तंबाकू के खिलाफ चलाया गया जन जागरूकता अभियान

हरिद्वार 4 दिसंबर कन्या राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय  सहदेवपुर विकासखंड बहादराबाद  के आर  इंटर कॉलेज। शंतरशाह , नवयुवक पब्लिक हाई स्कूल जनपद हरिद्वार के परिसर को तंबाकू मुक्त परिसर घोषित किया ।राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण जागरूकता कार्यक्रम में स्वास्थ्य विभाग से विनोद कुमारी व सहयोगी संस्था बहुउदय लोक सेवा संस्थान हरिद्वार सलाम मुंबई फाउंडेशन् , एन एस एफ, स्कूल में विनोद कुमारी ने बताया कि तंबाकू से बना हर उत्पाद मनुष्य के शरीर को नुकसान पहुंचता है तंबाकू 7000 रासायनिक पदार्थों से मिलकर बनाया जाता है निकोटीन की मात्रा होती है। तंबाकू चबाना ओरल कैंसर के लिए सबसे बड़ा जोखिम बन सकता है तंबाकू चबाने से या सिगरेट बीड़ी की वजह से ओरल कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा किसी भी तरह के कैंसर की बड़ी वजह  है इसके साथ ही डाइट में आ रहे बदलाव कैंसर का जोखिम पैदा कर सकते हैं। राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम तंबाकू प्रोडक्ट अधिनियम कोटपा अधिनियम 2003 धारा 4 सार्वजनिक स्थान पर धूम्रपान निषेध है₹200 तक का जुर्माना हो सकता है होटल सिनेमा हॉल मॉल स्कूल आदि के मालिकों को बॉर्ड  पर नो स्मोकिंग बोर्ड प्रदर्शित करना होगा व  धारा 5 तंबाकू उत्पादन के प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष विज्ञापन पर प्रतिबंध तंबाकू उत्पादन बेचने वाली दुकानों को बोर्ड प्रतिशत करना चाहिए जिससे तंबाकू के कारण कैंसर होता हैं । धारा 6क-18 साल से कम आयु के नाबालिग को तंबाकू उत्पादों की बिक्री पर प्रतिबंध , धारा 6ख शिक्षा संस्थानों के 100 गज के भीतर तंबाकू उत्पादों की बिक्री दंडनीय है उल्लंघन करने पर ₹200 तक का जुर्माना  हो सकता है। कॉलेज के प्रधानाचार्य तरुण कुमार शर्मा, प्रधान सुरुचि सैनी, आदित्य राज सैनी चंद्र प्रताप सैनी राहुल सैनी किशोरी सिंह,दिनेश कुमार वर्मा ,विपिन कुमार बंसल,राजेश कुमार सैनी जावेद आलम, विनोद कुमारी, सलाम मुंबई फाउंडेशन एनएसएफ की सहयोगी संस्था बहुउदय लोक सेवा संस्थान के अध्यक्ष मनोज कुमार पाल। छात्र-छात्राओं को राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण जागरुकता कार्यक्रम में प्रसन्न  उत्तर कार्यक्रम में पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया ।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...