सफल अश्वमेध यज्ञ के बाद व्यवस्था टीम शांतिकुंज पहुंची सफल

 मुंबई अश्वमेध महायज्ञ के सफल समापन के बाद शांतिकुंज लौटी टीम 

राष्ट्र में धर्मतंत्र का विशेष स्थान ः शैल दीदी

- धर्म तंत्र के आगे राजतंत्र नतमस्तक, सशक्त राष्ट्र, खुशहाल और व्यसन मुक्त हो रहा समाज 

- प्रधानमंत्री श्री मोदी, केन्द्रीय रक्षामंत्री, जेपी नड्डा व देश विदेश के मीडिया संस्थानों ने भी सराहा


हरिद्वार, 29 फरवरी।

हमारे ऋषियों द्वारा प्रदप्त सांस्कृतिक धरोहर की ओर अब दुनिया चलने लगी है। देश दुनिया अब भारत की ओर आशा भरी दृष्टि से देख रहा है। राष्ट्र में धर्मतंत्र का विशेष स्थान है। राजतंत्र धर्मतंत्र के आगे नतमस्तक हो रहा है। 

उक्त विचार शांतिकुंज की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने व्यक्त की। वे मुंबई में पांच दिवसीय अश्वमेध महायज्ञ के अभूतपूर्व सफलता के साथ समापन के बाद लौटी शांतिकुंज टीम के साथ समीक्षा बैठक कर रही थी। उल्लेखनीय है कि शांतिकुंज से आचार्यों, व्यवस्था, यज्ञशाला, निर्माण, भोजनालय, मीडिया, प्रदर्शनी व अन्य विभागों से वरिष्ठ सदस्यों की टीम गयी थी। आवश्यक व्यवस्था को छोड़कर शेष टीम लौट आई। 

इस अवसर पर श्रद्धेया शैलदीदी ने कहा कि जिस प्रकार केंद्र सरकार और राज्य सरकार के अग्रिम पंक्ति के लोगों ने अश्वमेध महायज्ञ में प्रतिभाग किया, आयोजन को लेकर अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की और महायज्ञ के उद्देश्यों की पूर्ति का संकल्प लिया, वह यह बताता है कि देश का राजतंत्र धर्मतंत्र को अपने से ऊपर का स्थान दे रहा है। मुंबई अश्वमेध महायज्ञ में दायित्व संभाल रहे टीम के कार्य व्यवहार की प्रशंसा करते हुए उन्होंने मुंबई अश्वमेध महायज्ञ में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष सहयोग करने वाले अन्य सभी महानुभावों, स्वयंसेवकों और श्रद्धालु भक्तों, मीडिया संस्थानों को उनकी सेवा भावना, सहयोग के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया। अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि सांस्कृतिक पुर्नस्थापना की ओर गायत्री परिवार का यह एक सार्थक कदम है। युगऋषि के सपनों का भारत दिव्य व विकसित, सबल भारत के निर्माण तक हमें सतत आगे बढ़ते रहना। 

आपसी समन्वय सहयोग, प्रचंड पुरुषार्थ, श्रद्धेयद्वय के आशीष मार्गदर्शन,  गुरुसत्ता की परम कृपा, युवा आइकॉन डॉ चिन्मय जी के कुशल नेतृत्व और स्थानीय परिजनों के  समर्पण से अश्वमेध मुंबई अद्भुत सफलताओं के साथ सम्पूर्ण हुआ। ठीक वही अनुभव हो रहा है, जैसे प्रभु श्रीराम जी के साथ हम सब रीछ वानर राम सेतु बना रहे हो। 

महायज्ञ के अंतिम दिन प्रधानमंत्री श्री मोदी जी ने भी कहा कि मैं चालीस साल से गायत्री परिवार के कार्यों को जानता हूँ। मुझे अश्वमेध महायज्ञ हेतु आमंत्रण मिला, लेकिन समयाभाव के कारण उपस्थित नहीं हो सका। इसलिए उन्होंने महायज्ञ में वर्चुअल भागीदारी की। उनका यह कहना गायत्री परिवार के अभियानों को पुख्ता करता है। केन्द्रीय रक्षामंत्री श्री राजनाथ सिंह, महाराष्ट्र के राज्यपाल श्री रमेश बैस जी, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री श्री देवेन्द्र फणनवीस, वन व संस्कृति मंत्री श्री सुधीर मुनगंटीवार सहित अनेक मंत्रियों, कलाकार ने भी महायज्ञ में पहुंचे और अपनी सहभागिता निभाई। 

शांतिकुंज मीडिया विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार पांच दिवसीय अश्वमेध महायज्ञ में भारत, कनाडा, रसिया, अमेरिका सहित पचास से अधिक देशों के पाँच करोड़ से अधिक लोगों ने प्रत्यक्ष और प्रत्यक्ष रूप से प्रतिभाग किया। लाखों लोगों ने अश्वमेध महायज्ञ में गुरु दीक्षा से जुड़े।  हजारों की संख्या में विभिन्न संस्कार सम्पन्न कराये गये। इस दौरान एक हजार से अधिक लोगों ने रक्तदान किया, जिसे स्थानीय अस्पताल में जरूरतमंदों के लिए सुरक्षित कराया गया। तो वहीं पर्यावरण संरक्षण के लिए दो लाख सत्रह हजार से अधिक विभिन्न प्रजातियों के पौधे वितरित किये गये। मुंबई का 47वां महायज्ञ पूरी तरह से व्यसन मुक्त रहा। इस दौरान एक लाख से अधिक ने व्यसन मुक्त विश्व बनाने के लिए संकल्पित हुए। अश्वमेध महायज्ञ को देश-विदेश के मीडिया संस्थानों ने भी प्रमुखता से स्थान दिया और सराहा। यह कार्यक्रम न भूतो न भविष्यति रहा। अभूतपूर्व सफलता के साथ सम्पन्न हुआ।



ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि को दी संत समाज ने श्रद्धांजलि


*धूमधाम से मनाया गया ब्रह्मलीन आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी जगदीश मुनि जी पूर्व विधायक हरिद्वार का निर्वाण दिवस समारोह।* 

राजसत्ता और धर्मसत्ता का समन्वय थे ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि-श्रीमहंत रविंद्रपुरी

त्याग और तपस्या से परिपूर्ण था ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि का जीवन-स्वामी राममुनि

हरिद्वार, 29 फरवरी। ब्रह्मलीन महामंडलेश्वर स्वामी जगदीश मुनि का 13वां निर्वाण दिवस संत महापुरूषों के सानिध्य एवं श्रद्धालु भक्तों की उपस्थिति में भीमगोड़ा स्थित संत मंडल आश्रम में समारोह पूर्वक मनाया गया। ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि के शिष्य एवं संत मंडल आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी राममुनि महाराज के संयोजन में आयोजित निर्वाण दिवस समारोह की अध्यक्षता करते हुए अखाड़ परिषद अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि राजसत्ता धर्म सत्ता के बिना अधूरी है। हरिद्वार में भाजपा की विजय पताका फहराकर इतिहास रचने वाले ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि राजसत्ता और धर्मसत्ता का समन्वय थे। उन्होंने राम मंदिर आंदोलन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सनातन धर्म संस्कृति के उत्थान और राम मंदिर आंदोलन में उनका योगदान सदैव स्मरणीय रहेगा। योग गुरू आचार्य कर्मवीर ने कहा कि पूर्व विधायक ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि ने सनातन धर्म और अध्यात्म का प्रचार प्रसार करने के साथ समाज को एकजुट करने में अहम योगदान दिया। ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि के विचार और उनकी शिक्षाएं सदैव समाज का मार्गदर्शन करती रहेंगी। बाबा हठयोागी एवं स्वामी ऋषिश्वरानंद ने कहा कि निर्मल जल के समान जीवन व्यतीत करने वाले ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि दिव्य संत थे। सदैव भक्तों और समाज कल्याण के लिए समर्पित रहने वाले ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि महाराज का आदर्शपूर्ण जीवन सभी के लिए प्रेरणादायी है। महमंडलेश्वर स्वामी प्रबोधानंद गिरी एवं महंत रूपेंद्र प्रकाश महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि ने संत समाज के प्रेरणा स्रोत और भक्तों के लिए प्रेरणा के पुंज थे। महामंडलेश्वर स्वामी यतिन्द्रानंद गिरी एवं महंत नवल किशोर दास ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि संत समाज की दिव्य विभूति थे। उनके दिखाए मार्ग पर चलते हुए मानव कल्याण में योगदान का संकल्प लेना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि है। स्वामी राममुनि महाराज ने सभी संत महापुरूषों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पूज्य गुरूदेव ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि का पूरा जीवन त्याग और तपस्या से परिपूर्ण रहा। वे सौभाग्यशाली हैं कि उन्हें गुरू के रूप में ब्रह्मलीन स्वामी जगदीश मुनि का सानिध्य प्राप्त हुआ। उन्होंने कहा कि पूज्य गुरूदेव के दिखाए मार्ग पर चलते आश्रम की सेवा संस्कृति को आगे बढ़ाना ही उनके जीवन का उद्देश्य है। कार्यक्रम का संचालन स्वामी रविदेव शास्त्री ने किया।

कार्यक्रम के दौरान सभी संत महापुरूषों ने एक स्वर में हरिद्वार लोकसभा सीट से किसी संत को भाजपा उम्मीदवार बनाए जाने की मांग भी की। संतों ने कहा कि हरिद्वार धर्मनगरी है। लोकसभा में हरिद्वार का प्रतिनिधित्व संत द्वारा किए जाने पर धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हरिद्वार का विकास होगा।  

इस अवसर पर श्रीमहंत रविंद्रपुरी, बाबा हठयोगी, आचार्य कर्मवीर, महंत नवल किशोर दास, महंत रूपेंद्र प्रकाश, स्वामी ऋषिश्वरानंद, महंत प्रबोधानंद, महंत गोविंददास, स्वामी ऋषि रामकृष्ण, स्वामी ज्ञानानंद स्वामी जगदीश दास, भक्त दुर्गादास, स्वामी कृष्ण स्वरूप, स्वामी दिनेश दास, स्वामी सुतिक्ष्ण मुनि, स्वामी निर्मल दास, स्वामी अनंतानंद, श्री सतपाल ब्रह्मचारी जी, राज्यसभा सांसद नरेश बंसल,  पूर्व विधायक संजय गुप्ता, भाजपा जिला अध्यक्ष संदीप गोयल, राकेश गिरी प्रदेश अध्यक्ष ओबीसी मोर्चा उत्तराखंड, रुड़की भाजपा जिला अध्यक्ष शोभाराम प्रजापति जी, गंगा सभा अध्यक्ष नितिन गौतम जी प्रमोद शर्मा जी, प्रदीप चौधरी, अनुज सैनी, जिला महामंत्री आशुतोष शर्मा, आशु चौधरी, जिला उपाध्यक्ष लव शर्मा, पार्षद पर मेयर प्रतिनिधि अशोक शर्मा जी , पूर्व पार्षद महावीर वशिष्ठ और विनीत जोली , भाजपा नेता विशाल गर्ग जी, जगदीश लाल पाहवा, संदीप सिंघानिया  भाजपा नेता, पवनदीप कुमार, हीरा सिंह बिष्ट, कोषाध्यक्ष बलकेश राजोरिया, तरूण नैय्यर, सतीश गोला, रामजीलाल प्रजापति, राहुल सह संयोजक धर्म जागरण, मांगेराम प्रजापति, सत्यवान प्रबंधक, विनोद शर्मा सेवादार, प्रदीप प्रजापति, शिवकुमार कश्यप, रविन्द्र प्रजापति, धर्मपाल खोवाल, राम मेहर, आदित्य प्रजापति, डॉ बबीता योगाचार्य, श्रीराम जी, संगीता प्रजापति, सहित हज़ारों की संख्या में संत महापुरूष एवं श्रद्धालुजन उपस्थित रहे।




