अट्ठारह सौ सत्तावन की क्रांति को लेकर एसएम जैएन पीजी कॉलेज में किया गया कार्यक्रम का आयोजन

 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की अलख जगाने वाले थे मंगल पांडे

 मंगल पांडे को फांसी देने से मना किया था जल्लादो ने

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत किया गया कार्यक्रम



हरिद्वार 29 मार्च (आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) 1857 मैं प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के प्रसिद्ध महानायक  क्रांति कारी मंगल पांडेय ने सर्व प्रथम  ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ क्रांति की शुरुआत की थी और 29 मार्च 1857 को बैरकपुर में अंग्रेजों पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया था. हालांकि वह पहले ईस्ट इंडिया कंपनी में एक सैनिक के तौर पर भर्ती हुए थे लेकिन ब्रिटिश अफसरों की भारतीयों के प्रति क्रूरता को देखकर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोल लिया था. यह विचार आज अमृत महोत्सव विचार श्रृंखला के तहत् डॉ सुनील कुमार बत्रा ने व्यक्त किये. 

डॉ बत्रा ने कहा कि अंग्रेज अधिकारियों द्वारा भारतीय सैनिकों पर अत्याचार तो हो ही रहा था. लेकिन हद तब हो गई. जब भारतीय सैनिकों को ऐसी बंदूक दी गईं. जिसमें कारतूस भरने के लिए दांतों से काटकर खोलना पड़ता था. इस नई एनफील्ड बंदूक की नली में बारूद को भरकर कारतूस डालना पड़ता था. वह कारतूस जिसे दांत से काटना होता था उसके ऊपरी हिस्से पर चर्बी होती थी. उस समय भारतीय सैनिकों में यह अफवाह फैली थी कि कारतूस की चर्बी सुअर और गाय के मांस से बनाई गई है. ये बंदूकें 9 फरवरी 1857 को सेना को दी गईं. इस्तेमाल के दौरान जब इसे मुंह लगाने के लिए कहा गया तो मंगल पांडे ने ऐसा करने से मना कर दिया था. उसके बाद अंग्रेज अधिकारी गुस्सा हो गए. फिर 29 मार्च 1857 को उन्हें सेना से निकालने, वर्दी और बंदूक वापस लेने का फरमान सुनाया गया. इस प्रकार से यह चिंगारी हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल बनी तथा देश की आज़ादी में मील का पत्थर साबित हुईं

 डॉ सरस्वती पाठक ने इस अवसर पर कहा कि मंगल पांडे ने अंग्रेजों के खिलाफ बैरकपुर में जो विद्रोह का बिगुल फूंका था. वह जंगल की आग की तरह फैलने लगी. विद्रोह की चिंगारी पूरे उत्तर भारत में फैल गई. इतिहासकारों का कहना है कि विद्रोह इतना तेजी से फैला था कि मंगल पांडे को फांसी 18 अप्रैल को देना था लेकिन 10 दिन पहले 8 अप्रैल को ही दे दी गई.  

डॉ संजय माहेश्वरी द्वारा इस अवसर पर बताया गया कि बैरकपुर छावनी के सभी जल्लादों ने मंगल पांडे को फांसी देने से इनकार कर दिया था. फांसी देने के लिए बाहर से 


जल्लाद बुलाए गए थे. 1857 की क्रांति भारत का पहला स्वतंत्रता संग्राम था. जिसकी शुरुआत मंगल पांडे के विद्रोह से शुरू हुई थी

इस अवसर पर डॉ विजय शर्मा, डॉ विनीता चौहान, डॉ अमिता श्री वास्तव, डॉ पदमावती तनेजा, डॉ आशा शर्मा, डॉ सरोज शर्मा, डॉ मोना शर्मा, डॉ महिमा नागयान, डॉ रेणु सिंह, दीपिका आंनद, प्रियंका प्रजापति, प्रिंस श्रोत्रिय, विनीत सक्सेना, वैभव बत्रा, अंतिम त्यागी मोहन चन्द्र पांडे उपस्थित रहें.

No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारत विकास परिषद पंचपुरी शाखा ने फलदार पौधे किये रोपित

 * भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया*    हरिद्वार 23 जुलाई भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने हरेला पर्व ...