पूरे भारत को ले डूबे ॥ भारत के इतिहासकार, थे चाटुकार दरबारों में । अपना सब कुछ बेच चुके थे, नेहरू के परिवारों में ॥ भारत का सच लिख पाना, था उनके बस की बात नहीं। वैसे भी सूरज को लिख पाना, जुगनू की औकात नहीं ॥ आजादी का श्रेय नहीं है, गांधी के आंदोलन को । इन यज्ञों का हव्य बनाया, शेखर ने पिस्टल गन को ॥ जो जिन्ना जैसे राक्षस से, मिलने जुलने जाते थे । जिनके कपड़े लन्दन, पेरिस, दुबई में धुलने जाते थे ॥ कायरता का नशा दिया है, गांधी के पैमाने ने । भारत को बर्बाद किया, नेहरू के राजघराने ने ॥ हिन्दू अरमानों की जलती, एक चिता थे गांधी जी । कौरव का साथ निभाने वाले, भीष्म पिता थे गांधी जी ॥ अपनी शर्तों पर इरविन तक, को भी झुकवा सकते थे । भगत सिंह की फांसी को, दो पल में रुकवा सकते थे।। मन्दिर में पढ़कर कुरान, वो विश्व विजेता बने रहे । ऐसा करके मुस्लिम जन, मानस के नेता बने रहे ॥ एक नवल गौरव गढ़ने की, हिम्मत तो करते बापू । मस्जिद में गीता पढ़ने की, हिम्मत तो करते बापू ॥ रेलों में, हिन्दू काट-काट कर, भेज रहे थे पाकिस्तानी । टोपी के लिए दुखी थे वे, पर चोटी की एक नहीं मानी॥ मानों फूलों के प्रति ममता, खतम हो गई माली में । गांधी जी दंगों में बैठे थे, छिपकर नोवा खाली में॥ तीन दिवस में *श्री राम* का, धीरज संयम टूट गया । सौवीं गाली सुन कान्हा का, चक्र हाथ से छूट गया॥ गांधी जी की पाक परस्ती पर, जब भारत लाचार हुआ । तब जाकर नाथू, बापू वध को मज़बूर हुआ॥ गये सभा में गांधी जी, करने अंतिम प्रणाम। ऐसी गोली मारी गांधी को, याद आ गए *श्री राम*॥ मूक अहिंसा के कारण ही, भारत का आँचल फट जाता । गांधी जीवित होते तो, फिर देश, दुबारा बंट जाता॥ थक गए हैं हम प्रखर सत्य की, अर्थी को ढोते ढोते । कितना अच्छा होता जो, *नेता जी राष्ट्रपिता* होते॥ नाथू को फाँसी लटकाकर, गांधी जी को न्याय मिला । और मेरी भारत माँ को, बंटवारे का अध्याय मिला॥ लेकिन जब भी कोई भीष्म, कौरव का साथ निभाएगा । तब तब कोई अर्जुन रण में, उन पर तीर चलाएगा॥ अगर गोडसे की गोली, उतरी ना होती सीने में। तो हर हिन्दू पढ़ता नमाज, फिर मक्का और मदीने में॥ भारत की बिखरी भूमि, अब तक समाहित नहीं हुई । नाथू की रखी अस्थि, अब तक प्रवाहित नहीं हुई॥ *इससे पहले अस्थिकलश को,* *सिंधु सागर की लहरें सींचे।* *पूरा पाक समाहित कर लो,* *इस भगवा झंडे के नीचें ॥* _______________________ (भारत के इस सत्य इतिहास को प्रसारित करने के लिए शेयर अवश्य करें) 🙏🙏 🇮🇳 🇮🇳 🙏🙏


वॉइस ऑफ हेल्दी नेशन संस्था द्वारा आज पर्यावरण के संरक्षण व वायु में प्रदूषण में कमी लाने के साप्ताहिक जागरूकता साइकिल यात्रा अभियान पिछले लगभग 4 माह से इस विचार के जनक विमल कुमार पूर्व सदस्य राज्य योजना आयोग उत्तराखंड के प्रयासों से निरंतर चलाया जा रहा है धीरे धीरे इस अभियान से नगर के सभी वर्गों के समाजिक लोग जुड़गए है सभी लोग अपने जीवन में नित्य पेट्रोल व डीज़ल आधारित वाहन का प्रयोग कम करने लगे है साइकिल अथवा पैदल या सार्वजनिक वाहन का प्रयोग का चलन बड़ा है आज संस्था के समस्त कार्यकर्ता डॉ जितेंद्र सिंह व अनिल गुप्ता के नेतृत्व में प्रेम नगर आश्रम घाट से प्रातः 6.30बजे जनजागरण अभियान आरम्भ किया सभी साथी साइकिल द्वारा गंगा पटरी होते हुए मालवीय चौक चंद्राचार्य चौक होते हुए योगी विहार कॉलोनी में श्री विकास गुलाटी के आवास तक पहुँचे वहाँ यात्रा का समापन किया गया आज के जन जागरण कार्यक्रम की समाप्ति पर समस्त कार्यकर्ताओं ने प्रण लिया की वह पौधारोपण करेंगे व प्लास्टिक का कम से कम उपयोग करेंगे तथा शहर के समस्त जनता को इसके लिए जागरूक करेंगे आज की इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से परमानंद पॉपली डॉ संदीप कपूर मनमोहन गुलाटी अनूप कुमार नरेश मनचंदा मनोज अग्रवाल नीलू खन्ना रमेश उपाध्याय संजीव मेहता गौरव अरोड़ा अनूप कुमार दीपक गुप्ता सुदीप बनर्जी डॉ हिमांशु पंडित आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे यह अभियान निरंतर चलता रहेगा हरिद्वार के वायुमंडल में से विषैली वायु में कमी लाकर शुद्ध वायु का संचार हो इस अभियान का यह मुख्य उद्देश्य है विमल कुमार