एसएम जैएन कॉलेज में मनाया गया राष्ट्रीय विज्ञान दिवस


 नई शिक्षा नीति ने  खोले सभी के लिये ज्ञान के द्वार :  प्रो जोशी

'विकसित भारत के लिये स्वदेशी प्रौद्योगिकी ’   विषय पर कार्यक्रम आयोजित


हरिद्वार 28 फरवरी ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा)   स्थानीय एस एम जे एन पी जी कॉलेज हरिद्वार में महाविद्यालय के आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ तथा विज्ञान संकाय द्वारा राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ सी वी रमन की याद में आयोजित किए गए इस कार्यक्रम का मुख्य विषय 'विकसित भारत के लिये स्वदेशी प्रौद्योगिकी ’   रखा गया । 'कार्यक्रम में मुख्य अतिथि  के रूप में पर्यावरणविद् प्रो० बी डी जोशी ने भाग लिया । कार्यक्रम सरस्वती वंदना एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ प्रारंभ किया गया । कॉलेज के प्राचार्य प्रो सुनील कुमार बत्रा ने विज्ञान दिवस पर अपनी बात रखते हुये कहा कि हमारी चार पीढ़ियों में जल के उपयोग करने के तरीके में बदलाव आया है  पहले नदी का ,फिर कुएँ का,फिर हैडपंप और अब बोतल बंद पानी का उपयोग मानव पीने के लिए कर  रहा है । उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति को अपने जन्मदिवस पर पेड़ लगाने का आग्रह किया जिससे आक्सीजन की पूर्ति तथा पर्यावरण संरक्षण  हो सके ।  विज्ञान के दम पर ही हम आत्मनिर्भर बन रहे है,हमारे वैज्ञानिक सारे विश्व में फैले हुये है जो भारत की कीर्ति को दूर दूर तक प्रसारित कर रहे है । कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथि प्रो बी डी जोशी ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि ऐसे कार्यक्रमों के द्वारा विज्ञान के प्रति जिज्ञासा की प्रवृति प्रबल होती है । नई शिक्षा नीति ने सभी के लिये ज्ञान के द्वार खोल दिये है । विज्ञान ने पौराणिक कथाओं को सत्य साबित कर दिया है। महान लोगो की सफलता के पीछे कड़ी मेहनत और असंख्य असफलताएँ होती है ,तब कहीं जाकर कोई अविष्कार होता है । इस कार्यक्रम में छात्र छात्राओं के द्वारा  पोस्टर एवं मॉडल की प्रदर्शनी भी लगाई गई । छात्र कल्याण अधिष्ठाता डॉ० संजय माहेश्वरी ने अपने संबोधन में विज्ञान की उपयोगिता पर प्रकाश डाला । निर्णायक मण्डल की भूमिका डॉ० सरोज शर्मा , डॉ० सुगन्धा वर्मा एवं आंकाक्षा पांडे ने निभाई। 

मॉडल प्रतियोगिता में अंजलि सैनी को प्रथम, मनीष, आशीष हर्षित, आयुष और विनय को संयुक्त रूप से द्वितीय पुरस्कार तथा पारुल, दिव्यांशु और अदिति को संयुक्त रूप से तृतीय पुरस्कार मिला I जबकि पोस्टर प्रतियोगिता में ईशा कश्यप को प्रथम, अभिलाषा एवं आरती को द्वितीय तथा सुमन एवं नेहा को संयुक्त रूप से तृतीय पुरस्कार मिला l खुशी मेहता तथा जय वर्मा को सांत्वना पुरस्कार से सम्मानित किया गया । कार्यक्रम में डॉ शिवकुमार चौहान, डॉ मनोज कुमार सोही, डॉ लता शर्मा, डॉ आशा शर्मा , डॉ मोना शर्मा , विनित सक्सेना , डॉ सरोज शर्मा , डॉ पूर्णिमा सुंदरियाल, डॉ पद्मावती तनेजा, डॉ पुनीता शर्मा, दीपिका आनंद, डॉ पल्लवी ,डॉ मीनाक्षी ,डॉ रजनी सिंघल ,डॉ रेनु सिंह, वैभव बत्रा, डॉ यादवेंद्र सिंह, प्रिंस श्रोत्रिय, डा विजय शर्मा,निष्ठा चौधरी, भव्या , साक्षी गुप्ता ,आकाक्षां पांडे, रिंकल गोयल ,रिचा मनोचा, रचना गोस्वामी, संदीप सकलानी, राजीव कुमार आदि ने सहभाग किया ।

1 मार्च से 3 मार्च तक चलेगा जनसंपर्क अभियान

हरिद्वार 28 फरवरी जिला भाजपा कार्यालय हरिद्वार पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा आगामी 1 से 3 मार्च तक प्रत्येक बूथ पर चलाये जाने वाले लाभार्थी संपर्क अभियान के निमित्त योजना रचना बनाई। भाजपा कार्यकर्ता बूथ पर जाकर प्रत्येक लाभार्थी से संपर्क कर देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित हुए लाभार्थियों के साथ संपर्क करेंगे।

लाभार्थी संपर्क अभियान की लोकसभा से संयोजक अन्नु कक्कड़ ने बयान जारी करते हुए कहा कि केंद्रीय नेतृत्व के निर्देशानुसार भारतीय जनता पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता आगामी 1 मार्च से 3 मार्च तक आवंटित बूथ पर जाकर केंद्र एवं प्रदेश सरकार की योजनाओं से लाभान्वित हुए लाभार्थियों से प्रत्यक्ष संपर्क कर देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुभकामना पत्र देकर उनका सरकार के प्रति फीडबैक भी लेंगे 

लोकसभा संयोजक डॉ जयपाल सिंह चौहान ने बताया कि हरिद्वार लोकसभा में लगभग 2 लाख लाभार्थियों से 10 हजार से भी अधिक कार्यकर्ता सीधा-सीधा संपर्क करेंगे।

जिला अध्यक्ष संदीप गोयल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के सभी कार्यकर्ता आगामी लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए इस अभियान को गंभीरता से लेकर पूरा करने का काम करेंगे एवं इस अभियान के माध्यम से पार्टी का मत प्रतिशत बढ़ाने का काम करेंगे ताकि आगामी लोकसभा चुनाव मे पहले से अधिक अंतर के साथ जीत सुनिश्चित हो।

इस अभियान के जिला संयोजक मोहित वर्मा ने बताया कि पार्टी के सभी जन प्रतिनिधि एवं वरिष्ठ पदाधिकारी निम्नवत जाकर अपने अपने आवंटित बूथ पर कार्य करेंगे।

जिसमें हरिद्वार विधायक मदन कौशिक बूथ संख्या 128, रानीपुर विधायक आदेश चौहान बूथ संख्या 142, पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद बूथ संख्या 95, पूर्व विधायक संजय गुप्ता बूथ संख्या 62, पूर्व विधायक सुरेश राठौड़ बूथ संख्या 42, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष लक्सर अमरीश गर्ग बूथ संख्या 30, पूर्व अध्यक्ष शिवालिक नगर राजीव शर्मा बूथ संख्या 94, जिला अध्यक्ष संदीप गोयल बूथ संख्या 93, लोकसभा संयोजक डॉ जयपाल सिंह चौहान बूथ संख्या 01, लोकसभा सहसंयोजक लाभार्थी संपर्क अभियान अनु कक्कड़ बूथ संख्या 168, पूर्व मेयर मनोज गर्ग बूथ संख्या 142 पर लाभार्थियों से संपर्क करेंगे।

इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष लव शर्मा, जिला आईटी प्रमुख सचिन निश्चित उपस्थित रहे।


मुंबई में अश्वमेध महायज्ञ हुआ संपन्न

 नारी सशक्तिकरण, राष्ट्र की सुख समृद्धि के भाव जगा मुंबई अश्वमेध महायज्ञ सम्पन्न 

-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुंबई अश्वमेध महायज्ञ के उद्देश्य व आयोजन के लिए अखिल विश्व गायत्री परिवार की सराहना, 

शांतिकंुज प्रमुखद्वय व डाॅ चिन्मय पण्ड्या को दिया साधुवाद 


-भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केन्द्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस, मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान, गीतकार समीर अनजान सहित फिल्म, कला एवं खेल जगत की जानी मानी हस्तियों ने किया प्रतिभाग


-समीर ने अश्वमेध महायज्ञ पर लिखा गीत, शंकर महादेवन की आवाज, हिमेश रेशमिया का रहा संगीत, इन्होंने महायज्ञ में भी डाली आहुतियां


हरिद्वार, 27 फरवरी।

नारी सशक्तिकरण, नशा मुक्ति पीढी और राष्ट्र की सुख समृद्धि उन्नति के भाव जगा पांच दिवसीय मुंबई अश्वमेध महायज्ञ का सफल समापन हो गया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अखिल विश्व गायत्री परिवार को साधुवाद देते हुए कहा कि अश्वमेध महायज्ञ सामाजिक संकल्प का महाभियान है। महा जग में वर्चुअली प्रतिभाग करते हुए अपने संदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यज्ञ के माध्यम से युवाओं को नशा और दुव्र्यसन से मुक्ति दिलाने का जो संकल्प कराया गया है, वह युवाओं को राष्ट्र के निर्माण में उत्सर्जित करेगा, उन्होंने महायज्ञ आयोजन के लिए डाॅ चिन्मय पण्ड्या के नेतृत्व की सराहना की।

सत्ताइस लाख से अधिक साधकों ने अश्वमेध महायज्ञ में अखिल विश्व गायत्री परिवार के उद्देश्योे की पूर्ति के लिए हवन कुण्ड में आहुति डाली और संकल्प लिया। देश विदेश के अनेकानेक लोेग भी आनलाइन जुड़े। मुंबई अश्वमेध महायज्ञ का नेतृत्व कर रहे युवा आइकाॅन डाॅ चिन्मय पण्ड्या के आवाहन पर धरा को हरा-भरा रखने के लिए लाखों की संख्या में पौधों का वितरण किया गया और लोगों को पर्यावरण संरक्षण संकल्प दिलाया गया। 

पांच दिवसीय मुंबई अश्वमेध महायज्ञ का शुभारंभ पच्चीस हजार महिलाओं की कलश शोभायात्रा से हुआ। इस अवसर पर भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री श्री देवेन्द्र फणनवीस विशेष रूप से उपस्थित थे। गायत्री परिवार की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैलदीदी, डाॅ चिन्मय पण्ड्या, श्रीमती शेफाली पण्ड्या, प्रसिद्ध व्यवसायी जे कुमार इन्फ्रा के जगदीश कुमार गुप्ता ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखा शोभायात्रा का शुभारंभ किया था। महायज्ञ के अंतिम करीब पांच लाख से  अधिक श्रद्धालुओं ने विभिन्न पाली में आहुतियां डाली। 

महायज्ञ के प्रथम दिन देवमंच से युवा आइकान डाॅ चिन्मय पण्ड्या ने यज्ञ की विशेषता, प्रकार एवं लाभ पर विस्तार से प्रकाश डाला। यज्ञ के दूसरे पर्यावरण संरक्षण नारी सशक्तिकरण, नशा मुक्त विश्व, मानव कल्याण, सहयोग संगठन, और सशक्त राष्ट्र के संकल्प को पूरा करने के उदृदेश्य से 50 से अधिक देशों से आये याजक-साधकों ने यज्ञ में आहुति डाली। इस मौके पर गायत्री परिवार की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैलदीदी ने लाखों लोगों को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से गायत्री महामंत्र की दीक्षा दी। 

महायज्ञ के तीसरे दिन ज्ञानमंच से केन्द्रीय रक्षामंत्री श्री राजनाथ सिंह, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री एकनाथ शिंदे ने संबोधन दिया। इस अवसर पर युवा आइकान डाॅ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि राष्ट्र के समग्र विकास को समर्पित अश्वमेध महायज्ञ। 

चैथे दिन डाॅ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि पूज्य गुरुदेव ने हम बदलेंगंे-युग बदलेगा, हम सुधरंेगे-युग सुधरेगा, का जो सूत्र दिया है। इसकी पूर्ति हेतु गायत्री परिवार का कार्यकर्ता सतत सक्रिय है। अंतिम दिन युवा आइकान डाॅ चिन्मय पण्ड्या ने यज्ञ और महायज्ञों की महत्ता प्रकाश डालते हुए कहा कि अश्वमेध महायज्ञ राष्ट्र के सर्वागीण विकास के निमित्त आयोजित किया जाता है। इसका आरंभ 1992 में गायत्री परिवार की संस्थापिका माता भगवती देवी शर्मा ने किया था। इस क्रम में यह 47वां है। उन्होंने सभी विशेष कर युवाओं से विश्व बंधुत्व, नशा मुक्त विश्व और सुख समृद्धि राष्ट्र निर्माण में पूरे मनोयोग से जुट जाने का आवाहन किया।


