बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली का हर की पौड़ी पर हुआ आगमन




 हर की पौड़ी पर गंगा पूजन के साथ शुरू हुआ बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह 

हंस फाउंडेशन की अध्यक्षा पूज्य मंगला माता जी भोले जी महाराज एवं श्रीमहंत ललिता नंद गिरी जी महाराज के सानिध्य में यात्रा के संयोजक उत्तराखंड सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे ,मंत्री प्रसाद नैथानी ने मां गंगा पूजन कर लिया गंगा मैया का आशीर्वाद 


हरिद्वार 17 मई   उत्तराखंड के जिला टिहरी गढ़वाल में विशौन पर्वत पर स्थित बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला  धाम से हरिद्वार आई डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह  हर की पौड़ी पर गंगा पूजन, देव डोलियों के गंगा स्नान के साथ प्रारंभ हुआ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हंस फाउंडेशन की अध्यक्षा मंगला माता जी एवं भोले जी महाराज रहे।  हरिद्वार में इस यात्रा के संयोजक भारत माता मंदिर के श्री महंत ललिता नंद गिरी जी ने हर की पौड़ी पर डोली यात्रा का स्वागत किया और पूज्य मंगला माताजी ,भोले जी महाराज ने मुख्य  रूप से बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला  डोली का पूजन कर डोली यात्रा को जनपद हरिद्वार भ्रमण और उसके पश्चात संपूर्ण उत्तराखंड के लिए रवाना किया।  इस अवसर पर पूज्य मंगला माता जी ने कहा कि उत्तराखंड सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे मंत्री प्रसाद नैथानी बाबा विश्वनाथ और मां जगदीशीला के अनन्य भक्त है


मंत्री प्रसाद नैथानी  का यह एक शुभ कार्य है जिसके माध्यम से उत्तराखंड में स्थित देवालयों , तीर्थ स्थलों को एक नई पहचान मिली है और उत्तराखंड में तीर्थाटन को बढ़ावा मिला है । इस रजत जयंती वर्ष में हमें भी इस डोली यात्रा में शामिल होने का अवसर प्राप्त हुआ है यह सौभाग्य की बात है । भारत माता मंदिर के श्रीमहंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज ने बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा के सामाजिक ,धार्मिक पहलू पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह डोली यात्रा संपूर्ण उत्तराखंड को धार्मिक ,सांस्कृतिक, एकता के सूत्र में बांधने का काम करती है यह कार्य पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे मंत्री प्रसाद नैथानी के द्वारा शुरू किया गया था जो अब एक परंपरा बन गई है। कैबिनेट मंत्री एवं इस यात्रा के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी ने इस  जयंती समारोह के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि इस बार रजत जयंती समारोह के अंतर्गत पूरे वर्ष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे जिसके अंतर्गत संपूर्ण उत्तराखंड में के  कुछ विशेष कार्य भी किए जाएंगे । हरिद्वार पहुंचने पर डोली यात्रा के स्थानीय संयोजक आमेश शर्मा , संजय अत्री , मनोज झा, विनोद नेगी, रुद्राक्ष,एडवोकेट वरुणेश चौधरी, समाजसेवी अनीता वर्मा ,संजय वर्मा ने डोली यात्रा का स्वागत किया। डोली यात्रा में देहरादून से शिक्षाविद कैलाशपति मैठाणी, ऋषिकेश से केदार सिंह लुठयागी, रुद्रपुर से दिनेश भट्ट, अल्मोड़ा से मुकेश कुमार, गोविंद सिंह पेटवाल ,सोनू सिंह ,इंद्र भूषण बडोनी , समिति के अध्यक्ष रूप सिंह बजयाला ,मनोज राणा तथा ग्यारह गांव हिदांव टिहरी गढ़वाल से बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्तजन शामिल रहे।

इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट संस्था का जाट संवाद कार्यक्रम हुआ आयोजित




