आयुर्वेद के क्षेत्र में पतंजलि ने बढाया एक और कदम



सम्पूर्ण विश्व में भारतीय संस्कृति व योग-आयुर्वेद को स्थापित करने की ओर पतंजलि ने बढ़ाया कदम


पतंजलि संस्थान तथा कोरिया के विश्वप्रसिद्ध देगू हानी विश्वविद्यालय के साथ समझौते पर हुए हस्ताक्षर

पतंजलि के सहयोग से कोरिया की चिकित्सा परम्परा को समृद्धशाली बनाएँगे: चैंग

दोनों संस्थानों का मिलन विश्व में परम्परागत ज्ञान की स्थापना में मील का पत्थर साबित होगा: आचार्य बालकृष्ण


राष्ट्रीय/हरिद्वार, 10 अक्टूबर।


पतंजलि संस्थान ने भारतीय संस्कृति व भारतीय की श्रेष्ठतम चिकित्सा पद्धतियों योग-आयुर्वेद को विश्व में पहुँचाने की ओर एक कदम आगे बढ़ाया है। यह अवसर था जब पतंजलि संस्थान तथा कोरिया के विश्वप्रसिद्ध विश्वविद्यालय देगू हानी विश्वविद्यालय के साथ समझौते पर हस्ताक्षर हुए। पतंजलि संस्थान का प्रतिनिधत्व पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण जी महाराज कर रहे थे।

इस अवसर पर Daegu Haany University के अध्यक्ष Byun Chang-hoon ने कहा कि हम गौरवान्वित अनुभव कर रहे हैं कि हमें भारत की आयुर्वेद और योग परम्परा के सबसे बड़े विश्वविद्यालय के रूप में पतंजलि के साथ समझौता करने का अवसर मिला है। अब हम भारत के इस ज्ञान से अपने विद्यार्थियों व शोधार्थियों को और ज्ञानवान कराने में सक्षम होंगे। उन्होंने पतंजलि के द्वारा किए जा रहे अनुसंधानपरक सेवा कार्यों की भूरि-भूरि प्रशंसा की। प्रेसिडेंट चैंग भविष्य में पतंजलि के सहयोग से कोरिया की चिकित्सा परम्परा को समृद्धशाली बनाने पर आश्वस्त दिखे।

इस अवसर पर आचार्य बालकृष्ण जी ने कहा कि भारतवर्ष में काम करने वाले भारतीय परम्परा योग-आयुर्वेद के सबसे बड़े संस्थान के साथ कोेरिया के सबसे बड़े संस्थान का मिलना भविष्य में पूरे विश्व में परम्परागत ज्ञान की स्थापना में मील का पत्थर साबित होगा। इस समझौते के माध्यम से दोनों संस्थान मिलकर सुखी, शांत, स्वस्थ एवं समृद्धशाली विश्व के निर्माण में बड़ी भूमिका निभाएँगे। हमें प्रसन्नता व पूर्ण विश्वास है कि इस कार्य का सम्पादन हम शीघ्रता से कर पाएँगे।

उन्होंने बताया कि Daegu Haany University कोरिया की ट्रेडिशिनल मेडिसिन सिस्टम और अनुसंधान के 12 विश्वविद्यालयों में से सबसे बड़ा एवं सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय है जहाँ अब पतंजलि के साथ मिलकर आयुर्वेद पर अनुसंधान का बड़ा कार्य किया जाएगा। साथ ही आयुर्वेद और योग के ज्ञान को कोरिया में स्थापित करने के लिए कोरिया के विद्यार्थी पतंजलि विश्वविद्यालय में अध्ययन के लिए भारत आएँगे और कोरियन मेडिसिन सिस्टम के ज्ञान अर्जन के लिए पतंजलि के अध्यापक और विद्यार्थीगण अपने ज्ञान का आदान-प्रदान करेंगे। भविष्य में हम उत्पादों के निर्माण एवं अनुसंधान के क्षेत्र में भी मिलकर काम करेंगे।

कार्यक्रम में Daegu Haany University के अध्यक्ष Byun Chang-hoon , उपाध्यक्ष मून सीप किम, प्रोफेसर सून ए. पार्क तथा उप-संकायाध्यक्ष व जनसंपर्क अधिकारी ची. चंग साँग उपस्थित रहे। आचार्य बालकृष्ण जी के नेतृत्व में पतंजलि की ओर से पतंजलि अनुसंधान संस्थान के उपाध्यक्ष एवं प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. अनुराग वार्ष्णेय, सुभारती विश्वविद्यालय, मेरठ के यूनिवर्सिटी रिसर्च कमेटी के वरिष्ठ सलाहकार डॉ. हीरो हित्तो आदि उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

मंगलौर विधानसभा बीजेपी जीतने जा रही है :- स्वामी यतिश्वानंद

  मंगलौर चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दी गई बूथो  की जिम्मेदारीयां भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री ने मंगलौर विधानसभा के भाजपा कार्यकर्त...