विचार जागृति मंच कार्यकारिणी का हुआ विस्तार

हरिद्वार 27 फरवरी विचार जागृति मंच के विस्तार को लेकर एक आवश्यक बैठक विचार जागृति मंच के कार्यालय रानीपुर मोड़ पर हुई जिसमें जिले के विभिन्न दायित्व को सोपते हुए विचार जाग्रति मंच का विस्तार किया गया,,, विचार जागृति मंच के जिला अध्यक्ष  अनिल कौशिक, महामंत्री विश्वास सक्सेना की उपस्थिति में विचार जागृति मंच के संस्थापक अध्यक्ष सुधीर शर्मा एवं महामंत्री डॉक्टर विशाल गर्ग ने जनपद के दो भाग करते हुए रुड़की क्षेत्र का जिला अध्यक्ष  पद का दायित्व विजय पाल सिंह( सदस्य जिला पंचायत हरिद्वार) को सोपा  है ,,इसी के साथ बैठक में विचार जागृति मंच की आगामी रणनीति तय करते हुए की जिलाध्यक्ष अनिल कौशिक ने होली पर एक मुख्य कार्यक्रम विचार जागृति मंच द्वारा आयोजित करने की घोषणा की,,, साथ ही आगामी एजेंडा को तैयार करते हुए डॉक्टर विशाल गर्ग महामंत्री विचार जागृति मंच ने कहा कि विचार जागृति मंच आने वाले समय में शिक्षा चिकित्सा और अवेयरनेस के क्षेत्र में विभिन्न कार्यक्रमों को आयोजित कर उसका सोशल मीडिया पर अधिक से अधिक प्रचार और प्रसार करेगा ताकि समाज के सामयिक ज्वलंत मुद्दों पर एक आम राय से समाधान निकाले जा सके और आने वाली पीढ़ियों का बेहतर मार्गदर्शन हो सके , रुड़की जिला के जिला अध्यक्ष विजयपाल सिंह ने कहा कि जो दायित्व उन्हें सोपा गया है वह ग्रामीण क्षेत्र के घर-घर तक विचार जागृति मंच के कार्यक्रम को पहुंचाएंगे और जनता के बीच आने वाली समस्याओं का सही तरीके से समाधान करने का प्रयास करेंगे ,,साथ ही देहात में जो भी मुद्दे अवेयरनेस से जुड़े हुए हैं उनके विभिन्न कार्यक्रम ग्रामीण क्षेत्रों में किए जाएंगे,,,बैठक में मुख्य रूप से वैभव दत्त,, अधिवक्ता प्रशांत राजपूत ,,विक्रम सिंह नाचीज़ ,और युवा कवि दिव्यांश कुमार उपस्थित रहे


भाजपा से निष्कासित पुनः हुए भाजपा में शामिल

हरिद्वार 26 फरवरी हरिद्वार के पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष चौधरी सुभाष वर्मा ने  आज देहरादून स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय में अपने साथियों सहित पुनः भाजपा में शामिल हो गए उनके साथ भाजपा में शामिल होने वालों में भाजपा के पूर्व लक्सरमंडल अध्यक्ष राहुल अग्रवाल पूर्व लक्सर मंडल महामंत्री भूपेंद्र निगम राजेंद्र नाथ मेहंदीरत्ता और पूर्व सभासद कुलदीप बाल्मीकि सहित कई अन्य नेता शामिल रहे 

भाजपा प्रदेश कार्यालय में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक,भाजपा जिला अध्यक्ष हरिद्वार संदीप गोयल और भाजपा जिला अध्यक्ष रुड़की श्री शोभाराम प्रजापति ने उन्हें भाजपा की सदस्यता प्रदान की

गौररतलब है कि इन सभी को 2022 के विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद भाजपा से निष्कासित कर दिया गया था लेकिन आगामी 2024 में हरिद्वार लोकसभा  की सीट को और मजबूती प्र


दान करने के उद्देश्य से इन सबकी आज पुनः घर वापसी हुई है

अश्वमेध यज्ञ में शामिल हुई राजनीतिक हस्तियां

 प्रधानमंत्री मोदी ने किया बाला साहब के सपने को साकार: एकनाथ शिंदे

-अश्वमेध यज्ञ जैसे कार्यक्रमों से राजनीति को दशा और दिशा मिलती है: राजनाथ सिंह

-भारत दुनिया को सांस्कृतिक दशा और दिशा प्रदान कर रहा है: डॉ चिन्मय पंड्या


नवी मुंबई, 23 फरवरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी को श्री अयोध्या धाम में रामलला विग्रह में प्राण प्रतिष्ठा कर बाला साहेब के सपने को साकार किया। बाला साहेब का सपना था कि अयोध्या में श्रीराम जन्म भूमि मंदिर का निर्माण हो और प्रधानमंत्री ने उनके सपने को पूरा कर दिखाया। अखिल विश्व गायत्री परिवार राष्ट्र में सनातन संस्कृति को बढ़ावा देते हुए विश्व बंधुत्व के संदेश का प्रचार प्रसार कर रहा है। शुक्रवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा आयोजित अश्वमेध महायज्ञ के ज्ञानमंच से उक्त विचार साझा किए। इस मौके पर उनके साथ मंच पर केन्द्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, कबीना मंत्री मंगल प्रभात लोढ़ा, स्थानीय सांसद श्रीरंग वारणे भी उपस्थित थे।

  मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने अश्वमेध महायज्ञ के आयोजन को लेकर अखिल विश्व गायत्री परिवार को साधुवाद दिया। कहा कि हम उनका आभार प्रकट करते हैं कि देवभूमि महाराष्ट्र को इसके लिए चुना। कहा कि इंसान कितना भी बड़ा हो जाए पर, उसका दिल बड़ा होना चाहिए। क्योंकि दिल बड़ा होगा, तब सब संकट अपने आप दूर हो जाते हैं। इस सोच से जो काम करता है, उससे समाज का, राष्ट्र का विकास होता है। अखिल विश्व गायत्री परिवार का हर सदस्य इसी सोच के साथ कार्य कर रहा है और दुनिया को विश्व बंधुत्व का संदेश दे रहा है। अश्वमेघ महायज्ञ के प्रभाव का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से सदगुण बढ़ते हैं और दुर्गुणों कम होते हैं। प्रधानमंत्री मोदी की आर्थिक नीतियों की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश को आर्थिक महाशक्ति शक्ति बनाने की दिशा में आगे बढ़ा दिया है।

इससे पहले कार्यक्रम को अपना आरंभिक संबोधन देते हुए अश्वमेध महायज्ञ के नेतृत्वकर्ता डा. चिन्मय पंड्या ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने संन्यासियों के बाहर यानी विदेश जाने के मिथक को तोड़ा। संन्यासियों के बाहर जाने पर ही यह पता लगा कि भारत सनातन संस्कृति के माध्यम से विश्व को नई दिशा व दिशा दे रहा है। स्वामी विवेकानंद ने इसे नई ऊंचाइयां प्रदान की। 

कार्यक्रम को अपना अध्यक्षीय संबोधन देते हुए केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि राजनीतिक व्यक्तियों को ऐसे कार्यक्रमों में अवश्य जाना चाहिए। ऐसे कार्यक्रमों से उन्हें दशा और दिशा मिलती हैं। राजनीति दो शब्दों को राज और नीति को लेकर बना है, जिसका अर्थ है, राज्य और समाज को सन्मार्ग की ओर ले जाना। ऐसे आयोजन इस व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने का काम करते हैं।


ऋषिकुल आयुर्वैदिक कॉलेज में योग सेमिनार हुआ संपन्न


*उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के ऋषिकुल परिसर एवं देवम्बर चेरिटेबल ट्रस्ट, काशीपुर (उत्तराखंड )के सयुंक्त तत्वाधान में द्वि दिवसीय  योग सेमिनार कम वर्कशॉप का आयोजन हुआ संपन्न 

हरिद्वार 23 फरवरी उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय, देहरादून के कुलपति प्रोफेसर अरुण कुमार त्रिपाठी के निर्देशन में उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ऋषिकुल परिसर, हरिद्वार एवं देवम्बर चेरिटेबल ट्रस्ट, काशीपुर, उत्तराखंड के संयुक्त तत्वावधान में दिनांक 22 &23 फरवरी 2024 को *योग और आयुर्वेद फॉर हॉलिस्टिक हेल्थ एंड वैलनेस योगिक साइंस- एन इंटीग्रेटेड अप्रोच* विषय में सेमिनार कम योग कार्यशाला का आयोजन किया गया । जिसमें मुख्य अतिथि एवं मुख्यवक्ता के रूप में आध्यात्मिक गुरु श्री चंद्र मोहन भंडारी (रिटायर्ड आईएफएस एवं पूर्व राजदूत भारत सरकार )के द्वारा किया गया एवं आध्यात्मिक योग गुरु चन्द्र मोहन भण्डारी ने प्रथम दिन और द्वितीय दिन के प्रथम सत्र (7A. M. to 9A. M.) में अत्यंत प्रभावशाली ढंग से अपने सहयोगी योगाचार्य श्री मनोज मलकानी के साथ मिलकर मदन मोहन मालवीय प्रेक्षागृह परिसर के  ग्राउंड में सूक्ष्म योग व्यायाम क्रियाए, प्राणायाम, ध्यान योग को एवं मर्म चिकित्सा & षट चक्र के महत्व को बताते हुए अभ्यास  कराया। प्रोग्राम के प्रथम दिन द्वितीय सत्र (10A. M. to 1:30 P. M.)में योग गुरु श्री चंद मोहन भंडारी द्वारा स्पिरिचुअल हेल्थ को योग के विभिन्न अंगों जैसे अष्टांग योग,ज्ञान योग, कर्म योग  के द्वारा कैसे प्राप्त किया जा सकता है इसका सूक्ष्म अवलोकन कराया गया और उसकी महत्वता बताई साथ ही योग गुरु सी एम भंडारी ने मर्म चिकित्सा और पंचकर्म चिकित्सा पर अपने अनुभव शेयर किये। कार्यक्रम के दूसरे दिन द्वितीय सत्र (10A. M. to 1:30 P. M.) में अथिति वक्ता के रूप में  आए  स्वामी अपरोक्षानंद ने नाभि चिकित्सा का विभिन्न व्याधियों में उपयोग बताया एवं सारगर्भिक रूप से नाभि चिकित्सा के महत्व एवं उसका दार्शनिक एवम वैज्ञानिक पक्ष पर संभाषण दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अरुण त्रिपाठी ने योग कार्यशाला   विषय सम्बंधित  योग की महत्वता बताते कहा की यह कार्यक्रम आगे भविष्य में प्रत्येक प्रतिभागी के संपूर्ण स्वास्थ्य (शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य )को प्राप्त करने  हेतु बहुत लाभदायक होगा।उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ऋषिकुल परिसर हरिद्वार के परिसर  निदेशक प्रोफेसर डी.सी. सिंह ने मंचासीन अतिथियों एवं अधिकारियों का अभिनंदन एवं स्वागत व्याख्यान दिया । शल्य तंत्र के विभाग अध्यक्ष प्रोफेसर अजय कुमार गुप्ता ने कार्यक्रम विषय संबंधित  सारगर्भित व्याख्यान दिया। कार्यक्रम के समापन पर धन्यवाद ज्ञापन डॉ शोभित कुमार  वार्ष्णेय एसोसिएट प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग ऋषिकुल परिसर द्वारा किया गया।इस द्वि दिवसीय योग कार्यशाला को उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति प्रोफेसर अरुण कुमार त्रिपाठी , कुलसचिव प्रोफेसर अनूप कुमार गक्खड़ एवं कार्यक्रम नोडल  अधिकारी डॉ शोभित कुमार वार्ष्णेय  के मार्गदर्शन में किया गया। इस द्वि दिवसीय कार्यशाला में मंच का संचालन डॉ प्रियंका शर्मा असिस्टेंट प्रोफेसर स्वस्थवृत्त एवं योग विभाग & योगाचार्य डॉ ज्ञान प्रकाश सिंह के द्वारा पूरे मनोयोग एवं उत्साह के साथ  किया गया।कार्यक्रम में प्रो.खेम चन्द्र शर्मा, डॉ कीर्ति वर्मा,डॉ. उषा शर्मा, डॉ. सीमा जोशी, डॉ माधवी गोस्वामी, डॉ सुरेश चौबे, डॉ भावना,डॉ शशिकांत तिवारी,डॉ  शैलेंद्र प्रधान डॉ. वेद भूषण शर्मा, डॉ महेश चंद्रा,डॉ सविता सोनकर,डॉ सौरभ, श्री निर्भय आदि शिक्षकों ने एवं उत्तराखंड आयुर्वेद


विश्वविद्यालय के गुरुकुल परिसर आयुर्वेदिक कॉलेज के विद्यार्थियों एवं शिक्षकों ने प्रतिभाग किया।  इस द्वि दिवसीय योग कार्यशाला में लगभग 200 प्रतिभागियों ने  प्रतिभाग किया।

सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज मायापुर में हुआ आशीर्वाद समारोह

हरिद्वार 22 फरवरी विद्या भारती द्वारा संचालित एक आदर्श, सुसंस्कृत एवं अनुशासित विद्या, सरस्वती के मन्दिर मायापुर, हरिद्वार में आयोजित आशीर्वाद समारोह आयोजित किया गया, जिसमें 12 वीं कक्षा के छात्रों को परीक्षा से पूर्व आशीर्वाद प्रदान करने के लिए मुख्य अतिथि के रूप मे उप सेनानायक के पद पर सुशोभित श्री सुरजीत सिंह पंवार, अपर पुलिस अधीक्षक सुश्री सुनीता वर्मा, प्रसिद्ध शिक्षाविद डॉ रजनीकांत शुक्ल, विद्या भारती के सचिव डॉ विजयपाल सिंह प्रबंधक डॉ जगपाल सिंह के साथ प्रकाश चंद्र पंत



कार्यक्रम में मंच प्राप्त हुआ l इस सुन्दर और सुव्यवस्थित कार्यक्रम का सफल संचालन विद्यालय के उप प्रधानाचार्य श्री अजय जी ने किया l लगभग 600 बच्चों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए अतिथियों से आशीर्वाद प्राप्त किया......