 हरिद्वार १६  मई इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट संस्था का जाट संवाद कार्यक्रम का आयोजन जमालपुर स्थित राज राणा काम्प्लेक्स परिसर में हुआ जिसमें इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट संस्था के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष रामावतार परसानिया एवं संस्था के उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष टोनी वर्मा ने कार्यक्रम में आए हुए जाट समाज के युवाओं एवं गणमान्य लोगों से आह्वान करते हुए कहा कि वर्तमान समय में समाज में अपनी राजनीतिकऔर आर्थिक स्थिति में सुधार करने के लिए शिक्षा और व्यवसाय ही एकमात्र विकल्प है उन्होंने जाट समाज से अपने बच्चों को शिक्षित करने का आह्वान करते हुए कहा कि नेता विधायक और एमपी तो मात्र 5 वर्ष तक प्रभावशाली रहते हैं लेकिन उच्च शिक्षित युवक 40 साल तक आईएएस पीसीएस और बड़ा अधिकारी बनकर अपने समाज और राष्ट्र की सेवा कर सकते है इसलिए अपने बच्चों को संपत्ति ना देकर शिक्षा दे जमालपुर कला के पूर्व प्रधान सुशील राज राणा के संयोजन में आयोजित कार्यक्रम में शहर से बड़ी संख्या में समाजसेवी ,शिक्षक, डॉक्टर अधिवक्ता और युवाओं ने एकत्र होकर इंटरनेशनल जाट पार्लियामेंट के संवाद कार्यक्रम में प्रतिभाग किया ,आए हुए अतिथियों का स्वागत आजाद वीर, मोहित चौधरी, विपिन चौधरी, जगबीर सिंह, संजय चौधरी, झबरू सिंह शेखावत आदि ने किया।

गायत्री विद्यापीठ के होनहारों ने लिया डॉक्टर प्रणव पांडया एवं शैल दीदी से आशीर्वाद

 गायत्री विद्यापीठ के टॉपरों ने गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से लिया आशीर्वाद

हरिद्वार 15 मई। सीबीएसई के बोर्ड परीक्षा के परिणाम देख गायत्री विद्यापीठ के 12वीं व 10वीं विद्यार्थी झूम उठे। विद्यापीठ के टॉपरों नेे आज अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख एवं गायत्री विद्यापीठ के अभिभावकद्वय श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या एवं श्रद्धेया शैलदीदी ने भेंट की और अपने अपने भविष्य के लिए मार्गदर्शन पाया। इस अवसर पर श्रद्धेय डॉ पण्ड्या ने कहा कि गायत्री विद्यापीठ का शैक्षणिक स्तर साल दर साल उंचा उठ रहा है और विद्यापीठ विद्यार्थियों को उचित वातावरण देने के लिए संकल्पित है। विद्यापीठ के समस्त शिक्षक विद्यार्थियों के चहुंमुखी विकास के लिए संकल्पित हो, मनोयोगपूर्वक कार्य करते हैं। श्रद्धेया शैलदीदी ने कहा कि कड़ी मेहनत कभी भी निष्फल नहीं होती, समय के साथ अपना परिणाम अवश्य देता है, इसलिए सदैव कड़ी मेहनत करते रहना चाहिए। उन्हांेने महापुरुषों, संतों की कहानी से सीख लेकर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। 


गायत्री विद्यापीठ की व्यवस्था मण्डल प्रमुख श्रीमती शैफाली पण्ड्या ने उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं दी और उनके उज्ज्वल भविष्य के मार्गदर्शन दिया। प्रधानाचार्य श्री सीताराम सिन्हा आदि शिक्षकों ने भी उत्तीर्ण विद्यार्थियों को बधाई दी।

ऋषिकुल के छात्र-छात्राओं ने किया योग ग्राम का भ्रमण


*उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ऋषिकुल परिसर, हरिद्वार के बी. ए. एम. एस. तृतीय वर्ष एवं द्वितीय व्यावसायिक के छात्र / छात्राओं का योग, प्राकृतिक एवं पंचकर्म चिकित्सा एवं रिसर्च केंद्र, औरंगाबाद,योगग्राम(हरिद्वार) का शैक्षणिक भ्रमण कराया*

 

