एसएम जै एन पीजी कॉलेज ने सैनिक कल्याण कोष में दिया आर्थिक अंशदान


सैनिक कल्याण कोष में आर्थिक अंशदान वीर सैनिकों के प्रति हमारा सम्मान : श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी

 51000 की धनराशि देश के वीर सैनिकों के लिए सैनिक कल्याण कोष में समर्पित

हरिद्वार 31 मार्च,( आकांक्षा वर्मा संवादाता गोविंद कृपा हरिद्वार)



एस.एस.एम.जे.एन.(पी.जी.) काॅलेज में सशस्त्र झण्डा दिवस के अंशदान हेतु  काॅलेज परिवार व छात्र-छात्राओं द्वारा बढ़-चढ़कर सहायता राशि एकत्र की गयी।  काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने बताया कि अध्यक्ष, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद, माँ मंशा देवी मन्दिर ट्रस्ट व काॅलेज प्रबन्ध समिति के अध्यक्ष श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी जी के नेतृत्व में, काॅलेज के प्राध्यापकों, कर्मचारियों व छात्र-छात्राओं द्वारा इक्यावन हजार रुपये की धनराशि देश के वीर सैनिकों के लिए सैनिक कल्याण कोष में जमा की गयी है। उन्होंने बताया कि हमारे महाविद्यालय को जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास कार्यालय द्वारा जो आर्थिक सहायता का लक्ष्य दिया गया था उसको शत-प्रतिशत पूर्ण किया गया है। 

श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी ने कहा कि हमारी सेनाओं के अदम्य साहस, शौर्य, त्याग व बलिदान का स्वर्णिम इतिहास रहा है। सेना के जवान सीमा पर सुरक्षा के अतिरिक्त देश की आंतरिक एवं दैवीय आपदाओं के समय देशवासियों के जीवन की रक्षा तथा उन्हें राहत पहुंचाने का भी महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। श्री महन्त ने कहा कि यह राशि केवल वीर सैनिकों के प्रति हमारा सम्मान मात्र है। 

प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा बताया कि यह धनराशि आरटीजीएस के माध्यम से सैनिक कल्याण कोष में हस्तान्तरित कर दी गयी है।  

अधिष्ठाता छात्र कल्याण डाॅ. सरस्वती पाठक ने कहा कि हमारी सेना के वीर जवान अत्यन्त कठिन परिस्थितियों में एवं दुर्गम स्थानों पर तैनात रहकर न केवल राष्ट्र की सुरक्षा की कर रहे हैं, जिसके लिए सम्पूर्ण राष्ट्र उनका कृतज्ञ है। 

इस अवसर पर डाॅ. मन मोहन गुप्ता, डाॅ. संजय कुमार माहेश्वरी, डॉ सरस्वती पाठक, डाॅ. तेजवीर सिंह तोमर, डाॅ. नलिनी जैन, डाॅ. जे.सी. आर्य, डाॅ. सुषमा नयाल, डाॅ. आशा शर्मा,  डाॅ. मोना शर्मा, डाॅ. अमिता श्रीवास्तव, श्रीमती रिंकल गोयल, रिचा मिनोचा, साक्षी अग्रवाल, डाॅ. सुगन्धा वर्मा, दिव्यांश शर्मा, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, विनीत सक्सेना, डाॅ. प्रज्ञा जोशी, मोहन चन्द्र पाण्डेय सहित अनेक शिक्षकों व कर्मचारियों ने सैनिकों के लिए इस कल्याण कोष में अपना अंशदान दिया

ई रिक्शा चालकों ऑटो चालकों ने प्रशासन के निर्णय को दिया समर्थन

हरिद्वार 31 मार्च (वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) ई रिक्शा / ऑटो चालको ने एक बैठक का आयोजन ललतरावपुल पर किया जिसमे उन्होंने सर्वसम्मति से अपर रोड से हर की पौड़ी तक प्रशासन का अतिक्रमण हटाने व ई-रिक्शा/ऑटो को सीमित संख्या में चलाने  डिवाईडर निर्माण के लिए  पूर्ण सहयोग करने का निर्णय लिया है। 


ई रिक्शा के प्रधान सुभाष सिंह ने कहा कि आगामी यात्रा सीजन को देखते हुए प्रशासन की ओर से शिव मूर्ति से ले कर भूरे की खोल तक डिवाइडर बनाने का जो निर्णय लिया गया है उसका हम सभी लोग समर्थन करते है क्योंकि इस से व्यापारियों व चालको को अपर रोड पर जाम से निजात मिलेगी बाहरी क्षेत्र से आने वाली अन्य ई रिक्शा व ऑटो पर भी अंकुश लगेगा जिससे जाम से भी निजात मिलेगी


चालक  सुरेश  गुप्ता ने कहा की शिव मूर्ति से ले कर भूरे की खोल तक सड़क की चौड़ाई 150 से ले कर 120 फिट तक कि पर्याप्त मात्रा सड़क  है जिस में डिवाइडर को आसानी से बनाया जा सकता है। जिससे दुकानों के आगे तक फैलाव कर के लोग रखते है उन पर भी अंकुश लगेगा,। चालक मोहन ने कहा इस मार्ग पर पहले के समय बस , ट्रक अन्य बड़े वाहनो आगवमन हुआ करता था आज के समय मे लगने वाला जाम कही न कही स्थानीय अतिक्रमण भी इस जाम का जिम्मेदार है।

बैठक में उपस्थित राजेन्द्र चौहान , राजू, मनोज, काला, सुरेश , मोहन, अम्बरीष, मोनू, किशन , आशु आदि लोग उपस्थित रहे व अपने विचार रखे।

वित्तीय साक्षरता एवं साइबर क्राइम पर गोष्ठी का एस एम जै एन पीजी कॉलेज में हुआ आयोजन

 असामान्य रिटर्न वाली स्कीम पर भरोसा नहीं करे 

साइबर ठगों का अचूक औजार है असामान्य रिटर्न वाली स्कीम : डॉ बत्रा


हरिद्वार 30 मार्च, (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) एस.एम.जे.एन. (पी.जी.) काॅलेज के व्याख्यान कक्ष में बुद्धवार को 


महाविद्यालय एवं यूको बैंक, गोविन्दपुरी के संयुक्त तत्वाधान में वित्तीय साक्षरता एवं साईबर क्राईम विषय पर एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि यूको बैंक के प्रबन्धक नीरज सजवान व एसबीआई लाईफ इंशोरेंस के अक्षय ने साईबर क्राईम एवं वित्तीय साक्षरता पर काॅलेज के सभागार में प्राध्यापकों को विशद जानकारी दी व उनके द्वारा पूछे गये प्रश्नों के उत्तर भी दिये। 

इस अवसर पर काॅलेज के प्राध्यापक साथियों को यूको बैंक के प्रबन्धक नीरज सजवान ने साईबर काईम के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि साईबर ठग  इंटरनेट व फोन के माध्यम से उनके दिमाग को भ्रमित कर उनकी गाढ़ी कमाई में सेंध लगाकर ठगी को अंजाम देते हैं। कभी पैसे, कभी खाता नम्बर मांगकर, कभी नौकरी का प्रलोभन देकर, कभी फ्री मूवी या डाटा देने का लालच देकर युवाओं को गलत कार्य करने के लिए उकसाते हैं, इसलिए युवाओं का सचेत रहना आवश्यक है। ऐसे अन्जान ई-मेल अथवा वाट्स ऐप पर आये सन्देशों को अपने पासवर्ड या ओटीपी की जानकारी कभी भी किसी अपरिचित को न दें।  

काॅलेज के प्राचार्य ने डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने सभी अतिथियों का धन्यवाद प्रेषित करते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रमों से प्रतिभागियों में जन-जागरूकता उत्पन्न होती है तथा वित्तीय साक्षरता एवं विनियोग की जानकारी प्राप्त होने पर वे सही दिशा में अपने विनियोग के लिए अग्रसर होते हैं व दूसरों का भी उचित मार्गदर्शन करते हैं। उन्होंने बताया कि किसी भी वेबसाईट को खोलने से पहले वो वेबसाईट सिक्योर है अथवा नहीं इसकी जानकारी होनी अनिवार्य है। उन्होंने बताया कि जिन वेबसाईट पर एचटीटीपी है उस वेबसाईट को भूलकर भी न खोलें, केवल एचटीटीपीएस वाली वेबसाईट ही सुरक्षित हैं। डाॅ. बत्रा ने कहा कि कभी भी असामान्य रिटर्न देने वाली स्कीम पर भरोसा नहीं करना चाहिए। लालच के चक्कर में दिमाग को भ्रमित करके ही साईबर ठग आम व्यक्ति को फंसाने में कामयाब होते हैं। अतः लालच में नहीं आना है इस समाज में कोई भी चीज़ फ्री नहीं है फ्री के लालच में फंस कर व्यक्ति अपनी गाढ़ी कमाई से हाथ धो बैठता है साइबर ठगों का अचूक औजार होता है असामान्य रिटर्न वाली स्कीम .