मुंबई में प्रारंभ हुआ अश्वमेध महायज्ञ

 यज्ञाश्व अग्नि प्रवेश के साथ डॉ चिन्मय पण्ड्या ने किया महायज्ञ का प्रारंभ

विश्वगुरु भारत हो, चलो कुछ जतन करें का संगीतमय जयघोष

वासंती उल्लास के साथ आध्यात्मिकता के रंग में डूबा मायानगरी

50 देशों से आये से लाखों लोगों ने अश्वमेध महायज्ञ में किया प्रतिभाग

अश्वमेध महायज्ञ में सैकड़ों संस्कार निःशुल्क सम्पन्न

जेपी नड्डा, देवेन्द्र फडनवीस, सुधीर मुनगंटीवार, मंगल प्रभात लोढा सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने डाली आहुतियां


हरिद्वार /नवी मुंबई, 22 फरवरी।

यज्ञाश्व अग्नि के साथ युवा आइकन डॉ चिन्मय पण्ड्या के प्रवेश और गायत्री परिवार की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैल दीदी की घोषणा के साथ अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज के मार्गदर्शन में अश्वमेध महायज्ञ के दूसरा दिन का आरंभ विशिष्ट वैदिक मंत्रों संग देव आवाहन से हुआ। पर्यावरण संरक्षण, नारी सशक्तिकरण, नशा मुक्ति विश्व, मानव कल्याण, सहयोग-संगठन और सशक्त राष्ट्र निर्माण के संकल्प को पूरा करने के उद्देश्य से भारत सहित 50 देशों से आये करोड़ों याजक/साधक बहनों-भाइयों ने 1008 हवन कुण्ड के महानुष्ठान अश्वमेध महायज्ञ में प्रत्यक्ष प्रतिभाग लिया। साथ ही पूरे विश्व में विभिन्न माध्यमों से हो रहे कार्यक्रम के सजीव प्रसारण से जुड़े करोड़ों की संख्या में साधक और साधिकाओं ने अपने-अपने स्थान से महायज्ञ में प्रतिभाग करते हुए यज्ञाग्नि में आहुति दी।

गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने सपत्नीक डा. मल्लिका नड्डा महायज्ञ में प्रतिभाग किया और हवन कुंड में आहुति डाली। उनके साथ भाजपा राष्ट्रीय संगठन मंत्री शिवप्रकाश जी, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, कला एवं संस्कृति मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने सपत्नीक श्रीमती सपना मुनगंटीवार, कौशल एवं रोजगार केबीनेट मंत्री मंगल प्रभात लोढ़ा, महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रशेखर बावन कुड़े, भाजपा मुंबई महानगर अध्यक्ष आशीष सेलार, बॉलीवुड गीतकार समीर, गायक शंकर महादेवन, संगीत एवं गायक हिमेश रेशमिया और टीवी सीरियल महाभारत में भगवान लक्ष्मण की भूमिका निभाने वाले अभिनेता सुनील लहरी सहित बड़ी संख्या में अन्य गणमान्य अतिथियों ने भी आहुति डाली। वैदिक मंत्र व गायत्री मंत्र के लगातार हो रहे उच्चारण से वातावरण भक्तिमय हो गया है। बड़ी संख्या में स्थानीय निवासी कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं, जिनमें बच्चे बूढ़े और महिला व पुरुष सभी शामिल है।

विश्व गुरु भारत हो, चलो कुछ जतन करें के संगीतमय जयघोष के मध्य इन दिनों महानगरी मुंबई में धर्म-आध्यात्म की पावन सरिता बह रही है। पूरा शहर वासंती उल्लास से सराबोर है। मानों मायानगरी का कोना-कोना अखिल विश्व गायत्री परिवार के आध्यात्मिकता और सामाजिक सरोकार के संकल्प को पूर्ण करने में अपनी आहुति दे रहा है।

गुरुवार को ब्रह्म मुहूर्त में गायत्री परिवार की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैल दीदी की घोषणा के साथ अश्वमेध महायज्ञ में देव आवाहन का क्रम प्रारंभ हुआ। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के प्रकाण्ड विद्वानों के संगीतमय विशिष्ट मंत्रों के उच्चारण ने पूरे क्षेत्र में आध्यात्मिकता का वातावरण निर्मित कर दिया। महायज्ञ स्थल पर पीतांबर पहने हजारों साधक-साधिकाएं  आध्यात्मिकता डूब-उतरा रहे हैं। ब्रह्म मुहूर्त से आरंभ हुआ यह क्रम करीब छह घंटे तक अनवरत चला। एक तरफ जहां हजारों लोग श्रद्धा के रंग में डूबे दिखे, तो वहीं दूसरी ओर कई हजारों अश्वमेध महायज्ञ परिसर में राष्ट्र के सर्वाेत्कृष्ट उत्थान का भाव रख सामूहिक गायत्री मंत्र साधना में रत रहे। कार्यक्रम के विभिन्न माध्यमों से हो रहे सजीव प्रसारण से पूरी दुनिया में करोड़ों लोगों ने मुंबई अश्वमेध महायज्ञ से अपने को जोड़ा और महायज्ञ के दूसरे दिन आरंभ हुए हवन यज्ञ में अपनी-अपनी जगह से अपनी-अपनी आहुति डाली और पर्यावरण संरक्षण, नारी सशक्तिकरण, नशा मुक्ति विश्व, मानव कल्याण, सहयोग-संगठन और सशक्त राष्ट्र निर्माण के संकल्प का संकल्प लिया।

अलौकिक और अद्भुत, भव्य और दिव्य, ना भूतो, ना भविष्यति। असीम एकाग्रता, शांति और अध्यात्म का अनुभव। अध्यात्म ज्ञान की ऐसी सरिता, जिसमें हर कोई हर वक्त डूबे रहना चाहता है, क्या बच्चा और क्या बुजुर्ग। सभी इस आध्यात्मिक ज्ञान सरिता से सराबोर होने को आतुर नजर आए। पूरा वातावरण हवन यज्ञ के महक से सुगंधित हो उठा।



श्री सत्य साई सेवा समिति ने कुष्ठ रोगियों को वितरित किया राशन

हरिद्वार 21 फरवरी श्री सत्य साईं सेवा समिति हरिद्वार द्वारा आज दिनाँक 21 फरवरी , 2024 को श्री विवेकानंद कुष्ठ आश्रम लालजी वाला हरिद्वार में विशेष नारायण सेवा का आयोजन किया जिसमें कुष्ठ रोगियों को पूरी सब्जी चावल एवं छोला का प्रसाद वितरित किया गया साथ ही कच्चे अनाज के रूप में 30 किलो आटा, 30 किलो चावल, 6 किलो दाल, 5 किलो चीनी, 1 किलो चाय, 5 लीटर तेल सरसों का, साबुन नहाने के 12 एवं कपड़े धोने के 12, मसाले 1 किलो एवं 3 दर्जन केले और बच्चों के लिए 40 पैकेट बिस्किट उक्त के अतिरिक्त एक ब्रीफकेस भरकर कपड़े भी उपलब्ध कराये गये l समिति के कुल 5 सदस्यों ने उक्त कार्यक्रम में प्रतिभाग किया जानकारी भी ली गई कि क्या प्रत्येक महिला पुरुष को समाज कल्याण विभाग से समय पर विकलांग पेंशन प्राप्त हो रही है?..



. विद्या भारती ने किया सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन



हरिद्वार 16 फरवरी विद्या भारती  की हरिद्वार महानगर इकाई ने सरस्वती विद्या मंदिर सेक्टर 2 में एक सांस्कृतिक समागम कार्यक्रम आयोजित किया। सांस्कृतिक समागम कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण यूरोपियन देश पोलैंड से आये सांस्कृतिक दल द्वारा प्रस्तुत की गई अपनी संस्कृति की प्रस्तुति थी। 


कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि संस्कार भारती, उत्तराखंड की प्रान्त अध्यक्षा देहरादून केंट की विधायिका सविता कपूर, विशिष्ट अतिथि संस्कार भारती के केंद्रीय कला संयोजक अरुण शर्मा, अंतरराष्ट्रीय सहयोग परिषद के सरंक्षक प्रमुख समाजसेवी जगदीश लाल पाहवा, विद्या भारती उत्तराखण्ड के प्रांत मंत्री रजनीकांत शुक्ला ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्ज्वलन करके किया गया। कार्यक्रम में सरस्वती वंदना के पश्चात केंद्रीय कला संयोजक अरुण शर्मा ने पोलैंड से आये स्लेविक समुदाय के सांस्कृतिक दल का परिचय कार्यक्रम में उपस्थित सभी व्यक्तियों से कराया तथा हरिद्वार महानगर इकाई के अध्यक्ष करन सिंह सैनी के साथ संयुक्त रुप से सांस्कृतिक दल का स्वागत और सम्मान किया। कला संयोजक अरुण शर्मा ने पोलैंड के सांस्कृतिक दल के विषय में कि पोलैंड की संस्कृति भारत की संस्कृति से कितनी मिलती जुलती है इस विषय पर विस्तार से जानकारी प्रदान की। उन्होंने कार्यक्रम के आयोजन के उद्देश्य और उपयोगिता पर भी विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराई। सांस्कृतिक कार्यक्रम में पोलैंड से आए कलाकारों ने अपनी संस्कृति से ओतप्रोत गीत प्रस्तुत किए जिनकी कार्यक्रम में उपस्थित सभी श्रोताओं द्वारा सराहना की गई। पोलैण्ड के कलाकारों ने अपने प्रतीक चिन्ह विद्या भारती के प्रांतीय मंत्री डॉ रजनीकान्त शुक्ल, संस्कार भारती के प्रांतीय मंत्री सुनील कुमार चौहान, हरिद्वार इकाई की महिला प्रमुख राजकुमारी को भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम में सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल के छात्रों ने गढ़वाल नृत्य, राकेश महाराज द्वारा निर्देशित छात्रों ने कत्थक नृत्य, आदया अरोडा द्वारा सितार वादन से रामधुन का प्रस्तुतिकरण किया गया जिसकी कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगो ने मुक्त कंठ से सराहना की।


कार्यक्रम के समापन अवसर पर अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में मुख्य अतिथि संस्कार भारती, उत्तराखंड की प्रान्त अध्यक्षा देहरादून केंट की विधायिका सविता कपूर ने कहा इस प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम सदैव होते रहने चाहिए, जिससे हमारी संस्कृति को समझने तथा उसको जानने का अवसर मिलता है। कार्यक्रम के आयोजन के लिए संस्कार भारती हरिद्वार की इकाई को बहुत बहुत बधाई, जिसने इस प्रकार का आयोजन किया। कार्यक्रम के अंत में सांस्कृतिक समागम कार्यक्रम में सहभागी रहें बच्चों को पुरुस्कृत किया गया। समापन अवसर पर कार्यक्रम में पधारे सभी अतिथियों का आभार इकाई मंत्री संतोष साहू द्वारा किया गया। कार्यक्रम में मंच संचालन डॉ अजय पाठक तथा कार्यक्रम संयोजन राकेश मालवीय द्वारा किया गया। कार्यक्रम में प्रमुख रुप से डी.के.मिश्र, संतोष मिश्रा, मोहित, दिनेश शिन्दे, रेखा सिंघल, सुनील सैनी, नीता नैयर, महेशचंद्र काला, तरुण शुक्ल, शिवशंकर पांडेय, सुशील त्रिपाठी के साथ अनेक व्यक्ति उपस्थित रहें।

अश्वमेध यज्ञ स्थल का डॉक्टर चिन्मय पांड्या ने मुंबई में किया निरीक्षण

 डॉ चिन्मय पण्ड्या ने अश्वमेध महायज्ञ स्थल का किया निरीक्षण


हरिद्वार / नवी मुंबई 15 फरवरी  मुंबई अश्वमेध महायज्ञ आयोजन के प्रमुख युवा आइकॉन आदरणीय डॉ चिन्मय पण्ड्या जी यज्ञ स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने यज्ञशाला, प्रवचन, मंच, भोजनालय, प्रदर्शनी आदि का अवलोकन किया और आवश्यक दिशा निर्देश दिया।

बुधवार 21 से रविवार 25 फरवरी को होने वाले अश्वमेध महायज्ञ का शुभारंभ होने में अब केवल छः दिन शेष है। अश्वमेध महायज्ञ मेें कई हजार स्वयंसेवक सेवा कार्य में प्राणपण से जुटे हैं। महायज्ञ की तैयारियों जोरों पर हैं। अधिकतर कार्य पूरा होने के कगार पर हैं। प्रदर्शनी विभाग द्वारा निर्मित देवात्मा हिमालय का मॉडल और इससे सटा हुआ झरना और पोखर आदि सभी को सहज ही अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। यज्ञशाला में अद्धचन्द्राकर, गोलाकार सहित 9 आकार प्रकार के 1008 कुण्ड बनकर तैयार हो रहे हैं। अश्वमेध महायज्ञ स्थल में पत्रकारों हेतु मीडिया सेंटर तैयार हो रहा है, जहां लोकतंत्र का चौथा स्तंभ अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन कर पायेंगे और अश्वमेध महायज्ञ के माहात्म्य और विशेषताओं को समझ पायेंगे। चिकित्सालय, निर्माण, आदि से संबंधित उच्च स्तरीय बैठक हुई जिसमें अश्वमेध महायज्ञ समिति की कोर टीम के सदस्यों ने भाग लिया।

