शायरों की महफिल

 ग़ज़ल 


वक्त पर कब काम आया साहिब।

जिंदगी भर जो कमाया साहिब।।



आंख मुझको ही दिखाता है वो।

हो गया ज़ाया पढ़ाया साहिब।।


पंछियों का है ठिकाना अब तो।

घर जो मैंने था बनाया साहिब।।


सिर्फ फूलों पर नजर कब रक्खी।

खा़र से भी तो निभाया साहिब।।


रात इतनी थी अंधेरी यारो।

रात भर दिल को जलाया साहिब।।


तब हुई ग़ज़लें मुकम्मल मेरी।

खून शेरों को पिलाया साहिब।।


दर्द गढ़वाली, देहरादून 

09455485094

1 comment:

Anonymous said...

Very nice sir

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...