युद्ध कँहा तक टाला जाय, फेंक जँहा तक भाला जाऐ । महाराणा प्रताप के बारे में कुछ रोचक जानकारी:- 1... महाराणा प्रताप एक ही झटके में घोड़े समेत दुश्मन सैनिक को काट डालते थे। 2.... जब इब्राहिम लिंकन भारत दौरे पर आ रहे थे । तब उन्होने अपनी माँ से पूछा कि- हिंदुस्तान से आपके लिए क्या लेकर आए ? तब माँ का जवाब मिला- ”उस महान देश की वीर भूमि हल्दी घाटी से एक मुट्ठी धूल लेकर आना, जहाँ का राजा अपनी प्रजा के प्रति इतना वफ़ादार था कि उसने आधे हिंदुस्तान के बदले अपनी मातृभूमि को चुना ।” लेकिन बदकिस्मती से उनका वो दौरा रद्द हो गया था | “बुक ऑफ़ प्रेसिडेंट यु एस ए ‘ किताब में आप यह बात पढ़ सकते हैं | 3.... महाराणा प्रताप के भाले का वजन 80 किलोग्राम था और कवच का वजन भी 80 किलोग्राम ही था| कवच, भाला, ढाल, और हाथ में तलवार का वजन मिलाएं तो कुल वजन 207 किलो था। 4.... आज भी महाराणा प्रताप की तलवार कवच आदि सामान उदयपुर राज घराने के संग्रहालय में सुरक्षित हैं | 5.... अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते है, तो आधा हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे, पर बादशाहत अकबर की ही रहेगी| लेकिन महाराणा प्रताप ने किसी की भी अधीनता स्वीकार करने से मना कर दिया | 6.... हल्दी घाटी की लड़ाई में मेवाड़ से 20000 सैनिक थे और अकबर की ओर से 85000 सैनिक युद्ध में सम्मिलित हुए | 7.... महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक का मंदिर भी बना हुआ है, जो आज भी हल्दी घाटी में सुरक्षित है | 8.... महाराणा प्रताप ने जब महलों का त्याग किया तब उनके साथ लुहार जाति के हजारो लोगों ने भी घर छोड़ा और दिन रात राणा कि फौज के लिए तलवारें बनाईं | इसी समाज को आज गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान में गाढ़िया लोहार कहा जाता है| मैं नमन करता हूँ ऐसे लोगो को | 9.... हल्दी घाटी के युद्ध के 300 साल बाद भी वहाँ जमीनों में तलवारें पाई गई। आखिरी बार तलवारों का जखीरा 1985 में हल्दी घाटी में मिला था | 10..... महाराणा प्रताप को शस्त्रास्त्र की शिक्षा "श्री जैमल मेड़तिया जी" ने दी थी, जो 8000 राजपूत वीरों को लेकर 60000 मुसलमानों से लड़े थे। उस युद्ध में 48000 मारे गए थे । जिनमे 8000 राजपूत और 40000 मुग़ल थे | 11.... महाराणा के देहांत पर अकबर भी रो पड़ा था | 12.... मेवाड़ के आदिवासी भील समाज ने हल्दी घाटी में अकबर की फौज को अपने तीरो से रौंद डाला था । वो महाराणा प्रताप को अपना बेटा मानते थे और राणा बिना भेदभाव के उन के साथ रहते थे । आज भी मेवाड़ के राजचिन्ह पर एक तरफ राजपूत हैं, तो दूसरी तरफ भील | 13..... महाराणा प्रताप का घोड़ा चेतक महाराणा को 26 फीट का दरिया पार करने के बाद वीर गति को प्राप्त हुआ | उसकी एक टांग टूटने के बाद भी वह दरिया पार कर गया। जहाँ वो घायल हुआ वहां आज खोड़ी इमली नाम का पेड़ है, जहाँ पर चेतक की मृत्यु हुई वहाँ चेतक मंदिर है | 14..... राणा का घोड़ा चेतक भी बहुत ताकतवर था उसके मुँह के आगे दुश्मन के हाथियों को भ्रमित करने के लिए हाथी की सूंड लगाई जाती थी । यह हेतक और चेतक नाम के दो घोड़े थे| 15..... मरने से पहले महाराणा प्रताप ने अपना खोया हुआ 85 % मेवाड फिर से जीत लिया था । सोने चांदी और महलो को छोड़कर वो 20 साल मेवाड़ के जंगलो में घूमे । 16.... महाराणा प्रताप का वजन 110 किलो और लम्बाई 7’5” थी, दो म्यान वाली तलवार और 80 किलो का भाला रखते थे हाथ में। महाराणा प्रताप के हाथी की कहानी: मित्रो, आप सब ने महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन उनका एक हाथी भी था। जिसका नाम था रामप्रसाद। उसके बारे में आपको कुछ बाते बताता हुँ। रामप्रसाद हाथी का उल्लेख अल- बदायुनी, जो मुगलों की ओर से हल्दीघाटी के युद्ध में लड़ा था ने अपने एक ग्रन्थ में किया है। वो लिखता है की- जब महाराणा प्रताप पर अकबर ने चढाई की थी, तब उसने दो चीजो को ही बंदी बनाने की मांग की थी । एक तो खुद महाराणा और दूसरा उनका हाथी रामप्रसाद। आगे अल बदायुनी लिखता है की- वो हाथी इतना समझदार व ताकतवर था की उसने हल्दीघाटी के युद्ध में अकेले ही अकबर के 13 हाथियों को मार गिराया था । वो आगे लिखता है कि- उस हाथी को पकड़ने के लिए हमने 7 बड़े हाथियों का एक चक्रव्यूह बनाया और उन पर14 महावतो को बिठाया, तब कहीं जाकर उसे बंदी बना पाये। अब सुनिए एक भारतीय जानवर की स्वामी भक्ति। उस हाथी को अकबर के समक्ष पेश किया गया । जहा अकबर ने उसका नाम पीरप्रसाद रखा। रामप्रसाद को मुगलों ने गन्ने और पानी दिया। पर उस स्वामिभक्त हाथी ने 18 दिन तक मुगलों का न तो दाना खाया और न ही पानी पिया और वो बलिदान हो गया। तब अकबर ने कहा था कि- जिसके हाथी को मैं अपने सामने नहीं झुका पाया, उस महाराणा प्रताप को क्या झुका पाउँगा.? इसलिए मित्रो हमेशा अपने भारतीय होने पे गर्व करो साभार


निंदा करने वालो की ओर ध्यान देना छोड़ दो, कौआ एकमात्र ऐसा पक्षी है, जो बाज़ पर चोंच मारने की हिम्मत करता है, वह बाज़ की पीठ पर बैठता है और उसकी गर्दन पर काटता है, लेकिन बाज़ उसे कोई जवाब नहीं देता और न ही कौआ से लड़ता है तथा न ही कौआ पर अपना समय बर्बाद करता है। बस अपने पंख खोलता है और आकाश में ऊँचा उठना शुरू कर देता है। उड़ान जितनी ऊँची होती जाती है, उतना ही मुश्किल होता है कौए का ऊपर साँस ले पाना। और फिर, आक्सीजन की कमी के कारण कौआ नीचे भूमि पर गिर जाता है....!!! आज तक जिस कौए ने ऐसा किया, अनिवार्य रूप से उसका हश्र यही हुआ। कौए की यही नियति है क्योंकि वह अपने को बदलना नहीं चाहता। आप भी अपने आस-पास मौजूद ऐसी प्रवृत्ति वाले व्यक्तियों के साथ अपना समय बर्बाद करना बन्द करो, बस खुद ऊंचाइयों पर चढ़ते चले जाओ। एक गम्भीर साधक की भांति अपने कार्य में निमग्न रहो। वे अपना मजाक खुद बनवाएंगे और एक दिन नीचे गिरकर कौए की भाँति मिट जाएंगे !! साभार :


