टूटी सड़कों के कारण मुश्किल हो रहा है ध्रुव चैरिटेबल हॉस्पिटल पहुंचना

 खस्ताहाल सड़क बना मरीजों के लिए परेशानी का सबब, सड़क निर्माण को लेकर ग्रामीण संघर्ष की राह पर


हरिद्वार 4 अगस्त नजीबाबाद रोड पर स्थित सजनपुर पीली गांव थाना श्यामपुर स्थापित ध्रुव चैरिटेबल हॉस्पिटल में सभी चिकित्सा सुविधाएं मौजूद है। लेकिन संपर्क मार्ग खस्ताहाल होने के चलते मरीजों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसके पूर्व  चिकित्सीय सुविधाओं से जूझ रहे जनपद के लालढांग क्षेत्र में ग्रामीणों को इलाज के लिए दर-दर भटकना पढ़ता था। ग्रामीणों को हरिद्वार और कोटद्वार बाया नजीबाबाद का चक्कर लगाने के लिए मजबूर होना पड़ता था। जंगल बाहुल्य क्षेत्र होने के चलते देर रात में मरीजों को हास्पिटल पहुंचाने में ग्रामीणों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। ग्रामीणों का इलाज भगवान भरोसे ही चल रहा था। ‌ चंद झोलाछाप डॉक्टर ही ग्रामीणों के लिए भगवान बनकर ईलाज कर रहे थे।‌

उत्तराखंड राज्य निर्माण के बाद भी सरकार का ध्यान इस ओर नहीं गया था। ऐसे में इलाज के लिए तरस रहे ग्रामीणों के लिए उम्मीद की किरण बंधी जब क्षेत्र में ध्रुव 



चैरिटेबल हॉस्पिटल की स्थापना की गई।‌  8 अक्टुबर 2019 को हास्पिटल कि स्थापना बाबा बालकनाथ के द्वारा की गई। महामंडलेश्वर स्वामी ध्रुवदास महाराज के संरक्षण एवं संत बाबा बालकदास के मार्गदर्शन में महामहिम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य एवं अखिल भारतीय कार्यकारिणी राष्ट्रीय सेवा संघ के सदस्य इंद्रेश कुमार की अध्यक्षता में ध्रुव चैरिटेबल हॉस्पिटल का शुभारंभ किया गया। लेकिन दु:खद पहलू यह है कि हॉस्पिटल की स्थापना के करीब 3 वर्ष पूर्ण होने वाले हैं। इसके बावजूद भी हॉस्पिटल आने जाने के लिए सड़क का निर्माण नहीं किया जा सका। इस दौरान बाबा बालक दास ने भाजपा के हरिद्वार ग्रामीण विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री भाजपा स्वामी यतीश्वरानंद से बार-बार गुहार लगाई। उन्होंने कई बार सड़क बनवाने का आश्वासन दिया लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की। इसके बाद हाल ही में चुनाव में जीत हासिल करने वाली कांग्रेसी विधायक अनुपमा रावत से भी बाबा बालक दास ने सड़क निर्माण की अपील की।‌ लेकिन वहां भी परिणाम नहीं निकला। अब स्थानीय ग्रामीणों ने सड़क निर्माण को लेकर कमर कस ली है। समाजसेवी हेमा नेगी ने कहा कि वे सड़क निर्माण को लेकर आंदोलन की राह पर हैं अगले रविवार को हास्पिस्टल परिसर में एकदिवसीय सांकेतिक धरना दिया जाएगा। 

समस्या का समाधान नहीं होने पर  मुख्यमंत्री कार्यालय देहरादून में जाकर ज्ञापन भी दिया जाएगा। इसके बाद भी सड़क का निर्माण नहीं होने पर आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

डॉ विशाल गर्ग ने भागवत व्यास पीठ से लिया आशीर्वाद

  भागवत कथा के श्रवण से दूर होते हैं कष्ट-डा.विशाल गर्ग हरिद्वार, 18 जुलाई। राष्ट्रीय भागवत परिवार के राष्ट्रीय संरक्षक डा.विशाल गर्ग ने सुभ...