कार्यक्रम का सफल संचालन डाॅ. संजय कुमार माहेश्वरी द्वारा किया गया। इस अवसर पर काॅलेज के डाॅ. सरस्वती पाठक, डाॅ. जे.सी. आर्य, डाॅ. लता शर्मा, डाॅ. रेणु सिंह, वैभव बत्रा, डाॅ. मोना शर्मा, दिव्यांश शर्मा, डाॅ. विनीता चौहान, डाॅ. अमिता श्रीवास्तव, डाॅ. सरोज शर्मा, डाॅ. रीना मिश्रा, डाॅ. सुगन्धा वर्माा, आस्था आनन्द, विनीत सक्सेना, विवेक मित्तल, प्रिंस श्रोत्रिय, प्रियंका प्रजापति, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, अंकित अग्रवाल, डाॅ. विजय शर्मा, कार्यालय अधीक्षक मोहन चन्द्र पाण्डेय, श्रीमती रिंकल गोयल, डाॅ. आशा शर्मा साहित काॅलेज के अनेक प्राध्यापक साथी उपस्थित थे।

तुला राम गोपाल दास मित्तल सरस्वती शिशु मंदिर में हुआ परीक्षा परिणाम वितरण समारोह

हरिद्वार 30 मार्च (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) 





मंगलवार को श्री तुलाराम गोपालदास मित्तल सरस्वती शिशु मन्दिर मायापुर हरिद्वार में परीक्षाफल वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस शुभ अवसर पर भैया/बहनों के प्रोत्साहन एवं मार्गदर्शन हेतु अतिथिरूप पतंजलि योगपीठ के प्रति कुलपति डाॅ0 महावीर अग्रवाल जी, विद्या भारती प्रदेश निरीक्षक डाॅ0 विजयपाल जी, कोषाध्यक्ष श्री प्रभुदयाल अग्रवाल जी, व्यवस्थापक जगपाल जी, एडवोकेट प्रमोद कुमार शर्मा जी प्रधानाचार्य करनेश कुमार जी उपस्थित रहे।


कार्यक्रम का प्रारम्भ सरस्वती वन्दना के साथ हुआ तदोपरान्त भैया/बहिनों को उनके परीक्षाफल के अनुरूप पुरस्कार वितरण किया गया।

परीक्षाफल की घोषणा विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री करनेश कुमार जी द्वारा की गई।

प्राथमिक वर्ग में अंशुल भारद्वाज एवं पूर्व प्राथमिक वर्ग में काव्या सिंह ने प्रथम स्थान प्राप्त किया।


कार्यक्रम के मध्य में भैया/बहिनों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया एवं  अतिथियों द्वारा भैया/बहिनों को मार्गदर्शन प्राप्त हुआ एवं नवसम्वत्सर व उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं प्रदान की। राष्ट्रगीत के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।


कार्यक्रम में भरोशानन्द डबराल जी, जयप्रकाश जी, सुरेेन्द्र बिंजोला जी, सुरेश जी, अल्पना शर्मा जी, माया भारद्वाज जी, भावना पन्त जी, गीता भारती जी, शालिनी जी, महेश कुमार जी , भारत भूषण जी, भुवन चन्द्र जोशी जी एवं मोहित कश्यप जी उपस्थित रहे।

अट्ठारह सौ सत्तावन की क्रांति को लेकर एसएम जैएन पीजी कॉलेज में किया गया कार्यक्रम का आयोजन

 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की अलख जगाने वाले थे मंगल पांडे

 मंगल पांडे को फांसी देने से मना किया था जल्लादो ने

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत किया गया कार्यक्रम



हरिद्वार 29 मार्च (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) 1857 मैं प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के प्रसिद्ध महानायक  क्रांति कारी मंगल पांडेय ने सर्व प्रथम  ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ क्रांति की शुरुआत की थी और 29 मार्च 1857 को बैरकपुर में अंग्रेजों पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया था. हालांकि वह पहले ईस्ट इंडिया कंपनी में एक सैनिक के तौर पर भर्ती हुए थे लेकिन ब्रिटिश अफसरों की भारतीयों के प्रति क्रूरता को देखकर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोल लिया था. यह विचार आज अमृत महोत्सव विचार श्रृंखला के तहत् डॉ सुनील कुमार बत्रा ने व्यक्त किये. 

डॉ बत्रा ने कहा कि अंग्रेज अधिकारियों द्वारा भारतीय सैनिकों पर अत्याचार तो हो ही रहा था. लेकिन हद तब हो गई. जब भारतीय सैनिकों को ऐसी बंदूक दी गईं. जिसमें कारतूस भरने के लिए दांतों से काटकर खोलना पड़ता था. इस नई एनफील्ड बंदूक की नली में बारूद को भरकर कारतूस डालना पड़ता था. वह कारतूस जिसे दांत से काटना होता था उसके ऊपरी हिस्से पर चर्बी होती थी. उस समय भारतीय सैनिकों में यह अफवाह फैली थी कि कारतूस की चर्बी सुअर और गाय के मांस से बनाई गई है. ये बंदूकें 9 फरवरी 1857 को सेना को दी गईं. इस्तेमाल के दौरान जब इसे मुंह लगाने के लिए कहा गया तो मंगल पांडे ने ऐसा करने से मना कर दिया था. उसके बाद अंग्रेज अधिकारी गुस्सा हो गए. फिर 29 मार्च 1857 को उन्हें सेना से निकालने, वर्दी और बंदूक वापस लेने का फरमान सुनाया गया. इस प्रकार से यह चिंगारी हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल बनी तथा देश की आज़ादी में मील का पत्थर साबित हुईं

 डॉ सरस्वती पाठक ने इस अवसर पर कहा कि मंगल पांडे ने अंग्रेजों के खिलाफ बैरकपुर में जो विद्रोह का बिगुल फूंका था. वह जंगल की आग की तरह फैलने लगी. विद्रोह की चिंगारी पूरे उत्तर भारत में फैल गई. इतिहासकारों का कहना है कि विद्रोह इतना तेजी से फैला था कि मंगल पांडे को फांसी 18 अप्रैल को देना था लेकिन 10 दिन पहले 8 अप्रैल को ही दे दी गई.  

डॉ संजय माहेश्वरी द्वारा इस अवसर पर बताया गया कि बैरकपुर छावनी के सभी जल्लादों ने मंगल पांडे को फांसी देने से इनकार कर दिया था. फांसी देने के लिए बाहर से 


जल्लाद बुलाए गए थे. 1857 की क्रांति भारत का पहला स्वतंत्रता संग्राम था. जिसकी शुरुआत मंगल पांडे के विद्रोह से शुरू हुई थी

इस अवसर पर डॉ विजय शर्मा, डॉ विनीता चौहान, डॉ अमिता श्री वास्तव, डॉ पदमावती तनेजा, डॉ आशा शर्मा, डॉ सरोज शर्मा, डॉ मोना शर्मा, डॉ महिमा नागयान, डॉ रेणु सिंह, दीपिका आंनद, प्रियंका प्रजापति, प्रिंस श्रोत्रिय, विनीत सक्सेना, वैभव बत्रा, अंतिम त्यागी मोहन चन्द्र पांडे उपस्थित रहें.

ऋषिकेश मे अमिताभ बच्चन कर रहे हैं फिल्म की शूटिंग

 47 साल बाद ऋषिकेश में शूटिंग करने पहुंचे महानायक अमिताभ बच्चन 

ऋषिकेश 29 मार्च (अमरेश दुबे संवाददाता गोविंद कृपा ऋषिकेश )सदी के महानायक अमिताभ बच्चन 47 साल के बाद योग नगरी ऋषिकेश शूटिंग करने पहुंचे ऋषिकेश के राम झूला ,लक्ष्मण झूला ,जानकी सेतु ,सीता घाट, रानीपोखरी चौक और जौली ग्रांट एयरपोर्ट सहित कई स्थानों पर हो रही है फिल्म गुडबाय की शूटिंग जिससे क्षेत्र के लोगों में बड़ा उत्साह देखने में को मिल रहा है। जिस जगह पर भी अमिताभ शूटिंग करने पहुंच रहे हैं वहां पर बड़ी संख्या में उनके प्रशंसक उनकी एक झलक देखने के लिए बेताब है फिल्म गुड बाय में अमिताभ बच्चन की अहम भूमिका है और साथ ही अभिनेत्री राशमीका मदान आदि है ।अमिताभ बच्चन को देखने के लिए ऋषिकेश के घाटों के किनारे लोगों की भीड़ को देखा जा सकता है ऋषिकेश में चारों ओर अमिताभ के प्रशंसक और उनके चाहने वाले उनकी चर्चा करते हुए देखे और सुने जा सकते हैं ।पुलिस प्रशासन को शूटिंग स्थल तक सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने में पसीने आ रहे हैं क्योंकि लोगों का दिल है कि मानता ही नहीं अपने महानायक एक झलक देखने के लिए बेताब है।



देहरादून में होगी सक्षम की प्रांत बैठक

 🚩🚩 *सक्षम उत्तराखंड की प्रान्त योजना बैठक की तैयारी हेतु बैठक आयोजित* 🚩🚩


 *_23 व 24 अप्रेल 2022 को देहरादून में होगी सक्षम की प्रान्त योजना बैठक*_ 


देहरादून 29 मार्च  (कपिल रतूडी) उत्तराखंड प्रान्त की अप्रेल माह में होने वाली प्रान्त योजना बैठक हेतु तिलक मार्ग स्थित संघ कार्यालय देहरादून में एक समीक्षा बैठक आयोजित की गई। *सक्षम के प्रान्त अध्यक्ष ललित पन्त 


की अध्यक्षता में आयोजित* तैयारी बैठक में प्रान्त योजना बैठक (23,24 अप्रेल 2022) की ठोस सफलता हेतु विभिन्न कार्यसमितियो का गठन किया गया।


देहरादून स्थित संघ कार्यालय में आयोजित प्रान्त योजना तैयारी बैठक में सर्वसम्मति से *सक्षम के वरिष्ठ प्रान्त उपाध्यक्ष डॉ अतुल कुमार गुप्ता जी को कार्यक्रम संयोजक* का दायित्व प्रदान किया गया है जबकि  श्री अनन्त प्रकाश मेहरा जी , कपिल रतूड़ी व भुवन गुणवंत जी को कार्यक्रम सह संयोजक का दायित्व प्रदान किया गया है। अन्य व्यवस्थाओ हेतु *भोजन व जलपान समिति में* श्री वीरेंद्र प्रसाद मुंडेपी जी, श्रीमती ममता रावत जी, श्री भगवान सिंह कैड़ा जी *आवास समिति में* श्रीमती निशा गुप्ता जी, श्री यशपाल सिंह जी, श्री मानवेन्द्र सती जी *स्वागत समिति* मे श्रीमती निरुपमा सूद जी, श्री शीशपाल सिंह चौहान जी,श्री सतेंद्र कुमार जी, डॉ हरीश जोशी जी, श्री कीर्तिमोहन भट्ट जी व *यातायात समिति* में श्री एस एस सजवाण जी, श्री पी सी डबराल जी, श्री सोनू जी अपने अपने दायित्वों का निर्वहन करेंगे।


 बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि *23 व 24 अप्रेल को देहरादून में आयोजित होने वाली सक्षम की प्रान्त योजना बैठक* में प्रांत कार्यकारिणी, सभी प्रकोष्ठों के प्रमुख व आयामो के प्रमुख, *पूर्व के सभी सम्मानित प्रान्त टोली व सदस्यों* सहित वर्तमान के सभी जिलों की टोली अपेक्षित रहेंगी। इस अवसर पर सक्षम के *राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आदरणीय मनुभाई जी एवम राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व उत्तर पश्चिमी क्षेत्र प्रभारी आदरणीय श्री रामकुमार मिश्रा जी* का परम सानिध्य भी प्राप्त होगा। प्रान्त योजना बैठक की तैयारियो की *समीक्षा बैठक 12 अप्रेल 2022 को साँय 4 बजे तिलक मार्ग स्थित संघ कार्यालय में आहूत की गई* है। बैठक में सक्षम के *प्रांतीय संरक्षक आदरणीय श्री प्रीतम कुमार गुप्ता* जी ने कहा कि पूर्व की भांति इस वर्ष की प्रान्त योजना बैठक दिव्य व भव्य होनी चाहिये, इसलिये सक्षम उत्तराखंड प्रान्त के सभी दायित्ववान कार्यकर्ताओं को बढ़चढ़कर अपना अपना योगदान देना होगा।


गणमान्य लोगों ने आशीष गौतम भैया जी को दी सफल आयोजन के लिए बधाई

 उत्तराखंड भाजपा ओबीसी मोर्चा  के प्रदेश अध्यक्ष ने दी आशीष गौतम भैया जी को सफल आयोजन की बधाई 

हरिद्वार 28 मार्च( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार )दिव्य प्रेम सेवा मिशन के रजत जयंती समारोह के सफल आयोजन और भव्य ऐतिहासिक समापन समारोह के लिए उत्तराखंड भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश गिरी ने दिव्य प्रेम सेवा मिशन के संस्थापक अध्यक्ष आशीष गौतम भैया जी एवं राष्ट्रीय संयोजक संजय चतुर्वेदी को सफल आयोजन के लिए बधाई दी ।भगवान आशुतोष के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए और मां गंगा के प्रति आभार प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि मां भगवती भागीरथी के तट पर भगवान आशुतोष की कृपा से 1 वर्ष से ज्यादा चल रहे इस सफल आयोजन को निर्विघ्नं रुप से संपन्न कराने में दिव्य शक्तियो  ने जो आशीर्वाद प्रदान किया है वह अपने आप में एक चमत्कार और ईश्वर कृपा है ।उन्होंने कहा कि आशीष गौतम भैया जी ने गंगा तट पर दिव्य प्रेम सेवा मिशन सेवा कुंज को एक तीर्थ स्थल के रूप में स्थापित कर सेवा और सुमिरन का केंद्र बनाया है जिसके परिणाम दृष्टिगोचर भी हो रहे हैं उन्होंने दिव्य प्रेम सेवा मिशन को बधाई देते हुए उनके मानवीय कार्यों के लिए शुभकामनाएं प्रदान की इस अवसर पर उनके साथ भाजपा जिला अध्यक्ष डॉक्टर जयपाल सिंह चौहान ,उपाध्यक्ष संदीप गोयल ,भाजपा ओबीसी मोर्चा के जिला महामंत्री डॉ प्रदीप कुमार ,भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश सोशल में  मीडिया प्रभारी(गढवाल) संजय वर्मा, जिला कार्यालय प्रभारी लव शर्मा आदि उपस्थित रहे।





वासुदेव लाल मैथिल सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज हुआ परीक्षा फल का वितरण एवं कंप्यूटर लैब का शुभारंभ

 !!वार्षिक परीक्षा फल वितरण,।




                  एवं कम्प्यूटर लैब का उद्घाटन!!


छात्र-छात्राओं का सर्वाधिक अंक प्राप्त करना मात्र उद्देश्य नहीं बल्कि प्रतियोगी बनने,अनुशासन में रहने तथा जीवन में सदैव अग्रसर होना पहला लक्ष्य होना चाहिए।.....


रुड़की: 28 मार्च( कमल किशोर डुकलान रूडकी)  वासुदेव लाल मैथिल सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर मीडिएट कालेज ब्रह्मपुर,रूड़की में वार्षिक परीक्षाफल वितरण एवं विद्यालयी विवरणिका पुस्तिका का समारोह पूर्वक आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ डॉक्टर अंकित आर्य उपाध्यक्ष/ राज्य मंत्री अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग उत्तराखंड सरकार, श्रीमान सुरेश चंद जैन  पूर्व विधायक रुड़की, श्रीमान ऋतुराज जी वरिष्ठ प्रचारक प्रांत प्रमुख धर्मजागरण प्रमुख उत्तराखंड एवं प्रमुख व्यवसायी विद्यालय के व्यवस्थापक श्रीमान प्रदीप सचदेव जी ने प्रात: वंदनीय मां शारदे के चित्र पर दीप प्रज्जवलित कर संयुक्त रूप से किया।

वार्षिक परीक्षा फल वितरण समारोह एवं विद्यालयी विवरणिका पुस्तिका विमोचन के अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उत्तराखंड सरकार में अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग उपाध्यक्ष/राज्य मंत्री डॉ.अंकित आर्य जी ने छात्र छात्राओं एवं उपस्थित जन समूह को सम्बोधित करते हुए कहा कि पिछले दो वर्षों में कोरोना संक्रमण के प्रतिबंधों के चलते पूरे शिक्षा जगत ने बडी चुनौतियों का सामना किया है। विषम परिस्थिति में आप सभी के सहयोग से हम सभी ने इस चुनौती का सामना किया है।और जहां तक देखा गया है कि विद्यालय का परिवेशीय शिक्षण आनलाइन शिक्षण के चलते काफी हद तक प्रभावित रहा है। डॉक्टर अंकित आर्य जी ने अपने सम्बोधन में कहा कि वर्तमान समय में विद्यालय प्रबंध समिति एवं आचार्य परिवार द्वारा छात्रों के शैक्षणिक स्तर एवं विद्यालय की मूलभूत सुविधाओं में पिछले छः महीने में जो सुधार के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं वे सभी सुधार प्रशंसनीय हैं आने वाले समय में अभिभावकों के सहयोग की नितांत आवश्यकता है ताकि छात्र-छात्राओं के भविष्य को उज्जवल बनाया जा सके। मैं विद्यालय प्रबंध समिति एवं आचार्य परिवार को इस सुन्दर आयोजन के लिए हार्दिक बधाई एवं देता हूं तथा सभी मेधावी एवं सफल छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं देता हूं।

विद्यालय के माननीय अध्यक्ष एवं प्रमुख समाजसेवी पूर्व विधायक रुड़की श्रीमान सुरेश चंद जैन जी ने छात्र छात्राओं एवं उपस्थित जन समूह को सम्बोधित करते हुए कहा कि विद्यालय के द्वारा नवीन प्रयोग के रूप में विद्यालय विवरणिका पुस्तिका प्रकाशित हुई है।जिसका कि आज वार्षिक परीक्षा फल वितरण समारोह के अवसर पर विमोचन हुआ है। निश्चित रूप में विवरणिका पुस्तिका विद्यालय के क्रिया कलापों का आगामी सत्र में विद्यालय संख्या बृद्धि तथा अन्य गतिविधियों में मददगार साबित होगी। वार्षिक परीक्षा फल में श्रेष्ठ स्थान प्राप्त करने वाले सभी छात्र-छात्राओं को उत्साहजनक

प्रदर्शन मेरी ओर से शुभकामनाएं हैं।

विद्यालय के परीक्षा प्रमुख श्री राजीव शर्मा ने सत्र 2021-22 के परीक्षा परिणाम की घोषणा की तथा सभी कक्षाओं में प्रथम,द्वितीय,तृतीय स्थान प्राप्त सभी छात्र-छात्राओं की क्रमशः घोषणा की तथा सभी प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को अतिथियों ने प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। 

श्रीमती नेहा गुप्ता के संयोजक में चले कार्यक्रम में विद्यालय के माननीय व्यवस्थापक परम आदरणीय श्रीमान प्रदीप सचदेव जी उपस्थित जनसमूह का आभार व्यक्त तथा छात्र छात्राओं का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि सभी भैया बहिनों को सदैव अपने जीवन में प्रतियोगी बनने,अनुशासन में रहने और लक्ष्य की ओर सदैव अग्रसर रहने की कामना करते हुए आगन्तुक अतिथि एवं अभिभावकों को स्वागत एवं अभिनन्दन किया। कार्यक्रम के अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री वीरपाल सिंह यादव ने अतिथियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए सदैव अपेक्षित सहयोग देते रहने की अपेक्षा की।

इस दौरान विद्यालय में अपनी-अपनी कक्षाओं में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले छात्र- छात्रों को पुरस्कृत भी किया गया। इस अवसर पर विद्यालय में नवीन कम्प्यूटर लैब का उद्घाटन किया गया तथा अतिथियों द्वारा विद्यालय का अवलोकन किया गया। कार्यक्रम में विद्यालय प्रबंध समिति के श्रीमान नवीन गुप्ता कोषाध्यक्ष,श्रीमान धर्मवीर रोड़, श्रीमान संदीप त्यागी, श्रीमान राजकुमार पुण्डीर सहित पदाधिकारी एवं सदस्य गण एवं आचार्य परिवार उपस्थित था।