डॉ निशंक ने आस्था स्पेशल को किया रवाना

हरिद्वार 15 फरवरी स्टेशन हरिद्वार से अयोध्या धाम के लिए आस्था स्पेशल ट्रेन रवाना होने पर हरिद्वार के लोकसभा सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने हरी झंडी दिखाकर ट्रेन मे जाने वाले राम भक्तों को रवाना किया।डॉ निशंक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीऔर केंद्र सरकार का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि देशभर के राम भक्तों को श्री रामलला के दर्शन हेतु जो सुविधायें उपलब्ध कराई जा रही हैं वह अतुलनीय हैं श्री रामलला अपने जन्म स्थान पर विराजमान हुए हैं उनके दर्शन हेतु देश भर के लाखों राम भक्त लालायित और नित्य प्रतिदिन अयोध्या पहुंच रहे हैं।

उनके लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं।

उन्होंने उत्तराखंड सरकार के मुखिया पुष्कर सिंह धामी की प्रशंसा करते हुए कहा कि जिस प्रकार उत्तराखंड प्रदेश से यह चौथी ट्रेन अयोध्या धाम दर्शन हेतु भेजी जा रही है उसके लिए मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं।

इस अवसर पर रानीपुर विधायक आदेश चौहान ने राम भक्तों को संबोधित करते हुए कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का जीवन चरित्र देश के प्रत्येक बच्चे को आत्मसात करना चाहिए।

भाजपा सरकार द्वारा श्री राम भगवान के भव्य मंदिर का निर्माण इस देश को पुनः विश्व गुरु के रूप में स्थापित करने की और एक बड़ा कदम है।

हरिद्वार भाजपा जिला अध्यक्ष संदीप गोयल एवं रुड़की भाजपा जिला अध्यक्ष शोभाराम प्रजापति ने अयोध्या धाम रवाना होने वाले सभी राम भक्तों को शुभकामनाएं दी।

और कहा कि राम मंदिर विश्व में अध्यात्म का सबसे बड़ा धार्मिक केंद्र , संस्कृति और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा।

आस्था स्पेशल ट्रेन प्रमुख आशुतोष शर्मा ने बताया कि इस ट्रेन में हरिद्वार जिले के 1300 से भी अधिक राम भक्त दर्शन हेतु अयोध्या जा रहे हैं जिनके भोजन आवास एवं आवागमन की सुविधा संगठन द्वारा उपलब्ध कराई जा रही है।

अयोध्या दर्शन योजना के प्रदेश प्रमुख सीताराम भट्ट, सहप्रमुख डॉ जयपाल सिंह चौहान, आस्था स्पेशल ट्रेन के सह प्रमुख लव शर्मा ,आशु चौधरी, रुड़की जिला महामंत्री प्रवीण सिंधु, पूर्व जिला अध्यक्ष ओमप्रकाश जमदग्नि, डीसीएम मुरादाबाद भगवान सिंह, आईआरसीटीसी के इंचार्ज अमित राणा, स्टेशन अधीक्षक अनिल धीमान आदि रेलवे के अनेकों अधिकारी भी उपस्थित रहे।


दयालबाग आगरा में आयोजित बसंत उत्सव में युवाओं ने दिखाया जिमनास्टिक में दमखम



*ज्योति एस, दयालबाग (आगरा)।* बसन्तोत्सव के उपलक्ष्य में 13 फरवरी मंगलवार को दयालबाग़ में नवयुवकों एवं नवयुवतियों ने जिम्नाटिक्स का बहुत ही उत्तम प्रदर्शन किया। नवयुवक व नवयुवतियों ने कई हैरतअंगेज कारनामें प्रस्तुत किये जिनको देख कर उपस्थितजनों ने मुक्त कंठ व करतल ध्वनि कर उनका उत्साहवर्धन किया।

आज के कार्यक्रम की आकर्षक विशेषता थी कि इसमें दयालबाग़ के सुसज्जित ऊँटों ने भी भाग लिया। नवयुवकों ने भी ऊँटों के ऊपर/साथ भी कई हैरतअंगेज पिरामिड का प्रदर्शन किया। इस सब के दौरान ऊँटों ने भी अनुशासित प्रतिभागी की भांति भाग लिया तथा आनन्दित होते रहे।

जिम्नास्टिक्स प्रदर्शन के दौरान दी गईं प्रस्तुतियों की सूचि संलग्न है।

“तमन्ना यही है कि......” प्रार्थना के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। परमपूज्य हुज़ूर प्रो. प्रेमसरन सतसंगी साहब एवं आदरणीय रानी साहिबा की पूरे कार्यक्रम के दौरान उपस्थिती से प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन हुआ। अन्त में सभी प्रतिभागियों को परशाद वितरित किया गया।

---------------

*दयालबाग़ में बसंत पंचमी*

*“ऋतु बसन्त आये सतगुरु जग में,

चलो चरनन पर सीस धरो री।”*


माघ सुदी पंचमी, जो बसंत पंचमी के नाम से प्रसिद्ध है, आर्य संस्कृति में एक मुबारक (पवित्र) दिन माना जाता है और आनन्द व उल्लास के मौसम का अगुआ समझा जाता है। संतों ने भी मालिक के इस संसार में आने के समय की उपमा ऋतुओं के राजा - बसंत ऋतु से दी है।

आगरा शहर में स्थित दयालबाग़, जो कि राधास्वामी सतसंग का मुख्यालय है, में बसंत का विशेष महत्व है। बसंत पंचमी का दिन राधास्वामी मत के सतसंगियों के लिए महा आनन्द व विलास का है क्योंकि इसी पवित्र दिवस, 15 फरवरी 1861 को, मत के प्रथम आचार्य परम पुरूष पूरन धनी हुज़ूर स्वामी जी महाराज ने जगत उद्धार का संदेश पहले-पहल प्रगटाया और सतसंग आम जारी फरमाया।

“घट में खेलूँ अब बसन्त।

भेद बताया सतगुरु संत।।”

बसंत पंचमी, 20 जनवरी 1915, के दिन राधास्वामी मत के पाँचवें आचार्य, सर साहबजी महाराज द्वारा राधास्वामी सतसंग का मुख्यालय, दयालबाग़, आगरा शहर में स्थापित करने हेतु एक शहतूत का पौधा लगा कर दयालबाग़ की नींव रखी गई। इसके साथ ही नई सतसंग संस्कृति की नींव भी रखी गई। दयालबाग़ में शिक्षा एवं संस्कृति या एक तर्जे़ जिन्दगी (Way of Life) की शुरूआत एक बहुत सुन्दर व कोमल पौधे के रूप में 1 जनवरी 1916 को मिडिल स्कूल, जिसे राधास्वामी एजुकेशनल इन्स्टीट्यूट (REI) के नाम से जाना गया, के रूप में की गयी। यह पौधा धीरे-धीरे बढ़ते हुये वर्तमान में यूनिवर्सिटी (DEI) के रूप में एक बड़ा वृक्ष बन गया है, जिसका प्रभाव न केवल अपने देश के विभिन्न भागों में अपितु विदेशों में भी हो रहा है। दयालबाग़ एजुकेशनल इन्स्टीट्यूट (DEI) नाम के इस वृक्ष की सुगंध चहुँ दिस फैल रही है।

“आज आई बहार बसंत।

उमंग मन गुरु चरनन लिपटाय।।”

बसंत का दिन राधास्वामी मत के सतसंगियों के लिए बहुत महत्व रखता है। इस दिन को सभी सतसंगी अत्यधिक हर्षोल्लास से मनाते हैं तथा हुज़ूर राधास्वामी दयाल का गुणगान करते हैं। 

दयालबाग़ की जीवनशैली सदैव से ही गतिशील एवं गतिमान रही है अतः प्रत्येक वर्ष कुछ न कुछ नए आयाम जुड़ते रहते हैं। इस वर्ष भी 16 दिसम्बर 2023 को दयालबाग़ की गौशाला में राजस्थान से खरीदे गये 5 ऊँटनी व 3 बच्चों के रूप में नए मेहमानों का आगमन हुआ। बाद में 3 ऊँट और जुड़ गये तथा एक ऊँटनी ‘धुन’ ने एक बहुत ही सुन्दर व स्वस्थ बच्चे ‘पराधुन’ को जन्म दिया। यहाँ ये उल्लेख करना भी जरूरी है कि राजस्थान से दयालबाग़ आते हुए एक ऊँटनी ‘सखी’ की टांग में कुछ तकलीफ हो गई थी जिस कारण वो उठ नहीं पा रही थी। आगरा, मथुरा, बीकानेर यहाँ तक कि आस्ट्रेलिया के विशेषज्ञ चिकित्सक निरन्तर उसकी देखभाल एवं इलाज कर रहे थे परन्तु सखी के स्वास्थ्य में उत्साहवर्धक सुधार नहीं हुआ। इसी दौरान परम सन्त परम पिता हुज़ूर प्रो॰ प्रेम सरन सतसंगी साहब निरन्तर सखी के पास जाते रहे एवं अपनी दिव्य दृष्टि से ‘सखी’ को सराबोर करते रहे। परम पूज्य हुज़ूर प्रो॰ प्रेम सरन सतसंगी साहब के आगमन पर ‘सखी’ में भी नई स्फूर्ती पैदा हो जाती थी तथा एक टक परम पूज्य हुज़ूर के दर्शन करती रहती थी, ऐसा प्रतीत होता था कि वो भी उन दयाल से खुद को शीघ्र स्वस्थ करने की विनती कर रही हो। अन्ततः ‘सखी’ की प्रार्थना एवं परम पूज्य हुज़ूर प्रो॰ प्रेम सरन सतसंगी साहब की दया के प्रताप से दिनांक 11.01.2024 को रात 11:20 पर ‘सखी’ एकाएक उठ कर खडी हो गयी तथा अपने आप 8-10 कदम चल कर अन्य ऊँटों के पास चली गई, समस्त सतसंग जगत परम पूज्य दयाल के प्रताप के करिश्में को महसूस कर रहा था। इसी उपलक्ष्य में स्वामी नगर के परिलोक में परम पुरुष पूरन धनी हुज़ूर स्वामी जी महाराज की पवित्र समाध के साये में कुल मालिक के चरणों में शुकराने का जश्न मनाया गया। पवित्र पोथियों से पाठ, कव्वालियां पढ़े गये एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। राधास्वामी मत के आचार्यों की दया का प्रताप किसी से छुपा नहीं है, यह समय समय पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप में दिखायी देता है, बस उन दयाल के प्रति ‘सखी’ जैसी आस्था रखनी होती है।

सयुंक्त राष्ट्र संघ ने भी ऊँटों की उपयोगिता को देखते हुए 4 जनवरी 2024 को वर्ष 2024 को ‘अन्तर्राष्ट्रीय ऊँट वर्ष’ घोषित कर दिया है जबकि दयालबाग़ में ऊँटों का आगमन काफी समय पहले ही हो गया है।

बसंत के आगमन के पूर्व दयालबाग में इसके स्वागत की तैयारियाँ प्रारम्भ हो जाती हैं। छोटे-छोटे बच्चों से लेकर बड़े बुज़ुर्गों के उल्लास की सीमा नहीं होती है। अपने घरों तथा मोहल्लों और पूरे दयालबाग़ में सफाई व सजावट में सभी जुट जाते हैं। सभी लोगों के सामूहिक प्रयासों से बसंत के सुअवसर पर दयालबाग़ में एक अनोखी छटा देखने को मिलती है। बसंत के पर्व को सतसंगी अत्यन्त भक्तिभाव पूर्ण रीति से मनाते हैं और अपने परम पूज्य गुरू महाराज के चरनों में राधास्वामी दयाल का शुकराना अदा करते हुए, पूर्ण उमंग व प्रेम के साथ आरती, पूजा व अभ्यास में इस दिन को व्यतीत करते हैं और अपने भाग्य सराहते हैं।

“मोहि मिल गए रा-धा/धः-स्व-आ-मी पूरे संत।

अब बजत हिये में धुन अनन्त।।”

बसंत के अवसर पर दयालबाग़ में विभिन्न कार्यक्रम जैसे - बेबी शो, फैन्सी ड्रेस शो, जिमनास्टिक्स एवं विभिन्न प्रकार के खेल-कूद के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इन सभी कार्यक्रमों में बच्चे, युवा और सभी भाई व बहन उत्साह पूर्वक भाग लेते हैं।

“आज आया बसन्त नवीन।

सखी री खेलो गुरु संग फाग रचाय।।”

