हरिद्वार 31 जुलाई (अमर शदाणी संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) सप्त सरोवर क्षेत्र स्थित शदाणी दरबार मंदिर के पीठादीश्वर जाएंगे राम मंदिर के भूमि पूजन में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए सप्त सरोवर क्षेत्र स्थित शदाणी दरबार मंदिर के पीठादीश्वर पूज्य संत डॉ युधिष्टर लाल महाराज 4 अगस्त को अयोध्या जाएंगे , शदाणी दरबार मन्दिर के सेवादार अमर लाल ने बताया कि पूज्य महाराज श्री को श्री राम मंदिर निर्माण के आयोजिक समिति के तरफ से चम्पतराय राय द्वारा निमंत्रण मिला है , ओर यह भी बताया कि शदाणी दरबार के पर्थम सन्त साई शदाराम साहिब सूर्यवंशी श्री राम के पुत्र लव के वंश से ही हैं , ओर उस का उलेख शदाणी दरबार के 312 वर्ष प्राचीन इतिहास से मिलता है , अमर लाल ने बताया कि महाराज जी इस समय छत्तीसगढ़ स्थिति शदाणी दरबार तीर्थ में है और वहाँ से वह माता कोशलिया के जन्म स्थान से पवित्र मिटी ओर ले जाएंगे ,


भेदभाव मिटाने और विश्वबन्धुत्व को बढ़ाने वाली भाषा है संस्कृत : ऋषि रामकृष्ण जी महाराज हर्षोल्लास से हुआ ऋषि संस्कृत महाविद्यालय में संस्कृत सप्ताह का उद्घाटन हरिद्वार, 31 जुलाई। ऋषि संस्कृत महाविद्यालय खड़खड़ी हरिद्वार के सरस्वती भवन में संस्थाध्यक्ष ऋषि रामकृष्ण जी महाराज के पावन सानिध्य में संस्कृत सप्ताह का उद्घाटन हर्षाेल्लास के साथ किया गया। इस मौके पर सरस्वती वंदना नीरज जोशी व स्वागत गीत स्वराज एवं आशीष ने गाया। इस अवसर पर ऋषि रामकृष्ण जी महाराज ने दैनिक व्यवहार में संस्कृत भाषा का अधिक से अधिक प्रयोग करने का आवाह्न करते हुए कहा कि संस्कृत भाषा सरल एवं मधुर है। यह भेदभाव मिटाने वाली और विश्वबन्धुत्व को बढ़ाने वाली भाषा है। प्रधानाचार्य डॉ. भारतनन्दन चौबे ने संस्कृत के प्रचार-प्रसार एवं विकास के लिये संस्कृत सप्ताह के आयोजन को महत्वपूर्ण बताते हुए सप्ताह में किये जाने वाले कार्यों से अवगत कराया। मंच संचालन डॉ. तारादत्त अवस्थी ने किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के अध्यापकों में से डॉ. दिनेशचन्द्र पाण्डेय, डॉ. चन्द्रभूषण शुक्ल, श्रीमती बिन्दु बलूनी ने भी अपने विचार व्यक्त किये।


<no title>हिमालय हुँकार पत्रिका के हरिद्वार विशेषांक का क्षेत्र प्रचार प्रमुख पदम जी भाई साहब ने किया विमोचन विभाग प्रचार प्रमुख विपिन कर्णवाल, विभाग प्रचारक शरद जी भाई साहब एवं जिला प्रचारक अमित जी भाई साहब सहित संघ के पदाधिकारी रहे उपस्थित हरिद्वार 31 जुलाई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पाक्षिक पत्रिका हिमालय हुँकार के हरिद्वार विशेषांक का विमोचन जिला संघ कार्यालय पर क्षेत्र प्रचार प्रमुख पदम जी भाई साहब ने किया। इस अवसर पर वैबनार के माध्यम से दिये गए अपने सम्बोधन में उन्होने ने कहा कि पत्रिका और पत्रकारिता एक मिशन है जो समाज का दर्पण है जिसके विभिन्न माध्यमो से समाज ,देश और संसार की घटनाओ और गतिविधियों से हम परिचित होते है। हिमालय हुँकार पत्रिका भी प्रिंट मीडिया का एक ऐसा ही माध्यम है जो निरंतर प्रदेश में हो रही रचनात्मक, सकारात्मक,घटनाओ और विषयों से हमे अवगत कराती है हरिद्वार विशेषांक भी हरिद्वार की धार्मिक, सांस्कृतिक और स्वतंत्रता संग्राम की घटनाओ, आंदोलनकारीयो, हरिद्वार के धार्मिक महत्व और घटनाओ को समेट हुए हैं। जो पाठको के लिए रुचिकर और ज्ञानवर्धक रहेगा ऐसा विश्वास है। पत्रिका के हरिद्वार विशेषांक के अवसर पर विभाग प्रचार प्रमुख विपिन कर्णवाल ने पत्रिका के विषय में उपस्थित लोगों को अवगत कराया इस अवसर पर विभाग प्रचारक शरद भाई साहब, जिला प्रचारक अमित भाई साहब सहित संघ के पदाधिकारी उपस्थिति रहे।


नयी शिक्षा नीति देगी देश और विद्धार्थियो को दिशा :- डा0 सुनील जोशी उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति ने प्रेस वार्ता कर किया नयी शिक्षा नीति का स्वागत देहरादून 30 जुलाई (जे के रस्तौगी संवाददाता गोविंद कृपा देहरादून) केन्द्र सरकार द्वारा घोषित नयी शिक्षा नीति को लेकर उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 सुनील कुमार जोशी ने विश़्व विद्यालय परिसर में प्रेस वार्ता कर नयी शिक्षा नीति का स्वागत करते हुए कहा कि नयी शिक्षा नीति से देश की विद्यालयी शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अआमूल चूल परिवर्तन होगा, उन्होने ने कहा कि नयी शिक्षा नीति से विद्यार्थीयो का सर्वांगिण विकास होगा और ये नीति देश के अनुकूल होने के साथ साथ नये परिवर्तन भी लाऐगी।


रूडकी 30 जुलाई (अनिल लोहानी संवाददाता गोविंद कृपा रूडकी) मेयर गौरव गोयल के प्रयासों से निकलेगा मोहन पुरा में जलभराव की समस्या का हल:-प्रमोद पाल पिछले कई वर्षों से जलभराव की समस्या झेल रहा मोहनपुरा क्षेत्र के नगर निगम में आते ही इस समस्या के समाधान हेतु क्षेत्र के प्रतिष्ठित लोगों पार्षदों एवं समाज सेवकों द्वारा समय-समय पर इस समस्या के निदान हेतु डीएम से लेकर मुख्यमंत्री लेवल तक अपने स्तर पर अपनी बात रखी इस समस्या के बारे में गोविंद कृपा द्वारा भी समय-समय पर समाज के विभिन्न वर्गों एवं सरकार के लोगों का ध्यान इस तरफ केंद्रित करवाया 2 दिन पूर्व ही क्षेत्र के पार्षदों एवं गणमान्य लोगों ने रुड़की नगर निगम के मेयर गौरव गोयल जी को आमंत्रित कर जमीनी स्तर पर समस्या बतलाई एवं उसके अस्थाई समाधान हेतु अपने सुझाव दिए माननीय मेयर जी ने जल्दी ही इस समस्या के समाधान हेतु कदम उठाने का आश्वासन दिया आज इसी कड़ी में वार्ड नंबर 10 के पार्षद प्रमोद पाल जी के नेतृत्व में नाला खुदाई का कार्य प्रारंभ किया गया इस दौरान कुछ लोगों के विरोध से बचने हेतु एसडीएम गोपाल सिंह चौहान सामाजिक कार्यकर्ता लोमस ऋषि पार्षद प्रमोद पाल चौधरी राजपाल राशन डीलर मुकेश पाल अजय चौधरी आदि गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे गहरा नाला खुद ने के कारण कुछ एरिया का पानी की निकासी संभव हो पाएगी यह एक स्थाई समाधान नहीं है परंतु मेयर साहब द्वारा उठाए गए कदम सराहनीय है साथ ही पार्षद प्रमोद पाल एवं लोमस ऋषि द्वारा पूरे दिन अपने सामने कार्य कराना इस बात का संदेश है कि क्षेत्र की जनता ने सही व्यक्ति का चुनाव किया


हरिद्वार 30 जुलाई (रजत अरोड़ा सवांददाता गोविंद कृपा ज्वालापुर) उद्यान विभाग के एडीओ श्री सेठीमल जी के नेतृत्व में अलौकिक सेवा समिति और भारत लोक सेवा संस्थान के पदाधिकारियों द्वारा भगतनपुर आबिद पुर उर्फ एकड़ कला राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय व राजकीय आदर्श प्राथमिक विद्यालय में फलदार वृक्षों का वृक्षारोपण किया गया इस अवसर पर उद्यान विभाग के श्री सेठी मल जी और अलौकिक सेवा समिति हरिद्वार के अध्यक्ष सरदार कोमल सिंह सचिव डॉ संजय कुमार पाल कोषाध्यक्ष प्रेम सिंह चौहान तथा भारत लोक सेवा संस्थान के अध्यक्ष श्री मनोज कुमार पाल जी हर्षित पाल जी उच्च माध्यमिक विद्यालय एकड़ कला के कार्यवाहक प्रधानाचार्य श्री राजपाल सिंह जी और राजकीय आदर्श प्राथमिक विद्यालय एकड़ कला के प्रधानाचार्य श्री पुष्कर भारती जी व अध्यापक गण ने उपस्थित रहकर सहयोग किया अलौकिक सेवा समिति अध्यक्ष सरदार कोमल सिंह ने लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने के लिए प्रेरित किया उन्होंने कहा हमें ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाकर पर्यावरण को सुरक्षित करना चाहिए क्योंकि जितने वृक्ष अधिक होंगे हम और हमारा जीवन उतना ही सुरक्षित रहेगा भारत लोक सेवा संस्थान के अध्यक्ष श्री मनोज पाल जी ने अपने संबोधन में संस्था के अध्यापक गण व सभी उपस्थित जनों का आभार व्यक्त किया