हरिद्वार 15 मई उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ऋषिकुल परिसर, स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग द्वारा बी. ए. एम. एस. तृतीय वर्ष एवं द्वितीय व्यावसायिक के कुल 91 छात्र / छात्राओं को स्वस्थवृत्त एवं योग विषय में आवश्यक प्रात्यक्षिक शैक्षणिक भ्रमण के अंतर्गत पतंजलि के योग, प्राकृतिक एवं पंचकर्म चिकित्सा एवं रिसर्च केंद्र,औरंगाबाद,योगग्राम(हरिद्वार) का शैक्षणिक भ्रमण  डॉ शोभित कुमार वार्ष्णेय एसो. प्रो. एवं विभागाध्यक्ष स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग, डॉ  प्रियंका शर्मा, असिस्टेंट प्रो.स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग, साथ ही योग, प्राकृतिक & पंचकर्म चिकित्सा एवं रिसर्च केंद्र के एच. आर श्री मनोज एवं योग, आयुर्वेद एवं प्राकृतिक चिकित्सा के चिकित्सक डॉ अनुराग शर्मा के मार्गदर्शन में कराया गया। इस केंद्र में पंचकर्म एवं विशेषता प्राकृतिक चिकित्सा के  पंच तत्वों (पृथ्वी, वायु, जल, अग्नि, आकाश ) के द्वारा विभिन्न रोगों का इलाज किया जा रहा है,इस शैक्षणिक भ्रमण में ऋषिकुल परिसर के बी.ए.एम.एस. तृतीय वर्ष 2020 बैच एवं द्वितीय व्यावसायिक 2021बैच के छात्र छात्राओं ने सूर्य चिकित्सा, मिट्टी चिकित्सा, जल चिकित्सा,वायु चिकित्सा,अग्नि चिकित्सा और एनिमा के प्रैक्टिकल अभ्यास पेशेंट को दिए जा रहे संपूर्ण चिकित्सा का अवलोकन किया साथ ही प्राकृतिक


चिकित्सा के सिद्धांतों का विस्तृत वर्णन प्राकृतिक चिकित्सक विशेषज्ञ से प्राप्त किया।इस शैक्षणिक भ्रमण के अंत में डॉ शोभित कुमार वार्ष्णेय एवं डॉ प्रियंका शर्मा ने संस्थान के चिकित्सक डॉ अनुराग शर्मा एवं संस्थान के एच. आर. श्री मनोज को विद्यार्थियों का ज्ञानवर्धन करने के लिए  उनकी पूरी टीम का धन्यवाद ज्ञापित किया।

शुक्रवार को हरकी पौडी पहुँचेगी बाबा विश्वनाथ मां जगदीशिला डौली यात्रा

 17 मई को हर की पौड़ी पहुंचेगी बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा :- महामंडलेश्वर स्वामी ललितानंद गिरी 


डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह पूरे वर्ष मनाया जाएगा


हरिद्वार 15 मई विशौन पर्वत टिहरी गढ़वाल स्थित बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा 25वें वर्ष में प्रवेश कर रही है इस वर्ष रजत जयंती समारोह का शुभारंभ 16 मई को देहरादून से होगा जिसमें इस यात्रा के संयोजक और सूत्रधार पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे मंत्री प्रसाद नैथानी डोली यात्रा को लेकर 17 मई दिन शुक्रवार को प्रातः  हर की पौड़ी पहुंचेंगे उपरोक्त जानकारी भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज ने प्रदान करते हुए बताया कि उत्तराखंड भ्रमण के लिए हर की पौड़ी पर गंगा पूजन के साथ बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा को गंगा स्नान करवाने के पश्चात इस बार पहले जनपद हरिद्वार के भ्रमण के लिए रवाना किया जाएगा उसके पश्चात उत्तराखंड भ्रमण के लिए देव डोलिया जाएगी हरिद्वार में इस यात्रा के संयोजक समाजसेवी अमेश शर्मा ने बताया कि इस बार डोली यात्रा का राजत जयंती समारोह धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है इस परिपेक्ष में विशौन पर्वत टिहरी गढ़वाल से तीर्थ यात्रियों का जत्था देव डोलियों को लेकर पहले हर की पौड़ी पहुंचेगा जहां पर होटल हर की पौड़ी पर प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोलियों का स्वागत किया जाएगा इसके बाद यह डोली यात्रा मंत्री प्रसाद नैथानी के नेतृत्व में एक माह के लिए उत्तराखंड भ्रमण पर रवाना होगी 16 जून को यात्रा का समापन


विशौन पर्वत स्थित बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला तीर्थ पर होगा।