कल चन्द्र दर्शन ठीक नहीं है ।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।यू तो चंद्रमा का दर्शन हमेशा ही सुख प्रदान करता है। कई महत्व पूर्ण व्रत चंद्रमा को देख कर ही खोल जाते है। परन्तु पूरे वर्ष में एक दिन ऐसा होता है कि चन्द्र दर्शन निषिद्ध होता है। यदि कोई इस दिन चंद्रमा के दर्शन करता है तो उसके ऊपर लांछन लगना तय होता है।उसके ऊपर झूठे आरोप लग जाते है। भगवान कृष्ण ने इस दिन चंद्रमा का दर्शन किया था तो स्मनतक मणि को चुराने का झूठा आरोप उन पर भी लगा था।। ये दिन होता है भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी, इस दिन चन्द्र दर्शन ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से। निषिद्ध है। गणपति के शरीर को देखकर चन्द्रमा को हंसी आ गई तो गणपति ने कहा कि आज से जो भी तुम्हारा दर्शन करेगा वो झूठा आरोप सहेगा। चंद्रमा की अनुनय , विनय ने उन्होंने इस श्राप को एक दिन के लिए बांध दिया। इसी दिन सिद्धिविनायक गणेश का जन्म हुआ इशी दिन ये श्राप लगता है। वैसे भी गणेश बुद्धि के प्रतीक है चंद्रमा मन का। दोनों में दोस्ती नहीं हो सकती। इसका मतलब ये भी है कि जब बुद्धि का जन्म होता है तो मन को नहीं देखना चाहिए। आने वाली 22ऑगेस्ट को ये दिन होगा। आप सभी गोरी पुत्र गणेश का उत्सव मनाएं। अभिषेक करें दूर्वा से पूजा करे। लड्डू का भोग लगाएं। हस्त नक्षत्र चंद्रमा का प्रिय है। इस दिन यदि आकाश गंगा से आने वाले जल से भगवान गणेश का अभिषेक किया जाए तो रिधि सिद्धी घर में निवास करती है।.. क्योंकि गणेश की उत्पति माता पार्वती के द्वारा हुई है। मा ने अपने शरीर के द्वारा इनकी उत्पति की थी आकाश गंगा में मा पार्वती का नित्य निवास है। वहीं से आए हुए जल गणेश का बहुत प्रिय है.....प्रतीक मिश्र, भारतीय प्राच विधा सोसाइटी, कनखल, हरिद्वार


मानकों को ताक पर रख शहर में खुदाई कर रही है जिओ कम्पनी : अनिरूद्ध भाटी भाजपा पार्षदों व कार्यकर्त्ताओं ने देर रात्रि बिना अनुमति के खुदाई कर रहे जिओ कम्पनी के कार्य को बंद करवाकर कोतवाली में तहरीर देकर की कार्रवाई की मांग हरिद्वार, 21 अगस्त। (विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) नगर निगम की अनुमति से ज्यादा शहर की सड़कों की खुदाई कर रही जिओ कम्पनी की कार्यशैली से आक्रोशित भाजपा पार्षदों व कार्यकर्त्ताओं ने देर रात्रि शहर में अनेक स्थानों पर कार्य रूकवाकर कोतवाली में तहरीर देकर जिओ कम्पनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। पूर्व मण्डल अध्यक्ष पार्षद अनिरूद्ध भाटी ने कोतवाली में तहरीर देते हुए कहा कि जिओ कम्पनी ने नगर निगम व अन्य विभागों से अपनी लाईन डालने के लिए जितनी खुदाई की अनुमति ली थी उससे कहीं किमी ज्यादा खुदाई शहर में कर दी है। वर्षाकाल के चलते मानकों को ताक पर रखकर जिओ कम्पनी द्वारा की जा रही खुदाई के चलते हरिद्वार की सड़कें जानलेवा साबित हो रही हैं। अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि भाजपा पार्षदों की मांग के बावजूद मेयर जिओ कम्पनी के साथ अपने पति को बैठाकर बंद कमरे में गुपचुप बातचीत कर रही है इससे साबित होता है कि जिओ कम्पनी के क्रियाकलापों को मेयर का मौन समर्थन प्राप्त है। पार्षद अनिल वशिष्ठ व विकास कुमार विक्की ने कहा कि नगर निगम में भूमिगत विद्युत लाईन व गैस लाईन का कार्य चल रहा है, ऐसे में जिओ कम्पनी द्वारा अनुमति से अधिक खुदाई कर शहर की सड़कों को गड्ढ़ों में तब्दील कर दिया गया है। जिओ कम्पनी को मिली विभागीय अनुमति की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। युवा नेता किशन बजाज व विदित शर्मा ने कहा कि मेयर व मेयरपति की शह पर जिओ कम्पनी मानकों की अनदेखी करते हुए रात्रि में चोरी से खुदाई का कार्य कर रही है जिसे भाजपा कार्यकर्त्ता कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। युवा भाजपा नेता दीपांशु विद्यार्थी व गौरव भारद्वाज ने कहा कि शहर की जनता गंदगी व बदहाल पथ प्रकाश व्यवस्था से पहले ही परेशान है ऐसे में मेयर ने नगर निगम बोर्ड की अनदेखी कर जिओ कम्पनी को सड़क की खुदाई की अनुमति देकर नगर निगम को राजस्व की हानि पहुंचाने का कार्य किया है। भाजपा पार्षदों व कार्यकर्त्ताओं ने देर रात्रि कोतवाली में तहरीर देकर जिओ कम्पनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। इस अवसर पर दीपांशु विद्यार्थी, विदित शर्मा, दीपक टण्डन, गौरव भारद्वाज, संगीत मदान, शिवम ठाकुर, चन्द्रकांत पाण्डेय, गौरव सचदेवा समेत अनेक भाजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित रहे।