बसन्त के शुभ अवसर पर दयालबाग़ एवं देश विदेश की समस्त सतसंग कालोनियों में रात्रि के समय भव्य एवं आकर्षक विद्युत सज्जा की जाती है, जिसके लिए मोमबत्ती या दियों इत्यादि का प्रयोग नहीं किया जाता है जिससे प्रदूषण न हो। सौर ऊर्जा द्वारा LED Lights का प्रयोग विद्युत सज्जा के लिए किया जायेगा।



भाजपा जिला कार्यालय पर हुआ कार्यशाला का आयोजन

हरिद्वार 13 फरवरी जिला भाजपा 



कार्यालय हरिद्वार पर लाभार्थी संपर्क अभियान कार्यशाला का आयोजन हुआ जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में 20 सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष ज्योति प्रसाद गैरोला ने लाभार्थी संपर्क अभियान का विवरण एवं उद्देश्यों को लेकर कार्यकर्ता को संबोधित करते हुए कहा कि संपर्क अभियान का उद्देश्य केंद्र सरकार की योजनाओं के लाभार्थियों से कार्यकर्ताओं द्वारा व्यक्तिगत रूप से संपर्क करना है इस कार्यक्रम के निमित्त 25 लाख कार्यकर्ताओं के द्वारा मोदी सरकार की विभिन्न योजनाओं और नीतियों  के 6 करोड़ से अधिक लाभार्थियों से देशभर में संपर्क किया जाना है जिसमें हरिद्वार लोकसभा में 110000 से अधिक लाभार्थियों से संपर्क कर लाभार्थियों का डाटा भी अपडेट किया जाएगा जिसमें घर घर जाकर लाभार्थियों से संपर्क करना, पत्रक देना और गेट पर स्टीकर लगाना व लाभार्थी के मोबाइल से मिस कॉल नंबर पर मिस कॉल करना है लाभार्थी के फोटो एवं उसके अनुभव के वीडियो सोशल मीडिया, नमो एप, सरल ऐप पर अपलोड करना है प्रत्येक कार्यकर्ता को इस अभियान को प्रदेश द्वारा निर्धारित तिथियों के अनुसार तीन दिन में पूर्ण करना है। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री एवं हरिद्वार लोकसभा के सांसद रमेश पोखरियाल निशंक ने कार्यशाला में उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा की कार्यशाला के माध्यम से सभी प्रतिभागि, कार्यकर्ता बहनों और भाइयों को इस लाभार्थी संपर्क अभियान में अपना पूर्ण निष्ठा के साथ योगदान करना है बताए गए संपर्क अभियान में कार्य को बूथ स्तर तक दिए गए दिशा निर्देशों के अनुरूप  पूरा करना है इस अभियान के अंतर्गत मंडल स्तरीय कार्यशालाओं का आयोजन 24 फरवरी 2024 तक पूर्ण किया जाना है मंडल में प्रशिक्षण देने वाले कार्यकर्ता एवं आईटी के एक्सपर्ट जानकार कार्यकर्ताओं को इस कार्यक्रम के निमित्त महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है बूथ स्तर पर  संपर्क करने वाले कार्यकर्ता को एक बूथ पर लगभग 20 से 30 लाभार्थियों से संपर्क करना है संपर्क करने वाले कार्यकर्ता संपर्क अभियान में लाभार्थियों को दिए जाने वाले साहित्य, स्टिकर वगैरह समय से उपलब्ध करा दें। कार्यक्रम के अंत में हरिद्वार लोकसभा संयोजक जयपाल सिंह चौहान ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी मंचासीन अतिथियों एवं प्रतिभागि कार्यकर्ता बहन और भाइयों का आभार प्रकट करते हुए आग्रह किया कि सभी को मिलकर गए इस संपर्क अभियान को सफल बनाना है तथा हरिद्वार लोकसभा को सर्वाधिक मतों से जीतने का काम करना है कार्यक्रम में दायित्वधारी श्यामवीर सैनी, लोकसभा हरिद्वार के सह प्रभारी आदित्य चौहान, हरिद्वार जिला अध्यक्ष संदीप गोयल, रुड़की जिला अध्यक्ष शोभाराम प्रजापति, ऋषिकेश जिला अध्यक्ष रविंद्र राणा, कार्यक्रम के सहसंयोजक अनु कक्कड़ व नलिन भट्ट, लोकसभा विस्तार का राजेंद्र व्यास, कार्यक्रम के जिला संयोजक मोहित वर्मा, अमन त्यागी एवं श्रीमती पुष्पा जी, जिला महामंत्री आशुतोष शर्मा, आशु चौधरी, लोकसभा के सभी मंडल अध्यक्ष, कार्यक्रम के निमित्त मंडल संयोजक एवं सहसंयोजक सहित वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने प्रतिभाग किया।

कुष्ठ आश्रम पर ब्रह्मपुरी में सक्षम ने चलाया सेवा अभियान


 *"सविता प्रकोष्ठ का भव्य कार्यक्रम हुआ आयोजित 

           ऋषिकेश 12 फरवरी ( अमरेश दुबे संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश ) सन् 1936  में प्रतिष्ठित संस्थापक पूज्य श्री स्वामी शिवानंद जी महाराज द्वारा  स्थापित 'द डिवाइन लाइफ सोसाइटी' से पोषित *कुष्ठ आश्रम ब्रह्मपुरी* (टिहरी गढवाल) में 12 फ़रवरी 2024 को दोपहर 12 बजे से "श्री चिरंजीवालय ध्यान वाटिका झबरावाला (डोईवाला)" संस्थापक एवमं सक्षम ऋषिकेश अध्यक्ष श्री शांति प्रसाद सेमवाल की अध्यक्षता में  एक वृहद सेवा कार्यक्रम चलाया गया।

            उत्तराखंड प्रान्त सविता प्रकोष्ठ  प्रमुख जयश्री भण्डारी की  गरीमामयी उपस्थिति  के साथ सक्षम जिला टिहरी गढ़वाल अध्यक्ष श्री हर्षमणी बहुगुणा एवमं सक्षम जिला हरिद्वार अध्यक्ष श्री संदीप अरोड़ा की उपस्थिति से सेवा भाव की त्रिवेणी बन गई ।

            उत्तराखण्ड प्रान्त में 30 जनवरी से 13 फरवरी 2024 तक चल रहे कुष्ठ निवारण पखवाड़े के तहत प्रान्त  सविता प्रकोष्ठ  प्रमुख श्रीमती जयश्री भण्डारी द्वारा दी जा रही सेवा की चारों ओर सराहना हो रही है।

           सक्षम ऋषिकेश अध्यक्ष श्री शांति प्रसाद सेमवाल ःने कार्यक्रम का संचालन करते हुए उपस्थित सक्षम पदाधिकारियों एवमं सदस्यों का परिचय दिया तथा आश्रम में रह रहे सभी सदस्यों की कुशलक्षेम पूछते हुए  बताया कि सक्षम उत्तराखंड प्रान्त माननीय अध्यक्ष श्री ललित पंत जी के मार्गदर्शन पर दिव्यांगजनों के विकास एवमं प्रोत्साहन के लिए सक्षम निरन्तर  प्रयत्नशील हैं।

      कुष्ठ आश्रम के प्रधान श्री राजेन्द्र सिंह को आश्रम के रखरखाव व सभी सदस्यों की उचित देखभाल के लिए शाल भेंट कर सम्मानित किया गया।

       दिव्यांगजनों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए सोशियल मीडिया के माध्यम से उनकी समस्याओं को उजागर करने तथा उनकी जीवन शैली पर विभिन्न वृत्तचित्र तैयार करने वाले श्री आनंद बहुगुणा जी को कुष्ठ क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य करने हेतु शाल भेंट कर सम्मानित किया गया।

        आश्रम में सभी उपस्थित सक्षम सदस्यों द्वारा स्वच्छता जागरुकता अभियान चलाया गया साथ ही कई जगहों पर बिलिचिंग पाउडर का छिडकाव किया गया और विभिन्न प्रकार के फल आदि का वितरण भी किया गया। 

          कार्यक्रम में श्रीमती सोनिया अरोड़ा (सक्षम जिला हरिद्वार वरिष्ठ कार्यकर्ता) ; श्रीमती तारा पाण्डेय (सक्षम हल्द्वानी वरिष्ठ कार्यकर्ता) ; श्री चण्डी प्रसाद पोखरियाल (रक्तबाधित प्रकोष्ठ प्रमुख) ; श्री गगनदीप सैनी (सक्षम सदस्य) ; श्री वीपी भारद्वाज (क्षेत्र के प्रसिद्ध समाज सेवक) तथा मीडीया प्रभारी श्री आनंद बहुगुणा जी आदि उपस्थित रहे।

        गणमान्य पदाधिकारियों के संबोधनोपरान्त सभी का धन्यवाद व्यक्त करते हुए कार्यक्रम  समाप्त हुआ।

 


दयालबाग के मैदान पर हुआ प्रतियोगिताओं का आयोजन


आगरा 12 फरवरी बसन्तोत्सव के अन्तर्गत दयालबाग़ के एतिहासिक प्राइमरी स्कूल के मैदान पर खेलकूद प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं। परम पूज्य हुज़ूर प्रेम सरन सतसंगी साहब एवं आदरणीय रानी साहिबा के आगमन के पश्चात् रा धा/धः स्व आ मी सतसंग सभा के अध्यक्ष श्री गुरुस्वरुप सूद (भूतपूर्व आई॰ ए॰ एस॰) ने राष्ट्रीय ध्वज फहरा कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। राष्ट्रगान एवं प्रार्थना के पश्चात् विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं जिनमें विभिन्न आयु वर्ग के बच्चों ने पूरे उत्साह से भाग लिया। कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण संत सुपर ह्युमन बच्चों की रेस रही जिसमें फेस 1 के बच्चों की 5 मी की दौड़ एवं फेस 2 के बच्चों की रिले रेस हुई। सभी विजेताओं को रा धा/धः स्व आ मी सतसंग सभा के अध्यक्ष श्री गुरुस्वरुप सूद (भूतपूर्व आई॰ ए॰ एस॰) पुरुस्कृत किया।

कार्यक्रम के अन्त में दयालबाग़ के रेगुलर पी॰ टी॰ प्रतिभागियों ने पी॰ टी॰ व लाठी पी॰ टी॰ का प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम का विशेष आकर्षण दयालबाग़ गौशाला के ऊँटों व बकरियों के द्वारा किया गया मार्चपास्ट रहा जिसके लिए उन्हें विशेष प्रोत्साहन पुरुस्कार भी दिये गये।




हरिद्वार आगमन पर नितिन गडकरी का होगा भव्य स्वागत :- अनिरुद्ध भाटी

 तीर्थनगरी में नितिन गडकरी का होगा ऐतिहासिक स्वागत : अनिरूद्ध भाटी

दूधाधारी फ्लाई ओवर के उद्घाटन के अवसर पर पावन धाम के सामने मैदान में आयोजित होने वाले कार्यक्रम को सफल बनाने में जुटे भाजपा कार्यकर्त्ता

हरिद्वार, 12 फरवरी। तीर्थनगरी में 4750 करोड़ रूपये की अधिक लागत की 30 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का भूमि पूजन एवं लोकार्पण करने कल 13 फरवरी 2024 को सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी जी का संत-महंतों, क्षेत्रवासियों व भाजपा कार्यकर्त्ताओं द्वारा ऐतिहासिक स्वागत किया जायेगा। यह विचार भाजपा पार्षद दल के उपनेता अनिरूद्ध भाटी ने भाजपा पार्षद व वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ पावन धाम के सामने स्थित मैदान में कार्यक्रम स्थल की तैयारियों का जायजा लेते हुए व्यक्त किये।

अनिरूद्ध भाटी ने कहा कि तत्कालीन शहरी विकास मंत्री, स्थानीय विधायक मदन कौशिक जी के प्रयासों से उत्तरी हरिद्वार के क्षेत्रवासियों की मांग को पूरा करते हुए आदरणीय नितिन गडकरी जी ने पावन धाम तिराहे से शांतिकुंज तक पिलर पर फ्लाई ओवर का निर्माण करवाकर दुर्गानगर, मुखिया गली, शिवनगर, मस्तराम गली, उत्तम बस्ती, सप्तसरोवर मार्ग को डूबने से बचाने का काम किया है। उनके प्रयास से पिलर पर फ्लाई ओवर का निर्माण होने से क्षेत्र में आवागमन सुगम होगा, रोजगार व व्यापार के अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि इस फ्लाई ओवर के उद्घाटन कार्यक्रम हेतु हरिद्वार विशेषकर भूपतवाला, सप्तसरोवर की जनता में उत्साह की लहर है। 