संत सम्मेलन के साथ संपन्न हुआ श्री स्वामिनारायण आश्रम का पाटोत्सव

 संत सम्मेलन के साथ मनाया गया श्री स्वामीनारायण आश्रम का 21 वां पाटोत्सव


श्री स्वामिनारायण आश्रम में  सम्पन्न हुआ 21वां पाटोत्सव


श्री स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री जी महाराज ने किया मंदिर में स्थापित घनश्याम  महाराज एवं गंगा मैया का अभिषेक छप्पन भोग किए गए समर्पित 


हरिद्वार 14 मई तीर्थ नगरी हरिद्वार के भूपत वाला क्षेत्र में स्थित श्री स्वामिनारायण आश्रम का 21 वा पाटोत्सव संस्था के अध्यक्ष एवं संस्थापक श्री स्वामी हरिबल्लभ दास शास्त्री जी महाराज के पावन सानिध्य में गंगा पूजन ,गौ पूजन ,यज्ञ हवन के साथ संपन्न हुआ , राजकोट से आए यजमान परिवार हिरल बेन, राजेश भाई मैधानी,स्वाति बेन, उर्वेश कुमार ,सराबेन ,वीर कुमार जियाबेन, कृष आदि के साथ गुजराती श्रद्धालुओं ने श्री स्वामिनारायण घाट से गंगाजल कलशो में भरकर शोभा यात्रा के साथ मंदिर पहुंचकर श्री घनश्याम महाराज एवं गंगा मैया का अभिषेक किया,






प्रातः काल संतों का भोजन भंडारा गौ सेवा कर श्रद्धालु भक्तों ने संत जनों से आशीर्वाद प्राप्त किया। श्री स्वामीनारायण आश्रम में विगत एक सप्ताह से चल रही श्रीमद् भागवत कथा का संत सम्मेलन के साथ समापन हुआ जिसकी अध्यक्षता गुजरात वड़ताल गादी से आए हुए संत श्री स्वामी माधव दास ने की इस अवसर पर संत सम्मेलन मे भारत माता मंदिर के श्री महंत एवं निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी ललिता नंद गिरी जी महाराज ने श्री स्वामिनारायण आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री के प्रति मंगल कामनाएं प्रकट करते हुए कहा कि तीर्थ नगरी हरिद्वार में श्री स्वामिनारायण आश्रम स्थापित कर स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री ने गुजराती समाज के लिए एक बड़ा काम किया है। महामंडलेश्वर स्वामी हरि चेतनानंद महाराज ने श्रीमद् भागवत कथा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए विचार प्रकट किये महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद ,महामंडलेश्वर प्रेमानंद, श्री पंचायती बड़ा अखाड़ा के कोठारी राघवेंद्र दास, कारोबारी महंत गोविंद दास, बाबा हठ योगी, स्वामी ज्ञानानंद , महंत केशवानंद ,वेदांत प्रकाश, महंत  सूरज दास महंत दिनेश दास,आदि ने श्री स्वामिनारायण आश्रम में आयोजित 21वें पाटोत्सव के अवसर पर पधारे श्रद्धालुओं को अपने आशीर्वचनों से अभिसिंचित किया ,कार्यक्रम के संयोजक स्वामी आनंद स्वरुप शास्त्री महाराज ,कोठारी जयेंद्र स्वामी , गंगा सागर स्वामी ,योगेश भगत, पार्षद अनिरुद्ध भाटी,एडवोकेट अरविंद शर्मा आदि ने आए हुए संत जनों का स्वागत किया संत सम्मेलन का संचालन  महंत रवि देव शास्त्री ने किया ।

कलश यात्रा के साथ शुरू हुआ श्री स्वामिनारायण आश्रम का 21 वा पाटोत्सव





 श्री स्वामिनारायण आश्रम में शुरू हुआ 21 व स्थापना समारोह

श्री स्वामी हरि बल्लभ दास शास्त्री जी महाराज के सानिध्य में गंगा पूजन गौ पूजन ,यज्ञ हवन के साथ शुरू हुआ श्री घनश्याम महाराज एवं गंगा मैया का स्थापना समारोह