"ऋषि केश 20 अगस्त (दीपक पंत संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश) महाविद्यालय में आयोजित होगा मानव स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं की रोकथाम पर राष्ट्रीय वेबीनार" पंडित ललित मोहन शर्मा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय,ऋषिकेश (श्री देव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय परिसर) के मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी विभाग के तत्वाधान आगामी शुक्रवार दिनांक 21 अगस्त 2020 को राष्ट्रीय वेबीनार आयोजित किया जा रहा है जिसमें प्रो॰ भोला नाथ, एम्स (भटिंडा) मौसमी बीमारी डेंगू से जुड़े तथ्य एवं रोकथाम संबंधित जानकारियाँ प्रतिभागियों के साथ साझा करेंगे| वर्तमान में प्रो॰ भोला नाथ अकादमिक समन्वयक एवं वॉइस डीन एग्जामिनेशन,एम्स (भटिंडा) के पद पर कार्यरत हैं। साथ ही वह इंडियन जरनल ऑफ फोरेंसिक मेडिसिन एंड कम्युनिटी मेडिसिन एवं जरनल ऑफ़ प्रिवेंटिव मेडिसिन एंड हॉलिस्टिक हैल्थ (नई दिल्ली) के मुख्य संपादक, जरनल ऑफ फैमिली मेडिसिन फोरकास्ट के संपादक तथा विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय प्रकाशकों के संपादकीय बोर्ड के सदस्य के रूप में अपना सहयोग देते रहे हैं। प्रो॰ भोला नाथ पूर्व में सरकारी दून मेडिकल कॉलेज (देहरादून) के प्रोफ़ेसर एवं हैड भी रह चुके हैं। वह बुलेटिन ऑफ वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन, यूरोपियन जरनल ऑफ पब्लिक हेल्थ, एशिया पेसिफिक जरनल ऑफ पब्लिक हेल्थ, इमरजेंसी मेडिसिन जरनल, इंटरनेशनल जरनल ऑफ एपिडेमियोलॉजी तथा इंडियन जरनल ऑफ कम्युनिटी हेल्थ के रिव्युअर भी हैं। उन्होंने देश के कई प्रतिष्ठित संस्थान जैसे आई.सी.एम.आर. एवं यूकॉस्ट कि कई परियोजनाओं पर काम किया है। उनके अनेक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं मे शोध पत्र प्रकाशित हैं और वह कई उत्कृष्ट पुस्तक एवं अध्यायों के लेखक भी हैं। दिनांक 2 जून 2018 मे उन्हें उत्कृष्ट कार्यों के लिए राष्ट्रीय गौरव अवार्ड से सम्मानित किया गया। वेबिनार की दूसरी मुख्य वक्ता प्रो०(डॉ०) (श्रीमती) सत्यवती राणा, सीनियर प्रोफ़ेसर, डिपार्टमेंट ऑफ बायोकेमिस्ट्री,एम्स(ऋषिकेश) हाइड्रोजन ब्रेथ टेस्ट की बीमारी का पता लगाने में भूमिका से संबंधित जानकारी देंगी। इससे पूर्व वह पी.जी.आई.एम.ई.आर (चंडीगढ़) मे गैस्ट्रोएंटरोलॉजी कि प्रोफ़ेसर के पद पर 42 साल कार्यरत रहीं। वह सेंट लुइस यूनिवर्सिटी (यू.एस.ए) मे पोस्ट डॉक्टोरल फेलो रही हैं एवं 2 साल पश्चिमी अफ्रीका के घाना में विजिटिंग प्रोफेसर के पद पर थीं। उनके कई राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में 134 शोध पत्र प्रकाशित हुए हैं तथा उन्होंने कई विद्यार्थियों का शोध कार्य में मार्गदर्शन किया है। वह एन.एस.आई(2007-2011) एवं ए.सी.बी.आई(2015-2016) की भूतपूर्व उपाध्यक्ष रही हैं। सीनियर प्रो० सत्यवती राणा, नेशनल अकैडमी ऑफ मेडिकल साइंस, एसोसिएशन ऑफ क्लीनिकल बायोकेमिस्ट, वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन, न्यूयॉर्क एकेडमी ऑफिस साइंसेस की सदस्य एवं एसोसिएशन ऑफ साइंटिस्ट्स ऑफ इंडियन ओरिजिन इन अमेरिका की आजीवन सदस्य हैं। वह इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ क्लीनिकल केमिस्ट्री (आई.एफ.सी.सी)कि भी सदस्य हैं। उन्हें स्वास्थ छेत्र में कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। उन्हें नवंबर 2012 में भारत सरकार द्वारा सीओल इंटरनेशनल डाइजेस्टिव डिज़ीस सिम्पोज़यम (कोरिया) में अपना अनुसंधान कार्य प्रस्तुत करने के लिए यात्रा अनुदान दिया गया। उन्हें मार्च 2012, गुवाहाटी में इंडियन नेशनल एसोसिएशन फ़ॉर स्टडी ऑफ द लिवर (आई.एन.ए.एस.एल) में अनुसंधान कार्य के लिए स्पेशल अवार्ड प्राप्त किया। प्रो० सत्यवती राणा वर्ल्ड जर्नल ऑफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी की एसोसिएट एडिटर इन चीफ एवं फंक्शनल फूड्स एंड न्यूट्रिशन की एसोसिएट एडिटर भी हैं। वह आई.सी.एम.आर, डी.बी.टी, डी.एस.टी तथा पी.जी.आई की अनुसंधान परियोजनाओं के लिए रिव्युअर भी हैं। विभिन्न रोगों की स्थिति में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस एंड एंटीऑक्सीडेंट लेवल्स, क्लीनिकल न्यूट्रिशन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिज़ीस के लिए नॉन इनवेसिव डायग्नोस्टिक टेस्ट जैसे हायड्रोजन ब्रेथ टेस्ट, फ़ीकल पैनक्रिएटिक इलास्टेस इत्यादि उनके अनुसंधान छेत्र हैं। वेबीनार का संचालन ज़ूम ऐप के माध्यम से होगा | वेबीनार के आयोजन सचिव , प्रो॰ गुलशन कुमार ढींगरा, समन्वयक मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी विभाग ने बताया कि यह वेबीनार प्रतिभागियों के लिये अत्यन्त महत्वपूर्ण सिध्द होगा एवं रोगों के प्रति जागरूकता आएगी। कर्यक्रम के मुख्य संरक्षक प्रो॰ पी.पी ध्यानी,कुलपति, श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय ने वेबिनार के आयोजन के लिए मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी विभाग को शुभकामनाएं दी तथा वेबिनार की सफलता के लिए उत्साह वर्धन किया | वेबिनार की संरक्षक प्रो॰ सुधा भारद्वाज, प्राचार्या, पंडित ललित मोहन शर्मा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय (ऋषिकेश) ने सभी से वेबिनार में भाग लेने के लिए आग्रह करते हुए कहा कि मानव शरीर में रोगों की रोकथाम संबंधित जानकारी पाने हेतु यह एक स्वर्णिम अवसर है | प्राचार्या महोदया ने आयोजन समिति का अभिनंदन किया एवं सभी को शुभकामनाएं प्रेषित की | मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी विभाग की आयोजन समिति में श्रीमती शालिनी कोटियाल, सुश्री सफिया हसन,अर्जुन पालीवाल एवं तकनीकी सहायता के लिए देवेंद्र भट्ट तथा विवेक राजभर रहेंगे |