,


निर्मल सराय के लोगों ने जताया शहरी विकास मंत्री का आभार हरिद्वार, 30 जुलाई। (गगन नामदेव संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) बरसात के मौसम में निर्मल सराय के अन्दर जल भराव की समस्या के समाधान के लिए त्वरित कार्रवाई करने पर निर्मल सराय के लोगों ने भाजपा के वरिष्ठ नेता राजू मनोचा के नेतृत्व में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का आभार जताया। राजू मनोचा ने बताया कि रेलवे स्टेशन के सामने निर्मल सराय में प्रतिवर्ष बरसात के मौसम में जल भराव एक बड़ी समस्या बना हुआ था। जिसका शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने समाधान करके यहां निवास करने वाले परिवारों को बड़ी राहत पहुंचायी है। शहरी विकास मंत्री ने जनता के दुःख, दर्द को समझते हुए तुरन्त एसडीएम एवं प्रशासनिक अधिकारियों को आदेशित किया जिससे जल भराव की समस्या का तुरन्त समाधान हो गया। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का आभार प्रकट करने वालों में मुख्य रूप से वरिष्ठ भाजपा नेता राजू मनोचा, अरविन्द अग्रवाल, सुरेन्द्र तेश्वर, दीपक दुआ, जौनी अरोड़ा, राजू अरोड़ा, मनोहर लाल, पवन कुमार, विनय दुआ, मास्टर अख्तर आदि शामिल रहे।


नेत्रहीन दिव्यांगों के लिए समर्पित स्वामी अजरानन्द अंध विद्यालय हाईस्कूल का शत प्रतिशत रहा परीक्षा परिणाम हरिद्वार, 30 जुलाई। (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) सप्त सरोवर मार्ग स्थित स्वामी अजरानन्द महिला आश्रम ट्रस्ट द्वारा संचालित स्वामी अजरानन्द अंध विद्यालय हाईस्कूल का परीक्षा परिणाम शत-प्रतिशत रहा। नेत्रहीन दिव्यांग बालक ने 88 प्रतिशत अंक पाकर विद्यालय टॉप किया। स्वामी अजरानन्द अंध विद्यालय हाईस्कूल एवं आश्रम के अध्यक्ष स्वामी स्वयांनन्द ने बताया कि इस वर्ष 38 सामान्य और दिव्यांग बच्चों ने हाईस्कूल की परीक्षा दी थी जिसमें 32 छात्रों ने प्रथम स्थान किया और 6 विद्यार्थी द्वितीय स्थान पाने में सफल रहे। इस प्रकार विद्यालय का परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहा। विद्यालय के प्रधानाचार्य पवन कुमार ने सभी सफल छात्र/छात्राओं को बधाई देकर उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।


रोवर रेंजर्स का प्रथम कार्य ही समाज की सेवा भाव : डॉ. सतेन्द्र कुमार कोरोना वॉरियर्स के रूप में कार्य करने पर रोवर रेंजर्स के 15 छात्र/छात्राओं को किया गया प्रमाण पत्र देकर सम्मानित हरिद्वार, 30 जुलाई। महाविद्यालय ऋषिकेश के रोवर रेंजर्स के छात्र/छात्राओं ने विश्वव्यापी कोरोना महामारी के दौरान ऋषिकेश शहर के विभिन्न क्षेत्रों श्यामपुर, गुमानिवाला, बापुग्राम, बाजार, 14 बीघा आदि मंे हस्त निर्मित मास्क वितरित किया एवं साथ ही विभिन्न पोस्टर, स्लोगन के माध्यम से सभी शहरवासियों को कोरोना महामारी से बचाव के संबंध में जागरूकता करते हुए अभियान चलाया। इस कार्य के लिए उत्तराखंड स्काउट एण्ड गाइड द्वारा सभी छात्र/छात्राओं को कोरोना वॉरियर्स का नाम दिया गया व साथ ही रोवर रेंजर्स के 15 छात्र/छात्राओं जिसमें शीतल, आस्था, श्वेता, अमीषा, आशीष, निशांत, अंकिता, प्रियंका, अखिलेश, विनीता, धीरज, पूजा, हर्षिता, कल्पना, प्रियांशी आदि को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर महाविद्यालय की प्रचार्या डॉ. सुधा भारद्वाज द्वारा सभी छात्र/छात्राओं को कोरोना वारियर्स से सम्मानित किये जाने पर हर्ष जताते हुए छात्र/छात्राओं की उज्ज्वल भविष्य की कामना की तथा रोवर रेंजर्स विभाग के प्रभारी डॉ. सतेन्द्र कुमार और डॉ. रितु कश्यप को शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर रोवर रेंजर्स के प्रभारी डॉ. सतेन्द्र कुमार ने कहा कि रोवर रेंजर्स का प्रथम कार्य ही समाज की सेवा भाव है। उन्हांेने कहा कि सभी छात्र/छात्राओं द्वारा कोरोना महामारी के समय समाज को विभिन्न माध्यमों से घर-घर जाकर जागरूक किया गया इसके लिए सभी बधाई के पात्र हैं।


कुम्भ से पूर्व विश्व स्तरीय सुविधाओं से लैस होगा हरिद्वार : मदन कौशिक पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में भाजपा पार्षद दल ने किया उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की मंजूरी पर शहरी विकास मंत्री का भव्य स्वागत भाजपा पार्षद दल की बैठक में शहरी विकास मंत्री ने दिये जन समस्याओं के त्वरित समाधान के निर्देश हरिद्वार, 30 जुलाई। (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) उत्तरी हरिद्वार में बहुत समय से प्रतीक्षारत चिकित्सालय के निर्माण की राह में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के प्रयासों से कैबिनेट ने एक कदम और बढ़ाते हुए निःशुल्क भूमि आवंटन की मंजूरी प्रदान की है। जिसके लिए पार्षद अनिरूद्ध भाटी के नेतृत्व में भाजपा पार्षदों ने कनखल स्थित नया अखाड़ा उदासीन की छावनी में आयोजित एक कार्यक्रम में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का अभिनन्दन करते हुए आभार प्रकट किया। इस अवसर पर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि कुम्भ से पूर्व हरिद्वार नये रंग-रूप में विश्व स्तरीय सुविधाओं से लैस होकर धरातल पर नजर आयेगा तथा भाजपा सरकार सफल कुम्भ मेले के आयोजन के लिए संकल्पबद्ध है। उन्हांेने कहा कि कोरोना काल और बरसात की वजह से शहर में हो रहे निर्माण कार्यों के कारण जनता को कुछ असुविधाएं हो रही है लेकिन यह असुविधाएं कुछ दिनों बाद हरिद्वार को सुखद एहसास भी प्रदान करेगी। उन्होंने भाजपा पार्षदों से आवाह्न करते हुए कहा कि वे जन समस्याओं के प्रति गंभीरता दिखाते हुए उनके शीघ्र निदान के लिए तत्पर रहे। मदन कौशिक ने कहा कि 60 वर्ष शासन करने के बावजूद कांग्रेस ने हरिद्वार के विकास में कोई बड़ी उपलब्धि नहीं प्रदान की। वहीं केन्द्र व प्रदेश की भाजपा सरकार ने भूमिगत विद्युत लाईन, भूमिगत गैस पाईप लाईन, हाईवे, पानी व सीवर की लाईन, रिंग रोड व मेट्रो जैसी सौगात हरिद्वार को दी है। इन बड़ी योजनाओं को धरातल पर उतरने में समय लग रहा है ऐसे में भाजपा पार्षदों को अपने-अपने क्षेत्र में हो रहे विकास कार्यों की संघन निगरानी करते हुए जनता को हो रही परेशानियों को दूर करने का प्रयास करना चाहिए। नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष सुनील अग्रवाल ने कहा कि नगर निगम में सभी भाजपा पार्षद एकजुट होकर शहर की समस्याओं के लिए संघर्षरत है। शहर में पेयजल, भूमिगत विद्युत लाईन, गैस लाईन का कार्य होने की वजह से जो दिक्कतें हो रही है वे कुछ दिनों की ही बात है। भाजपा सरकार के प्रयासों से हरिद्वार शीघ्र ही आधुनिक शहर के रूप में दिखायी देगा। उपेनता प्रतिपक्ष अनिरूद्ध भाटी ने उत्तरी हरिद्वार में बनने जा रहे चिकित्सालय को शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक की उत्तरी हरिद्वार को सौगात बताते हुए कहा कि मंत्रीजी के प्रयासों से ही कैबिनेट ने चिकित्सालय निर्माण की राह में एक कदम और बढ़ाते हुए निःशुल्क भूमि के प्रस्ताव को कैबिनेट से मंजूरी दिलवाकर एक सराहनीय कार्य किया है और भाजपा पार्षदों के प्रस्ताव पर ही नगर निगम ने अस्पताल निर्माण के लिए निःशुल्क जमीन उपलब्ध कराकर क्षेत्र के लोगों की एक बड़ी मांग को पूरा करने का प्रयास किया है। इस अवसर पर उपनेता राजेश शर्मा, पार्षद विनित जौली, अनिल वशिष्ठ, सुनीता शर्मा, ललित सिंह रावत, विकास कुमार विक्की, सपना शर्मा, रेणु अरोड़ा, पिंकी चौधरी, आशा सारस्वत, विवेक उनियाल, शुभम मंडोला, नितिन माणा, सचिन अग्रवाल, एकता गुप्ता, निशा नौडियाल, नेपाल सिंह ने शॉल, माला पहनाकर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का अभिनन्दन किया और आभार प्रकट किया। इस अवसर पर पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा, दीपांशु विद्यार्थी, गौरव भारद्वाज, दीपक शर्मा आदि उपस्थित रहे।


