हिंगलाज माता मंदिर ध्वस्त होने पर सनातन परिषद ने किया विरोध

पाकिस्तान में मंदिर तोड़ने पर सनातन परिषद भड़की


अखिल भारतीय सनातन परिषद ने हिंगलाज माता मंदिर ध्वस्त करने के विरोध में की बैठक 


हरिद्वार 26 नवंबर ( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) अखिल भारतीय सनातन परिषद के केंद्रीय कार्यालय पर पाकिस्तान सरकार द्वारा हिंगलाज माता का मंदिर ध्वस्त करने के विरोध में बैठक आयोजित की गई। सनातन परिषद के पदाधिकारियो ने पाकिस्तान सरकार के कार्य की कड़े शब्दों में घोर निंदा की। साथ ही भारत सरकार से इसमें हस्तक्षेप कर पाकिस्तान को कड़ी हिदायत देने की भी मांग उठाई है। 

केंद्रीय कार्यालय पर आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश अध्यक्ष डॉ. विशाल गर्ग ने कहा कि पाकिस्तान

सरकार ने पाक में 51 पीठों में से मां हिंगलाज भवानी के मंदिर पर बुलडोजर चलते हुए ध्वस्त कर घोर निंदनीय कार्य किया है। जिसका सनातन परिषद विरोध करती है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार इस तरह के कार्य कर अपनी घटिया सोच का परिचय दे रही है। जिसे कतई भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। पाकिस्तान को उसकी ही भाषा में भारत सरकार को सबक सिखाना होगा।  संचालन करते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष विशाल राठौर ने कहा कि हिंगलाज माता का मंदिर दोस्त करने से समस्त सनातनियों में भारी गुस्सा है पाकिस्तान सरकार ने मंदिरों को तोड़कर अपनी मंशा को स्पष्ट कर दिया है। भारत सरकार को इसमें हस्तक्षेप करते हुए पाकिस्तान सरकार को कड़ी हिदायत देनी चाहिए। जिससे आगे से पाक सरकार कोई ऐसा कदम न उठा सके। 

मुख्य वक्ता राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पंडित अविक्षित रमन ने कहा कि एलओसी पर विद्यमान शारदा पीठ का महत्वपूर्ण मंदिर भी सरकार ने तुड़वाया है।पाकिस्तान सरकार ने मंदिर पर नहीं बल्कि सनातन संस्कृति पर हमला किया है। पाकिस्तान मानवता

विरोधी और सनातन विरोधी है। राष्ट्रीय महामंत्री पुरुषोत्तम शर्मा ने कहा कि मंदिरों को तोड़कर पाकिस्तान ने अपनी नियत और मंशा को स्पष्ट कर दिया है। अब समय आ गया है कि पूरे विश्व के सनातनियों को एक साथ खड़े होकर पाकिस्तान के मंसूबों का मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए। बैठक में स्वामी मनोज गिरी, विनोद गिरी, विशाल भट्ट, कुणाल पंवार, अजय सिंह, अधिवक्ता अनिल शर्मा आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...