जाह्नवी शाखा का हुआ अधिष्ठापन समारोह

 *मातृ शक्ति भारत के समग्र विकास में अपनी भूमिका निभाएं : बृज प्रकाश गुप्ता*      



हरिद्वार 6अगस्त ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार  )भारत में बदलाव की बयार बह रही है। हमें वर्तमान परिस्थितियों के अनुरूप देश के समग्र विकास हेतु सभी को मिल कर कार्य करने की आवश्यकता है। इसमें भारत विकास परिषद मातृ शक्ति अपनी एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार हैं। भारत विकास परिषद उत्तराखंड प्रांत (पश्चिम) की 27वीं महिला शाखा जाहन्वी शाखा के श्री सत्यनारायण मंदिर परिसर में आयोजित अधिष्ठापन समारोह में प्रांतीय अध्यक्ष बृज प्रकाश गुप्ता ने व्यक्त किये। कार्यक्रम अध्यक्ष एवं मुख्य अतिथि श्री गुप्ता ने  कहा कि भारत विकास परिषद की देश भर में 1502   से अधिक शाखाएं हैं। हमे गर्व है कि आज तीसरी महिला शाखा देव भूमि उत्तराखंड में  में स्थापित हो गई है। पहली महिला शाखा वीरांगना उत्तरकाशी में और दूसरी महिला शाखा रानी लक्ष्मी बाई देहरादून में उत्कृष्ठ कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि समाज के प्रबुद्ध एवम् सम्पन्न लोगों के साथ- साथ मातृ शक्ति को जोड़ना परिषद का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि यदि संस्कार नहीं है तो आपको समर्थवान नहीं कहा जा सकता। समाजिक कार्यों में भाग ले रहा व्यक्ति ही सम्पन्नता का धोतक है। अधिष्ठापन अधिकारी और प्रांतीय महासचिव डॉ मनीषा सिंहल ने कहा कि देश की आधी आबादी को आज संस्कार तथा सेवा पर फोकस करते हुए अपना लक्ष्य प्राप्त करने की अवश्यकता है। डॉ मनीषा ने कहा कि भारत विकास परिषद पांच सूत्रीय  संपर्क ,सहयोग ,संस्कार, सेवा, समर्पण भाव को लेकर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने परिषद के भावी कार्यक्रमों पर भी विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि हमको कमजोर और असहाय महिलाओ को आत्मनिर्भर बनाना है। प्रांतीय महिला संयोजिका सुगंध जैन  ने महिलाओ की समस्याओ के साथ ही बाल विकास पर फोकस करना है। श्रीमती जैन ने बताया कि  बच्चों में कुपोषण दूर करने के लिए परिषद कई तरह के प्रोग्राम चला रही है।प्रांतीय संगठन मंत्री ललित पाण्डे ने  कहा कि हमारा प्रांत विकास रत्न वाला प्रांत हैं। और इसमें मातृ शक्ति की भागीदारी होना महत्वपूर्ण है। प्रांतीय मीडिया प्रभारी अमित कुमार गुप्ता ने कहा कि मातृ शक्ति आज जिस तरह से संगठित होकर समाज उत्थान में सहभागिता निभा रही हैं। यह भारत की भावी पीढ़ी के लिए शुभ संकेत है। पार्षद श्रीमती एकता गुप्ता ने कहा कि वह आज भारत विकास परिषद से जुड़ कर अपने को गौरवान्वित महसूस कर रही है। वरिष्ठ समाजसेवी गोबर्धन दास अग्रवाल ने कहा कि मातृ शक्ति को एक माला में पिरोने का काम जहान्वी शाखा ने किया है वह अपने आप में एक मिसाल है और भविष्य में भी सामाजिक कार्यों में सफलता पूर्वक अपने कर्तव्यों का निर्वहन करती रहेंगी।आज के अधिष्ठापन समारोह की शुरुआत प्रांतीय अध्यक्ष बृज प्रकाश गुप्ता महासचिव मनीषा सिंहल, प्रांतीय महिला संयोजिका सुगंध जैन, प्रांतीय संगठन मंत्री ललित पाण्डे, प्रांतीय मीडिया प्रभारी अमित कुमार गुप्ता, नगर निगम की पार्षद श्रीमती एकता गुप्ता ने सयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित करके करवायी। *राज्य की तीसरी परंतु हरिद्वार की पहली महिला शाखा जाहन्वी शाखा में अध्यक्ष के रूप में आरती नैयर,महामंत्री मीनाक्षी भजोराम शर्मा, कोषाध्यक्ष अवंतिका राणा, उपाध्यक्ष अनू सचदेवा, महिला संयोजिका अंजू मल, सह महिला संयोजिका डॉली रोहेला को अधिष्ठापन अधिकारी डॉ मनीषा सिंहल ने शपथ ग्रहण करवाई*।जाहन्वी शाखा की अध्यक्ष आरती नैयर ने कहा कि वह प्रांतीय नेतृत्व के दिशा निर्देशों के अनुसार कार्य करेंगी। उनका प्रयास होगा कि वह तीर्थ नगरी के अति पिछड़े क्षेत्र पीली पड़ाव को जहान्वी शाखा गोद ले कर वहा के लोगों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम करें।जाहन्वी शाखा की महामंत्री मीनाक्षी भजोराम शर्मा ने अपनी शाखा के द्वारा भविष्य में संचालित होने वाले कार्यों की विस्तार जानकारी देते हुए बताया कि अब मातृ शक्ति अपनी सभी क्षेत्रों में भूमिका निभाने को सजग है। अधिष्ठापन समारोह का संचालन करते हुए मयंक शर्मा ने कहा की भारत विकास परिषद देश हित को सर्वोपरि हुए कार्य कर रही है। *वही श्रीमती अनिका अरोड़ा, अर्पिता भार्गव, शिखा गुलाटी, हेमा गुलाटी, स्वाति भार्गव, दीप्ति गुप्ता और राधा चौधरी ने भी जाहन्वी शाखा में सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण की।* जहान्वी शाखा के अधिष्ठापन समारोह में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व मंडल अध्यक्ष मयंक गुप्ता, वरिष्ठ समाज सेवी ललित नैयर, अंकुर राणा, सुनील गुप्ता, अभिषेक भार्गव, ऋषि सचदेवा, अश्वनी चौधरी, श्री राणा मल, पार्थ गुलाटी, अकुंश रोहिला सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...