Naja 200 हैं होम्योपैथिक में सर्पदंश से बचने की रामबाण औषधि


 बरसात होने के कारण सांप बाहर आते हैं क्योंकि उनके बिल में पानी भर जाता है ।


*सांप डसने के बाद इलाज का रामबाण उपाय*


आपको मालूम होगा की सांप डसने से उसके दो दांत का निशान दिखाई देते हैं।दो दांतों से वह विष मनुष्य के शरीर में यानि जहर छोड़ता है। वह विष रक्त के द्वारा हृदय तक जाता है। उसके बाद पूरे शरीर में पहुंचता है। सांप शरीर में कहीं भी डसने के बाद वह विष पहले हृदय तक जाता है  उसके बाद पूरे शरीर में फैलता है। यह विष पूरे शरीर में पहुंचने के लिए कम से कम तीन घंटे का समय लगता है। यानि कि जिस व्यक्ति को सर्प दंश हुआ है वह व्यक्ति तीन घंटे

तक नहीं मरेगा।जब मस्तिष्क के साथ साथ पूरा शरीर में विष पहुंचेगा तभी वह व्यक्ति मरेगा।

वह व्यक्ति को बचाने के लिए आपके पास तीन घंटे का समय है,इस तीन घंटे में आप बहुत कुछ कर सकते हो।यह बहुत अच्छा है।


आप क्या कर सकते हैं,,,?


एक दवाई आप अपने घर पर हमेशा रख सकते हैं


*यह औषधि होम्योपैथिक है तथा सस्ती है*


उसका नाम है 

*NAJA २००* 

यह दवाई है


 किसी भी होम्योपैथिक दवाई की दुकान पर आसानी से मिल जाती है। इस दवाई से आप कम से कम सौ लोगों की जान बचा सकते हैं। तथा इसकी कीमत सिर्फ  

*पांच रूपये*

है।


*NAJA* नाजा यह दवाई विश्व का सबसे ख़तरनाक जहरीला सांप का ही जहर से बनाया गया है। 


उस सांप का नाम है 

 *क्रॅक*. 

इस सांप का विष सबसे घातक माना गया है, यह विष दूसरे सांप का विष उतारने के लिए काम आता है। 


इस दवाई का एक बूंद जीभ में रखें, और दस मिनट के बाद फिर दूसरी बूंद रखें। फिर तीसरी बार एक बूंद फिर दस मिनट के बाद रखें।ऐंसा तीन बार करके छोड़ दें।


बस इतना करके उस व्यक्ति, प्राणी,जीव, जन्तु, पशु, पक्षी, जानवरों आदि का प्राण बचा सकते हैं।



No comments:

Post a Comment

Featured Post

डॉ विशाल गर्ग ने भागवत व्यास पीठ से लिया आशीर्वाद

  भागवत कथा के श्रवण से दूर होते हैं कष्ट-डा.विशाल गर्ग हरिद्वार, 18 जुलाई। राष्ट्रीय भागवत परिवार के राष्ट्रीय संरक्षक डा.विशाल गर्ग ने सुभ...