हरिद्वार 13 मई तीर्थ नगरी हरिद्वार के भूपत वाला क्षेत्र में स्थित श्री स्वामिनारायण आश्रम का 21 वा पाटोत्सव संस्था के अध्यक्ष एवं संस्थापक श्री स्वामी हरी बल्लभ दास शास्त्री जी महाराज के पावन सानिध्य में गंगा पूजन गौ पूजन यज्ञ हवन के साथ प्रारंभ हुआ , राजकोट से आए यजमान परिवार के साथ गुजराती श्रद्धालुओं ने श्री स्वामिनारायण घाट से गंगाजल कलशो में भरकर शोभा यात्रा के साथ मंदिर पहुंचकर श्री घनश्याम महाराज एवं गंगा मैया का अभिषेक किया प्रातः काल संतों का भोजन भंडारा गौ सेवा कर श्रद्धालु भक्तों ने संत जनों से आशीर्वाद प्राप्त किया ,श्री स्वामी हरिबल्लभ दास शास्त्री जी महाराज ने बताया कि मुख्य समारोह कल मंगलवार को सुबह श्री स्वामिनारायण मंदिर में पूजा अर्चना के साथ संपन्न होगा जिसमें संत समाज भक्त जन मिलकर पूजा अर्चना करेंगे आज के कार्यक्रम में गुजरात के राजकोट से आए यजमान परिवार ने चंदू भाई चुन्नीलाल ,पुनीत कुमार ,हिरल बेन ,राकेश भाई मेधानी, वीर कुमार आदि ने संत जनों के लिए भोजन भंडारे आदि का आयोजन किया।

गुरुकुल कांगड़ी भेषज विज्ञान विभाग में हुआ विदाई समारोह

 हरिद्वार 12 मई भेषज विज्ञान विभाग में डी फार्मा, बी फार्मा एवं एम फार्मा के अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए  सौप्रस्थानिक समारोह का आयोजन किया गया l इस अवसर पर छात्रों के भविष्य की मंगल कामना, उत्तम स्वास्थ्य, दीर्घायु हेतु यज्ञ का आयोजन हुआ जिसमें विश्वविद्यालय के डॉक्टर भारत वेदालंकार ने ब्रह्मा के रूप में उपस्थित होकर यज्ञ संपन्न कराया l यज्ञ में विभाग के सभी छात्रों द्वारा  आहुति  दी गई जिसमें अपना आशीर्वचन प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सोमदेव  शतानशु, कुलसचिव प्रोफेसर सुनील कुमार, संकायाध्यक्ष  प्रोफेसर डीएस मलिक ने अपने शुभाशीष छात्रों को दिए l इस अवसर पर प्रोफेसर सोमदेव शैतांशु ने कहा कि छात्रों का विद्यार्जन काल बहुत महत्वपूर्ण होता है l इस समय छात्र धनोपाजर्न की शिक्षा के साथ-साथ ज्ञानार्जन एवं मानव उद्देश्यों की पूर्ति के लिए आदर्श शिक्षा की भी शिक्षा ग्रहण करते हैं जिनकी उनके भविष्य में समाज में रहने के लिए बहुत अधिक आवश्यकता होती है l उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के छात्र जब समाज में होते हैं तो आर्य समाज एवं वैदिक संस्कृति से ओतप्रोत होने के कारण उनकी अलग पहचान होती है l उन्होंने इस अवसर पर छात्रों के उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं प्रेषित की l प्रोफेसर मलिक ने इस अवसर पर छात्रों को हमेशा ऊर्जावान एवं नई-नई तकनीकी के लिए तत्पर रहने का आह्वान किया l कार्यक्रम के समन्वयक डॉ अश्वनी कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय से शिक्षा ग्रहण  करके जाने वाले छात्रों एवं वर्तमान में शिक्षा प्राप्त कर रहे छात्रों के बीच परस्पर बड़े भाई एवं छोटे भाई का संबंध होता है और इस अवसर पर जब छात्र शिक्षा ग्रहण करके समाज में जाते हैं तो उनका दायित्व दो गुना हो जाता है वह अपने अनुजों के लिए नए मार्ग प्रशस्त करते हैं एवं दूसरी ओर अपने भविष्य को उज्जवल भी बनाते हैं l इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डॉ विपिन कुमार ने बताया कि जब छात्र उत्तीर्ण होकर जाते हैं तो उनकी बहुत सारी स्मृतियां विभाग में संजोही जाती हैं जिसके लिए सौप्रस्थानिक समारोह एक माध्यम है l उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष अंतिम सेमेस्टर में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को सम्मानित करने के लिए मेडल, प्रमाण पत्र एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किए जाते हैं l इस वर्ष बी फार्म प्रथम सेमेस्टर के छात्र प्रशांत मिश्रा, मोहित, हर्ष राजवत्स को मेडल एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए l बी फार्म तृतीय सेमेस्टर के गौरव पाल,  कृष्णा घई, अंश गर्ग एवं बी फार्म पंचम सेमेस्टर के प्रियांशु कुमार, युवराज सिंह करायत, गौतम अरोड़ा तथा बी फार्म सप्तम सेमेस्टर के उज्जवल धीमान, आदित्य कौशिक, नीरज वर्मा को सम्मानित किया गया l इसी श्रृंखला में एम फार्म फार्मास्यूटिक्स के प्रथम सेमेस्टर के छात्र नैतिक गोयल, हर्ष पांडे अनुज कुमार,  एम फार्म फार्मास्यूटिक्स तृतीय सेमेस्टर के जतिन कुमार, जतिन कुमार, शिवम प्रताप सिंह एवं एम फार्म फार्मोकोलॉजी के प्रथम सेमेस्टर के छात्र रितेश सिंह, आकाश त्यागी, नवनीत सिंह तथा एवं एम  फार्म फार्मोकोलॉजी तृतीय सेमेस्टर के यशोधर चौधरी हर्ष शारदा, वेद प्रकाश एवं एम फार्म फार्मास्यूटिकल केमेस्ट्री प्रथम सेमेस्टर के शिवम शर्मा को स्मृति चिन्ह एवं मेडल से सम्मानित किया गया l इस अवसर पर सभी छात्रों को आर्य समाज के सिद्धांतों को अपने जीवन में उतरने के लिए भेंट स्वरूप सत्यार्थ प्रकाश प्रदान किया गया l इस अवसर पर विभाग के शिक्षक प्रो सत्येंद्र राजपूत, डॉक्टर कपिल कुमार गोयल, डॉ विनोद नौटियाल, डॉ रविंद्र कंबोज, डॉ तरुण कुमार, डॉ दीपक नेगी, डॉ राजेंद्र यादव, डॉ रवि प्रताप, ने आगंतुकों का स्वागत किया l इस मौके पर डॉक्टर रोशन लाल,  नरेश त्यागी,  रविंद्र कुमार, राजेश कुमार,  मनोज कुमार,  संतोष कुमार, सूरज, मुनेश, संजय आदि उपस्थित रहे l