धाद का सृजन संवाद




कथाकार मुकेश नौटियाल की पुस्तक 'हिमालय की कहानियां' के निमित्त "धाद" का आयोजन सृजन-संवाद।


     "धाद स्मृति वन" मालदेवता में कथाकार मुकेश नौटियाल के कहानी संकलन 'हिमालय की कहानियां' के दूसरे संस्करण के प्रकाशन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम सृजन-संवाद  में वरिष्ठ साहित्यकार जितेन ठाकुर ने कहा कि साहित्य अपने समय को भविष्य के लिए शब्दों में दर्ज़ करता है ताकि आने वाली पीढ़ियां अतीत की उपलब्धियों और गलतियों से सबक ले सकें। मुकेश नौटियाल की कहानियों को उन्होंने हिमालय के लोक-जीवन का विश्वसनीय दस्तावेज़ बताया। सद्य प्रकाशित संकलन की कहानियों को उन्होंने संस्मरण विधा से प्रभावित बताते हुए कहा कि लेखन की यह शैली घटनाओं और चरित्रों को विश्वसनीय बना देती है। उन्होंने कहा कि 'हिमालय की कहानियां' संग्रह की कथाएं पर्वत-प्रांतर के लोगों के उल्लास और विषाद से पाठकों को बख़ूबी परिचित कराती हैं।

       कथाकार मुकेश नौटियाल ने  पाठकों के प्रश्नों का जवाब देते हुए अपनी लेखन-यात्रा के बाबत विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि 'हिमालय की कहानियां' संग्रह में संकलित सभी बीस कहानियां उन्होंने दो-तीन दशक पहले बच्चों और किशोरों के लिए लिखी थीं। उस दौर में यह कहानियां पराग, नंदन, चंपक, बालभारती, बालहंस और सुमन सौरभ जैसी महत्वपूर्ण पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई थीं। ये कहानियां उन्होंने गांव में रहते हुए लिखीं, यही कारण है कि इन कहानियों में सरकारी दादी, काली बहादुर, हिमाली, रीछ औरत, इमरती, लीमा तेनजिंग, जैसे मानवीय चरित्रों के अलावा भोटू, ओसी और जमुना जैसे पालतू पशु भी महत्वपूर्ण चरित्रों के रूप में दर्ज हुए हैं। मुकेश नौटियाल के अनुसार लेखन के लिए हिमालय का लोक उर्बर विषय-वस्तु है। अभी भी यहां के अनेक बिंब साहित्य में दर्ज़ नहीं हुए हैं। उन्होंने लेखकों का आह्वान किया कि अस्तित्व के संकट से जूझ रहे सांस्कृतिक बिंबो को  साहित्य में सहेजने के लिए वह आगे आएं, अन्यथा आने वाली नस्लें अपनी जड़ों को भूल जाएंगी।

     मीनाक्षी जुयाल ने मुकेश नौटियाल की चर्चित कहानी "जाली वाला दरवाजा" का नाटकीय वाचन कर श्रोताओं और दर्शकों को कथा-वाचन के नए कौशल से परिचित कराया। पुस्तक में शामिल कहानियों पर आम पाठकों ने अपनी प्रतिक्रियाएं व्यक्त कीं। "धाद" के सचिव तन्मय ममगाईं ने कहा कि उनकी संस्था के शैक्षिक अभियान 'कोना कक्षा का' के अंतर्गत स्थापित पुस्तक-कोनों में 'हिमालय की कहानियां' रखवाई जा रही हैं। इसी क्रम में धाद साहित्य एकांश ने यह निश्चय किया है कि आने वाले समय में हिमालय के जन-जीवन,संस्कृति और सरोकारों पर केंद्रित पठनीय कहानियों  और रुचिपूर्ण कविताओं के संकलन भी धाद प्रकाशन के द्वारा प्रकाशित किए जाएंगे। 

     इस कार्यक्रम का संचालन रवींद्र नेगी ने किया। कार्यक्रम के उपरांत पहाड़ी उत्पादों के प्रोत्साहन के निमित्त "कल्यो' भोज का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पूर्व कुलपति डॉ. सुधारानी पाण्डेय, वरिष्ठ आलोचक दिनेश जोशी, साहित्यकार डॉली डबराल, कथाकार सुधा जुगरान, लेखक डॉ. राकेश बलूनी, लोकभाषी कवि शांति प्रकाश जिज्ञासु, शिक्षाविद निशा जोशी, रेखा नेगी, मनोहर लाल, दर्द गढ़वाली, राजीव पांथरी, प्रभाकर देवरानी, नंदलाल शर्मा, स्वाति बडोला, मनीषा ममगाईं, मंजू काला,बीरेंद्र खंडूड़ी, अर्चना ग्वाड़ी, पुष्पलता ममगाईं, मदन मोहन कंडवाल, अनिता सबरवाल, देवकी हटवाल, सुनील भट्ट, दिवाकर सकलानी और मीनाक्षी जुयाल ने भाग लिया।

सेवा कुंज में शिव "भजन संध्या में शिव आराधना में झूमे भक्तगण

 ।। लागी मेरी तेरे संग, लगन वो मेरे शंकरा ।। 


 हरिद्वार 28 मार्च (विरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा) दिव्य प्रेम सेवा मिशन द्वारा आयोजित रजत जयंती समापन समारोह के अंतर्गत रविवार सांयकाल  "शिव अवतरण भजन संध्या" में शिव भजन गायक और  साधक, हंसराज रघुवंशी  द्वारा शिव भजनों की अविरल गंगा ने दर्शकों के मन को शिवमय कर दिया कार्यक्रम के दौरान आचार्य  बालकृष्ण  महामंत्री पतंजलि योगपीठ.  महेंद्र जी क्षेत्रीय प्रचारक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, महामंडलेश्वर पूज्य स्वामी श्री उमाकांतानंद जी महाराज,  सतपाल महाराज जी मंत्री उत्तराखंड सरकार,  प्रेम अग्रवाल जी मंत्री उत्तराखंड सरकार, श्रद्धेय श्री आशीष गौतम "भैया जी" सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं की गरिमामय उपस्थिति रही। गंगा तट पर आध्यात्मिक ऊर्जा से परिपूर्ण सेवा कुंज परिसर में शिव भजनों पर शिव साधक घंटों झूमते रहे अपनी मस्ती में मस्त शिव साधक भजन गायक हंसराज राज रघुवंशी एक के बाद एक अपनी प्रस्तुतियां देते रहे और श्रोतागण  तालियां बजाकर उनके साथ शिवमय संगीत साधना में गोते लगाते रहे ,हरिद्वार में यह पहला अवसर है जब हंसराज रघुवंशी ने अपनी प्रतिभा का जलवा बिखेरा है। उन्होंने श्रद्धेय आशीष गौतम जी भाई साहब के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करते हुए कहा कि गंगा तट पर आध्यात्मिक ऊर्जा से परिपूर्ण सेवा और सुमिरन के केंद्र सेवा कुंज में शिव साधना के लिए भाई साहब ने मुझे बुलाकर मुझे कृतार्थ किया जिसके लिए मैं सदैव भाई साहब का ऋणी रहूंगा ।उन्होंने दिव्य प्रेम सेवा मिशन के राष्ट्रीय संयोजक संजय चतुर्वेदी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए अपनी किसी यात्रा को यादगार बनाने के लिए उनका आभार प्रकट किया।







राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिव्य प्रेम सेवा मिशन को दी शुभकामनाएं

हरिद्वार 27 मार्च (वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा  हरिद्वार) दिव्य प्रेम सेवा मिशन द्वारा आयोजित रजत जयंती त्रिदिवसीय समापन समारोह के अंतर्गत आज कार्यक्रम में भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविन्द जी, उत्तराखंड के राज्यपाल मा. श्री गुरमीत सिंह जी, उत्तराखंड के मा. मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी जी, विश्वप्रसिद्ध योग गुरु बाबा रामदेव जी सहित सेवा मिशन के अध्यक्ष श्रद्धेय आशीष भैया जी के साथ मंच पर दिव्य प्रेम सेवा मिशन के राष्ट्रीय संयोजक संजय चतुर्वेदी सहित विशेष विभूतियां उपस्थित  रही।

कार्यक्रम में सेवा मिशन के देश भर से आये हजारो कार्यकर्ताओं सहित नगर के गणमान्य जन उपस्थित रहे। अपने संबोधन में महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिव्य प्रेम सेवा मिशन के सेवा भाव को नमन करते हुए कहा कि श्रद्धेय आशीष गौतम जी जो सेवा कार्य कर रहे हैं उसके मूल में मानव मात्र का कल्याण समाहित है जो प्रशंसनीय और अनुकरणीय है।





उन्होंने दिव्य प्रेम सेवा मिशन के मानवीय कार्य को ईश्वर कार्य बताते हुए उसकी भूरी भूरी प्रशंसा की उन्होंने 
सफलतम 25 वर्षों की सेवा यात्रा के रजत जयंती समापन समारोह में शामिल हुए प्रतिभागियों के समक्ष   मिशन परिवार द्वारा किए जा रहे जन कल्याण व जन सेवा के कार्यों की प्रशंसा कर निरंतर सेवा कार्यों के विस्तार हेतु शुभकामनाएं दी । इससे पूर्व राष्ट्रपति ने दिव्य प्रेम सेवा मिशन के परिसर में चल रहे धार्मिक अनुष्ठान में भाग लिया और पौधा रोपित किया। दिव्य प्रेम सेवा मिशन के रजत जयंती समारोह के समापन कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल, सतपाल महाराज ,संघ के प्रांत प्रचारक युद्धवीर जी भाई साहब, आचार्य बालकृष्ण सहित विशिष्ट हस्तियां उपस्थित रही।

31 मार्च को होगा प्रेस क्लब हरिद्वार का चुनाव

 प्रेस क्लब रजिस्टर्ड हरिद्वार की चुनाव प्रक्रिया आरंभ, नामांकन पत्रों की बिक्री आज 




