कोटद्वार में सक्षम का स्थापना दिवस मनाया गया

 सक्षम कोटद्वार  इकाई ने मनाया स्थापना दिवस

कोटद्वार 19 जून समदृष्टि क्षमता विकास एवम अनुसंधान मंडल (सक्षम) कोटद्वार इकाई द्वारा सक्षम का स्थापना दिवस


विधिवत रूप से दिव्यांगों से साथ मनाया गया। दिव्यांगों को समर्पित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का अनुसांगिक संगठन सक्षम के कोटद्वार इकाई के अध्यक्ष योगम्बर सिंह रावत की अध्यक्षता में आयोजित स्थापना दिवस के कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित सक्षम के प्रान्त सचिव कपिल रतूड़ी ने सक्षम के विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी दी।


अपने उद्द्बोधन मे सक्षम के प्रान्त सचिव कपिल रतूड़ी ने कहा कि समाज मे अधिक से अधिक दिव्यांगों का सहयोग हो सके इसके लिये 20 जून 2008 को सक्षम की स्थापना नागपुर में की गई थी। जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि सक्षम ने अधिक से अधिक दिव्यांगों तक पहुँचने के लिये मुख्य कार्यकारणी सहित साथ प्रकोष्ठों व पांच आयामो की रचना की है। अपने उद्द्बोधन मे कपिल रतूड़ी ने कोटद्वार इकाई ने दिव्यांगों के लिये बेहतर कार्य किया है जिससे कोटद्वार इकाई प्रान्त सहित राष्ट्रीय स्तर पर भी अपना विशिष्ट स्थान बना चुकी है।


बैठक की अध्यक्षता करते हुए कोटद्वार इकाई के अध्यक्ष योगम्बर सिंह रावत ने कहा कि समाज के सहयोग के बिना कोई भी कार्य सफल नही हो सकता है इसलिए समाज के विशिष्ट लोगो को सक्षम से जुड़कर दिव्यांगों की सेवा का अवसर प्राप्त करना चाहिये, इसके लिये कोई भी व्यक्ति दिव्यांग मित्र बन सकता है। इकाई के संरक्षक गिरिराज सिंह रावत ने कहा कि दिव्यांग स्वयं को कमजोर न समझे बल्की स्वयं के मन को मजबूत बनाकर चले क्योंकि सक्षम आपके साथ खड़ा है।


सक्षम स्थापना दिवस के कार्यक्रम में कोटद्वार इकाई के उपाध्यक्ष सुदीप बौंठियाल, महिला प्रमुख आरती खंतवाल, सिमरन बिष्ट, पिंकी खंतवाल, डॉ बलवंत नेगी, चंद्रप्रकाश कोठारी, कर्नल राजेन्द्र बड़थ्वाल, दलजीत सिंह, नगर कार्यवाह मनीराम शर्मा, जिला सह  शारिरिक प्रमुख नरेश प्रसाद, गौरव जोशी, सुषमा जखमोला, सीपी नैथानी, विनीता चौधरी, हेमचंद्र कुकरेती, सुदीप गुप्ता, नितिन दिवाकर आदि उपस्थित थे। बैठक का शुभारंभ आरती खंतवाल द्वारा संगठन सूक्तम से किया गया। कार्यक्रम का संचालन कोटद्वार इकाई के सचिव विपुल उनियाल ने किया।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...