मंगलवार को मनाई जाएगी गंगा सप्तमी



श्रद्धा व धूमधाम के साथ 14 मई 2024 को मनाई जाएगी माँ गंगा सप्तमी*


हरिद्वार 12 मई मां गंगा जन्मोत्सव 14 मई 2024 को बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है माँ गंगा जी की पालकी बैंड बाजे,ढोल नगाड़ों के साथ 14 मई 2024 सांय 5:00 बजे स्थान:- श्री गुरु सेवक उछाली आश्रम निकट हिमालय डिपो की गली ललतारापुल हरिद्वार से निकली जाएगी ।जिसमें हरिद्वार जिले के पूजनीय महंत संत नेतागण और सम्मानित व्यापारीगण सम्मलित रहेंगे।माँ गंगा जन्मोत्सव सेवा संघ के अध्यक्ष विशाल गोस्वामी ने बताया की हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मां गंगा जन्मोत्सव शोभा यात्रा बड़े ही भव्य और दिव्य रूप से निकाली जाएगी। उन्होंने बताया कि विशेष रूप से मां गंगा जी की पूजा अर्चना के लिए गंगा सप्तमी का पर्व बहुत ही शुभ माना गया है। माँ गंगा जी की उत्पत्ति वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को हुई थी।इसलिए हर वर्ष इस दिन को उनके जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