उत्तराखण्ड एनसीसी के मेजर सुधीर बहल ने किया कैप्टन डॉ. सतेन्द्र कुमार की पुस्तक का विमोचन ऋषिकेश 20 अगस्त। (दीपक पंत संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश) उत्तराखण्ड एनसीसी के मेजर सुधीर बहल ने कमान अधिकारी कमांडेंट सीओ 31बी एन एसीसी, कर्नल यूएस त्रिवेदी, एडम ऑफिसर कर्नल प्रवीण भट्ट, मेजर एके शर्मा, कैप्टन राकेश भुटयानी तथा डॉ. तनु मित्तल की गरिमामयी उपस्थिति में ऋषिकेश महाविद्यालय के एनसीसी ऑफिसर डॉ. सतेन्द्र कुमार की पुस्तक ‘इंडियन आर्मी डॉक्ट्रिन कॉन्सेप्ट एण्ड स्ट्रेटजी’ का विमोचन किया व साथ ही एक भारत-श्रेष्ठ भारत ऑनलाइन कैम्प के सफल आयोजन के लिए मोमेंटी और प्रशस्ति देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज ने पुस्तक के विमोचन पर डॉ. सतेन्द्र कुमार को बधाई प्रेषित की।


स्वामी तत्वानंद हरि जी महाराज हुए ब्रह्मलीन, हरिद्वार 20 अगस्त (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) भूपतवाला स्थित मुखिया गली में प्रतिष्ठित धार्मिक संस्था मोक्ष धाम के परमाध्यक्ष स्वामी तत्वानंद हरि जी महाराज ब्रह्मलीन हो गए। उनके आकस्मिक निधन से संत समाज में शोक व्याप्त है।


हरिद्वार 20 अगस्त(रजत अरोड़ा सवांददाता गोविंद कृपा ज्वालापुर) विधानसभा हरिद्वार ग्रामीण क्षेत्र में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया । जिसमें जनपद हरिद्वार में कोरोना महामारी के बढ़ते हुए मामलों की रोकथाम के लिए भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के रीजनल आउटरीच ब्यूरो ने पांच दिवसीय जन जागरूकता अभियान जनपद हरिद्वार में शुरू किया । जिसका आज चौथे दिन हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा के अजीतपुर ग्राम से कोविड-19 जागरूकता अभियान नेहरु युवा मंडल अजीतपुर के युवाओं ने हरी झंडी दिखाकर अपने क्षेत्र में शुभारंभ किया क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी देहरादून से श्री एन एस नयाल ने बताया कि यह मोबाइल वैन हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा के क्षेत्र का संपूर्ण भ्रमण करेगी और कोरोना से बचाव के उपाय बताएंगे इस कार्यक्रम में दिनेश कश्यप ,वरिष्ठ पत्रकार अरुण कश्यप शाह टाइम्स संजय वर्मा, सागर, संजू ,अर्चना धींगरा चीफ ब्यूरो एक्सप्रेस न्यूज़ शालू,नेहरू युवा केन्द्र के जिला युवा समन्यवक हिमांशु राठौर, कुलदीप राय, राजकुमार राय व प्रदीप आदि उपस्थित रहे ।


भगवानपुर। 20 अगस्त (कमल वर्मा नामदेव संवाददाता गोविंद कृपा भगवान पुर) भगवानपुर के गांव सिकरोढा मैं प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश ने किया बैंक आफ इंडिया का उद्घाटन* *भगवानपुर* । विधानसभा भगवानपुर के गांव सिकरोढा मैं प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश ने बैंक ऑफ़ इंडिया का उदघाटन किया इस अवसर पर सोशल डिस्टेंश कायम रखते हुए गण मान्य लोग उपस्थित रहे! इस दौरान बैंक ऑफ इंडिया के समस्त स्टाफ ने प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश का धन्यवाद किया और वही सर्व समाज के सम्मानित लोगों का प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश ने धन्यवाद किया इस मोके पर उनके साथ सुनील बंसल मंडल अध्यक्ष भगवानपुर , राव हबीब,राव अली बहादुर, राव फारुक,राव नोसेर,राव शाहबाज,आतीफ राणा, मास्टर मामचनंद,जॉनी पंडित, बाबूराम कश्यप, रघुवीर,माजाहीर इंजिन्यार,अजय सैनी,आलिम, सगीर, कारी गुलफाम, राव आफाक,हाफिज रशीद, राव नईम,एमपी, बबलू मास्टर ब्रह्मपाल इत्यादि लोग उपस्थित रहे।


जीवन की सच्चाई 👉मनोहर पर्रिकर जी चले गये, सुषमा जी चली गई, जेटली जी चले गये, 👉इन सब घटनाओं से आपने क्या सीखा, ये सब बुढापे की मौत नही गये, ये सब किसी ना किसी बीमारी से ग्रसित थे, 👉आप ये भी नही कह सकते कि इनके खानपान में कोई कमी होगी, 24 घंटे उत्तम स्तर की चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध थी, विश्व के सब ऐशो आराम इनको उपलब्ध थे फिर आखिर क्या हुआ कि इनकी मौत समय से पहले हो गई । 👉 सत्य ये है कि इस शरीर के 2 बहुत बड़े घुन हैं, एक अत्यधिक शारारिक आराम और दूसरी अत्याधिक चिंता या अत्याधिक मानसिक थकान। 👉बस इन्ही चीजों से आप अपने आप को बचाइये, जीवन में कभी कोई गंभीर व्याधि नही आयेगी। 👉साथ ही ज्यादा मेडिकल, दबाईयाँ, टेस्ट, अस्पताल, डॉक्टर, ईलाज, ओपरेशन के चक्रव्यूह में न फँसें । 👉हॉस्पिटल बिजनेस के लिये होता है न कि आपके स्वास्थ्य के लिये । 👉अस्पताल में स्वास्थ्य मिलता तो ये सब बड़े-बड़े लीडर जीवित होते तथा देश को फायदा मिलता । 👉 *किसी के लिए भी कभी भूखा प्यासा रहकर कार्य ना करें, अपने बच्चों के लिए भी नही, क्योंकि आपका शरीर स्वस्थ है तो आप हैं और आप हैं तो उनको भी सहारा दे ही सकते हैं*, 👉 प्रत्येक व्यक्ति अपना भाग्य और कौशल साथ लेकर आता है इसलिए किसी के लिए भी अत्यधिक चिंता ना करें, 👉 *इच्छाओं का अंत नही होता अतः संतुष्ट रहना भी सीखें*। 👉जीवन मे पद महत्वपूर्ण वस्तु है लेकिन सबसे महत्वपूर्ण आपका अपना शरीर है, आपकी महता तभी तक है जब तक आपका शरीर स्वस्थ है । 👉 यही आपका वास्तविक जीवन साथी है । 👉 *जब तक आपका शरीर स्वस्थ है, आपका जीवन सार्थक है।* 🙏