हरिद्वार 27 मार्च ( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा  हरिद्वार )   प्रेस  क्लब रजिस्टर्ड हरिद्वार की  चुनाव प्रक्रिया आरंभ हो चुकी है। जिसमें वर्ष  2022 -23 के लिए कार्यकारिणी के चुनाव हेतु नामांकन पत्रों की बिक्री  सोमवार दिनांक 28 मार्च को होगी तथा नामांकन पत्र अगले दिन मंगलवार को दाखिल होंगे । यह जानकारी देते हुए निर्वाचन अधिकारी सुभाष कपिल ने बताया की प्रेस क्लब हरिद्वार के वर्ष 2022- 23 के लिए अध्यक्ष और  महामंत्री के साथ अट्ठारह कार्यकारिणी सदस्य पदों पर का चुनाव होना है। जिसके लिए प्रेस क्लब के सक्रिय सदस्य मतदान करते है।  उन्होंने कहा कि चुनाव के लिए नामांकन पत्रों की बिक्री 28 मार्च सोमवार को दोपहर 1:00 बजे से 4:00 बजे तक होगी ।अगले दिन मंगलवार  29 मार्च को प्रातः 10:00 बजे से 1:00 बजे तक नामांकन पत्र नियमानुसार दाखिल किए जाएंगे । नामांकन पत्रों की जांच मंगलवार को ही 2:00 से 3:00 बजे तक होगी एवं उसके बाद 4:00 से 6:00 तक नाम वापसी होगी। नाम वापसी के बाद यदि आवश्यक हुआ तो मतदान 31 मार्च, दिन गुरुवार को प्रातः 9:00 बजे से 2:00 बजे तक होगा और उसी दिन वोटों की गिनती के बाद परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे । चुनाव अधिकारी सुभाष कपिल ने नियमानुसार निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव के लिए सभी सदस्यों से सहयोग की अपेक्षा की है। इस दौरान सहायक निर्वाचन अधिकारी संजीव शर्मा और विकास  झा तथा निगरानी समिति के ठाकुर शैलेंद्र सिंह उपस्थित रहे ।

सूफी गायकी में अपूर्व पालीवाल उत्तराखंड में चमकता हुआ एक नाम

 अपूर्व पालीवाल के 'साधुवाद' कंसर्ट में जम कर झूमे श्रोता





हरिद्वार 27 मार्च (विजयेन्द्र पालीवाल) बहुत  तेजी के साथ उभर रहे उत्तराखंड हरिद्वार के सूफी गायक अपूर्व पालीवाल की अगुआई में, सूफी संगीत और विशुद्ध भारतीय शास्त्रीय संगीत के संयोजन से साथ अस्तित्व में आया, देश का पहला शास्त्रीय संगीत बैंड 'साधुवाद' चिन्मय एडवान्स रिसर्च एजूकेशन (केअर), बहादराबाद के आॅडीटोरियम में हुए अपने प्रथम कंसर्ट के रूप में संगीत प्रेमियों के समक्ष प्रस्तुत हुआ। इस दौरान श्रोताओं की तालियों की गड़गड़ाहट से यह आॅडीटोरियम देर रात तक लगातार गूंजता रहा।

    मातु सरस्वती की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्वलन के साथ प्रारम्भ हुई, गीत और संगीत की इस शाम का आगाज़, वीणा पाणि को समर्पित भजन 'जयति जय जय माँ सरस्वती, जयति वीणा धारिणी' के साथ हुआ। इसके उपरांत विभिन्न रागों और विधाओं में बैंड के कलाकारों ने   अपनी प्रस्तुतियाँ रखीं, जिसमें राग असवारी की बहयलता रही। एक के बाद एक आई इन प्रस्तुतियों में -'सांसों की माला पे सिमरूं मैं पी का नाम', बड़े गुलाम‌अली खां की लोकप्रिय ठमरी 'बाजुबंद खुल खुल जाये', भगवान कृष्ण को समर्पित साँवल 'कदि आ मिल साँवल प्यार में', 'छाप तिलक सब छीनी तोसे नैना मिलाई के', 'एरी सखी मंगल गाओ री', 'सानू इक पल चैन न आवे सजना तेरे बिना', बुल्ले शाह की संगीत रचना 'तेरे इश्क नचाया करके थैया थैया', कव्वाली 'तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पड़ेगी, मोहब्बत की राहों में आ कर तो देखो' और 'सादगी तो हमारी ज़रा देखिये, ऐतबार आपके वादे पर कर लिया' विशेषरूप से मंत्रमुग्ध कर दिया।

    इन सभी प्रस्तुतियों में अपूर्व का साथ अनेक बाॅलीवुड फिल्मी गीतों में प्यानो बजाने वाले मुम्बई के अद्वैत, जयपुर के प्रियम (वोकल), देहरादून के रविन्द्र पाल (गिटार) के साथ-साथ हरिद्वार से तबले पर युवराज व उद्भव आर्या और रुद्र प्रताप सिंह (वोकल) ने संगत करते हुए दिया।

    बैंड ने 'लग जा गले' व 'आपकी नज़रों ने समझा' के साथ गत दिनों दिवंगत हुईं विश्वविख्यात संगीत सम्राज्ञी लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि भी दी, तो बैंड के संस्थापक अपूर्व पालीवाल द्वारा प्रस्तुत किये गये गीत 'झनक झनक तोरी बाजे पायलिया पर कुशल नृत्यांगना वैष्णवी झा ने शानदार व चित्ताकर्षक कत्थक प्रस्तुति दी। 'केअर' संस्थान के कलाकार गौरव रस्तोगी 'तोरे बिना लागे नहीं म्हारा जिया रे' प्रस्तुत किया। इसी अवसर पर 'साधुवाद बैंड' के थीम वीडियो की भी प्रस्तुति की गयी। 

     उल्लेखनीय है कि 2011 में अमेरिका के सान फ्रांसिस्को में अपने गीतों को ब्राडकास्ट करा चुके जाज़ गायक अपूर्व पालीवाल देश के विख्यात सूफी गायक कैलाश खेर की शागिर्दी में अपने संगीत को आगे बढ़ा रहे हैं।  मुंबई में  sound engg. के साथ साथ  पेरिस में  पाश्चात्य  संगीत की  शिक्षा ले चुके अपूर्व ने शीघ्र आने    वाली विवेकानन्द फिल्म‌ में संगीत देने के साथ-साथ गीत भी गाये हैं। कई लघु फ़िल्मों , विज्ञापन फ़िल्मों,  डाक्यूमेंट्री में  संगीत दे चुके म्यूजिक कंपोज़र अपूर्व ने कार्यक्रम के बाद 'साधुवाद' के बारे में बताया कि इस बैंड की स्थापना लगभग दो वर्ष पहले हुई थी, लेकिन लाॅक डाउन के कारण अधिकांश कार्यक्रम आनलाइन ही होते रहे थे। उन्होंने बताया कि 'साधुवाद' में अनेक विदेशी कलाकार भी जुड़े हुए हैं। कहा कि जल्दी ही 'साधुवाद' दिल्ली, मुम्बई, जयपुर या किसी‌ मैट्रो शहर में अपना कार्यक्रम आयोजित करेगा।

        कार्यक्रम में केअर के निदेशक   आर  के शर्मा  जी ने  दीप प्रज्वलित कर अपने कालेज की और से सभी का स्वागत किया, विजयेंद्र पालीवाल ने केयर कालेज आफ़ नर्सिंग का आभार व्यक्त करते हुए  वहां के समस्त  छात्रों छात्राओं एवं  स्टाफ को धन्यवाद किया कार्यक्रम में निदेशक  श्रीमती प्रीत शिखा शर्मा, अतिरिक्त निदेशक शुभांगी शर्मा, विद्या विहार एकेडमी की प्रधानाचार्या शोभना पालीवाल, एंजिल्स एकेडमी सी से स्कूल की प्राचार्या श्रीमती रश्मि चौहान,  सरस्वती पब्लिक सी से स्कूल के निदेशक अमित चौहान,  पारुल चौहान पाइन   क्राइस्ट के निदेशक कुलदीप खंडेलवाल,   अनिरुद्ध विशिष्ठ,  आशुतोष,  विनोद मेहता, पारुल चौहान,  पूजा शर्मा, नेहा, अंकिता, तनूजा, संपादक चेतना पथ अरुण कुमार पाठक,  संगीता सक्सैना, एडवोकेट रविन्द्र दत्ता, शिवांगी, , संकल्प पारिक (जयपुर) आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

...



