कल से रामभद्राचार्य करेंगे श्री राम कथा की अमृत वर्षा

 कनखल मे 7 जून से 9 दिन तक श्री रामभद्राचार्य जी करेंगे राम कथा, लोगो मे जबरदस्त उत्साह 


हरिद्वार 6 जून पौराणिक नगरी कनखल मे पहली बार  विद्वान्, पद्मश्री तुलसीपीठाधीश्वर जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य जी के द्वारा श्री रामकथा 7 जून से 15 जून तक आयोजित की जा रही है। भगवान् श्री राम के जीवन पर आधारित कथा के आयोजन को लेकर बड़े स्तर पर तैयरिया की जा रही है। कथा से पूर्व नगर मे 7 जून को ही 251 अमृत कलश यात्रा निकली जाएगी। कथा का आयोजन कनखल मे राजघाट पर प्राचीन सिद्धपीठ राधाकृष्ण मंदिर के प्रांगण मे किया जा रहा है।

     श्री रामकथा आयोजन समिति के अचिन अग्रवाल और प्रशांत ने बताया की हरिद्वार मे पहली बार प्रकांड मानस मर्मज्ञ पद्मविभूषण तुलसीपीठाधेीशर जगतगुरु स्वामी श्री रामभद्राचार्य जी महाराज के मुखारबिंद से भगवान श्रीराम की जीवन गाथा (श्री रामकथा) की अमृत वर्षा 7 जून से 15 जून तक आयोजित की जा रही है। कथा प्रतिदिन दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे तक होंगी। उन्होंने बताया की स्वामी रामभद्राचार्य जी की कथा को लेकर लोगो मे जबरदस्त उत्साह है।

     कार्यक्रम आयोजक अचिन अग्रवाल ने बताया कि कथा के दौरान क्रम से श्रीरामायण जन्म, श्रीशिव विवाह, श्रीराम जन्म, बाललीला, श्रीराम विवाह, वनवास एवं केवट चरित्र, भरत चरित्र, हनुमत्‌‍ चरित्र, श्रीराम राज्याभिषेक का आनंद श्रोता उठा सकेंगे

     आयोजन समिति के अनुसार श्री राम कथा के लिए सभी तैयरिया पूर्ण हो चुकी है. कथा कनखल मे राजघाट पर स्थित प्राचीन सिद्धपीठ श्री राधा कृष्ण मंदिर के प्रांगण मे होंगी. उन्होंने बताया कि करीब एक हजार रामभक्तो के बैठने की व्यवस्था की जा रही है. इसके अलावा कथा सुनने आने वालो के लिए हर तरह की सुविधा का भी ध्यान रखा जा रहा है.

     कथा आयोजन समिति के अचिन अग्रवाल के अनुसार कथा से पूर्व 7 जून को सुबह 9 बजे से शंकराचार्य चौक के पास  मित्तल धाम से अमृत कलश यात्रा निकली जाएगी। 251 महिलाये अमृत कलश लेकर नगर भर मे भ्रमण करेंगी और  कलश यात्रा  कथा स्थल पर संपन्न होंगी। 7 जून से 15 जून तक चलने वाली श्री राम कथा मे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सहित सहित कई मंत्रियों व अनेक प्रतिष्ठित लोगो के आने की भी सम्भावना है।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...