*भगवानपुर ब्रेकिंग न्यूज़* *विधानसभा भगवानपुर* *भगवानपुर नगर पंचायत* *भगवानपुर नगर पंचायत के कार्यालय मे स्वच्छ भारत मिशन शहरी विकास के अंतर्गत निमित्त शौचालय निर्माण हेतु धनराशि के चेक वितरण करते हुए प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश एवं वार्ड मेंबर* *भगवानपुर*!भगवानपुर नगर पंचायत कार्यालय में के प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश ने स्वच्छ भारत मिशन शहरी विकास के निर्मित शौचालय निर्माण चेक वितरित किए । इस दौरान उन्होंने कहा कि शहरी मंत्रालय गरीब लोगों के उत्थान के लिए अग्रसर है और प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में चहुंमुखी विकास हो रहा है। कोरोना महामारी में सरकार की ओर से जरूरतमंदों व गरीबों की हर संभव मदद की गई। इस मौके पर अधिशासी अभियंता शाहिद अली, नरेश प्रधान, सभासद प्रतिनिधि नीटू उर्फ मांगेराम, सभासद गुलबहार, सभासद प्रतिनिधि इरफान, बबलू, संजीव कुमार,निजाम,रजनीश वर्मा, रोहित कुमार, ईशम सिंह, सोमपाल आदि मौजूद रहे।


उत्तरी हरिद्वार में बहुप्रतीक्षित एवं जन स्वास्थ्य सुविधा की दृष्टि से अति आवश्यक सुविधा युक्त अस्पताल के निर्माण की दिशा में चल रहे हमारे-आपके प्रयासों ने आज एक महत्वपूर्ण प्रगति प्राप्त की है जिसके अंतर्गत अति जनोपयोगी हॉस्पिटल निर्माण के रास्ते में आ रही भूमि संबंधित अड़चन दूर हो गई है। हॉस्पिटल के लिए नगर निगम द्वारा प्रस्तावित भूमि को स्वास्थ्य विभाग को निशुल्क दिए जाने का प्रस्ताव जो कि निगम द्वारा बोर्ड बैठक में पास किये जाने के बाद शासन की मंजूरी में लिए लम्बित था,आज कैबिनेट मंत्री माननीय मदन कौशिक जी के अथक प्रयासों से कैबिनेट में पास करा लिया गया है। कैबिनेट की मंजूरी इस बात का परिचायक है कि अब माँ गंगा की कृपा से इस दिशा में उत्तरोत्तर प्रगति की गति शीघ्र ही प्रारंभ होगी। इस मौके पर माननीय मंत्री जी का आभार प्रकट करने के लिए शिव दास दुबे जी,बागेश्वर पांडेय जी,हरीश शर्मा जी,हरपाल धीमान जी,विकल राठी जी,अर्चित चौहान जी,दिवाकर तिवारी जी,चंद्रा चौहान जी,अर्चना तोमर,रवि चौहान जी,ओंकार पांडेय जी,सुनील तिवारी जी,नरेश गिरी जी ,पवन पांडेय जी,सुनील मिश्र जी,योगेश दुबे जी,राकेश मिश्रा जी,अंकित चौधरी जी,विजय ड्रोलिया जी,योगेश दिनकर जी,राजेश कश्यप जी,बलकेश राजोरिया जी,शिव कुमार सैनी जी ,अनिल वर्मा जी,मुकेश राणा जी,राम सिंह बबलू जी,मुकेश पुरी जी, सुंदर शर्मा जी, विकास ठाकुर जी उपस्थित रहे एवं हृदय से आभार व प्रसन्नता व्यक्त की।


कृपाल कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, कृपाल नगर, शिवालिक नगर, हरिद्वार का उत्तराखंड हाई स्कूल का परीक्षा परिणाम 90% रहा जिसमें प्रथम श्रेणी में 53 प्रतिशत द्वितीय श्रेणी में 32 प्रतिशत एवं तृतीय श्रेणी में 5 प्रतिशत बालिकाओं ने उत्तीर्ण होकर विद्यालय का नाम रोशन किया। मानसी शुक्ला ने 87.4 प्रतिशत अंक प्राप्त कर विद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त किया । सभी उत्तीर्ण छात्राओं एवं उनके अभिभावकों को बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं। [7/29, 6:17 PM] Ranjana Sarma: कृपाल कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कृपाल नगर शिवालिक नगर हरिद्वार का उत्तराखंड हाईस्कूल का परीक्षा मे कुमारी मानसी शुक्ला ने 87.4% , शिवानी 80% ,सोना पांडे 72.4% , करिश्मा 70% , पूनम पाल 69% , दामिनी पाठक 66% सलोनी रानी 66% तथा सोनी अनु कुमारी एवं अनोखी ने 63% अंक प्राप्त कर विद्यालय का नाम रोशन किया।


उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण का मार्ग हुआ प्रशस्त : अनिरूद्ध भाटी कैबिनेट ने दी पावन धाम के सामने वाली निःशुल्क भूमि के प्रस्ताव को मंजूरी, उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की दिशा में बढ़ा एक और कदम भाजपा पार्षदों ने बैठक कर जताया शहरी विकास मंत्री का आभार हरिद्वार, 29 जुलाई(आकां क्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) प्रदेश की कैबिनेट ने उत्तरी हरिद्वार भूपतवाला में पावन धाम के सामने सीएचसी निर्माण हेतु नगर निगम के निःशुल्क भूमि के प्रस्ताव को कैबिनेट की बैठक में मंजूरी दे दी। इस संदर्भ में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने राजधानी देहरादून में प्रेसवार्ता कर जहां कैबिनेट के निर्णय की विस्तृत जानकारी दी वहीं उन्होंने दूरभाष पर भाजपा पार्षद के उपनेता अनिरूद्ध भाटी को अस्पताल हेतु निःशुल्क भूमि के प्रस्ताव की मंजूरी की जानकारी दी। प्रदेश कैबिनेट द्वारा अस्पताल निर्माण हेतु भूमि के प्रस्ताव की मंजूरी मिलने से हरिद्वार में हर्ष की लहर दौड़ गयी। भाजपा पार्षदों ने पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी के कार्यालय पर उपनेता राजेश शर्मा के संचालन व वरिष्ठ पार्षद अनिल मिश्रा की अध्यक्षता में बैठक कर प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर भाजपा पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के प्रयास से उत्तरी हरिद्वारवासियों की लम्बे समय से चली आ रही मांग धरातल पर उतरती नजर आ रही है। अस्पताल निर्माण हेतु क्षेत्रीय विधायक व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने अथक प्रयास किये। सर्वप्रथम मदन कौशिक के प्रस्ताव पर ही प्रथम चरण में केन्द्र सरकार ने उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की सैद्धांतिक सहमति प्रदान करते हुए इसके लिए बजट का प्रावधान किया था। द्वितीय चरण में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के निर्देश पर ही नगर निगम ने पावन धाम के सामने निःशुल्क भूमि का प्रस्ताव शासन को भेजा था। अब तृतीय चरण में प्रदेश की कैबिनेट ने इसे मंजूरी प्रदान कर उत्तरी हरिद्वार में अस्पताल निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया है, इस कार्य के लिए उत्तरी हरिद्वार की जनता सदैव भाजपा सरकार व शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक की आभारी रहेगी। वरिष्ठ पार्षद अनिल मिश्रा ने कहा कि लम्बे संघर्ष के पश्चात उत्तरी हरिद्वारवासियों को चिकित्सालय निर्माण की आकांक्षा धरातल पर उतरती नजर आ रही है। कैबिनेट की प्रस्ताव की मंजूरी के पश्चात अब चौथे चरण में चिकित्सालय निर्माण हेतु टेण्डर की प्रक्रिया प्रारम्भ होगी। प्रदेश में 10 वर्ष शासन देने के पश्चात भी कांग्रेस ने उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की दिशा में कोई पहल नहीं की। अब भाजपा सरकार ने जनआकांक्षओं को पूरा करने का कार्य किया है। उपनेता राजेश शर्मा ने कहा कि उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की दिशा में कैबिनेट की मंजूरी के पश्चात शीघ्र ही चिकित्सालय निर्माण प्रारम्भ होगा, इससे सभी हरिद्वारवासी स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। हरिद्वार को मेडिकल कॉलेज, उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की सौगात देकर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने साबित कर दिया है कि वह सच्चे विकास पुरूष हैं। पार्षद विनित जौली व अनिल वशिष्ठ ने कहा कि उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण होने से लगभग 75000 हजार की आबादी को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिलेगा, इस कार्य के लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार व विशेष रूप से शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक बधाई के पात्र हैं। पार्षद सुनीता शर्मा व श्रुति खेवड़िया ने कहा कि उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण से महिलाओं व छोटे बच्चों को बेहतर चिकित्सा सुविधा प्राप्त होगी। कैबिनेट की मंजूरी के पश्चात जल्द से जल्द चिकित्सालय निर्माण का कार्य प्रारम्भ किया जाये। पार्षद ललित सिंह रावत व विकास कुमार विक्की ने कहा कि उत्तरी हरिद्वार में चिकित्सालय निर्माण की दिशा में कदम बढ़ा है उसके लिए शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक व निःशुल्क भूमि का प्रस्ताव रखने वाले पार्षद अनिल मिश्रा, अनिरूद्ध भाटी, अनिल वशिष्ठ के साथ ही उसे पारित करवाने वाले सभी पार्षदों ने सच्चे जनसेवक होने का दायित्व निभाया है। इस अवसर पर पार्षद सपना शर्मा, रेणु अरोड़ा, पिंकी चौधरी, मोनिका सैनी, आशा सारस्वत, विवेक उनियाल, विमला देवी, किरण जैसल, पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा, दीपांशु विद्यार्थी, गौरव भारद्वाज, दीपक शर्मा, संगीता गिरि, भारती बिष्ट ने भी शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का आभार व्यक्त किया।


