विचार जागृति मंच ने किया महिलाओं को सम्मानित



हरिद्वार 7 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर विचार जागृति मंच ने मातृशक्ति को सम्मानित किया तथा विचार जागृति मंच के विभिन्न दायित्वो से उन्हें नवाजा भी गया,, इसी क्रम में रघुनाथ  मंदिर पांडे वाला के जलेश्वर भवन में आयोजित इस संगोष्ठी में विचार जागृति मंच का विस्तार किया गया,, संगोष्ठी में उन सभी सहयोगियों को भी सम्मानित किया गया जिन्होंने भव्य श्री राम रथ यात्रा को सफल बनाने में अपना अपूर्व योगदान दिया था,, संगोष्ठी में विचार जागृति मंच के संस्थापक अध्यक्ष सुधीर शर्मा तथा संस्थापक महामंत्री विशाल गर्ग ने संस्था के उद्देश्य तथा भावी जागरूकता के अभियानों पर भी विस्तार से जानकारी दी, कोषाध्यक्ष गौरव चक्रपाणि ने सभी अतिथियों का माल्यार्पण कर और शाल ओढ़ा कर स्वागत किया,, ज्ञात रहे की सन 1917 में पहली बार रोटी और शांति की मांग के लिए रूस में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन महिलाओं द्वारा किया गया था,जिसके चलते तत्कालीन  जार को सत्ता से हाथ धोना पड़ा था,, तभी से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को मनाया जाता है ,,,,इसी संदर्भ में विचार जागृति मंच द्वारा पांडे वाला रघुनाथ मंदिर के जालेश्वर भवन में विचार जागृति मंच की संगोष्ठी का आयोजन किया गया ,,,जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में पद्म श्री डॉक्टर बी के एस संजय ने शिरकत की,,,, सभी अतिथियों के स्वागत के साथ ही कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विचार जागृति मंच अध्यक्ष सुधीर शर्मा ने कहा की विचार जागृति मंच समाज में पैर पसारती सामयिक विषमताओं को लेकर समाज में सक्रिय है और इन्हीं विषमताओं को दूर करने के लिए विचार जागृति मंच जन जन तक जागरूकता अभियान चलाने के लिए अग्रसर है,उन्होंने कहा कि संस्कार विहीनता या युवाओं की दिशाहीनता की बात हो या महिलाओं की स्तिथि को मजबूत करने का विषय हो ,या घरों में बेटियों के साथ उपेक्षा का व्यवहार हो इन सभी विषयों को लेकर विचार जागृति मंच बेहद सक्रिय रूप से समाज के बीच अपना कार्य कर रहा है,, संस्थापक महामंत्री डॉक्टर विशाल गर्ग ने कहा कि विचार जागृति मंच सभी को एकजुट करके समाज में फैली विषमताओं को दूर करने के लिए जागरुक कर रहा है तथा वह उन्हें उनके कर्तव्य और अधिकारों की प्रति भी जागरूक कर रहा है,इसी क्रम में उन्होंने कहा  कि केंद्र और सरकार की अन्य कई योजनाएं सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध हैं लेकिन लोग कर्तव्य की तो बात अलग अपने अधिकारों के प्रति भी जागरूक नहीं है इसी जागरूकता को जन-जन तक पहुंचाने के लिए विचार जागृति मंच का विस्तार किया जा रहा है, उन्होंने कहा कि किसी भी समाज का लगभग आधा हिस्सा  मातृशक्ति होती है और आज वही देश तरक्की कर सकता है कि जिसका मातृशक्ति के रूप में आधा हिस्सा भी बेहद सक्रियऔर मजबूत होकर आगे बढ़े,,, उन्होंने इस सगोष्ठी में कई महिलाओं को दायित्व से भी नवाजा और उन्हे सम्मानित भी किया,, इसी क्रम में अनिल कौशिक जिला अध्यक्ष ने कहा कि हम सब समाज के उत्थान के लिए एकजुट हो तथा आगे बढ़े,,विचार जागृति मंच की जिला मंत्री ज्योति शर्मा ने सभी महिलाओं का आह्वान किया कि आज हमे अपने अधिकार और कर्तव्यों के प्रति जागरूक तथा एकजुट होना होगा तथा हम जिस भी उत्सव को मनाए तो  पूरे मन से मनाये,, ज्योति शर्मा सहित,,प्रज्ञा वशिष्ठ,और पूनम चौहान आगामी 21 मार्च को होने वाली ब्रज रस यात्रा में अपना भरपूर योगदान देने के लिए सभी महिलाओं से अपील की,  संगोष्ठी में अनिल कौशिक , विश्वास सक्सेना, विनीत धीमान , राम खत्री , संदीप खन्ना ,प्रतीक , एवं एडवोकेट प्रशांत राजपूत, करुण पंडित, सचिन लुतीया ,,विक्रम सिंह नाचीज,, विजयपाल सिंह अनू शिवपुरी ,ज्योति शर्मा ,प्रज्ञा वशिष्ठ ,पूनम चौहान, लक्की राठौर ,दिव्यांश कुमार,संजय चौहान ऊर्फ दाताराम ,, आदि को संगठन के विभिन्न दायित्वो से नवाजा गया,,, राम रथ यात्रा में अपना अपूर्व सहयोग देने के लिए अभियान्श भारद्वाज, मुकुंजभगत, रजत अग्रवाल पत्रकार ,गौरव चक्रपाणि पत्रकार, विशाल चौहान उद्योगपति ,मोनू त्यागी उद्योगपति ,पूनम चौहान, संजय चौहान उर्फ दाताराम को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित  किया गया साथ ही मुख्य अतिथि डॉक्टर बी के एस संजय को भी साल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया,, कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष अनिल कौशिक द्वारा की गई तथा कार्यक्रम में मुख्य रूप से संरक्षक जगदीश लाल पाहवा,वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रदीप शर्मा, समन्वयक विजेंद्र पालीवाल,, संगठन मंत्री अशोक गिरी सहित अनेको पदाधिकारी और भारी संख्या में महिलाएं उपस्थित रही,,,, कार्यक्रम का संचालन जिला महामंत्री विश्वास सक्सेना ने किया कार्यक्रम का आयोजन कोषाध्यक्ष गौरव चक्रपाणि द्वारा किया गया

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...