संस्था के महामंत्री आशीष गौड़ व मीडिया प्रभारी नरेंद्र सिंह नेगी ने कहा कि पौराणिक कथाओं के अनुसार यह वही दिन है जब ब्रह्मा जी के कमंडल से मां गंगा का जन्म हुआ था। पतितपावनी, मोक्षदायिनी मां गंगा हिमालय से निकली केवल एक सामान्य जलधारा नहीं, बल्कि भारतीय सांस्कृतिक वैभव, श्रद्धा एवं आस्था की प्रतीक मानी जाती हैं। सदियों से भारतीय समाज के हर वर्ग और समुदाय ने इसे अपनी भावनात्मक आस्थाओं का प्रतीक मानकर वंदना की है। भारतवर्ष के विशाल जन-समुदाय ने ममतामयी मां के रूप में गंगा को एक विशिष्ट मान्यता दी है। भारत ही नहीं, पूरे संसार में किसी अन्य जलधारा को इतना महत्व और प्रतिष्ठा नहीं मिली है, जितनी गंगा को युगों-युगों से प्राप्त होती रही है।

हरिद्वार में मनाई गई शंकराचार्य जयंती

 आद्य जगदगुरु शंकराचार्य ने किया राष्ट्र को धार्मिक, सांस्कृतिक, एकता के सूत्र में बांधने का काम :-जगद्गुरु राजराजेश्वराश्रम

तीर्थ नगरी हरिद्वार में मनाई गई 




आद्य जगतगुरु शंकराचार्य जयंती

हरिद्वार 12 मई श्री जगद्गुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के तत्वाधान में भाष्यकर भगवान आद्य शंकराचार्य जी महाराज की 1236वीं जयंती श्रद्धा भाव के साथ मनाई गई इस  अवसर पर शंकराचार्य चौक पर जहां जगतगुरु भाष्यकर भगवान आद्य शंकराचार्य जी महाराज  के श्री विग्रह का पूजन तीर्थ नगरी के षडदर्शन साधु समाज ने किया वहीं विभिन्न आखाडो के महामंडलेश्वरों ,संत महंत जनों ने शंकराचार्य चौक पर विधि विधान के साथ भगवान आद्य शंकराचार्य को श्रद्धा सुमन अर्पित किए, इसके पश्चात श्री मानव कल्याण आश्रम में श्री जगतगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरि जी महाराज की अध्यक्षता एवं महामंडलेश्वर स्वामी प्रेमानंद जी महाराज के संचालन में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन हुआ जिसमें अपने उद्बोधन में जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज ने कहा कि भारत को धार्मिक, सांस्कृतिक, एकता के सूत्र में बांधने का कार्य भगवान आद्य शंकराचार्य जी महाराज ने किया उन्होंने भारत की चारों दिशाओं में पीठों की स्थापना कर और उनमें विपरीत दिशाओं के आचार्य को प्रतिष्ठित कर भारत को उत्तर से दक्षिण पूरब से पश्चिम तक धार्मिक ,सांस्कृतिक एकता के सूत्र में बांधने का कार्य किया, महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरी जी महाराज ने सनातन हिंदू धर्म की रक्षा के लिए आद्य शंकराचार्य जी महाराज के किए गए कार्यों को स्मरण करते हुए कहा कि वर्तमान में जो सन्यास परंपरा दृष्टिगोचर हो रही है उसका उन्नयन संरक्षण और संवर्धन जगतगुरु  भगवान  शंकराचार्य जी महाराज ने किया वर्तमान में सनातन हिंदू धर्म की रक्षा का कार्य संत समाज ने करना है। श्री जगतगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के महामंत्री श्री महंत देवानंद सरस्वती महाराज के संयोजन में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में महामंडलेश्वर एवं भारत माता मंदिर के श्री महंत स्वामी ललिता नंद गिरी महाराज, महामंडलेश्वर स्वामी रामेश्वरानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर स्वामी गिरधर गिरी, आदि ने जगतगुरु शंकराचार्य को वॉक श्रद्धांजलि अर्पित की शंकराचार्य जयंती समारोह में तेराह अखाड़ों के महंत महामंडलेश्वर और संत जनो ने प्रतिभाग किया। श्री मानव कल्याण आश्रम में आयोजित श्रद्धांजलि समारोह में पधारे संत महंत जनों का स्वागत श्री ललितामबा देवी ट्रस्ट के  मैनेजिंग ट्रस्टी  अनिरुद्ध भाटी , महंतस्वामी दुर्गेशानंद , स्वामी हंसानंदआदि ने किया ।

रविवार को तीर्थ नगरी में मनाई जाएगी शंकराचार्य जयंती

 शंकराचार्य चौक पर पूजन के साथ कल ( रविवार ) को मनाई जाएगी जगदगुरु आद्य शंकराचार्य जी की 1236 वीं जयंती 