संत आशीर्वाद सम्मेलन के साथ प्रारंभ हुआ दिव्य प्रेम सेवा मिशन के रजत जयंती समारोह का समापन कार्यक्रम

 हरिद्वार 26 मार्च (वीरेंद्र शर्मा संवादाता गोविंद कृपा) दिव्य प्रेम सेवा मिशन न्यास रजत जयन्ती समापन समारोह सन्त आशीर्वाद के अवसर पर आयोजित सेवाकुंज परिसर चण्डीघाट पर हुआ जिसमें निरंजनी पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानन्द महाराज, जगदगुरू शंकराचार्य राज राजेश्वरानन्द महाराज, पूज्य शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती महाराज द्वारा दीप प्रज्जवलन के साथ प्रारंभ हुआ कार्यक्रम में आये हुए सभी सन्तों का स्वागत करते हुए दिव्य प्रेम सेवा मिशन के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. आशीष गौतम ने बताया कि दिव्य प्रेम सेवा मिशन की सेवा संस्कृति के मूल में सर्वे भवन्तु सुखिनः, वसुधैव कुटुम्बकम् की भावना से प्रेरित ”दिव्य प्रेम सेवा मिशन“ 25 वर्ष पूर्व स्वामी विवेकानन्द, महर्षि अरविन्द, महात्मा गांधी एवं डॉ. बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर के सेवा एवं विचार दर्शन से प्रभावित होकर एक अध्यात्म प्रेरित स्वैच्छिक सेवा संगठन के रूप में देश में ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्व में अपना स्थान बना चुका है।

डॉ आशीष ने बताया कि आज से 25 वर्ष पूर्व फूस की झोपड़ी से प्रारम्भ सेवा कार्य आज सन्तों के आशीर्वाद सेवा भावी लोगों के हृदय की करूणा से पुष्पित पल्लवित दिव्य प्रेम सेवा मिशन आज 25 वर्षों मे 25 से अधिक सेवा मिशन के आयाम का संचालन समाज के सहयोग से कर रहा है सेवा मिशन कुष्ठ रोगियों की मरहमपट्टी करने से शुरू होकर आज व्यवस्थित चिकित्सालय उनके बच्चों के लिए विद्यालय तथा तीर्थ क्षेत्र में आने वाले श्रद्धालुओं हेतु निःशुल्क भोजनालय का संचालन कर रहा है जिसमें सभी का सहयोग प्राप्त होता रहता है।

सेवा मिशन के 25वे वर्ष में सवा करोड़ पार्थिव शिवलिंग के पूजन विसर्जन के साथ पूर्ण हो रहा है। जिसमें सेवा मिशन कुष्ठ रोगियों गरीब असहाय लोगों के बालक-बालिकाओं हेतु नर्सिंग कॉलेज की स्थापना कर रहा है।

कार्यक्रम का संचालन महामंडलेश्वर डॉ. उमाकान्तानन्द जी महाराज के द्वारा हुआ जिसमें हरिद्वार के प्रबुद्धजन, शिक्षाविद् तथा वरिष्ठ सन्त उपस्थित रहे। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से ज्योतिश्पीठाधीष्वर परम पूज्य जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती जी महाराज,पूज्य जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी श्री राज राजेष्वरानन्द जी महाराज

,परम पूज्य आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद जी महाराज

,पूज्य स्वामी दयाराम दास जी महाराज,पूज्य स्वामी गंगा दास जी महाराज, महामंडलेश्वर पूज्य स्वामी ललितानन्द जी महाराज,

पूज्य स्वामी यतींद्रानंद गिरि जी महाराज, महामंडलेश्वर पूज्य स्वामी रविदेव शास्त्री जी महाराज

पूज्य स्वामी रूपेन्द्र प्रकाष जी

, महामंडलेश्वर स्वामी श्री उमाकान्तानन्द जी महाराज,

पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज,पूज्य स्वामी विन्धवासनी दास जी महाराज,

पूज्य स्वामी ईष्वर दास जी महाराज पूज्य स्वामी रवीन्द्र पुरी जी महाराज,पूज्य महन्त श्री सतीश गिरी जी,

,पूज्य स्वामी कपिल मुनी जी महाराज बद्री केदार समिति के अध्यक्ष अजेन्द्र अजय,  भाजपा जिला अध्यक्ष डॉक्टर जयपाल सिंह ,जिला उपाध्यक्ष संदीप गोयल ,भाजपा ओबीसी मोर्चा के जिला महामंत्री डॉ प्रदीप कुमार ,समाजसेवी संजय वर्मा तथा, संजय चतुर्वेदी, अनिरूद्ध भाटी, अतुल चौहान, संदीप गोयल, अमित चौहान, दीपांशु विद्यार्थी, गगन यादव, मनोज शुक्ला, प्रशान्त खरे, शुभम शर्मा, विनीत जौली, लव शर्मा तथा मिशन के कार्यकर्ता बन्धु उपस्थित रहे।




भगवानदास संस्कृत महाविद्यालय में शोध सम्मेलन को लेकर हुआ विवाद


 ।।आपराधिक धाराओं में आरोपित डा. महावीर अग्रवाल आदि से संस्कृत का ह्रास ही होगाः-

महामण्डलेश्वर स्वामी रुपेन्द्र प्रकाश महाराज


।।हरिद्वार 25 मार्च  उत्तराखण्ड सरकार ने संस्कृत भाषा को द्वितीय राज्यभाषा घोषित करने के साथ-साथ उत्तराखण्ड संस्कृत अकादमी, उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय जैसे सरकारी संस्थानों को देकर संस्कृतभाषा के उत्थान में महान योगदान देने का सराहनीय प्रयास किया। इतना ही नहीं अपितु विभिन्न सन्त, महात्मा, मठाधीशों ने संस्कृत भाषा के संरक्षण और संवर्धन हेतु अपनी-अपनी शक्ति के अनुसार संस्कृत के विद्यालयों, महाविद्यालयों और पाठशालाओं की भी स्थापना अपने आश्रम की भूमि पर की। न केवल इतना ही अपितु उत्तराखण्ड के वासियों ने देवभाषा संस्कृत के विकास हेतु अपनी लाडली सन्तानों तक को इस भाषा के अध्ययन हेतु संस्कृत जगत् में उतारा और सुदूर स्थानों पर स्थित विभिन्न मठ-मन्दिरों में पढ़ने हेतु भेजा। भारत सरकार ने इसके विकास और संरक्षण हेतु भारत के कौने-कौने में जहाँ आदर्श पाठशालाओं को स्थापित किया, वहीं तीर्थनगरी हरिद्वार में एक आदर्श पाठशाला हरिद्वारस्थ प्राचीन अवधूत मण्डल आश्रम के परमाध्यक्ष श्रीगुरुचरणदास महाराज के कहने पर उनके द्वारा प्रदत्त भूमि पर स्थापित की, जिसका नाम उनके एक भक्त के नाम पर श्रीभगवानदास आदर्श संस्कृत महाविद्यालय रखा गया। इस महाविद्यालय का पिच्चानवें प्रतिशत अनुदान भारत सरकार और पाँच प्रतिशत अनुदान जनकसमिति के द्वारा दिया जाता है। कर्मचारियों का वेतनमान यूजीसी के समान है। सरकार के द्वारा दी गयी राशि का इस महाविद्यालय के आवर्ती और अनावर्ती मद में तथा वेतन में करोडों रूपया प्रतिवर्ष व्यय होता है। छात्रों को छात्रवृति भी सरकार के द्वारा प्रदान की जाती है। इतना होने के बावजूद भी इस देवभूमि में जितना विकास संस्कृत का होना चाहिये वह न के बराबर है। इसका एक छोटा-सा कारण तथाकथित कुछ संस्कृत के विद्वानों का दोगला चरित्र सामने आया है। यद्यपि सभी संस्कृत के विद्वान् इन कुछ तथाकथित विद्वानों जैसे नहीं हैं, किन्तु कुछ भ्रष्ट लोगों ने, जिनका इस भाषा से कोई लेना-देना नहीं है, इस भाषा को अपने कब्जे में लेकर इसे विनाश के कगार पर पहुँचा दिया है। यह कहना है प्राचीन अवधूत मण्डल आश्रम के अध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी रूपेन्द्र प्रकाश महाराज जी का। वे आज संस्कृत उत्थान कैसे हो विषय पर अपने विचार रख रहे थे।  संस्कृत के ह्रास का मुख्य कारण उन्होंने बताते हुए कहा कि प्रतिवर्ष की भाँति इस वर्ष भी भारत सरकार ने लाखों रूपया संस्कृत के शोधकार्य हेतु प्रदान किया है, जिसका व्यय श्री भगवानदास संस्कृत महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य दुरुपयोग कर रहे हैं। 26 मार्च 2022 को अखिल भारतीय संस्कृत शोध सम्मेलन आयोजन करने के लिये प्रभारी प्राचार्य बृजेन्द्र सिंहदेव ने कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र पर अध्यक्ष के रूप में डा. महावीर अग्रवाल, सान्निध्य और अध्यक्ष डा. निरञ्जन मिश्र, मुख्य वक्ता डा. शैलेन्द्र कुमार तिवारी, गरिमामयी उपस्थिति डा. भोला झा आदि की रखी गयी है, इन चारों तथाकथित संस्कृत विद्वानों पर श्री भगवानदास संस्कृत महाविद्यालय को कब्जाने के आरोप में 419. 420. 467, 468, 471 120बी आपराधिक धाराओं में मुकद्दमा दर्ज हो चुका है और आरोपपत्र न्यायालय में जमा है। पूर्व प्रभारी प्राचार्य डा. निरञ्जन मिश्र इसी प्रकरण में एक माह से भी अधिक कारागार में रहकर आ चुका है। ये सब तथाकथित संस्कृत विद्वान् माननीय मुख्य न्यायालय से जमानत लिये हुए हैं। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप निमन्त्रित डा. सोमदेव शतांशु अमर हुतात्मा स्वामी श्रद्धानन्द महाराज द्वारा स्थापित गुरुकुल कांगडी विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग में प्रोफेसर के पद पर सेवारत है, जिनका नियुक्ति के समय से ही प्रमाणपत्रों और अनुभवपत्रों के फर्जी होने पर निरन्तर विवाद चल रहा है। जिनके पास हाईस्कूल, इन्टरमीडिएट का कोई प्रमाण ही नहीं है।  पूर्व में भी इसी विवाद के चलते डा. शतांशु प्रो. रामप्रकाश शर्मा से समझौता करके जूनियर बनाये गये। ये अपनी चालाकी से और उच्चाधिकारियों की साठ-गांठ से बच निकलते है। अब पुनः विश्वविद्यालय के ही प्रो. आर.सी.दुबे, प्रो. सत्यदेव निगमालंकार, प्रो. मनुदेव बन्धु, डा. हरीशचन्द्र आदि ने डा. सोमदेव शतांशु की नियुक्ति को अवैध बताते हुए गुरुकुल प्रशासन को ज्ञापन भी दिया है और इन्हें शिक्षक वरिष्ठता सूची से अलग करने की प्रार्थना की है। जिस पर कार्यवाही चल रही है। महामण्डलेश्वर महाराज का कथन है कि ऐसे आपराधिक प्रवृत्ति के पुरुषों को संस्कृतभाषा के मञ्चों पर बैठाकर और सरकारी धन का दुरुपयोग करके संस्कृत भाषा की उन्नति किसी भी प्रकार से सम्भव नहीं है, अपितु ऐसे अपराधियों से इस भाषा का ह्रास ही होगा। 