🙏 *अभिमान और नम्रता* *एक बार नदी को अपने पानी के* *प्रचंड प्रवाह पर घमंड हो गया* *नदी को लगा कि ...* *मुझमें इतनी ताकत है कि मैं* *पहाड़, मकान, पेड़, पशु, मानव आदि* *सभी को बहाकर ले जा सकती हूँ* एक दिन नदी ने बड़े गर्वीले अंदाज में समुद्र से कहा ~ बताओ ! मैं तुम्हारे लिए क्या-क्या लाऊँ ? मकान, पशु, मानव, वृक्ष जो तुम चाहो, उसे ... मैं जड़ से उखाड़कर ला सकती हूँ. *समुद्र समझ गया कि ...* *नदी को अहंकार हो गया है* *उसने नदी से कहा ~* *यदि तुम मेरे लिए* *कुछ लाना ही चाहती हो, तो ...* *थोड़ी सी घास उखाड़कर ले आओ.* नदी ने कहा ~ बस ... इतनी सी बात. अभी लेकर आती हूँ. *नदी ने अपने जल का पूरा जोर लगाया* *पर ... घास नहीं उखड़ी* *नदी ने कई बार जोर लगाया*, लेकिन ... *असफलता ही हाथ लगी* आखिर नदी हारकर ... समुद्र के पास पहुँची और बोली ~ मैं वृक्ष, मकान, पहाड़ आदि तो उखाड़कर ला सकती हूँ. मगर जब भी घास को उखाड़ने के लिए जोर लगाती हूँ, तो वह नीचे की ओर झुक जाती है और मैं खाली हाथ ऊपर से गुजर जाती हूँ. *समुद्र ने नदी की पूरी बात ध्यान से सुनी* *और मुस्कुराते हुए बोला ~* *जो पहाड़ और वृक्ष जैसे* *कठोर होते हैं,* *वे आसानी से उखड़ जाते हैं.* किन्तु ... *घास जैसी विनम्रता* *जिसने सीख ली हो,* *उसे प्रचंड आँधी-तूफान या* *प्रचंड वेग भी नहीं उखाड़ सकता* *जीवन में खुशी का अर्थ* *लड़ाइयाँ लड़ना नहीं*, ... बल्कि ... *उन से बचना है* *कुशलता पूर्वक पीछे हटना भी* *अपने आप में एक जीत है* ... क्योकि ... *अभिमान* ~ *फरिश्तों को भी* *शैतान बना देता है,* ... और ... *नम्रता ~ साधारण व्यक्ति को भी* *फ़रिश्ता बना देती है* 🙏🙏


सर्वधर्म जनकल्याण समिति द्वारा आयोजित "गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती के अवसर पर आयोजित वेबिनार ”कोरोना मैं "गोस्वामी तुलसीदास" और "अपने अपने राम" मुख्य अतिथि आचार्य लल्लन जी महाराज'ललितानंद गिरी जी' शाक्त अखाड़ा परिषद हरिद्वार, विशिष्ट अतिथि आचार्य पंडित देवेंद्र जी हरिद्वार कार्यक्रम अध्यक्षता आचार्य करुणेश जी संस्थापक अध्य्क्ष अध्यात्म चेतना मंच हरिद्वार एवम सर्वधर्म जनकल्याण समिति के संरक्षक श्री जगदीश लाल पाहवा एवम संस्थापक अध्यक्ष श्रीमती मोनिका अरोरा दएवम अन्ये अतिथिजन शामिल शामिल हुए l


हरिद्वार 28 जुलाई स्थानीय एस एम जे एन पीजी कालेज के गणित संकाय द्वारा पुरातन भारतीय गणित का वर्तमान परिप्रेक्ष्य में विविध प्रसंगो पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया आयोजन में इस वेबीनार में मुख्य अतिथि प्रोफेसर नरेंद्र सिंह तकनीकी सलाहकार मुख्यमंत्री उत्तराखंड एवं गेस्ट ऑफ ऑनर प्रोफेसर केडी पुरोहित सलाहकार उच्चतर शिक्षा सेवाअभियान उत्तराखंड रहे सर्वप्रथम वेबीनार को संबोधित करते हुए कॉलेज के प्राचार्य एवं वेबीनार के निदेशक डॉ सुनील कुमार बत्रा ने आज के मुख्य अतिथि एवं गेस्ट ऑफ ऑनर का परिचय प्रतिभागियों से कराया। मुख्य अतिथि प्रोफेसर नरेंद्र सिंह (तकनीकी सलाहकार मुख्यमंत्री उत्तराखंड )द्वारा वैदिक गणित एवं भारतीय संस्कृति में विज्ञान तथा गणित के महत्व को इंगित करते हुए शुल्ब सूत्र एवं दशमलव पद्धति के संदर्भ में अपने विचार व्यक्त किए। डॉ सिंह ने कहा की रेखा गणित ही प्राचीन गणित का आधार है ।इस युग में गणित का भारत में अधिक विकास हुआ। इसी युग में बोधायन शुल्व सूत्र की खोज हुई जिसे हम आज पाइथागोरस प्रमेय के नाम से जानते है। प्रोफेसर केडी पुरोहित के द्वारा वेबीनार को संबोधित करते हुए डॉक्टर नरेंद्र पुरी (रुड़की) को इस अवसर पर याद किया । डॉ के डी पुरोहित ने कहा की मध्य काल ही भारतीय गणित का स्वर्ण काल है। आर्यभट्ट, श्रीधराचार्य, महावीराचार्य आदि श्रेष्ठ गणितज्ञ इस काल में ही हुए। वेबिनार के मुख्य वक्ता प्रोफेसर एस जी दानी अपने विचारों को व्यक्त करते हुए बताया की प्राचीन गणित में ज्योतिष विद्या जिसमें समकोण को 24 भागों में बांटना की भूमिका का महत्व फर्मेट थ्योरम आदि कई तथ्यों पर प्रकाश डाला । उन्होंने बताया कि गणितज्ञ नीलकण्ठ  ने सिन आर का मान निकालने का सूत्र दिया जिसे हम अब ग्रेगरी श्रेणी के नाम से जानते हैं। इस अवसर पर डॉक्टर ओम श्रीवास्तव पीजी कॉलेज नंदगांव छत्तीसगढ़ थे उन्होंने बहुत सारे प्राचीन गणितज्ञ का विश्लेषणात्मक अध्ययन किया उन्होंने वास्तु शास्त्र पर भी प्रकाश डाला ईसा से 400 वर्ष पूर्व से लेकर 1100वर्ष तक के भारतीय गणितज्ञ द्वारा ढूंढे जा चुके सत्य को आधुनिक गणित के सिद्धांतों से जोड़ा इस अवसर पर भारत के अलग-अलग विश्वविद्यालय जैसे आईटीआई रुड़की , मुम्बई,चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ ,भिलाई ,आंध्र प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड आदि से विभिन्न प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभाग किया। आज के इस कार्यक्रम में वैज्ञानिक सलाहकार डॉ हेमवती नन्दन एवं डॉ निधि होंडा के द्वारा इस वेबिनार के सफल आयोजन में सहयोग के लिए प्राचार्य द्वारा आभार व्यक्त किया गया। कार्यक्रम तथा इस वेबिनार की आयोजक सचिव डॉ पद्मावती तनेजा एवं सह आयोजक सचिव वैभव बत्रा ने सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों का इस वेबीनार में प्रतिभाग करने हेतु आभार व्यक्त किया उन्होंने कहा कि इस तरह के वेबीनार आगे भी आयोजित किए जाएंगे।इस अवसर पर डॉक्टर नरेश कुमार गर्ग डॉक्टर संजय माहेश्वरी, जेसी आर्या डॉक्टर श्रीमती सरस्वती पाठक आदि ने सफल आयोजन के लिए आयोजकों को बधाई प्रेषित की।


*हरिद्वार 27जुलाई (आकांक्षा वर्मा, संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) करोना महामारी से छात्र छात्राओं एवं प्राध्यापको एवं स्टाफ को बचाव के लिए उत्तरांचल पंजाबी महासभा द्वारा आज पूरे एस एम जे एन पीजी कॉलेज को सैनिटाइज करने का क़दम उठाया गया है।* *कालेज के प्राचार्य डॉ सुनील कुमार बत्रा ने उत्तरांचल पंजाबी महासभा के इस सार्थक प्रयास के लिए साधुवाद देते हुए कहा कि महासभा अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन बहुत ही अच्छे प्रकार से कर रही है।* *कोरोनावायरस काल में समाज द्वारा लगातार 53 दिनो तक भोजन की व्यवस्था सुनिश्चित की गई एवं अब पौधारोपण एवं सैनिटाइजेशन द्वारा महासभा के जिलाध्यक्ष प्रवीन अरोड़ा के द्वारा उल्लेखनीय कार्य को विस्तार दिया जा रहा है।* *इसके अतिरिक्त उत्तरांचल पंजाबी महासभा द्वारा क़ल जगदीश नगर और राज नगर ,ग़ोल गुरुद्वारा ,आदर्श नगर ,गुरु नानक कॉलोनी ,नाथ नगर आदि कॉलोनी में सैनिटाइजेशन की करवाई को अंजाम दिया जाएगा।* *प्रवीण कुमार अरोड़ा ने कहा कि कोरोना को हराने की मुहिम लगातार जारी रहेगी।*