श्री मानव कल्याण आश्रम में उत्साह के साथ मनायी जाएगी  आद्य शंकराचार्य जयंती :-श्रीमहंत देवानंद सरस्वती 

हरिद्वार 9 मई जगदगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के तत्वाधान में  एवं महामंडलेश्वर श्री स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरी जी महाराज के पावन सानिध्य में श्री मानव कल्याण आश्रम एवं शंकराचार्य चौक पर श्रद्धा व उत्साह के साथ मनायी जाएगी आद्य शंकराचार्य जयंती उपरोक्त जानकारी श्री जगदगुरु आद्य शंकराचार्य स्मारक समिति के महामंत्री श्रीमहंत देवानंद सरस्वती महाराज जी ने प्रदान करते हुए बताया कि रविवार 12 मई को प्रातः शंकराचार्य चौक पर भाष्यकार भगवान आद्य  शंकराचार्य श्री विग्रह के पूजन के साथ शंकराचार्य जयंती का शुभारंभ होगा और श्री मानव कल्याण आश्रम में समस्त सन्यासी अखाड़े महामंडलेश्वर संतजन भगवान आद्य शंकराचार्य जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे , श्री महंत देवानंद सरस्वती जी महाराज ने बताया कि हर की पौड़ी पर चारों शिष्य सहित जगतगुरु आद्य शंकराचार्य जी का प्रतिवर्ष पूजन अभिषेक श्री महंत केदार पुरी जी महाराज के सानिध्य में होता आ रहा है वह कार्यक्रम भी हर की पौड़ी पर श्रद्धापूर्वक आयोजित किया जाएगा , इस अवसर पर तपोनिधि निरंजनी अखाड़ा के सचिव श्री महंत रवींद्र पुरी जी महाराज, निर्वाणी अखाड़ा सचिव श्री महंत विश्वनाथ गिरी जी महाराज एवं अनेक महामंडलेश्वर गण तथा विशिष्ट जनों ,संत महापुरुषों का श्री मानव कल्याण आश्रम में आयोजित


श्रद्धांजलि समारोह में आगमन होगा।

रक्षित वालिया का अब तक नहीं लगा सुराग


हरिद्वार 11 मई तीन दिन पूर्व घर से ऋषिकेश जाने की बात कह कर निकले 19 वर्षीय रक्षित वालिया पुत्र अमित वालिया निवासी शिव मंदिर जगजीतपुर कनखल अब तक घर नहीं लौटा है। 

लापता पोते की तलाश में जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष राकेश वालिया एवं उनका पूरा परिवार दर-दर भटक रहा है।  पुत्र के इंतजार में मां की आंखें  टकटकी लगाए घर के दरवाजे पर देख रही हैं। मां का रो-रो कर बुरा हाल है। पूरा परिवार मानसिक परेशानियों से जूझ रहा है। प्रेस क्लब अध्यक्ष राकेश वालिया ने बताया कि रिश्तेदारों दोस्तों सभी से संपर्क कर लिया गया है लेकिन पोत्र रक्षित वालिया के संबंध में कोई जानकारी प्राप्त नहीं हो रही है। कनखल थाना पुलिस लगातार रक्षित वालिया की तलाश में लगी हुई है। अब तक दोनों मोबाइलों के नंबर बंद आ रहे है रक्षित वालिया के पिता अमित वालिया ने सोशल मीडिया के माध्यम से भी रक्षित वालिया को घर लौटने की मार्मिक अपील की है। रक्षित वालिया की मां का बुरा हाल है पुत्र के कही चले जाने से काफी दुखी हैं। पुत्र के इंतजार में आंखों  के आंसू भी नहीं थम रहे हैं। पूरा परिवार परेशान है।


 परिवार ने लोगों से अपील की है कि रक्षित वालिया की कोई भी जानकारी मिले तो इन मोबाइल नंबर 9837135028 /8475024071 पर अवश्य दें। कनखल पुलिस को भी सूचना दे सकते हैं।

Featured Post

बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली का हर की पौड़ी पर हुआ आगमन

  हर की पौड़ी पर गंगा पूजन के साथ शुरू हुआ बाबा विश्वनाथ मां जगदीशीला डोली यात्रा का रजत जयंती समारोह  हंस फाउंडेशन की अध्यक्षा पूज्य मंगला ...