भाजपा ने विभाजन विभीषिका दिवस पर किया गोष्ठी का आयोजन


हरिद्वार 14 अगस्त ( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) भारतीय जनता पार्टी हरिद्वार द्वारा आज गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय स्थित इतिहास विभाग सभागार में विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस पर गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें चलचित्र के माध्यम से उस समय की विभीषिका के दंश को दिखाया गया एवं प्रदर्शनी भी लगाई गईl

14 अगस्त 1947 की तारीख कभी ना भूलने वाला दिन है इस दिन हमारे अनेकों भाई बहनों ने क्रूर यातनाएं सहकर जान गवाई आज भारतीय जनता पार्टी उन सभी भाई बहनों को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करती हैl

डॉ रमेश पोखरियाल निशंक, आदेश चौहान, अमरीश गर्ग , जिला अध्यक्ष संदीप गोयल एवं कार्यक्रम संयोजक सरदार निर्मल सिंह द्वारा विभाजन का दर्द झेल चुके रेवत लाल अरोड़ा एवं जयदयाल सचदेवा का माल्यार्पण कर एवं शॉल ओढ़ाकर स्वागत कियाl

जिला अध्यक्ष संदीप गोयल ने गोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि आज हमारे बीच पहुंचे रेवत लाल अरोड़ा एवं जयदयाल सचदेवा के द्वारा जो आपबीती बताई गई है इससे हमें एहसास होता है कि यह आजादी हमें कितनी बलिदानों के बाद मिली है 1947 से पूर्व जो विभाजन अंग्रेजों द्वारा किया गया उन्होंने  हमारे संस्कारों को तोड़ने का प्रयास करते हुए विभाजिनकारी नीति बनाई लेकिन आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अखंड भारत की परिकल्पना को साकार करने की ओर बढ़ रहे है और हमें गर्व है कि आज देश की बागडोर देश को जोड़ने वाले ताकतवर हाथों में हैं।

रानीपुर विधायक आदेश चौहान ने कहा कि आज जो हम विभीषिका स्मृति दिवस मना रहे हैं पूर्व की सरकारों ने इस पीड़ा का दंश झेल चुके हमारे भाई बहनों की कोई चिंता नहीं की यह चिंता भी देश के प्रधानमंत्री मोदी द्वारा की गई ताकि देश को मिली आजादी को हम अपनी पीढ़ी के सामने रखकर बता सके कि यह आजादी कितनी अनमोल है।

देश के वीर शहीदों को सम्मान देने का काम आज निरंतर जारी है दूसरी और गुलामी की मानसिकता से बाहर निकलने का आवाहन किया। अमृत काल के इस अवसर पर देश के प्रधानमंत्री ने अपील की है कि पूरे देश में मेरी माटी मेरे देश अभियान के अंतर्गत देश के गांव-गांव से कोने कोने से 7500 कलशो में मिट्टी लेकर यह अमृत कलश यात्रा देश की राजधानी दिल्ली पहुंचेगी और यहां अमृत वाटिका का निर्माण किया जाएगा यह देश भावना को बढ़ाने का काम करेगा।

स्मृति दिवस के अवसर पर मैं आज उन सभी परिवारों के प्रति विभाजन विभीषिका में बिछड़े या प्राण गवा चुके भाई बहनों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

इस दौरान विभाजन का दंश झेल चुके रेवती लाल एवं जय दयाल ने अपने पीड़ादाई संस्मरण को सबके साथ साझा किया और बताया कि किस प्रकार से हमने और हमारे परिजनों ने यातनाएं झेली है हमारे परिजनों के किस प्रकार अंग भंग कर यातनाएं दी गई हमारे परिजनों को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया आज उस बात को सोचकर भी रूह कॉप जाती है। लेकिन हमें विश्वास है जो भारत का विभाजन हुआ था वह बहुत जल्द अखंड भारत के रूप में देखने को मिलेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री एवं लोकसभा सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि आज 14 अगस्त के दिन विभाजन विभीषिका की पीड़ा सहने वाले लोगों को नमन कर रहे हैं।

आजादी के 1 दिन पहले जो विभाजन होकर देश का एक टुकड़ा पाकिस्तान के रूप में गया वह कष्टकारी दर्द है यह जिस कारण से हुआ जिनकी मानसिकता देश के टुकड़े टुकड़े करके सत्ता हासिल करना ही उनका उद्देश्य था। यह सब को पता है। विभाजन का दर्द झेल रहे लोगों का जिस प्रकार नरसंहार किया गया वह रूह कपआने वाला है हमारे देश के लोगों पर बर्बर अत्याचार किया गया आज मैं कहना चाहता हूं यह कार्यक्रम खानापूर्ति का कार्यक्रम नहीं है बल्कि उस दिन को याद करने का दिन है जिस दिन अखंड भारत के टुकड़े हुए वह अत्यंत कष्टकारी है। हमें अपने अंदर देशभक्ति का जज्बा अवश्य रखना चाहिए और हमें उन स्थानों पर अवश्य जाकर देखना चाहिए जहां हमारे स्वतंत्रता सैन्यानियों ने यातनाएं सहकर हमें आजादी दिलाने का काम किया जो पीढ़ी अपने अतीत को भूलती हैं वह अपनी संस्कृति को नष्ट करती है।

राष्ट्रवाद सर्वप्रथम होना चाहिए हमारे मन में देश के प्रति जज्बा होना चाहिए आज वक्त है संकल्प लेने का राष्ट्रीयता के विचार को आगे बढ़ाना चाहिए ।

 हम छोटी-छोटी बातों में उलझ कर अपने विचार को गिरने नहीं देंगे बल्कि भारत माता की जय जय कार करने का काम करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में देश की बागडोर सशक्त हाथों में है और देश का सम्मान पूरे विश्व में बड़ा है हम आज विश्व गुरु बनने की और अग्रसर हैं हमें इस पर गर्व होना चाहिए आज पूरी दुनिया भारत की ओर देख रही है यह सदी भारत की सदी है। कार्यक्रम के उपरांत सिंहद्वार से लेकर मौन जुलूस निकाला गया।

इस अवसर पर जिला महामंत्री आशु चौधरी, जिला उपाध्यक्ष जितेंद्र चौधरी, लव शर्मा, विकास तिवारी, रश्मि चौहान, आभा शर्मा, रजनी वर्मा, नेत्रपाल चौहान, नकली राम सैनी, ओमप्रकाश जमदग्नि, विमल कुमार ,सचिन शर्मा, अमरीश सैनी, मनीष कुमार ,विक्रम भुल्लर, संजय सिंह, डॉ प्रदीप कुमार ,मनोज शर्मा, अरुण आर्य, मंडल अध्यक्ष नागेंद्र राणा ,कैलाश भंडारी, हीरा सिंह बिष्ट, राजेश शर्मा, प्रणव यादव, अरविंद अग्रवाल, नेपाल सिंह, जितेंद्र सैनी ,अमित राज, पवन राठौड़, रंजीता झा, सुधा राठोर ,गीता कुशवाहा आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...