हास परिहास। ये मैसेज बनाने वाले को १०० तोपो की सलामी🙏 😃एक पुराना चुटकुला 😃 एक बार संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर को ले कर चर्चा चल रही थी। एक भारतीय प्रवक्ता बोलने के लिए खड़ा हुआ। अपना पक्ष रखने से पहले उसने ऋषि कश्यप की एक बहुत पुरानी कहानी सुनाने की अनुमति माँगी। अनुमति मिलने के बाद भारतीय प्रवक्ता ने अपनी बात शुरू की... "एक बार महर्षि कश्यप, जिनके नाम पर आज कश्मीर का नाम पड़ा है, घूमते-घूमते कश्मीर पहुंच गए। वहाँ उन्होंने एक सुन्दर झील देखी तो उस झील में उनका नहाने का मन हुआ। उन्होंने अपने कपड़े उतारे और झील में नहाने चले गए। जब वो नहा कर बाहर निकले, तो उनके कपड़े वहाँ से गायब मिले। दरअसल, उनके कपड़े किसी पाकिस्तानी ने चुरा लिये थे..." इतने में पाकिस्तानी प्रवक्ता चीख पड़ा और बोला: "क्या बकवास कर रहे हो? उस समय तो 'पाकिस्तान' था ही नहीं!!!" भारतीय प्रवक्ता मुस्कुराया और बोला: "और ये पाकिस्तानी कहते हैं कि कश्मीर इनका है!!!" 🇮🇳🇮🇳 😜😂😃 इतना सुनते ही... पूरा संयुक्त राष्ट्र सभा ठहाकों की गूंज से भर उठा।। 😂😝😜👏👏👏 एक हिन्दुस्तानी होने के नाते यह वाकया मुझे बहुत पसंद आया 👏👏👏👏👏👏👏👏👏 भारत माता की जय 🙏🙏


#अंतिम *#सांस* गिन रहे *#जटायु* ने कहा कि मुझे पता था कि मैं *#रावण* से नही *#जीत* सकता लेकिन तो भी मैं *#लड़ा* ..यदि मैं *#नही* *#लड़ता* तो आने वाली *#पीढियां* मुझे *#कायर* कहती जब *#रावण* ने *जटायु* के *दोनों* *पंख* काट डाले... तो *काल* आया और जैसे ही *काल* आया ... तो *#गिद्धराज* *जटायु* ने *मौत* को *ललकार* कहा, -- " *खबरदार* ! ऐ *मृत्यु* ! आगे बढ़ने की कोशिश मत करना... मैं *मृत्यु* को *स्वीकार* तो करूँगा... लेकिन तू मुझे तब तक नहीं *छू* सकता... जब तक मैं *सीता* जी की *सुधि* प्रभु " *श्रीराम* " को नहीं सुना देता...! *मौत* उन्हें *छू* नहीं पा रही है... *काँप* रही है खड़ी हो कर... *मौत* तब तक खड़ी रही, *काँपती* रही... यही इच्छा मृत्यु का वरदान *जटायु* को मिला। किन्तु *महाभारत* के *भीष्म* *पितामह* *छह* महीने तक बाणों की *शय्या* पर लेट करके *मौत* का *इंतजार* करते रहे... *आँखों* में *आँसू* हैं ... रो रहे हैं... *भगवान* मन ही मन मुस्कुरा रहे हैं...! कितना *अलौकिक* है यह दृश्य ... *रामायण* मे *जटायु* भगवान की *गोद* रूपी *शय्या* पर लेटे हैं... प्रभु " *श्रीराम* " *रो* रहे हैं और जटायु *हँस* रहे हैं... वहाँ *महाभारत* में *भीष्म* *पितामह* *रो* रहे हैं और *भगवान* " *श्रीकृष्ण* " हँस रहे हैं... *भिन्नता* *प्रतीत* हो रही है कि नहीं... *?* अंत समय में *जटायु* को प्रभु " *श्रीराम* " की गोद की *शय्या* मिली... लेकिन *भीष्म* *पितामह* को मरते समय *बाण* की *शय्या* मिली....! *जटायु* अपने *कर्म* के *बल* पर अंत समय में भगवान की *गोद* रूपी *शय्या* में प्राण *त्याग* रहा है.... प्रभु " *श्रीराम* " की *शरण* में..... और *बाणों* पर लेटे लेटे *भीष्म* *पितामह* *रो* रहे हैं.... ऐसा *अंतर* क्यों?... ऐसा *अंतर* इसलिए है कि भरे दरबार में *भीष्म* *पितामह* ने *द्रौपदी* की इज्जत को *लुटते* हुए देखा था... *विरोध* नहीं कर पाये थे ...! *दुःशासन* को ललकार देते... *दुर्योधन* को ललकार देते... लेकिन *द्रौपदी* *रोती* रही... *बिलखती* रही... *चीखती* रही... *चिल्लाती* रही... लेकिन *भीष्म* *पितामह* सिर *झुकाये* बैठे रहे... *नारी* की *रक्षा* नहीं कर पाये...! उसका *परिणाम* यह निकला कि *इच्छा* *मृत्यु* का *वरदान* पाने पर भी *बाणों* की *शय्या* मिली और .... *जटायु* ने *नारी* का *सम्मान* किया... अपने *प्राणों* की *आहुति* दे दी... तो मरते समय भगवान " *श्रीराम* " की गोद की शय्या मिली...! जो दूसरों के साथ *गलत* होते देखकर भी आंखें *मूंद* लेते हैं ... उनकी गति *भीष्म* जैसी होती है ... जो अपना *परिणाम* जानते हुए भी...औरों के लिए *संघर्ष* करते है, उसका माहात्म्य *जटायु* जैसा *कीर्तिवान* होता है। सदैव *गलत* का *विरोध* जरूर करना चाहिए। " *सत्य* परेशान जरूर होता है, पर *पराजित* नहीं।


मेजर जनरल सुधीर बहल ने किया कैप्टेन डॉ. सतेन्द्र कुमार को सम्मानित । ऋषिकेश (दीपक पंत संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश) 19 अगस्त। ऑनलाइन एनआई सी एनसीसी कैम्प एक भारत श्रेष्ट भारत के सफल आयोजन पर उत्तराखंड एनसीसी के मेजर जनरल सुधीर बहल ने कमान अधिकारी कमांडेंट सीओ 31 बीएन एनसीसी कर्नल यूएस त्रिवेदी, एडम ऑफिसर कर्नल प्रवीण भट्ट, मेजर एके शर्मा, कैप्टन राकेश भुटयानी तथा डॉ. तनु मित्तल की उपस्थिति में ऋषिकेश महाविद्यालय के एनसीसी ऑफिसर डॉ. सतेंद्र कुमार को मोमेंटो और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। यह उत्तराखंड का पहला ऑनलाइन कैम्प था जो कोविड 19 महामारी के कारण ऑनलाइन आयोजित किया गया। कैम्प में 150 कैडेट्स जुड़े थे जिनमें महाविद्यालय ऋषिकेश के 15 एनसी कैडेट्स भी शामिल थे। महाविद्यालय प्रचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज ने इस उपलब्धि पर डॉ. सतेन्द्र कुमार व अन्य 15 कैडेट्स को बधाई प्रेषित की। इस अवसर पर बटालियन के अन्य सदस्य भी मौजूद थे।


