टाट वाले बाबा जी की स्मृति में आयोजित वेदांत सम्मेलन का हुआ समापन


34 वाँ वार्षिक वेदान्त सम्मेलन का समापन : 


 इस सदी के विलक्षण संत थे टाट वाले बाबा : महेशी माता

हरिद्वार 7 दिसम्बर  परमपूजनीय प्रातः स्मरणीय वेदान्त वेता श्रीश्रीश्री टाट वाले बाबा जी के 34 वें वार्षिक वेदान्त सम्मेलन के समापन अवसर पर भक्ति एवं वेदान्त की गंगा गुरु वन्दना से बिरला घाट पर प्रवाहित हुई। दुर्लभ संत श्रीश्रीश्री टाट वाले बाबा जी महाराज के सानिध्य एवं संस्मरण प्रकट करते हुए बाबा के अनन्य शिष्य स्वामी हरिहरानंद भक्त जी महाराज ने कहा कि कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी कि बाबा जी में विरक्त्तता, त्याग कोटि-कोटि कूट कर भरा हुआ था, जिस प्रसिद्धि एवं नाम के लिए दुनिया सिर पटकती है, दर-दर की ठोकरे खाती है, थोड़ा सा दान देकर तख्तियां लटकवाने के लिए तलबगार रहती है, लेकिन टाट वाले बाबा जी ने कभी भी बखान नहीं किया। बाबा ने कभी भी अपना नाम, जाति, ग्राम, कुल आदि क कभी बखान नहीं किया। बाबा का कहना था कि शरीर, मिथ्या, उसका नाम मिथ्या, जाति मिथ्या है तो उस में प्रीति क्यों करें ? 

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे अखिल भारतीय युवा साधु समाज के अध्यक्ष एवं भागवताचार्य स्वामी रविदेव शास्त्री ने कहा कि उनका तो ब्रहमकुण्ड ही बिरलाघाट है, प्रत्येक स्नान पर्व पर अपने साधकों के साथ बिरला घाट पर टाट वाले बाबा जी के समाधि स्थल पर स्नान करके उनके दर्शनों का लाभ प्राप्त होता है। 

गूलर वाला से महेशी माता ने बाबा जी को नतमस्तक होते हुए कहा कि टाट वाले बाबा इस युग के विलक्षण संत थे। वेदान्त के अर्थ को स्पष्ट किया।  स्वामी कमलेशानंद ने टाट वाले बाबा को पुष्पांजलि अर्पित कर कहा कि वेदोें के पश्चात जब से संसार है तब से वेद है। सृष्टि अनादि है तो वे भी अनादि हैं। गुरु ने जैसा मंत्र दिया वैसा ही जप करना होगा। दूध का सार मक्खन होता है, ठीक उसी प्रकार वेदों का सार वेदान्त है। सभी को मक्खन निकालना नहीं आता है, उसी प्रकार वेदों का मक्खन निकालने की कला महापुरूष को ही होती है। 

परम श्रर्देय स्वामी हरिहरानंद महाराज गरीब दासीय परम्परा ने गुरु वंदना करते हुए कहा कि टाट वाले बाबा जी कहते थे कि अपने जीते जी अपनी मृत्यु का उत्सव मनाना शुरु कर दो, यह अत्यन्त ही यथार्थ सत्य है। जन्म के साथ मृत्यु परम सत्य है। 

महंत श्री दिनेश शास्त्री ने टाट वाले बाबा को श्रद्धासुमन अर्पित किये। वेदान्त सम्मेलन में आये भावना गौर,  स्वामी राम चन्द्र , स्वामी सीताराम,  शीला , नीरजा मेहता , दर्शन, महेश देवी, शारदा खिल्लन, रैना नैय्यर भावना, मधु गौर, अध्यक्षा रचना मिश्रा आदि ने श्रद्धासुमन अर्पित कर भजन प्रस्तुत किये। वेदान्त सम्मेलन का सफल संयोजन कर रहे डाॅ. सुनील कुमार बत्रा एवं संजय बत्रा ने गुरु वंदन करते हुए अपने संस्मरण प्रस्तुत किये। 

इस अवसर पर मुख्य रुप से रचना मिश्रा अध्यक्षा, गुरु चरणा अनुरागी समिति,  संजय बत्रा, विजय शर्मा, सुरेन्द्र बोहरा, दीपक भारती एड़, अश्वनी गौर,अनिल गौर, लव गौड़, मधु गौड़, रमा वोहरा, उदित गोयल, भावना गौड़,  शारदा खिल्लन, ईश्वर तनेजा, सुशील भसीन एडवोकेट,सुश्री रीना नैय्यर आदि श्रद्धालुगण एवं भक्तजन उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

श्री मानव कल्याण आश्रम में प्रारंभ हुआ ललिताम्बा वेद विद्यालय

 गोविंद गिरी देव ने किया ललिताम्बा वेद विद्यालय का शुभारंभ जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राज राजेश्वराश्रम महाराज की अध्यक्षता एवं श्रीमहंत देवा...