हिंद की चादर, गुरू तेग बहादुर


 !!वीरता और साहस की मिसाल-गुरु तेग बहादुर!!


मुगल शासनकाल में जहां गुरु टेगबहादुर औरंगजेब जैसे क्रूर राजा से भी नहीं डरे वहीं उन्होंने अपने धर्म की शान को बरकरार रखने के लिये समाज को यह संदेश दिया कि सब धर्म जाति से ऊपर उठकर हिन्दू बनें और अपने समाज की रक्षा करने के लिए शस्त्र और शास्त्र की विद्या को सीखने के लिए हिन्दू समाज का आह्वान किया।....


रुड़की: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ बेलड़ा खण्ड द्वारा विश्व इतिहास में धर्म एवं मानवीय जीवन मूल्यों की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सिक्ख पंथ में गुरु परम्परा के नवम गुरु तेग बहादुर जी के 400वां प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में प्रबुद्ध नागरिक गोष्ठी का आयोजन किया गया।


वासुदेव लाल मैथिल सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज ब्रह्मपुर,रुड़की में आयोजित गुरु टेगबहादुर के 400वें प्रकाश पर्व के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उत्तराखंड+ पश्चिम उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख श्रीमान पदम जी ने कहा कि गुरु टेगबहादुर  जी ने इस भरतभूमि पर जन्म लिया और हिन्दुओं को संगठित करने के लिए अपने जीवन के साथ-साथ अपने अन्य 27 परिजनों को मौत के गले लगाया। गुरु टेगबहादुर मुगल शासक औरंगजेब जैसे क्रूर राजा से भी नहीं डरे और अपने धर्म की शान को बरकरार रखने के लिये उन्होंने समाज को यह संदेश दिया कि सब धर्म जाति से ऊपर उठकर हिन्दू बनें और अपने समाज की रक्षा करने के लिए शस्त्र और शास्त्र की विधा सीखें। 

प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन में उपस्थित जनशक्ति को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख श्रीमान पदम जी ने कहा कि गुरु तेग बहादुर का बलिदान की पूर्ण जानकारी सनातन संस्कृति के प्रत्येक परिवार तक पहुंचना चाहिए। गुरु तेग बहादुर के बलिदान के बाद सनातन संस्कृति के सामाजिक धार्मिक जीवन में जो ग्रहण लग रहा था उस पर रोक लगी। सनातन संस्कृति की रक्षा हुई। ऐसे बलिदान के पवित्र स्थल की रक्षा होनी चाहिए। उसका विकास होना चाहिए। यह स्थल सनातन संस्कृति का केंद्र बने। उन्होंने स्वयंसेवकों से आह्वान किया सर्वप्रथम स्थल की सफाई करें फिर समाज के लोग एक कमेटी बनाकर इसके विकास पर विचार करें। उन्होंने बताया इस गुरुद्वारा में गुरु नानक देव जी के दूसरे पुत्र श्री चंद्र जी आए थे जिन्होंने यहां पर उदासीन अखाड़ा की स्थापना की थी। 

 सरदार गुरु दीप सिंह अध्यक्ष गुरु सिंह सभा लालकुर्ती रुड़की की अध्यक्षता में चले कार्यक्रम में कैप्टन वेद प्रकाश भट्ट,श्री पदम गिरी विभाग संयोजक धर्म जागरण गतिविधि ने गुरु टेगबहादुर के 400वें प्रकाश पर्व पर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में श्री प्रवीण गर्ग जिला संघचालक, श्री यशपाल जी खण्ड विस्तार बेलड़ा,श्री विशाल गिरी खण्ड कार्यवाह, श्री राकेश सैनी खण्ड सम्पर्क प्रमुख,श्री कमल किशोर डुकलान खण्ड बौद्धिक शिक्षण प्रमुख,श्री मुनेश सैनी विधायक प्रत्याशी कलियर विधानसभा,श्रीमती राजबाला मण्डल अध्यक्ष भाजपा धनौरी, श्री विनोद आर्य वरिष्ठ भाजपा नेता,श्री वीरपाल सिंह यादव आदि उपस्थित थे।


( कमल किशोर डुकलान रूडकी )

No comments:

Post a Comment

Featured Post

डॉ विशाल गर्ग ने भागवत व्यास पीठ से लिया आशीर्वाद

  भागवत कथा के श्रवण से दूर होते हैं कष्ट-डा.विशाल गर्ग हरिद्वार, 18 जुलाई। राष्ट्रीय भागवत परिवार के राष्ट्रीय संरक्षक डा.विशाल गर्ग ने सुभ...