ऋषि केश 19 अगस्त (दीपक पंत संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश) महाविद्यालय ऋषिकेश में एन.सी.सी कैडेट्स ने शुरू किया फिट इंडिया जागरुकता अभियान हरिद्वार। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खेल दिवस के अवसर पर फिट इंडिया अभियान की शुरुआत की थी। जिसका असली मकसद आम लोगों को फिट रखना है इस अभियान को जारी रखते हुए ऋषिकेश महाविद्यालय में झंडा दिवस के अवसर पर प्रचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज द्वारा फिट इंडिया जागरूकता अभियान की शुरुआत की गई। यह अभियान अगस्त माह से सितम्बर माह तक चलाया जाएगा। अभियान के अंतर्गत सभी एनसीसी कैडेट्स पोस्टर, स्लोगन व अन्य सामग्री द्वारा अपने निकवर्ती क्षेत्रों के साथ-साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम आदि सोशल साइट पर भी सभी लोगों से फिट इंडिया अभियान के तहत खुद को खेल, शारीरक व्यायाम आदि से जोड़ने व अपने परिवार को स्वास्थ्य व कुशल बनाये रखने के लिए जागरूकता अभियान चलाया गया। महाविद्यालय के एनसीसी के ऑफिसर डॉ. सतेंद्र कुमार ने बताया कि अभियान का मुख्य उद्देश्य आत्मनिर्भर भारत व फिट इंडिया के तहत सभी कैडेट्स व अन्य सदस्यों को अपने दैनिक जीवन में स्वास्थ्य से सम्बंधित, खेल कूद, व्यायाम, साइकिलिंग, जॉगिंग, रनिंग, योग, नृत्य, शारीरिक कार्य आदि क्रियाओं पर जोर देना है ताकि हम सभी स्वयं को और अपने समाज को फिट रख सकें। प्रत्येक व्यक्ति को कोई न कोई खेलकूद को अपना कर अभ्यास करना चाहिए, ताकि शरीर बिल्कुल फिट एवं स्वस्थ रहे। इस मूवमेंट को सफल बनाने के लिए बटालियन के अधिकारी एवं कैडेट्स प्रतिबद्ध हैं।


*कम लोग जानते हैं कि वाघा बॉर्डर पाकिस्तानी साइड का नाम है* और *भारतीय साइड का नाम अटारी बॉर्डर है* *इसके बावजूद भी हम उसे वाघा बॉर्डर नाम से ही बुलाते हैं* क्योंकि *पाकिस्तान प्रेमियों व पाकिस्तान प्रेमी मीडिया वालों को हड्डी पाकिस्तान से जो मिलती है* अटारी बॉर्डर का नाम *सरदार श्याम सिंह अटारी* के नाम पर रखा गया था। *सरदार श्याम सिंह अटारी महाराजा रंजीत सिंह के सेना प्रमुख थे, जिन्होंने कायर मुग़लों को युद्ध में कई बार धूल चटाई थी* *अटारी बॉर्डर को वाघा बॉर्डर नाम से बुलाना महान सरदार श्याम सिंह अटारी का अपमान है* *इसे इतना फैला दें कि मीडिया इसे अटारी बॉर्डर कहने पर मजबूर हो जाये,,,* (भाई जितेन्द्र सिंह जी की फेसबुक से साभार) *अटारी_बॉर्डर* *जय हिन्द* 🙏🏻🇮🇳🙏🏻


इसे आर्मी साईकल कहा जाता है । ये साईकल हल्के वजन की और इसके टायर ऐसे है कि किसी भी तरह की रास्ते पर आसानी से चल सके और पंचर होने का सवाल ही नहीं । द्वितीय विश्वयुद्ध में ब्रिटिश सेना के सबसे बड़े बेस सिंगापुर, जिसे पूर्व का जिब्राल्टर कहा जाता था, पर जापानी हमले की आशंका थी । अंग्रेज बहुत सयाने थे, उन्होंने यहां अपने कुछ सौ सैनिकों के साथ बड़ी तादाद में अपने गुलाम देशों की सेना सिंगापुर में तैनात की थी, जिसमे करीब 40-45 हजार भारतीयों को ब्रिटीश इंडियन आर्मी के नाम से और ऑस्ट्रेलियाई, अफ्रीकी सेना भी हजारों की संख्या में थी । मिलिट्री बेस की दूसरी ओर घना जंगल था जहां से किसी भी तरह के हमले की कल्पना भी नहीं की जा सकती थी, क्योंकि वो जंगल इतना घना था कि वहां से टैंक या सेना किसी भी तरह के सेना के वाहन का आना असंभव था, इसलिए ब्रिटिश सेना ने उस जंगल की ओर सुरक्षा के इंतजाम न के बराबर किये थे,या नहीं किये थे । मजे की बात ये है कि 1942 में फरवरी महीने में चले इस युद्ध मे जापान ने ब्रिटिश सेना को सामने से युद्ध मे उलझाए रखा और अचानक पीछे जंगल से इस आर्मी साइकिलों पर सवार हजारों जापानी सेना ने हमला बोल दिया । पीछे से हुए इस हमले से निपटने के लिए ब्रिटिश सेना बिल्कुल तैयार नहीं थी, उसने सोचा भी नहीं था कि ऐसा हमला होगा । मात्र 36 हजार जापानी सेना ने अपने से दुगनी संख्या वाली ब्रिटिश सेना को हराकर, उसके सभी सैनिकों को बंदी बना लिया । भारतीय जवानों को छोड़ ब्रिटिश आर्मी के लिए लड़ने वाले बाकी हर देश के सैनिकों को जापानियों ने मार दिया । नहीं, नहीं, गांधी नेहरू के बोलने पर जापानियों ने भारतीयों को नहीं बख्शा, बल्कि जापान की ब्रिटेन से बिल्कुल नहीं जमती थी और महान क्रांतिकारी रास बिहारी बोस जापान के सहयोग से भारत की स्वतंत्रता के लिए अंग्रेजों से आजाद हिंद सेना बनाकर संघर्ष कर रहे थे, इसलिए रास बिहारी जी के कहने पर जापान ने भारतीयों को नहीं मारा । 35-40 हजार ब्रिटिश आर्मी के उन हिन्दू जवानों को रास बिहारी बोस ने अंग्रेजों के लिए लड़ने की बजाय माँ भारती की आजादी के लिए लड़ने के लिए न सिर्फ प्रेरित किया, बल्कि उन सबकी भर्ती आजाद हिंद सेना में करवाई । 1943 में आजाद हिंद सेना की बागडोर नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने संभाली और अपनी सेना से ब्रिटिश सेना का बेहिसाब नुकसान किया । द्वितीय विश्वयुद्ध में ब्रिटेन पूरी तरह पस्त हो गया, उसकी बहुत बड़ी मानव और वित्त हानि हुई, उसका इतना बुरा हाल हुआ कि अपने गुलाम देशों पर नियंत्रण रखने के लिए उसके पास संसाधन और मनुष्य बल कम पड़ गया । उपर से आजाद हिंद सेना के जवान अंग्रेजों की सेना को इतना नुकसान पहुंचाने लगे कि अंग्रेजों का भारत पर नियंत्रण रखना असंभव हो गया था । पर 1945 में नेताजी की अचानक हुई अकाल मृत्यु के बाद अंग्रेजों ने राहत की सांस ली पर आजाद हिंद सेना को भारतीय जनता के मिले भरपूर समर्थन से अंग्रेज भी घबरा गए, वे समझ गए कि अब भारत पर राज करना मतलब अपनी मृत्यु को दावत देना है और मजबूरन द्वितीय विश्वयुद्ध के खत्म होने के एक डेढ़ साल के भीतर उन्हें भारत समेत कई देशों को छोड़ना पड़ा । बताया जाता है कि अंग्रेजों और आजाद हिंद सेना के संघर्ष में 27 हजार से ज्यादा भारतीय सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए थे और हमे पढ़ाया गया कि "दे दी हमे आजादी बिना खड्ग बिना ढाल, साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल ।" और बड़ी बात शायद कम लोगों को पता होगी कि देश के लिए इतना बड़ा संघर्ष करने वाले रास बिहारी और नेताजी की संताने आज भी जापान में रहती है, गुमनाम जिंदगी, जिन्हें शायद कोई जानता होगा । जिन संतानों को हमे गले लगाकर, सिर आंखों पर बैठना था उन्हें आज कोई नहीं जानता, और जिन्होंने अंग्रेजों की दलाली की उस नेहरू की पीढियां अभी तक के देश को अपनी जागीर समझ कर राज कर रही थी और आगे भी अपने नालायक वंशजो को दिल्ली की गद्दी पर बैठाने के सपने देखते है । वो ऐसा सोच सकते है, क्योंकि गांधी नाम की घुट्टी हर भारतीय के दिमाग मे शिक्षा के माध्यम से पिलाई गयी है और जिस ये गांधी की घुट्टी का नशा खत्म होगा, भारत वास्तविक स्वतंत्रता पायेगा । साभार