धन्य है जगद् गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद जी महाराज . अगर पुरी शंकराचार्य जी ने एक हस्ताक्षर कर दिया होता तो न ही राम जन्मभूमि सुरक्षित होती न ही कभी भाजपा सत्ता में ही आती। ऐसे में सनातनी जनों के मध्य यह उत्सुकता का विषय है कि इस आंदोलन में आखिर सनातन धर्म के सर्वोच्च आचार्यों की क्या भूमिका रही?? आइये हम आपको पुरी के जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती जी महाराज की इस आंदोलन में प्रासंगिकता के बारे में बताते हैं- बात उस समय की है, जब विवादित ढांचा टूटा भी नहीं था और निश्चलानन्द सरस्वती जी महाराज शंकराचार्य के पद पर विराजमान नहीं थे, उसी समय तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के दो दूत शंकराचार्य जी के पास आकर प्रधानमंत्री जी का संदेश बताते हुए कहते हैं कि प्रधानमंत्री जी की इच्छा है कि आपको 66 करोड़ रुपये दिए जाएं, जिससे आपकी प्रभावी भूमिका के अंतर्गत भव्य राममन्दिर का निर्माण किया जाए, महाराज जी तुरन्त प्रश्न कर बैठते हैं कि वहां केवल मन्दिर ही बनेगा न ! इस पर वो व्यक्ति कुछ सहज उत्तर न दे पाए और वहां से चले गए। कालान्तर में ढांचा टूटता है और महाराज श्री भी शंकराचार्य के पद पर प्रतिष्ठित होते हैं। गौरतलब है कि ढांचा टूटने के पूर्व उसे मीडिया में बाबरी मस्जिद के नाम से प्रचारित किया जा रहा था, सबसे पहले महाराज जी ने ही कहा कि वो मस्जिद नहीं है, उसमें मंदिर के लक्षण हैं। उसमें गुम्बद है ,मीनारें नहीं । इस आंदोलन पर बारीकी नजर रखने वाले सज्जन जानते हैं कि ढांचा टूटने में प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव की अप्रत्यक्ष भूमिका सर्वाधिक रही है। जैसे ही ढांचा टूटता है तो संवैधानिक तंत्र की विफलता के नाम पर पांच राज्यों में भाजपा की सरकार गिरा दी जाती है। नरसिम्हा राव ने संत तंत्र को एकत्रित किया और श्रृंगेरी के शंकराचार्य जी के नेतृत्व में रामालय ट्रस्ट का गठन किया। इस ट्रस्ट पर हस्ताक्षर करने वाले सभी संतों को धन-धान्य से लाद दिया। आश्चर्य कि बात है कि लगभग सभी प्रामाणिक शंकराचार्यों , वैष्णवाचार्यों ने इस पर हस्ताक्षर भी कर दिया, केवल पुरी के जगद्गुरु शंकराचार्य जी महाराज को छोड़कर। क्योंकि महाराज जी का एक ही प्रश्न था- वहाँ केवल मंदिर ही बनेगा न !! (क्योंकि नरसिम्हा राव जी को बगल में मस्जिद बनवाकर कांग्रेस का मुस्लिम वोट भी सुरक्षित रखना था, इसलिए वह कभी भी स्पष्ट रूप से उत्तर नहीं दिए) अब एक दौर शुरू हुआ पुरी शंकराचार्य जी महाराज को मनाने का, मंत्रियों के समूह के समूह आने लगे, संतों की टोलियां आने लगी, स्वयं श्रृंगेरी के शंकराचार्य जी महाराज अपने सौ भक्तों के साथ तीन दिन तक गोवर्धन मठ में आकर महाराज जी को मनाते रहे। मठ को सोने चांदी से भरने का प्रलोभन तो रेलवे के ठेकेदारों से पैसा लेकर दर्जनों की संख्या में मठ के द्वार पर गाड़ियां खड़ी करने का भी क्रम चला। फिर धमकियों का दौर भी शुरू हुआ। नरसिम्हा राव ने स्पष्ट रूप से धमकी भिजवाई कि पुरी के शंकराचार्य जी ट्रस्ट पर हस्ताक्षर कर दें, नहीं तो धन, मान व प्राण तीनों से हाथ धोना पड़ेगा। शंकराचार्य जी महाराज ने उत्तर भेजा - 'मैं धर्म सम्राट स्वामी करपात्री जी महाराज का शिष्य हूँ। मैं अपने कुल व माता- पिता को कलंकित नहीं कर सकता ,मैं किसी भी दशा में इस बात पर हस्ताक्षर नहीं कर सकता कि वहाँ पर अगल- बगल मंदिर मस्जिद बने। क्योंकि अगल बगल मंदिर- मस्जिद का बनना दूसरे पाकिस्तान की नींव रखने जैसा होना है। मैं वहाँ पर केवल मन्दिर ही देखना चाहता हूँ। रही बात धन, प्राण व मान के अपहरण की तो प्रधानमन्त्री जी पूरी ताकत लगा लें, धन तो मेरे है नहीं, प्राण तो है ही तभी बोल रहा हूँ, मान तो अवश्य है, देखते हैं कि विजय किसकी होती है ?? प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव की हिम्मत नहीं पड़ी कि वो बिना पुरी शंकराचार्य जी के सहमति के मन्दिर सम्बन्धी अपने निर्णय को क्रियान्वित कर सकें। उल्लेखनीय है कि इस समय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबन्ध लग जाता है। उस प्रतिबन्ध को हटवाने में शंकराचार्य जी की ही भूमिका रही। अब यह बात यहाँ समझ लेना चाहिए कि अगर पुरी शंकराचार्य जी महाराज ने हस्ताक्षर कर दिया होता तो न राम मंदिर आंदोलन शेष रहता और न ही राम मन्दिर के नाम पर कभी भाजपा सत्ता में आती। कालान्तर में राममन्दिर के नाम पर भाजपा सरकार में आती है और वाजपेयी जी प्रधानमंत्री बनते हैं। वाजपेयी जी भी अंदर से मन्दिर - मस्जिद के समर्थक थे। उन्होंने तत्कालीन भाजपा सांसद व अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा के माध्यम से शंकराचार्य जी से कहलवाया कि अगर पुरी शंकराचार्य जी महाराज अनुमति दे दें और वहां मंदिर मस्जिद बन जाये तो क्या हर्ज है ?? शंकराचार्य जी महाराज ने कहा कि कथमपि नहीं, वहां केवल मंदिर बनना चाहिए। वाजपेयी जी की भी हिम्मत नहीं पड़ी कि पुरी शंकराचार्य जी महाराज के विरुद्ध कार्य कर सकें। इसके बाद वर्तमान में न्यायालय के माध्यम से ही राममन्दिर का निर्णय आता है, इसका स्पष्ट अर्थ यह है कि रामजन्मभूमि सुरक्षित रही तो वह केवल पुरी के जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती जी महाराज के कारण वरना यह सरकारें कब की आसपास मन्दिर व मस्जिद का निर्माण करवा देतीं। वर्तमान प्रधानमंत्री जब स्वयं इसकी आधारशिला रखने जा रहे हैं, तो उन्हें सनातन धर्म के सर्वोच्च आचार्य का सम्मान करते हुए सम्पूर्ण मर्यादा का पालन करते हुए उनके अधिकार का ध्यान रखना चाहिए। गौरतलब है कि आध्यात्मिक शासन के दृष्टिकोण से भी अयोध्या पुरी शंकराचार्य जी महाराज के शासन सीमा के अंतर्गत ही आती है। सम्पूर्ण सनातनी जनों से आग्रह है कि वो अपने सर्वोच्च आचार्य के प्रति सम्मान का दृष्टिकोण रखें और यह भी याद रखें कि राम जन्म भूमि की सुरक्षा केवल उनके कारण ही ढांचा टूटने के बाद अब तक संभव रही है न कि किसी संघ या संगठन के द्वारा। . रूद्र भारद्वाज शिष्य जगत गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी महाराज श्री जी । गुरुदेव भगवान की जय हो।


