भाटिया भवन में पितरों की शांति के लिए हो रही है श्रीमद् भागवत कथा

 पितृपक्ष में श्रीमद् भागवत कथा श्रवण करना है कल्याणकारी :- आचार्य किशोर भाई 


हरिद्वार के श्रवण नाथ नगर स्थित भाटिया भवन में जामनगर गुजरात से आकर सैकड़ो श्रद्धालु भक्त पितृ पक्ष में श्रवण कर रहे हैं श्रीमद् भागवत कथा 


हरिद्वार 5 अक्टूबर ( संजय वर्मा )



पितृपक्ष में पितरों की मुक्ति के लिए श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन करवाना जहां अधोगति में पड़े हुए पितरों को मोक्ष का कारक बनता है वही आयोजको और श्रोताओं  को भी पुण्य की प्राप्ति होती है , भाटिया भवन में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के मध्य कथा व्यास आचार्य किशोर भाई शास्त्री ने श्रद्धालुओं को पितृ पक्ष में कथा का महत्व बताते हुए कहा कि गंगा तट पर श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन करवाना और श्रवण करना जहां परम कल्याणकारी है वही पितृपक्ष में इस प्रकार के अनुष्ठान पितरों को मुक्ति प्रदान करते हैं उन्होंने कहा कि श्रीमद् भागवत कथा अधोगति में पड़े हुए पितरों को मोक्ष प्रदान करते हैं इस प्रसंग को श्रवण करवाते हुए कथा व्यास  आचार्य किशोर भाई ने कहा कि श्रीमद् भागवत  कथा पितरों को मोक्ष प्रदान करती है इसका वर्णन गोकर्ण एवं धुंधकारी प्रसंग में श्रवण करने को मिलता है जिसमें गोकर्ण ने अपने भाई धुंधकारी को प्रेत योनि से मुक्त करने के लिए श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया जिसके प्रभाव से धुंधकारी को प्रेत योनि से मुक्ति प्राप्त हुई । भाटिया भवन में प्रतिवर्ष पितृपक्ष में गुजरात से आकर सैकड़ो श्रद्धालु भक्त श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन करवाते हैं इस वर्ष 1 अक्टूबर से 7 अक्टूबर तक जामनगर से नितेश भाई 200 श्रद्धालु भक्तों के साथ भाटिया भवन में ठहरकर श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन करवा रहे हैं, कथा के मुख्य यजमान नितेश  भाई ने बताया कि इस आयोजन में जामनगर, सुरेंद्रनगर राजकोट आदि क्षेत्रों से श्रद्धालु भक्त आकर अपने पितरों की आत्मा की शांति के लिए भाटिया भवन में गंगा घाट पर श्रीमद् भागवत कथा श्रवण कर रहे हैं यह आयोजन 1 अक्टूबर से 7 अक्टूबर तक चलेगा ,कथा के मध्य श्रवण नाथ नगर के आसपास से बड़ी संख्या में लोग कथा श्रवण करने आ रहे हैं ।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...