डेंगू की रोकथाम में मेयर विफल : राजेश शर्मा भाजपा पार्षदों ने बैठक कर हरकी पैडी से चण्डी देवी तक रोपवे व दून, हरिद्वार, ऋषिकेश मेट्रो परियोजना के प्रस्ताव हेतु जताया शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का आभार हरिद्वार, 19 अगस्त। (विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) केन्द्र व प्रदेश सरकार के प्रयासों से जहां उत्तराखण्ड में कोरोना महामारी के प्रभाव को सीमित किया गया वहीं हरिद्वार की मेयर की लापरवाही व अकुशलता से डेंगू व मलेरिया ने पांव पसार लिये है। भाजपा पार्षद निरन्तर शहर में कीटनाशक दवाओं व चूने के छिड़काव की मांग कर रहे हैं। जन समस्याओं पर ध्यान देने के स्थान पर मेयर व मेयरपति राजनीतिक ड्रामेबाजी में व्यस्त हैं। यह विचार भाजपा पार्षद दल के उपनेता राजेश शर्मा ने उत्तरी हरिद्वार में भाजपा पार्षदों की बैठक को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये। राजेश शर्मा ने कहा कि मेयर की लचर कार्यप्रणाली का खामियाजा शहर की जनता को भुगतना पड़ रहा है। पूर्व मण्डल अध्यक्ष व उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि मेयर अनीता शर्मा नगर निगम के संचालन में विफल साबित हुई हैं। कोरोना महामारी के पश्चात अब डेंगू व मलेरिया ने भी शहर में दस्तक दे दी है। यह आपदा काल घटिया राजनीति का नहीं अपितु शहर की सेवा का है। मेयर को सभी वार्डों में युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर सघन सफाई व कीटनाशक दवाओं के छिड़काव का निर्देश देना चाहिए। यदि मेयर दवाओं का छिड़काव कराने में भी अक्षम है तो भाजपा पार्षद कार्यकर्त्ताओं के साथ मिलकर सभी 60 वार्डों में सफाई अभियान चलायेंगे। उन्होंने कहा कि जहां प्रदेश सरकार व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के प्रयास से हरकी पैड़ी से चण्डी देवी तक रोपवे व हरिद्वार, ऋषिकेश, देहरादून की मेट्रो परियोजना धरातल पर उतरती नजर आ रही है। जिसको शीघ्र ही कैबिनेट की मंजूरी मिलने ही वाली है। इस कार्य के लिए समस्त भाजपा पार्षद शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का आभार व्यक्त करते हैं। वहीं शहर की मेयर की कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करने में भी अक्षम साबित हुई हैं। वरिष्ठ पार्षद अनिल मिश्रा ने कहा कि अपने पति के दवाब के चलते मेयर नगर निगम का संचालन नहीं कर पा रही हैं। अपनी विफलताओं का दोष शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक पर लगाने के स्थान पर उन्हें अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए सफाई व पथ प्रकाश व्यवस्था को दुरूस्त करना होगा। पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा ने कहा कि शहर की पथ प्रकाश व्यवस्था बदहाल स्थिति में है। बोर्ड में प्रस्ताव पारित होने के बावजूद चार महीने में भी स्ट्रीट लाईट की व्यवस्था नहीं की गयी है। शहर को अंधेरे में रखने का खामियाजा मेयर महोदया को भुगतना पड़ेगा। यदि शीघ्र ही सभी वार्डों में स्ट्रीट लाईट की व्यवस्था नहीं की गयी तो मेयर कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया जायेगा। पार्षद विनित जौली व ललित सिंह रावत ने कहा कि कांग्रेसजनों को अपनी आंखांे को ईलाज कराना होगा। कांग्रेस के शासन में हरिद्वार में एक भी विकास का कार्य नहीं हुआ। वहीं भाजपा शासन में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के प्रयासों से भूमिगत विद्युत लाईन, भूमिगत गैस लाईन, मेडिकल कॉलेज, अस्पताल, मेट्रो जैसी बड़ी सौगात तीर्थनगरी को मिली है। बैठक में मुख्य रूप से विकास कुमार विक्की, मोनिका सैनी, ललिता चौहान, पिंकी चौधरी, विवेक उनियाल समेत अनेक पार्षद उपस्थित रहे।


Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...