मोदी के स्वागत के लिए अयोध्या तैयार :-महंत गौरी शंकर दास। अयोध्या के निरवाणी अखाड़े की ओर से मोदी जी को दी जाएगी 35 किलो की अष्ट धातु की ईट भेंट स्वरूप । मोदी जी को दी जाने वाली ईंट बेहद अद्भुत और कीमती है, महंत गौरी शंकर दास महाराज ने बताया कि धार्मिक आयोजन में अष्टधातु का बेहद महत्व होता है. अयोध्या: राम मंदिर भूमि पूजन के लिए पीएम मोदी के प्रस्तावित दौरे से साधु-संत बेहद खुश नजर आ रहे हैं. श्रीराम के काम के लिए अयोध्या आ रहे पीएम मोदी के स्वागत को लेकर साधु-संतों ने खास तरह की तैयारियां शुरू कर दी हैं. निर्वाणी अखाड़ा ने तो बेहद खास और अष्टधातु की कीमती ईंट तैयार कर रखी है, जिसे राम मंदिर की नींव रखने के लिए पीएम मोदी को भेंट दियाजाएगा. दरअसल, 5 अगस्त को प्रधानमंत्री जब अयोध्या के सिद्ध हनुमानगढ़ी में हनुमान लला का आशीर्वाद लेंगे, तब निर्वाणी अखाड़ा की तरफ से महंत गौरी शंकर दास विशेष अष्टधातु की ईंट PM मोदी को भेंट करेंगे. महंत गौरी शंकर दास ने बताया कि सोना, चांदी, पीतल, तांबा समेत 8 धातुओं से बनी अष्टधातु की ईंट राम मंदिर निर्माण की नींव में रखने के लिए प्रधानमंत्री को भेंट की जाएगी. पीएम मोदी को दी जाने वाली ईंट बेहद अद्भुत और कीमती है, महंत ने बताया कि धार्मिक आयोजन में अष्टधातु का बेहद महत्व होता है. पूजा-पाठ में अष्टधातु से निर्मित वस्तुओं का ही इस्तेमाल किया जाता है. महंत गौरी शंकर दास का मानना है कि अष्टधातु की ईंट को नींव के तौर पर रखने से राम मंदिर को और मजबूती मिलेगी और धार्मिक महत्व भी सार्थक होगा. करीब 35 किलो वजनी अष्टधातु की ईंट की कीमत करीब 30 लाख रुपये से ज्यादा है. जिसको राम मंदिर की आधारशिला को मजबूत करने के लिए हनुमानगढ़ी के निवार्णी अखाड़ा की ओर से तैयार करवाया गया है. अष्टधातु ईंट की में एक किलो से ज्यादा सोने का प्रयाग हुआ है. उन्होंने बताया कि हनुमानगढ़ी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत के लिए तैयार है. 5 अगस्त के दिन पूरी हनुमानगढ़ी को फूलों से सजाया जाएगा और दीपमाला से अयोध्या को प्रकाशित किया जाएगा. जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हनुमानगढ़ी में हनुमान जी का दर्शन करने आएंगे तो उन्हें राम मंदिर की नींव में रखने के लिए विषेश अष्टधातु की ईंट भेंट की जाएगी


रूडकी 26 जुलाई (आनिल लोहानी संवाददाता गोविंद कृपा रूडकी) नेहरू युवा केन्द्र हरिद्वार के जिला युवा समन्वयक श्री हिमांशु सिंह राठौर जी के दिशा निर्देशानुसार वियज कारगिल दिवस के उपलक्ष् में कारगिल युद्ध मे शहीद हुये स्व-श्री मान सिंह(रायफलमैन "मेशन्स इन डिस्पैच " 18 गढ़वाल रायफल्स) जम्मू एणड कश्मीर के परिवार के साथ मिलकर रुद्राक्ष का पेड़ लगाया एवम उनके परिवार को सॉल देकर सम्मानित किया इस मौके पर नारसन ब्लॉक से एन वाई वी अनुराग सैनी ओर नेहरू युवा मंडल अकबरपुर ढाढेकी के अध्यक्ष आशीष सैनी ओर शहीद सैनिक के परिवार के सदस्य मौजूद रहे


हरिद्वार 26जुलाई (विरेन्द्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) पूर्व योजना आयोग के सदस्य विमल कुमार के नेतृत्व में गठित वाईस आफ हैल्दी नेशन की प्रति रविवार को चलाई जारही जनजागरूकता की मुहिम रंग ला रही है पर्यावरण रक्षा जागरण कार्यक्रम के द्वारा प्रति रविवार को हरिद्वार में बड़ते वायु .ध्वनि प्रदूषण में कमी लाने के लिए साइकिल अभियान पिछले 2 महीने से निरंतर चल रहा है आज भी संस्था से जुड़े सैकड़ों साथियों ने इस विचार अभियान के जनक विमल कुमार के नेतृत्व में प्रातः प्रेमनगर पुल से ज्वालापुर होते हुए विवेक विहार डा० संदीप कपूर के आवास तक साइकिल यात्रा का आयोजन किया तथा विवेक विहार कालोनी के पार्क में श्र्धेय स्व. राम मूर्ति वीर जी व देश पर हुए शहीदो की स्मृति में आज कारगिल विजय दिवस के उपलक्ष्य में वृक्षारोपण भी किया गया आज के समाज जागरण के कार्यक्रम में प्रमुख रूप से डा जितेंद्र सिंह .प्रवीन कुमार ज़िला अध्यक्ष पंजाबी समाज अनिल गुप्ता संजीव मेहता दीपक गुप्ता पंकज सेठी विकास गुलाटी नरेश मनचंदा हरविंदर उप्पल रमेश उप्पाध्य गौरव अरोड़ा डा० हिमांशु पंडित निशांत कौशिक सुदीप बेनर्जी नीलू खन्ना आदि सैकड़ों साथी उपस्थित रहे सभी ने पर्यावरण रक्षा व नगर में वायु ध्वनि प्रदूषण में कमी लाने का संकल्प लिया यह अभियान आगे भी लगातार चलता रहेगा प्रतेय्क रविवार इस अभियान में कुछ नए लोग जुड़ते जा रहे है


पर्स में गोविंद की फोटो (प्ररेणादायक प्रसंग डा0 एस के कुलश्रेष्ठ) यात्रियों से खचाखच भरी ट्रेन में टी.टी.ई. को एक पुराना फटा सा पर्स मिला। उसने पर्स को खोलकर यह पता लगाने की कोशिश की कि वह किसका है । लेकिन पर्स में ऐसा कुछ नहीं था जिससे कोई सुराग मिल सके। पर्स में कुछ पैसे और भगवान श्रीकृष्ण की फोटो थी। फिर उस टी.टी.ई. ने हवा में पर्स हिलाते हुए पूछा - "यह किसका पर्स है ?" एक बूढ़ा यात्री बोला - "यह मेरा पर्स है। इसे कृपया मुझे दे दें। ,,,,,,, "टी.टी.ई. ने कहा - "तुम्हें यह साबित करना होगा कि यह पर्स तुम्हारा ही है। केवल तभी मैं यह पर्स तुम्हें लौटा सकता हूं।,,,, "उस बूढ़े व्यक्ति ने दंत विहीन मुस्कान के साथ उत्तर दिया - "इसमें भगवान श्रीकृष्ण की फोटो है। "टी.टी.ई. ने कहा" यह कोई ठोस सबूत है, किसी भी व्यक्ति के पर्स में भगवान श्रीकृष्ण की फोटो हो सकती है। इसमें क्या खास बात है ? पर्स में तुम्हारी फोटो क्यों नहीं है? "बूढ़ा व्यक्ति ठंडी गहरी सांस भरते हुए बोला - "मैं तुम्हें बताता हूं कि मेरा फोटो इस पर्स में क्यों नहीं है। जब मैं स्कूल में पढ़ रहा था, तब ये पर्स मेरे पिता ने मुझे दिया था। उस समय मुझे "जेब खर्च" के रूप में कुछ पैसे मिलते थे। मैंने पर्स में अपने माता-पिता की फोटो रखी हुयी थी। जब मैं किशोर अवस्था में पहुंचा, मैं अपनी कद-काठी पर मोहित था। मैंने पर्स में से माता-पिता की फोटो हटाकर अपनी फोटो लगा ली। मैं अपने सुंदर चेहरे और काले घने बालों को देखकर खुश हुआ करता था। कुछ साल बाद मेरी शादी हो गयी। मेरी पत्नी बहुत सुंदर थी और मैं उससे बहुत प्रेम करता था। मैंने पर्स में से अपनी फोटो हटाकर उसकी लगा ली। मैं घंटों उसके सुंदर चेहरे को निहारा करता। जब मेरी पहली संतान का जन्म हुआ, तब मेरे जीवन का नया अध्याय शुरू हुआ। मैं अपने बच्चे के साथ खेलने के लिए काम पर कम समय खर्च करने लगा। मैं देर से काम पर जाता ओर जल्दी लौट आता। कहने की बात नहीं, अब मेरे पर्स में मेरे बच्चे की फोटो आ गयी थी। " बूढ़े व्यक्ति ने डबडबाती आँखों के साथ बोलना जारी रखा - "कई वर्ष पहले मेरे माता-पिता का स्वर्गवास हो गया। पिछले वर्ष मेरी पत्नी भी मेरा साथ छोड़ गयी। मेरा इकलौता पुत्र अपने परिवार में व्यस्त है। उसके पास मेरी देखभाल का क्त नहीं है। जिसे मैंने अपने जिगर के टुकड़े की तरह पाला था, वह अब मुझसे बहुत दूर हो चुका है। अब मैंने भगवान कृष्ण की फोटो पर्स में लगा ली है। अब जाकर मुझे एहसास हुआ है कि श्रीकृष्ण ही मेरे शाश्वत साथी हैं। वे हमेशा मेरे साथ रहेंगे। काश मुझे पहले ही यह एहसास हो गया होता। जैसा प्रेम मैंने अपने परिवार से किया, वैसा प्रेम यदि मैंने ईश्वर के साथ किया होता तो आज मैं इतना अकेला नहीं होता। " टी.टी.ई. ने उस बूढ़े व्यक्ति को पर्स लौटा दिया। अगले स्टेशन पर ट्रेन के रुकते ही वह टी.टी.ई. प्लेटफार्म पर बने बुकस्टाल पर पहुंचा और विक्रेता से बोला - "क्या तुम्हारे पास भगवान की कोई फोटो है? मुझे अपने पर्स में रखने के लिए चाहिए।


