शांति कुंज में युवा कार्यशाला का हुआ समापन

 शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा कार्यशाला सम्पन्न



हरिद्वार 22 अगस्त ( अमर शदाणी संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में मध्यप्रदेश के गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ताओं की तीन दिवसीय युवा कार्यशाला का आज समापन हो गया। कार्यशाला में मप्र में किये जा रहे वृक्षारोपण, नारी जागरण, युवा जागरण, कुरीति उन्मूलन आदि रचनात्मक व सुधारात्मक कार्यक्रमों की समीक्षा की गयी। साथ ही अखिल विश्व गायत्री परिवार की संस्थापिका माता भगवती देवी शर्मा की जन्म शताब्दी वर्ष 2026 की कार्ययोजनाओं को मूर्त रूप देने हेतु रूपरेखा तैयार की गयी। मप्र से आये युवाओं ने अपने अपने क्षेत्रों में चलाई जा रही गतिविधियों की जानकारी दीं तथा भविष्य की कार्ययोजनाओं पर मार्गदर्शन हेतु शांतिकुंज का आभार माना।

प्रतिभागियों से भेंट परामर्श के क्रम में संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने कहा कि आज दुनिया भारत की ओर आशा भरी निगाहों से देख रही है। हम ऋषियों की संतान है। उनकी गरिमा को अक्षुण्य बनाये रखने के लिए मिल-जुलकर कार्य करना है।  मुझे विश्वास है कि हमारे नैष्ठिक कार्यकर्ता भाई बहिन इस दिशा में सार्थक पहल करते हुए भारत को पुनः विश्व गुरु की आसंदी तक पहुंचा देगा।

युवाओं को संबोधित करते हुए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि वर्ष २०२६ परम वन्दनीया माता जी की जन्मशताब्दी वर्ष है। उन्होंने कहा कि युवावर्ग जाग जायें, तो राष्ट्र का जागरण संभव है। राष्ट्रीय जोनल समन्वयक डॉ. ओपी शर्मा ने तन को स्वस्थ रखने के लिए योग तथा मन को पवित्र बनाने के लिए नियमित रूप से गायत्री महामंत्र का जप करने के लिए प्रेरित किया। युवा प्रकोष्ठ के समन्वयक श्री केदार प्रसाद दुबे ने कहा कि युवा असंभव कार्य को संभव बना सकता है। बशर्ते वह सही दिशा एवं मार्गदर्शन के साथ आगे बढ़ता जाय। श्री शरणशरण श्रीवास्तव, श्री योगेन्द्र गिरि, श्री आशीष सिंह आदि ने भी कार्यशाला को संबोधित किया।

शिविर समन्वयक ने बताया कि इस कार्यशाला में मप्र के भोपाल, देवास, उज्जैन, खरगोन, रीवा, सतना, सीधी, ग्वालियर सहित ५२ जिलों के दो सौ से अधिक युवाओं ने भागीदारी की। इस दौरान व्यसन मुक्ति, वृक्षगंगा जन अभियान, आदर्श गाँव, युवा जोड़ों अभियान जैसे रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने के लिए युवाओं को संकल्पित कराये गये।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...