भाजयुमो पूर्व जिला महामंत्री पार्षद प्रतिनिधि विदित शर्मा ने कहा कि पूर्व में जब राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों ओर दीवार का निर्माण हो रहा था जिससे क्षेत्र की जनता को भारी परेशानी उठानी पड़ती। विधायक मदन कौशिक व क्षेत्रीय भाजपा पार्षदों ने क्षेत्रवासियों की आवाज को नितिन गडकरी जी तक पहुंचाकर जहां इस कार्य की डीपीआर में परिवर्तन करवाते हुए पिलर पर फ्लाई ओवर की सौगात इस क्षेत्र को देकर इस क्षेत्र के विकास के द्वार खोलने का कार्य किया वहीं दूसरी ओर तीर्थयात्रियों के आवागमन की सुविधा व क्षेत्र में जल भराव से मुक्ति का भी कार्य मदन कौशिक जी के प्रयास से सम्पन्न हुआ है। 

भाजयुमो के मण्डल अध्यक्ष अंकुश भाटिया व युवा भाजपा नेता आकाश भाटी ने कहा कि नितिन गडकरी जी व मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की उपस्थिति में फ्लाई ओवर के उद्घाटन समारोह को लेकर उत्तरी हरिद्वार में अपार उत्साह देखा जा रहा है। मंगलवार 13 फरवरी को आयोजित होने वाला यह कार्यक्रम ऐतिहासिक होगा जिसमें हरिद्वार की जनता हृदय से नितिन गडकरी जी का अभिनन्दन करेगी।

भाजपा पार्षद अनिल वशिष्ठ व विनित जौली ने संयुक्त रूप से कहा कि केन्द्र व प्रदेश की डबल इंजन की सरकार ने हरिद्वार की तस्वीर बदलने का कार्य किया है। आज हरिद्वार अवस्थापना सुविधाओं में विश्व के तमाम बड़े शहरों के समक्ष खड़ा है। उन्होंने कहा कि कल हजारों की संख्या में हरिद्वारवासी केन्द्र व प्रदेश सरकार तथा स्थानीय जनप्रतिनिधियों का जोरदार स्वागत करेंगे। 

कल आयोजित होने वाले उद्घाटन समारोह को सफल बनाने के लिए भाजपा पार्षद व पदाधिकारियों ने पावन धाम के सामने स्थित पण्डाल का जायजा लेने के साथ-साथ उत्तरी हरिद्वार में जन सम्पर्क अभियान चलाकर क्षेत्र की जनता से कार्यक्रम में भागीदारी का अवाह्न किया। 

इस अवसर पर मुख्य रूप से रूपेश बंसल, अंकुश भाटिया, आदित्य, दिनेश शर्मा, राघव ठाकुर, रूपेश शर्मा, सुखेन्द्र तोमर, रमेश, सन्नी गिरि, सतनाम सिंह, संदीप गोस्वामी, विशाल गुप्ता, अनुपम त्यागी, नाथीराम प्रजापति, विक्की प्रजापति, आदित्य यादव, गोपी सैनी, छोटू पाल, अमरपाल प्रजापति समेत अनेक भाजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित रहे।


पतंजलि में शुरू हुआ पांच दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम


*पतंजलि ने जीरो से शुरुआत करके ग्रामीण भारत और स्वदेशी का आदर्श मॉडल बनाया: श्री चरणजीत सिंह*

*स्वयं सहायता समूह, महिला सशक्तिकरण का सबसे बड़ा उदाहरण: श्री आनंद स्वरूप*


हरिद्वार 10 फरवरी


समृद्ध ग्राम (पतंजलि ट्रेनिंग सेंटर) में उत्तराखंड आजीविका मिशन के सहयोग से बेकरी उत्पाद एवं उद्योग प्रोत्साहन पर पाँच दिवसीय ट्रेनिंग कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। इस कार्यक्रम का शुभारंभ श्री चरणजीत सिंह एडिशनल सेक्रेटरी, ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार  तथा श्री आनंदस्वरूप जी (सी.ई.ओ, UKSRLM) के द्वारा दीप प्रज्वलन करके किया गया। इस अवसर पर श्री चरणजीत सिंह जी ने सभी प्रशिक्षुओं को संबोधित करते हुए कहा कि आदरणीय प्रधानमंत्री जी अपने प्रत्येक उद्बोधन में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के समग्र उत्थान तथा आजीविका अभिवृद्धि हेतु बल देते हैं। उन्होंने पतंजलि द्वारा इस दिशा में किए हुए प्रयासों की बहुत सराहना की तथा इसे व्यापार संवर्धन एवं आजीविका सुधार हेतु एक आदर्श मॉडल बताया। ग़ौरतलब है कि इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में बिस्किट, ब्रेड, केक इत्यादि बनाने की ट्रेनिंग के साथ साथ उनकी ब्रांडिंग, पैकेजिंग, लेबलिंग, मार्केटिंग सहित B POS ERP का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। इस कार्यक्रम की पूर्व संध्या में पतंजलि समूह के सह संस्थापक डॉ आचार्य बालकृष्ण जी ने भी एक उच्च स्तरीय मीटिंग में ग्राम उत्थान तथा व्यापार अभिवृद्धि हेतु ट्रेनिंग और समग्र प्रशिक्षण पर बल दिया। इस अवसर पर श्री आनन्दस्वरूप जी ने पतंजलि का धन्यवाद  ज्ञापित किया। पूरी टीम ने पतंजलि ग्रामोद्योग, फ़ूड पार्क तथा पतंजलि अनुसंधान संस्थान का भ्रमण भी किया। इस अवसर पर UKSRLM की  टीम के साथ साथ पतंजलि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक भी उपस्थित थे।

डी ईआई ने यमुना स्वच्छता अभियान के संग मनाया एल्यूमिनी कनेक्ट2024

 यमुना नदी स्वच्छ व निर्मल बनाने की प्रतिबद्धता के संकल्प संग दयालबाग एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई) ने मनाई एलुमनी कनेक्ट 2024




ज्योति एस, दयालबाग (आगरा) । दयालबाग एजुकेशनल इंस्टीट्यूट (डीईआई) ने एलुमनी कनेक्ट 2024 मनाया

रा धा स्व आ मी सतसंग सभा ने दोहरायी यमुना नदी स्वच्छ व निर्मल बनाने की प्रतिबद्धता

जैसा कि सर्वविदित है कि दयालबाग़ ने पिछले लगभग 10 माह से वैकुण्ठधाम पोईया घाट पर यमुना नदी को स्वच्छ व निर्मल करने का अभियान चलाया हुआ है जिसके कारण वैकुण्ठधाम आज मनोरम स्थल बन गया है तथा आगरा शहर के हजारों नागरिक सुबह व शाम यहाँ विचरण करने आने लगे हैं। रा धा स्व आ मी सतसंग सभा निरन्तर इस स्थान की साफ सफाई करती रहती है।  दयालबाग नगर पंचायत भी इस कार्य में बहुत सहयोग करती है।

इसी कड़ी में आज भी यमुना नदी को साफ करने का कार्य किया गया।  इसमें विशेषता यह थी कि दयालबाग शिक्षण संस्थान के भूतपूर्व छात्र जो आज एलुमनी कनेक्ट में भाग लेने आए थे, उन्होंने भी हजारों सतसंगी भाई-बहनों व बच्चों के साथ मिलकर इस कार्य में बढ़ चढ़ कर भाग लिया। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि यमुना के तट पर कोई मेला सा लग गया।

सफाई के लिए कुछ युवकों को यमुना तट के अन्दर से silt तथा कूड़ा निकालने के काम पर लगाया गया।  ऐसे सभी युवाओं को जीवन रक्षक जैकिट पहन कर कार्य करने का आदेश दिया गया था ताकि किसी प्रकार की दुर्घटना न हो। ये स्वयं सेवक कूड़ाकरकट निकाल कर तट पर रख रहे थे जहाँ से अन्य भाई-बहन कूड़े को उठा कर नगर पंचायत की कूड़ा गाड़ी से गन्तव्य स्थान पर डालते जा रहे थे ताकि तट पर किसी भी प्रकार की गन्दगी न रहे।

सम्पूर्ण कार्यक्रम में एक विशेष ध्यान देने योग्य बात यह थी कि प्रत्येक भागीदार ब्रेन पावर का प्रयोग कर अन्दर जो मसल्स पावर है, से काम कर रहा है। ऐसा करने से मनुष्य की शारीरिक एवं मानसिक शक्ति का सम्पूर्ण विकास होता है। इसके साथ साथ परम संत सतगुरू एवं वक्त गुरू के संरक्षण में कार्य करने से प्रतिभागी की आध्यात्मिक एवं धार्मिक प्रगति एवं संतोष का तो वर्णन ही नहीं किया जा सकता है।

आज इस सम्पूर्ण कार्यक्रम में परम पूज्य परम दयाल हुज़ूर प्रेम सरन सतसंगी साहब पूरे समय तक उपस्थित रहे तथा समस्त उपस्थितजनों, भाई-बहन व बच्चों पर अपनी असीम दया व मेहर की वर्षा करते रहे।  बिना उन दयाल की दया के यह कार्य सम्भव ही नहीं हो सकता।  

आज के कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण कार्यक्रम में पूर्ण समय तक दयालबाग के ऊँटों की उपस्थिति थी जो विशेष रूप से यहाँ लाए गए थे। ऊँटों  के साथ उनके बच्चे भी यहाँ आए थे जो हरे भरे स्वच्छ तट पर बहुत ही आनन्दित लग रहे थे और खूब अठखेलियां कर रहे थे। उन्हें निरन्तर हरा भरा चारा खिलाया जा रहा था।  

सफाई के कार्य के साथ साथ भूतपूर्व छात्रों के मिलन समारोह का कार्यक्रम भी यमुना तीरे ही प्रारम्भ हुआ।  कई वरिष्ठ एवं उच्च पदस्थ भूतपूर्व छात्रों (पूरुष एवं महिलाओं) ने अपने अनुभव साझा किये। सबने डी ई आई से प्राप्त की गई शिक्षा तथा जीवन शैली की मुक्त कण्ठ से प्रशंसा की। 

मुख्य रूप से परम आदरणीय रानी साहिबा (परम आदरणीय श्रीमति सत्यवती सतसंगी) ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए यहाँ की शिक्षा प्रणाली और शिक्षण की भूरि-भूरि प्रशंसा की तथा बताया कि शिक्षा के साथ-साथ छात्र-छात्राओं के सर्वांगींण विकास के लिए विभिन्न प्रकार की जो ट्रेनिंग दी जाती है, वह अद्वितीय है।  इससे छात्रों के व्यक्तित्व का बहुत विकास होता है। खेतों में काम करने से शारीरिक स्वस्थता तथा अध्यात्मिक एवं धार्मिक विकास भी होता है जिसके कारण यहाँ के विद्यार्थियों में उच्च कोटि के संस्कार जनित होते हैं, जिससे समस्त जीवन काल तक लाभ मिलता है।

पद्मश्री डा. राधे श्याम पारिख प्रसिद्ध होम्योपैथी डाक्टर ने बताया कि उन्होंने अपने जीवन काल में जो कुछ भी उपलब्धि पायी है उस सब का श्रेय यहाँ की शिक्षा को जाता है।  ज्ञातव्य रहे कि डा. पारिख ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा आर ई आई कालेज, दयालबाग से ही ग्रहण की।  उन्होंने बताया कि दयालबाग़ के धार्मिक गुरूओं के कारण यहाँ के अध्यात्मिक एवं धार्मिक वातावरण ने उन पर अमिट छाप छोड़ी।  यही नहीं इसी कारण उन्होंने अपने सभी बच्चों को भी यहीं से शिक्षा ग्रहण करवाई। आज सभी अपने अपने क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के अग्रणी डाक्टर हैं तथा मानव सेवा में कार्यरत हैं।

इसी प्रकार डा. अर्श धीर ने भी अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि डी.ई.आई. जैसी शिक्षा कहीं भी उपलब्ध नहीं है।  यहाँ पर शिक्षा के साथ-साथ व्यक्ति के सर्वागींण विकास के लिए जिस प्रकार ध्यान दिया जाता है, वह अद्वितीय है। यहाँ से शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात संसार के किसी भी प्रकार के वातावरण में अपने को ढालने में कोई कठनाई नहीं होती।

कई अन्य Prominent भूतपूर्व छात्रों ने भी अपने विचार प्रेषित किए हैं जिनको डी.ई.आई. की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है। जिनमें  यूजीसी के उपाध्यक्ष प्रोफेसर दीपक कुमार श्रीवास्तव , अनूप श्रीवास्तव सेवानिवृत्त पुलिस महानिरीक्षक भारतीय रेलवे, स्प्रिंगरनेचर के प्रबंध निदेशक और डीईआई के इंजीनियरिंग संकाय के पूर्व छात्र वेंकटेश सर्वसिद्धि , वाटरलू विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित प्रोफेसर और विज्ञान संकाय के पूर्व छात्र डॉ अपूर्व नारायण , आईआईटी दिल्ली के वरिष्ठ प्रोफेसर प्रो पी के कालरा, आईआईटी दिल्ली के वरिष्ठ संकाय प्रोफेसर हुजूर सरन और दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स की निदेशक प्रोफेसर पमी दुआ आदि उल्लेखनीय हैं।