सरलता और करूणा की प्रतिमूर्ति थे स्वामी अमलानंद गिरि महाराज :- स्वामी शरद पुरी परम गौ भक्त ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद महाराज की छठी पुण्य तिथि पर अर्पित की गयी श्रद्धांजलि हरिद्वार 25 जुलाई श्री त्रिपुरा योग आश्रम के संस्थापक परम गौ भक्त ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद गिरि महाराज की छठी पुण्य तिथि त्रिपुरा योग आश्रम ट्रस्ट के अध्यक्ष स्वामी शारदा नंद गिरि महाराज की प्रेरणा से त्रिपुरा योग आश्रम कनखल में स्वामी शरद पुरी महाराज के सानिध्य और गंगोत्री धाम से पधारे स्वामी नरसिंह तीर्थ महाराज की गरिमामय उपस्थिति में श्रद्धा भाव के साथ मनाई गई। इस अवसर आचार्य चिंतामणि के आचार्यत्व में विप्रजनो ने यज्ञ, हवन, रूद्राभिषेक अनुष्ठान सम्पन्न करवाऐ, संतजनो, भक्तजनो ने श्रीविग्रह पूजन अर्चन कर श्रद्धा सुमन अर्पित किये । इस अवसर पर स्वामी शरद पुरी महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद गिरि महाराज सरलता और करूणा की प्रतिमूर्ति थे उनका सारा जीवन गौवंश के संरक्षण और संवर्धन में व्यतीत हुआ उन्होने सनातन हिन्दू धर्म और संस्कृति का देश विदेश में प्रचार प्रसार किया। स्वामी नरसिंह तीर्थ महाराज ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद गिरि महाराज परम गौ भक्त थे देश में अगर साहीवाल नस्ल की गाय का अस्तित्व बचा हैं तो इस श्रेय ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद गिरि महाराज को जाता हैं। लाक डाउन के चलते त्रिपुरा योग आश्रम में संक्षिप्त रूप से श्रद्धांजलि समारोह आयोजित किया गया जिसमें स्वामी संतमुनि, आदि ने श्रद्धांजलि अर्पित की दूसरी ओर वारणसी में वेदनिधी वैदिक हेरिटिज रिसर्चर फाउंडेशन के तत्वावधान में स्वामी शारदा नंद गिरि महाराज के सानिध्य में दिल्ली में नवयोग दीप संस्थान मे अशोक राणा, पुणे में राजेन्द्र प्रताप सिंह, लक्षमी राजन सिंह, सहित देश विदेश में बसे ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद गिरि महाराज के शिष्यो ने श्रद्धांजलि समारोह आयोजित कर श्रद्धा सुमन अर्पित किये। त्रिपुरा योग आश्रम में स्वामी अमलानंद गिरि महाराज की शिष्या सोमा नायर, शशि नायर, हरीश शर्मा, संजय वर्मा आदि ने श्रद्धांजलि अर्पित की।


बेलपत्र की कहानी :- स्कंद पुराण के अनुसार, एक बार माता पार्वती के पसीने की बूंद मंदराचल पर्वत पर गिर गई और उससे बेल का पेड़ निकल आया। चुंकि माता पार्वती के पसीने से बेल के पेड़ का उद्भव हुआ। अत: इसमें माता पार्वती के सभी रूप बसते हैं। वे पेड़ की जड़ में गिरिजा के स्वरूप में, इसके तनों में माहेश्वरी के स्वरूप में और शाखाओं में दक्षिणायनी व पत्तियों में पार्वती के रूप में रहती हैं। फलों में कात्यायनी स्वरूप व फूलों में गौरी स्वरूप निवास करता है। इस सभी रूपों के अलावा, मां लक्ष्मी का रूप समस्त वृक्ष में निवास करता है। बेलपत्र में माता पार्वती का प्रतिबिंब होने के कारण इसे भगवान शिव पर चढ़ाया जाता है। भगवान शिव पर बेल पत्र चढ़ाने से वे प्रसन्न होते हैं और भक्त की मनोकामना पूर्ण करते हैं। जो व्यक्ति किसी तीर्थस्थान पर नहीं जा सकता है अगर वह श्रावण मास में बिल्व के पेड़ के मूल भाग की पूजा करके उसमें जल अर्पित करे तो उसे सभी तीर्थों के दर्शन का पुण्य मिलता है। हर हर महादेव ।


परम गौ भक्त ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद महाराज की दो दिवसीय पुण्य तिथि अनुष्ठान प्रारंभ हुआ। त्रिपुरा योग आश्रम कनखल में स्वामी शरद पुरी महाराज के सानिध्य मे धार्मिक अनुष्ठान प्रारंभ हरिद्वार 24 जुलाई श्री त्रिपुरा योग आश्रम कनखल के संस्थापक परम गौ भक्त ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद महाराज की छठी पुण्य तिथि शनिवार को आश्रम में स्वामी शरद पुरी महाराज के सानिध्य में श्रद्धा भाव के साथ मनाई जाऐगी उक्त जानकारी श्री त्रिपुरा योग आश्रम के प्रबन्धक आचार्य चिंतामणि ने प्रदान करते हुए बताया की लाक डाउन के चलते इस वर्ष बहुत ही संक्षिप्त कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसका आरंभ शुक्रवार को श्रीराम चरित मानस के पाठ तथा भगवान शिव के अभिषेक के साथ साथ हुआ। शनिवार को स्वामी शरद पुरी महाराज के सानिध्य में ब्रह्मलीन स्वामी अमलानंद महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित की जाऐगी।


<no title>दिव्य प्रेम सेवा मिशन के राष्ट्रीय संयोजक संजय चतुर्वेदी का जन्मदिन सेवा कुंज मे उनके मित्रों ,शुभचिंतको और दिव्य प्रेम सेवा मिशन के संस्थापक अध्यक्ष आशीष गौतम भैया जी के सानिध्य में मनाया गया। इस अवसर पर यज्ञ, हवन और रूद्राभिषेक का आयोजन किया गया। संजय चतुर्वेदी ने पौधा रोपण किया ।किसान आयोग के अध्यक्ष राकेश राजपूत, नगर निगम में उप नेता प्रतिपक्ष अनिरूद्ध भाटी, वरिष्ठ भाजपा युवा नेता रोहन सहगल, डा0 योगेश पांडे, संस्कृत भारती के प्रान्त मंत्री योगेश विधार्थी, पार्षद पीएस गिल, समाजसेवी संजय वर्मा, एडवोकेट बेगराज सिंह,अनिल शर्मा नीलू सहित दिव्य प्रेम सेवा मिशन के भैय्या बहनो ने पुष्प गुच्छ दे कर संजय चतुर्वेदी को बँधाई दी।


कीर्ति नगर 23जुलाई (संतोष मेहता संवाददाता गोविंद कृपा कीर्ति नगर) सांसद #तीरथ_सिंह_रावत , देवप्रयाग विधानसभा के विधायक #विनोद_कंडारी व जिला पंचायत अध्यक्ष सोना सजवाण , द्वारा नगर_पंचायत कीर्तिनगर क्षेत्रांगत हुए विभिन्न #विकास_कार्यों का #लोकार्पण एवं #शिलान्यास किया गया सांसद तीर्थ सिंह रावत ने नगर पंचायत अध्य्क्षा श्रीमती कैलाशी देवी जाखी द्वारा इतने कम समय मे किये गये विकास कार्यो की तारीफ की। इस मौके पर भाजपा जिला अध्य्क्ष टिहरी विनोद रतूड़ी ,मंडल अध्य्क्ष नरेन्द्र भंडारी,नरेंद्र कुंवर,केदार सिंह बिष्ट, सभासद विकास दुमागा, अजय रावत,दीपा देवी आदि मौजूद रहे। ।


1सितंबर से 20 सितंबर तक होगी हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय श्रीनगर की परीक्षाऐ। गढ़वाल विवि द्वारा आज यूजी फाइनल ईयर एवं पीजी फाइनल ईयर के परीक्षार्थियों के प्रस्तावित परीक्षा कार्यक्रम की घोषणा कर दी गई है एस एम जे एन पीजी कालेज हरिद्वार के प्रधानाचार्य डा0 सुनील कुमार बत्रा ने बताया कि विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक प्रोफ़ेसर आरसी भट्ट के द्वारा प्रेषित प्रस्तावित परीक्षा कार्यक्रम में पीजी की परीक्षाओं को प्रातः 8:00 से 9:00 के मध्य संपन्न कराया जाएगा तथा बीए एवं बीएससी की परीक्षाओं को 11:00 से 12:00 के मध्य तथा बीकाम की परीक्षा को 2 से 3 बजे की पारियों में संपन्न कराया जाएगा इस अवसर पर जो परीक्षार्थी अन्य राज्यों से परीक्षा देने के लिए परीक्षा केंद्र पर उपस्थित होंगे उन्हें राज्य द्वारा निर्धारित कोविड-19 के नियमों को पालन करना होगा एसएम जे एन पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुनील कुमार बत्रा ने बताया की प्रस्तावित परीक्षा कार्यक्रम प्राप्त हो गया है तथा उसके अनुरूप आवश्यक दिशा निर्देश कॉलेज परीक्षा विभाग को दिए जा रहे हैं ताकि उसके अनुरूप आवश्यक व्यवस्था एवं सैनिटाइजेशन इत्यादि की व्यवस्था को सुचारू रूप से कराया जा सके। यहां यह उल्लेखनीय है इन परीक्षाओं में रविवार को भी परीक्षा संपन्न कराई जाएगी।