                                                                        


एन यू जे ने दी गणेश शंकर विद्यार्थी को श्रद्धांजलि

 गणेश शंकर विद्यार्थी की पुण्यतिथि पर पत्रकारों ने दी श्रद्धांजलि


हरिद्वार 25 मार्च (वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद हरिद्वार)


नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट हरिद्वार इकाई ने गत वर्षो की भांति इस वर्ष भी पत्रकारिता के शीर्ष पुरुष श्री गणेश शंकर विद्यार्थी जी के बलिदान दिवस के अवसर पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। प्रेस क्लब हरिद्वार के सभागार में आयोजित श्रद्धांजलि समारोह एवं गोष्टी की अध्यक्षता प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेंद्र नाथ गोस्वामी वह मुख्य अतिथि के रूप में सूचना निदेशालय के उप निदेशक मनोज श्रीवास्तव व विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रेस क्लब के चुनाव अधिकारी सुभाष कपिल उपस्थित रहे संगोष्ठी में एन यू जे सहित अन्य पत्रकार संगठनों के सदस्यों ने भी भाग लिया गोष्ठी का संचालन संस्था के संयोजक जयपाल सिंह ने किया गोष्ठी को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि गणेश शंकर विद्यार्थी के बलिदान दिवस को ही नहीं ए न्यू जे उनकी जयंती को भी हर वर्ष समारोह के रूप में मनाता आ रहा है उनके व्यक्तित्व और कृतित्व से देश के पत्रकार समाज को अवगत कराते हुए उनकी देशभक्ति और सामाजिक निष्ठा के माध्यम से समाज को उनके आदर्शों का अनुपालन करने हेतु प्रेरित कर रहे हैं। इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार बृजेंद्र हर्ष ने कहा कि गणेश शंकर विद्यार्थी ने पत्रकारिता को मिशन से जोड़कर उसे सभी पत्रकारों के लिए अपने दायित्व के प्रति सजग रहने का संदेश दिया है। गोष्ठी में वरिष्ठ पत्रकार सुनील दत्त पांडे ने कहा कि गणेश शंकर विद्यार्थी पत्रकारिता के आदर्श रहे हैं। उन्होंने पत्रकारिता की दिशा ही नहीं वरन उसका महत्व भी सभी पत्रकारों को समझाया है। उन्होंने नगर के किसी चौराहे पर उनकी प्रतिमा स्थापित करने के लिए भी संगठन करें प्रयास करने के लिए कहा है संगोष्ठी के विशिष्ट अतिथि प्रेस क्लब के चुनाव अधिकारी सुभाष कपिल सहित धर्मेंद्र चौधरी राहुल वर्मा अमित शर्मा शिवा अग्रवाल रामचंद्र कनौजिया संजय रावल मुदित अग्रवाल अश्वनी अरोड़ा लव शर्मा संजीव शर्मा आदि ने भी अपने विचार रखे गोष्ठी में शैलेंद्र ठाकुर प्रशांत शर्मा जहांगीर अली श्याम नौशाद खान धूम सिंह हरीश कुमार अश्वनी अरोड़ा मनोज गिरी सहित अनेक पत्रकार उपस्थित रहे।

एसएम जै एन पीजी कॉलेज में कार्यशाला का हुआ समापन



हमारे जीवन का आधार स्तम्भ है जल : डाॅ. संदीप शर्मा, निदेशक, उच्च शिक्षा

 पानी की हर एक बूंद में है हमारा अस्तित्व : डाॅ. बत्रा

 जल संरक्षण हेतु राष्ट्रीय कार्यशाला का समापन 

हरिद्वार 24 मार्च, ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) जल हमारे जीवन का आधार स्तम्भ है। अगर हमें अपना और आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुनहरा बनाना है तो जल संरक्षण अपनाना पड़ेगा और लोगों में जल संरक्षण के प्रति जागरुकता बढ़ानी पड़ेगी, क्योंकि ‘जल है तो कल है।’ उक्त विचार निदेशक, उच्च शिक्षा, उत्तराखण्ड डाॅ. संदीप शर्मा ने आज एस.एम.जे.एन.पी.जी. काॅलेज में उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं शोध केन्द्र, देहरादून तथा एस.एम.जे.एन. काॅलेज के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला के समापन अवसर पर उपस्थित प्राध्यापकों व छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये। डाॅ. शर्मा ने महानगरों में फैले प्रदूषण पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि देहरादून में रिस्पना नदी को पुनः जीवित करने का कार्य किया जा रहा है। इसी क्रम में अन्य सूखती नदियांे के संरक्षण की भी आवश्यकता है। 

डाॅ. शर्मा ने कहा कि प्राकृतिक जल स्त्रोतों के में आयी कमी गहन चिन्ता के साथ कार्य करने की आवश्यकता है ताकि भविष्य की पीढ़ी को शुद्ध जल मिल सके।  

पर्यावरणविद डाॅ. विपिन यादव ने कहा कि आप केवल पर्यावरण को दूषित करना बंद करें, वह स्वयं स्वच्छ हो जायेगा। उत्तराखण्ड जल संस्थान की रुचि गौदियाल ने माननीय प्रधानमंत्री द्वारा प्रारम्भ किये गये जल-जीवन-मिशन की बारे में जानकारी दी तथा जल की शुद्धता मापने के प्रयोग करके बताये। चिन्मय काॅलेज के प्राचार्य आलोक अग्रवाल ने टिहरी झील के घटते जल स्तर पर चिंता व्यक्त की। 

वरिष्ठ पत्रकार संदीप रावत ने घटते जल स्तर पर चिंता व्यक्त करते हुए, जल संरक्षण पर अपनी राय रखी। समाजसेवी रवीश भटीजा ने बताया कि उनके द्वारा जल संरक्षण हेतु ‘मिशन सेव वाटर’ चलाया जा रहा है जिसमें वह शहर के खुले व खराब नलों को ठीक करने की मुहिम चलाकर, लोगों से जल संचय की अपील करते हैं। 

  काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने सभी अतिथियों विशेष रुप से डाॅ. संदीप शर्मा, निदेशक, उच्च शिक्षा का स्वागत करते हुए कहा कि पानी की हर एक बूंद में हमारा अस्तित्व है। पृथ्वी के सभी छोटे, बड़े जीवों और पेड़ पौधों को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता है। फसलांे के उत्पादन व बिजली उत्पन्न करने की क्रिया में भी पानी मुख्य घटक है। इसलिए पानी को बचाने की जिम्मेदारी हम सबकी है। डाॅ. बत्रा ने कहा कि जल की कमी का सीधा असर कुदरत के सन्तुलन पर पड़ता है, बिगड़ा हुआ कुदरत का सन्तुलन पृथ्वी के प्रत्येक जीव को संकट की ओर ले जाता है। डाॅ. बत्रा ने आह्वान किया कि हमें हमारी दैनिक गतिविधियांे के लिए कम से कम पानी का उपयोग करना चाहिए, क्योंकि हमारे द्वारा किया गया एक छोटा सा प्रयास भी बड़ा परिणाम दे सकता है। वृक्षों का सीधा नाता पानी से है क्यांेकि वृक्षों के कारण ही वर्षा होती है। इसलिए हो सके तो ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने चाहिए। 

इस अवसर पर डाॅ. संदीप शर्मा, निदेशक उच्च शिक्षा व प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा द्वारा डाॅ. सरस्वती पाठक, डाॅ. जे.सी. आर्य व डाॅ. दीपा अग्रवाल केा एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया। समाज सेवी रवीश भटीजा को उनके मिशन सेव वाटर के लिए विशेष पुरस्कार, मेहताब आलम को भी सम्मानित किया गया। छात्र-छात्राओं को उनके द्वारा बनाये गये प्रोजेक्ट हेतु पुस्कृत किया गया जिसमें विशाल व गौरव ने प्रथम, आयुष ने द्वितीय व उपासना, आईना व ज्योति ने तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया। अर्शिका, मयंक, अर्चना, माधुरी, कलावती, अंजली व हर्षित ने सात्वंना पुरस्कार प्राप्त किया।  

कार्यक्रम का प्रारम्भ सरस्वती वन्दना व द्वीप प्रज्जवलित कर किया गया। काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा, डाॅ. संजय माहेश्वरी व डाॅ. श्रीमती सरस्वती पाठक आदि द्वारा सभी अतिथियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया तथा हरित पौधा तथा गौरेया गृह भेंट किया।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से डाॅ. मन मोहन गुप्ता, डाॅ. सरस्वती पाठक, डाॅ. तेजवीर सिंह तोमर, डाॅ. जगदीश चन्द्र आर्य, डाॅ. नलिनी जैन, डाॅ. सुषमा नयाल, डाॅ. विनीता चैहान, डाॅ. मधु, श्रीमती रिंकल गोयल, डाॅ. शिवकुमार चैहान, डाॅ. मनोज कुमार सोही, डाॅ. पदमावती तनेजा, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, प्रियंका प्रजापति, डाॅ. निविन्धया शर्मा, डाॅ. सरोज शर्मा, पूजा, डाॅ. लता शर्मा, डाॅ. आशा शर्मा, डाॅ. मोना शर्मा, डाॅ. रेनू सिंह, वैभव बत्रा, डाॅ. सुगन्धा वर्मा, कविता छाबड़ा, आस्था आनन्द, मोहनचन्द्र पाण्डेय, आदि साहित काॅलेज के अनेक शिक्षक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. संजय कुमार माहेश्वरी व डाॅ. प्रज्ञा जोशी द्वारा संयुक्त रुप से किया गया। अंत में आयोजक सचिव डाॅ. विजय शर्मा तथा डाॅ. प्रज्ञा जोशी द्वारा सभी का आभार व्यक्त किया गया।