कार्यक्रम के अन्त में सन्त सुपर ह्यूमन के बच्चों ने मनमोहक रंगारंग प्रस्तुति दी तथा डी.ई.आई. के छात्र-छात्राओं ने वैस्टर्न शास्त्रीय समूह गान प्रस्तुत किए।  

कार्यक्रम का अन्त विश्वविद्यालय गान से हुआ।  सभी उपस्थितजनों को परशाद तथा जलपान वितरित किया गया।  अन्त में सभी उपस्थितजनों को मार्चपास्ट के लिए पंक्तिबद्ध होने का निर्देश दिया गया।  परम पूज्य परम पिता प्रोफेसर प्रेम सरन सतसंगी साहब ई-रिक्शा से भ्रमण करते हुए प्रत्येक भाई-बहन, बच्चों को अपनी दिव्य दृष्टि से धन्य करते गए। प्रत्येक जन ने अपने संत सतगुरू की दिव्य दृष्टि का भरपूर अध्यात्मिक लाभ उठाया। मार्चपास्ट के बाद समस्त जन विर्सजित होकर अपने गंतव्य स्थानों के लिए चले गए।



भाजपाईयो ने की आतिशबाजी

हरिद्वार 8 फरवरी भारतीय जनता पार्टी जिला हरिद्वार के कार्यकर्ताओं द्वारा उत्तराखंड की पुष्कर सिंह धामी सरकार द्वारा उत्तराखंड विधानसभा में समान नागरिक संहिता बिल पारित होने पर चंद्राचार्य चौक पर सैकड़ो की संख्या में पहुंचे कार्यकर्ताओं के द्वारा एक दूसरे को मिष्ठान खिलाकर एवं आतिशबाजी कर उत्सव मनायाl 


पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं नगर विधायक मदन कौशिक ने इस अवसर कहा कि देश का पहला समान नागरिक संहिता विधेयक उत्तराखंड सरकार में पास हो गया है 2 दिन की लंबी चर्चा के बाद सदन में ध्वनि मत से पास हुआl

इसके लिए मैं प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सहित सभी जनप्रतिनिधियों को धन्यवाद देता हूं एवं प्रदेश की जनता को इस बिल के पास होने पर शुभकामनाएं प्रेषित करता हूंl

इसी के साथ-साथ विधानसभा में उत्तराखंड राज्य आंदोलन के चिन्हित आंदोलनकारी एवं उनके आश्रितों को राजकीय सेवा में 10% क्षैतिजआरक्षण देने वाला विधेयक संशोधन के साथ सदन में सर्वसम्मति से पारित हुआ।

भाजपा जिला अध्यक्ष संदीप गोयल ने कहा कि प्रदेश की पुष्कर सिंह धामी सरकार के नेतृत्व में पास हुआ यह ऐतिहासिक समान नागरिक संहिता बिल उत्तराखंड वासियों के मिल का पत्थर साबित होगा।

सभी धर्म समुदायों के लिए एक समान एक बराबर कानून अति आवश्यक था।

इस कानून के बनने से संपूर्ण प्रदेशवासियों में समानताओं का भाव उत्पन्न होगा।

यह विधेयक मातृशक्ति के सम्मान व सुरक्षा के प्रति पुष्कर सिंह धामी सरकार के संकल्प को परिलक्षित करता है।

इस अवसर पर जिला महामंत्री आशु चौधरी, मंडल अध्यक्ष राजेश शर्मा, हीरा सिंह बिष्ट ,तरुण नैय्यर, लव शर्मा, मनोज गर्ग ,अनिल अरोड़ा विशाल गर्ग ,सुनील शेट्टी, सचिन बेनीवाल, नकली राम सैनी, नेत्रपाल चौहान ,सचिन शर्मा, सिद्धार्थ कौशिक, प्रीति गुप्ता, शीतल पुंडीर, सरिता यादव, सरोज जाखड़, रजनी वर्मा, मनोज शर्मा, अरुण आर्य, दीपांशु विद्यार्थी ,शुभम मंडोला, नितिन शुक्ला, अनिल मिश्रा, प्रशांत सैनी, छवि पथ, धीरसिंह, पप्पन कुरैशी, तूशांत भट्ट, आकाश दत्त, ऋषभ सैनी ,बाबू सिंह, विजय गवाड़ी ,अशोक गिरी, सुबोध वर्मा, विवेक उनियाल ,मोनिका सैनी, पारुल चौहान ,निशा नौडियाल, नेपाल सिंह ,संजय पुंडीर ,विदित शर्मा ,आकाश भाटी, अनिल कुमार ,अंश मल्होत्रा, कामिनी सदाना, सचिन अग्रवाल ,राहुल शर्मा ,विक्की शर्मा आदि उपस्थित रहे।

समान नागरिकता कानून उत्तराखंड सरकार की है स्वागत योग्य पहल :-अजय कुमार



हरिद्वार 5 फरवरी  उत्तराखण्ड सरकार की कैबिनेट बैठक में समान नागरिक संहिता के ड्राफ्ट को स्वीकार किए जाने और आगामी 6 फरवरी विधान सभा के सत्र में रखे जाने के फैसले का विश्व हिंदू परिषद उत्तराखण्ड के प्रान्त संगठन मंत्री अजय कुमार ने स्वागत और अभिनंदन किया है। 


अजय कुमार ने कहा कि संविधान का अनुच्छेद 44 सभी सरकारों को पूरे भारत में नागरिकों के लिए एक समान नागरिक संहिता सुनिश्चित करने का निर्देश देता है। उत्तराखण्ड राज्य में समरुपता स्थापित करने के लिए एक प्रकार के कानून, एक प्रकार की विधि व्यवस्था, एक प्रकार के रीति रिवाज, विवाह आदि संस्कारों में एक ही प्रकार के नियम लागू होंगे, जिससे राष्ट्रीय एकता और अखंडता को मजबूती प्राप्त होगी। शासन की नीतियों का आधार विभिन्नताओं को पोषित करना नहीं है, अपितु राष्ट्रहित में विभिन्नताओं को समेकित करना है। एक आदर्श राज्य में नागरिक के अधिकारों की रक्षा के लिए समान नागरिक संहिता एक आदर्श उपाय होगा। निरंतर बदलती परिस्थितियों के बीच आज वह समय आ गया है कि सभी नागरिकों के मौलिक और संवैधानिक अधिकारों की रक्षा के लिए धर्म की परवाह किए बगैर समान नागरिक संहिता को लागू किया जाना चाहिए, समान नागरिक संहिता द्वारा ही धर्मनिरपेक्षता और राष्ट्रीय अखंडता को मजबूत किया जा सकता है।


अजय कुमार ने कहा कि हमने कभी किसी के अधिकारों का शोषण नहीं किया बल्कि अपनी ओर से अधिकार देने की या दूसरों के अधिकारों का संरक्षण करने की मानवोचित प्रवृत्ति को अपना कर मानवता का हित संरक्षण किया है। अपनी इसी सोच और पवित्र भावना के कारण भारत प्राचीन काल से ही समान नागरिक संहिता का समर्थक ही नहीं बल्कि संस्थापक देश रहा है। देवभूमि उत्तराखण्ड पुण्य सलिला गंगा और यमुना का उद्गम स्थल हैं, इन पवित्र नदियों से सम्पूर्ण भारत धार्मिक, आर्थिक आधार पर लाभान्वित होता हैं और सांस्कृतिक विरासत में गंगा जमुनी तहजीब देश की अखण्डता, एकता का परिचय कराती हैं। प्राचीन काल में भगवान श्री राम के पूर्वज भागीरथ मानव कल्याण की भावना से ओतप्रोत होकर कठोर तपस्या के पश्चात मां गंगा को पृथ्वी पर लेकर आए थे, उसी प्रकार वर्तमान समय में मानव कल्याण और एक आदर्श राज्य में नागरिक के अधिकारों की रक्षा के लिए आधुनिक भागीरथ के रुप में उत्तराखण्ड के यशस्वी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भारत के प्रत्येक राज्यों का मार्ग प्रशस्त करने को उत्तराखण्ड राज्य में समान नागरिक संहिता लागू कराने को संकल्पित हैं। विश्व हिन्दू परिषद उत्तराखण्ड के सभी नागरिकों के लिए समान नागरिक संहिता शीघ्र लागू करने के लिए आशान्वित है।



प्रयागराज में पंचकोशी परिक्रमा के अंतर्गत निकली जाएगी शोभायात्रा

 पंचकोसी परिक्रमा के दौरान संतों व श्रद्धालुओं द्वारा दर्शन-पूजन किया गया

अंतिम दिन सोमवार को कलश में गंगा जल लेकर महर्षि भरद्वाज आश्रम तक शोभा यात्रा निकाली जाएगी 


हरिद्वार 5 फरवरी ( गोपाल रावत वरिष्ठ पत्रकार )


श्री पंचदशनाम जूना अखाड़े द्वारा आयोजित पंचकोशी परिक्रमा में देशभर के हरिद्वार सहित जूना अखाड़ा से जुड़े देशभर के मठ मंदिरों से आये साधु संतों के साथ बड़ी संख्या में श्रद्धालु परिक्रमा कर रहे हैं।सोमवार को परिक्रमा पूर्ण हो जायेगी। जूना अखाड़े के सचिव श्रीमहंत महेश पुरी ने बताया है कि अंतरराष्ट्रीय संरक्षक एवं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरि महाराज की अध्यक्षता व नेतृत्व में आयोजित पंचकोसी परिक्रमा में चौथे रविवार को हजारों श्रद्धालु शामिल हुए। श्रद्धालुओं ने कई पवित्र तीर्थ स्थलों के दर्शन कर पूजा-अर्चना भी की। परिक्रमा के अंतिम दिन सोमवार को कलश में गंगा जल लेकर महर्षि भरद्वाज आश्रम तक शोभा यात्रा निकाली जाएगी। रविवार को संगम स्नान-पूजन से शुरू हुई परिक्रमा में शामिल संतों व श्रद्धालुओं ने रविवार को सबसे पहले गंगापार में झूंसी.प्रतिष्ठानपुरी स्थित समूद्रकूप एवं कल्पवृक्ष का दर्शन व पूजन किया। उसके बाद सभी ने झूंसी में ही श्री शंख माधव जी का दर्शन व पूजन किया। ग्राम ककरा.दुबावल स्थित महर्षि दुर्वासा आश्रम में दर्शन’पूजन किया गया। सहसों होते हुए फाफाम  पाण्डेश्वर महादेव ग्राम पनासा में पर्णास मुनि के आश्रम में महर्षि वाल्मीकि, पर्णास ऋषि व ज्वाला देवी का दर्शन.पूजन, श्रृंगवेरपुर धाम में सीता कुण्ड एवं निषादराज स्थली का दर्शन.पूजन, नगर में सलोरी स्थित श्री शेषनाथ भगवान का दर्शन.पूजन, नागवासुकि भगवान एवं श्री असि माधव जी का दर्शन.पूजन किया गया। दारागंज स्थित श्री वेणी माधव जी का दर्शन.पूजन के बाद श्री अलोपशंकरी माताजी का दर्शन.पूजन किया गया। संगम स्थित श्री आदि माधव जी का दर्शन-पूजन कर उनसे विश्व कल्याण की कामना की गई।  संगम पर आचमन व प्रार्थना के साथ चतुर्थ दिन की परिक्रमा का ने संगम स्थित श्री दत्तात्रेय शिविर में विश्राम लिया। जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक एवं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरि महाराज ने कहा कि पंचकोसी परिक्रमा के दौरान अनेक प्राचीन व सिद्धपीठ पडते हैं। परिक्रमा लगाने से हमें उन सभी के दर्शन व पूजन करने का अवसर भी मिलता है, जिससे हमारे सभी कष्ट दूर होते हैं। जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत प्रेम गिरि महाराज ने कहा कि  पंचकोसी परिक्रमा दुख-कष्टों को हरने वाली है। इस परिक्रमा से भगवत प्राप्ति होती है।श्री दूधेश्वर पीठाधीश्वर, श्री पंच दशनाम जूना अखाडा के अंतरराष्ट्रीय प्रवक्ता, दिल्ली संत महामंडल के राष्ट्रीय अध्यक्ष व हिंदू यूनाइटिड फ्रंट के अध्यक्ष श्रीमहंत नारायण गिरि महाराज ने कहा कि प्रयागराज में द्वादश माधव का बहुत महत्व है। तीर्थराज प्रयागराज में आने वाले श्रद्धालुओं की रक्षा हेतु भगवान विष्णु द्वादश माधव रूप में विरराजमान हैं। पंचकोसी परिक्रमा लगाने से इन सभी के दर्शन-पूजन का सौभाग्य भी प्राप्त होता है।अखिल भारतीय अखाडा परिषद के अध्यक्ष व  निरंजनी अखाड़ा के सचिव श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज, हिमालय पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर वीरेंद्रानंद गिरि महाराज, महामंडलेश्वर आत्मानंद गिरि, महामंडलेश्वर शिवगिरि महाराज त्र्यंबकेश्वर सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भी परिक्रमा में भाग लिया व संगम स्नान-पूजन किया।

Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...