🌹🌹ॐ नमः शिवाय मित्रों🌹🌹 🌷🔱🚩🙏🚩🔱 श्री घुश्मेश्वर कैसे बने अंतिम ज्योर्तिलिंग 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰 भगवान शिव के बारह ज्योर्तिलिंग देश के अलग-अलग भागों में स्थित हैं। इन्हें द्वादश ज्योर्तिलिंग के नाम से जाना जाता है। इन ज्योर्तिलिंग के दर्शन, पूजन, आराधना से भक्तों के जन्म-जन्मांतर के सारे पाप समाप्त हो जाते हैं। वे भगवान शिव की कृपा के पात्र बनते हैं। ऐसे कल्याणकारी ज्योर्तिलिंगों में श्री घुश्मेश्वर ज्योर्तिलिंग एक प्रमुख ज्योर्तिलिंग माना जाता है। द्वादश ज्योर्तिलिंगों में यह अंतिम ज्योर्तिलिंग है। इसे घुश्मेश्वर, घुसृणेश्वर या घृष्णेश्वर भी कहा जाता है। यह महाराष्ट्र प्रदेश में दौलताबाद से बारह मील दूर वेरुल गांव के पास स्थित है। श्री घुश्मेश्वर ज्योर्तिलिंग के विषय में पुराणों में यह कथा वर्णित है- दक्षिण देश में देवगिरि पर्वत के निकट सुधर्मा नामक एक अत्यंत तेजस्वी तपोनिष्ठ ब्राह्मण रहता था। उसकी पत्नी का नाम सुदेहा था। दोनों में परस्पर बहुत प्रेम था। किसी प्रकार का कोई कष्ट उन्हें नहीं था लेकिन उन्हें कोई संतान नहीं थी। ज्योतिष-गणना से पता चला कि सुदेहा के गर्भ से संतानोत्पत्ति हो ही नहीं सकती। सुदेहा संतान की बहुत ही इच्छुक थी। उसने सुधर्मा से अपनी छोटी बहन से दूसरा विवाह करने का आग्रह किया। पहले तो सुधर्मा को यह बात नहीं जंची लेकिन अंत में उन्हें पत्नी की जिद के आगे झुकना ही पड़ा। वे उसका आग्रह टाल नहीं पाए। वे अपनी पत्नी की छोटी बहन घुश्मा को ब्याह कर घर ले आए। घुश्मा अत्यंत विनीत और सदाचारिणी स्त्री थी। वह भगवान शिव की अनन्य भक्त थी। प्रतिदिन एक सौ एक पार्थिव शिवलिंग बनाकर हृदय की सच्ची निष्ठा के साथ उनका पूजन करती थी। भगवान शिव जी की कृपा से थोड़े ही दिन बाद उसके गर्भ से अत्यंत सुन्दर और स्वस्थ बालक ने जन्म लिया। बच्चे के जन्म से सुदेहा और घुश्मा दोनों की ही आनंद की सीमा न रही। दोनों के दिन बड़े आराम से बीत रहे थे लेकिन न जाने कैसे थोड़े ही दिनों बाद सुदेहा के मन में एक कुविचार ने जन्म ले लिया। वह सोचने लगी, मेरा तो इस घर में कुछ है नहीं। सब कुछ घुश्मा का है। अब तक सुदेहा के मन का कुविचार रूपी अंकुर एक विशाल वृक्ष का रूप ले चुका था। मेरे पति पर भी उसने अधिकार जमा लिया। संतान भी उसी की है। यह कुविचार धीरे-धीरे उसके मन में बढऩे लगा। इधर घुश्मा का वह बालक भी बड़ा हो रहा था। धीरे-धीरे वह जवान हो गया। उसका विवाह भी हो गया। अंतत: एक दिन उसने घुश्मा के युवा पुत्र को रात में सोते समय मार डाला और उसके शव को ले जाकर उसी तालाब में फैंक दिया जिसमें घुश्मा प्रतिदिन पार्थिव शिवलिंगों को फैंका करती थी। सुबह होते ही सबको इस बात का पता लगा। पूरे घर में कोहराम मच गया। सुधर्मा और उसकी पुत्रवधू दोनों फूट-फूटकर रोने लगे लेकिन घुश्मा नित्य की भांति भगवान शिव की आराधना में तल्लीन रही। जैसे कुछ हुआ ही न हो। पूजा समाप्त करने के बाद वह पार्थिव शिवलिंगों को तालाब में छोडऩे के लिए चल पड़ी। जब वह तालाब से लौटने लगी उसी समय उसका प्यारा लाल तालाब के भीतर से निकलकर आता हुआ दिखाई पड़ा। वह सदा की भांति आकर घुश्मा के चरणों पर गिर पड़ा। जैसे कहीं आस-पास से ही घूमकर आ रहा हो। इसी समय भगवान शिव भी वहां प्रकट होकर घुश्मा से वर मांगने को कहने लगे। वह सुदेहा की घिनौनी करतूत से अत्यंत क्रुद्ध हो उठे थे। अपने त्रिशूल द्वारा उसका गला काटने को उद्यत दिखाई दे रहे थे। घुश्मा ने हाथ जोड़कर भगवान शिव से कहा, ‘प्रभो! यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं तो मेरी उस अभागिन बहन को क्षमा कर दें। निश्चित ही उसने अत्यंत जघन्य पाप किया है किन्तु आपकी दया से मुझे मेरा पुत्र वापस मिल गया। अब आप उसे क्षमा करें और प्रभो! मेरी एक प्रार्थना और है, लोक-कल्याण के लिए आप इस स्थान पर सर्वदा के लिए निवास करें।’ भगवान शिव ने उसकी ये दोनों प्रार्थनाएं स्वीकार कर लीं। ज्योर्तिलिंग के रूप में प्रकट होकर वह वहीं निवास करने लगे। सती शिवभक्त घुश्मा के आराध्य होने के कारण वे यहां घुश्मेश्वर महादेव के नाम से विख्यात हुए। घुश्मेश्वर ज्योर्तिलिंग की महिमा पुराणों में बहुत विस्तार से वर्णित की गई है। इनका दर्शन लोक-परलोक दोनों के लिए अमोघ फलदायी है।🙏🌷🌷 🌷🌷🌷हर हर महादेव🌷🌷🌷


विकास कॉलोनी उत्थान समिति ट्रस्ट रजि द्वारा सभी कॉलोनी बासियों के सहयोग से रामघट के सामने नवनिर्मित पार्क में मुकेश कौशिक पार्षद ललित रावत और पार्षद पति प्रीत कमल जी के करकमलों से वृक्षारोपण किया गया , जिसमें समिति और कॉलोनी बसियो ने बढ़ चढ़कर भागीदारी की | अरूण त्यागी, अवनीश जिन्दल, जंगबहादुर, अशोक मेहता, आशु गुप्ता, सुंदर सिंह रावत, विशाल सैनी, कुलदीप राठौर , गिरीश जगूड़ी, लखेड़ा जी, r k मल्होत्रा, विश्वनाथ डे, s n देवलाल, हरिओम मनचंदा, सतीश चंद शर्मा, m s नेगी, विवेक जी, इत्यादि लोगों की उपस्थित रही |


भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व० श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के अभिन्न मित्रों की शृंखला के मज़बूत स्तम्भ पूर्व सांसद पूर्व मंत्री श्री लाल जी टंडन जी वर्तमान में महामहिम राज्यपाल मध्यप्रदेश के निधन से आज भा ज पा के एक अध्याय का अंत हो गया मा टंडन जी ने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में निष्कलंक जीवन जिया मा० टंडन जी ने कई बार उ.प्र सरकार में में बहुत विभागों के मंत्री पद पर रहकर प्रदेश के विकास में मज़बूत आधार स्तम्भ के रूप में पहचाने जाते रहे है देश में विशेष रूप से उप्र के लाखों युवा कार्यकर्ताओं ने उनके सानिध्य में अपनी राजनीतिक व समाजिक यात्रा आरम्भ करी उनमे से कई आज देश में विभिन्न पदों पर समाज सेवा के उच्चस्तरीय पदों पर ज़िम्मेदारी निभा रहे है व कई कार्यकर्ता विभिन्न क्षेत्रों में सेवा प्रदान कर रहे है मुझे मा० टंडन जी का विशेष स्नेह व मार्गदर्शन सदा मिलता रहा है जिस कारण मै व समस्त परिवार जन इस समाचार से बेहद दुःखी है मा टंडन जी जैसे मनीषी व समाज के चिंतक के निधन से भा ज पा में व समाज में एक रिक्तिका आ गयी है अब उनके सुपुत्र श्री आशुतोष जी (गोपाल भैया ) जो वर्तमान में उप्र सरकार में वरिष्ठ मंत्री है उनके बनाए मार्ग पर चल कर मा टंडन जी के समर्थकों व चिंतकों का नेतृत्व करेंगे मै अपने परिवार की ओर से ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ मा० टंडन जी को अपने चरणो में स्थान दे व परिवार जनो व उनके शुभचिंतको को असीम दुःख सहने की शक्ति प्रदान करे ॐ शान्ति ॐ विमल कुमार हरिद्वार


आत्मनिर्भर भारत :- हिमाचल प्रदेश में एकमात्र कुल्लू जिले में" हिमाचल माटी कला उत्पाद केंद्र "है पिछले 4 सालों में हिमाचल के ही नहीं बल्कि दूर-दराज के लोग पर्यटक भी मिट्टी के बर्तनों का प्रयोग करने की सलाह लेते हैं और साथ ही खरीदारी भी करते हैं प्रजापति डॉक्टर के के वर्मा मिट्टी के बर्तनों की लाभदाई विशेषताएं रखरखाव और उपयोग करने की सभी तरीके कस्टमर को बताते हैं। कुल्लू जिले में लाहौल स्पीति के लोग किन्नौर के लोग भी खरीदारी करने आते हैं लोगों को बहुत ही पसंद आया है और मिट्टी के बर्तनों की बहुत सराहना करते हैं कि आपने एकमात्र मिट्टी के बर्तनों का शोरूम खोलकर यहां के पहाड़ी क्षेत्र में बहुत अच्छा काम किया है


Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...