शपथ ग्रहण करने से पूर्व संत जनों ने दिया मुख्यमंत्री को आशीर्वाद

 संत जनों ने दिया मुख्यमंत्री को आशीर्वाद 



देहरादून 23 मार्च (जेके रस्तोगी संवाददाता गोविंद कृपा देहरादून )उत्तराखंड की कमान संभालने से पूर्व सुबे  के नवनियुक्त मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को हरिद्वार से पहुंचे संत जनों ने मंच पर भरपूर आशीर्वाद दिया ।अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत रविंद्रपुरी,  निरंजनीअखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी, महंत प्रेम गिरी पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण ,संत मंडल आश्रम पीठाधीश्वर राम मुनि, भारत माता मंदिर से महामंडलेश्वर स्वामी ललितानंद गिरि अवधूत मंडल आश्रम से  महामंडलेश्वर स्वामी रूपेंद्र प्रकाश, महामंडलेश्वर स्वामी यतींन्द्रा नंद  गिरी ,महामंडलेश्वर स्वामी संतोषानंद ,महामंडलेश्वर स्वामी हरि चेतनानंद सहित संत जनों ने मुख्यमंत्री को आशीर्वाद दिया एवं उन्हें अंग वस्त्र प्रदान कर मुख्यमंत्री का पद ग्रहण करने पर शुभकामनाएं प्रदान की




धामी मंत्रिमंडल में जनपद हरिद्वार को क्यों नहीं मिला प्रतिनिधित्व ?

 धामी मंत्रिमंडल में हरिद्वार को प्रतिनिधित्व न मिलने से नेताओं में बेचैनी,  कार्यकर्ता हुए निराश

पुष्कर सिंह धामी के मंत्रिमंडल में जनपद हरिद्वार को प्रतिनिधित्व ना मिलने के कारण नेताओं और उनके समर्थकों में बेचैनी साफ दिखाई दे रही है। जैसे कयास लगाए जा रहे थे कि प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को नए मंत्रिमंडल में कोई बड़ा दायित्व मिलेगा, आदेश चौहान या प्रदीप बत्रा में से भी किसी एक को हरिद्वार का प्रतिनिधित्व करने का अवसर दिया जाएगा लेकिन यह खाली संभावनाएं बन कर रह गए वैसे तो "जैसी करनी वैसी भरनी वाली " बात सही सिद्ध होती है । हरिद्वार की 11 विधानसभाओ में  से तीन विधायक भाजपा के चुनकर आए हैं वह जिले में अपनी विफलता की कहानी स्वयं कह रहे हैं।अब इसके पीछे टिकट देने वालों की कमी कहीं जाए या अपने कार्यकाल में क्षेत्र की उपेक्षा करने का परिणाम कहा जाए कुल मिलाकर जनपद हरिद्वार ने भाजपा को निराश ही किया है। 08 विधायकों से घटकर तीन विधायकों पर सिमटी जनपद हरिद्वार में भाजपा शायद इसी के लायक थी कि जिस जनपद से एक प्रदेश अध्यक्ष एक कैबिनेट मंत्री पिछली सरकार में रहा हो वहां इस बार जनपद हरिद्वार को निराशा ही हाथ लगी। अब देखते हैं भविष्य में जनपद हरिद्वार का क्या होगा ।केवल मदन कौशिक ही यहां के सर्वे सर्वाबनकर रहेंगे या आदेश चौहान ,प्रदीप बत्रा में से भी कोई मंत्री बनेगा । यह तो वक्त ही बताएगा लेकिन आज कुल मिलाकर नए मंत्रिमंडल में हरिद्वार को प्रतिनिधित्व ना मिलने के कारण जहां नेताओं में बेचैनी है वही कार्यकर्ताओं में भी निराशा साफ दिखाई दे रही है।


मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गंगा पूजन कर संत जनों का लिया आशीर्वाद

 मुख्यमंत्री की शपथ लेते ही पुष्कर सिंह धामी ने किया  गंगा जी का पूजन लिया आशीर्वाद 

हरिद्वार 23 मार्च (वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार)  उत्तराखंड के 12वीं मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के पश्चात मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सर्वप्रथम गंगा जी का आशीर्वाद लेने हरिद्वार पहुंचे गंगा सभा के तत्वाधान में आयोजित गंगा पूजन कार्यक्रम में संत जन एवं भाजपा के नेता बड़ी संख्या में उपस्थित रहे हर की पौड़ी पहुंचने पर सर्वप्रथम उन्होंने गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया इसके पश्चात पुष्कर सिंह धामी ने गंगा जी का पूजन कर गंगा जी के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकट करते हुए संत जनों से आशीर्वाद प्राप्त किया । इस अवसर पर उनके साथ  अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत रवींद्र पुरी ,महामंडलेश्वर स्वामी हरि चेतनानंद ,महामंडलेश्वर स्वामी यतींद्र नंद



सहित भाजपा के पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित है।

किसानों के उत्थान के लिए लगे एक और शुगर मिल :-महंत प्रेमदास



 लक्सर क्षेत्र में लगे एक और शुगर मिल :- महंत प्रेमदास

 लक्सर 22 मार्च( पवन आर्य संवाददाता गोविंद कृपा लक्सर) नई सरकार से क्षेत्र के किसानों ने एक और  नई शुगर मिल लगाने की मांग करते हुए कहा कि लक्सर हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत सरकार एक नई शुगर मिल लगाकर किसानों के उत्थान का कार्य करें बड़ा अखाड़ा उदासीन महतोली के मुकामी महंत प्रेमदास महाराज ने नई सरकार के मुखिया पुष्कर सिंह धामी को दोबारा मुख्यमंत्री बनने पर बधाई और आशीर्वाद देते हुए कहा कि अपनी नई पारी में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जनपद हरिद्वार के लक्सर हरिद्वार ग्रामीण ज्वालापुर आदि किसान बाहुल्य क्षेत्र में एक और शुगर मिल की स्थापना करें जिससे किसानों को गन्ना उप जाने के लिए आने वाली परेशानियों और शुगर मिल में गन्ना सप्लाई करने में आ रही दिक्कतों से निजात मिल सके उन्होंने कहा कि लक्सर शुगर मिल पर इस क्षेत्र के किसानों का बड़ा दबाव बना रहता है किसानों को पर्याप्त पर्चियां नहीं मिलती है जिससे उनकी फसल खेतों में ही खड़ी रहती है परिणाम स्वरूप गेहूं की बुवाई और कटाई में विलंब होता है और किसानों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ता है उन्होंने किसानों की ओर से मांग करते हुए पुष्कर सिंह धामी से एक और शुगर में लगवाने का आग्रह किया

भारतीय राष्ट्रवादी सैनी समाज की बैठक का हुआ आयोजन


रुड़की 22 मार्च (संजय सैनी संवाददाता गोविंद कृपा रुड़की) सामाजिक संगठन भारतीय राष्ट्रवादी सैनी समाज संगठन हरिद्वार उत्तराखंड की भगवानपुर विधानसभा के ग्राम हल्लूमाजरा में संगठन की ओर से एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें मनोनीत विधानसभा भगवानपुर अध्यक्ष भाई शुभम सैनी और उनकी टीम के द्वारा संगठन के संस्थापक एवं जिला अध्यक्ष श्री अरुण सैनी का सम्मान समारोह आयोजित किया गया। जिसमें संगठन के जिलाध्यक्ष श्री अरुण सैनी जी एवं जिला महासचिव मा०रजनीश सैनी के द्वारा विधानसभा अध्यक्ष भाई शुभम सैनी को संगठन के पटके और उनकी टीम को मनोयन पत्र देकर सम्मानित किया गया। भगवानपुर विधानसभा कार्यकारिणी में श्री राजीव सैनी ,सतेंद्र सैनी ( विधानसभा संयोजक), श्री अक्षय सैनी ,श्री विशांत सैनी (महासचिव) ,श्री अर्जुन सैनी ,श्री मनोज सैनी ,श्री मुनीश सैनी ,श्री रजत सैनी, विनीत सैनी (सचिव) श्री अनुपम सैनी (कोषाध्यक्ष) ,श्री कर्मवीर सैनी (उपकोषाध्यक्ष ),श्री सावन सैनी (सोशल मीडिया प्रभारी ),श्री जितेंद्र सैनी (मीडिया प्रभारी), श्री सागर सैनी, श्री महक सिंह सैनी( सह सचिव ),श्री सचिन सैनी, श्री उमेश सैनी ,श्री भानु सैनी, श्री आशु सैनी ,श्री गौरव सैनी, श्री रवि सैनी ,श्री प्रिंस सैनी ,श्री विकास सैनी, श्री अनिकेत सैनी, श्री रजत सैनी, श्री विनय सैनी ,श्री एम्पिल सैनी को (उपाध्यक्ष ),श्री दीपक सैनी(ग्राम अध्यक्ष हाल्लुमजरा )पद पर मनोनीत किया गया। जिला कार्यकारिणी से मंच संचालन के रूप में श्री रजनीश सैनी ने सभी पदाधिकारियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए संगठन को मजबूती प्रदान करने के लिए निवेदन किया। संगठन के जिला अध्यक्ष श्री अरुण सैनी ने सभी पदाधिकारियों को संगठन के उद्देश्य एवं कार्य शैली को विस्तार से बताते हुए महत्वपूर्ण विचार व्यक्त करते हुए सैनी समाज के महापुरुषों के पद चिन्हों पर चलने के लिए आह्वान किया। मातृशक्ति जिला अध्यक्ष शैली सैनी के द्वारा भी बालिकाओं और महिलाओं को जागरूक और संगठित करने के बारे में सभी पदाधिकारियों को और उनकी कार्यशैली को विस्तार से समझाते हुए वहां पर उपस्थित सभी पदाधिकारियों को धन्यवाद दिया। 

Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...