सीएमओ ने किया कांवड़ मेले में चिकित्सा शिविरों का


कांवड़ मेले के चिकित्सा



शिविरों का मुख्य चिकित्साधिकारी ने किया निरीक्षण

 हरिद्वार 13 जुलाई ( संजय वर्मा )कांवड मेला के दौरान स्थायी चिकित्सालयों के साथ-साथ अस्थाई चिकित्सा शिविरों के माध्यम से शिवभक्त कांवड़ियों,श्रद्धालुओं एवं यात्रियों की प्रतिदिन चिकित्सा की जा रही है। मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 मनीष दत्त ने नोडल अधिकारी डा0 आर0 के0 सिंह एवं सेक्टर प्रभारी डा0 नरेश चौधरी के साथ नगरीय क्षेत्र हरिद्वार के अस्थाई चिकित्सा शिविरों शंकराचार्य चौक, बैरागी कैम्प, मनसा देवी मध्य मार्ग, हरकी पैड़ी,रोडी बेलवाला, पंतद्वीप, चमगादड़ टापू, चण्डीघाट, चण्डीचौक, जटवाड़ा पुल ज्वालापुर का निरीक्षण किया तथा वहां उपचार करा रहे शिवभक्त कांवडियों/श्रद्धालुओं से हाल चाल जाना साथ ही साथ चिकित्सा शिविरों में चिकित्सा सेवा दे रहे चिकित्सक, रेडक्रास स्वयं सेवकों, पैरा मेडिकल स्टाफ का हौंसला अफजाई भी किया एवं नगरीय क्षेत्र हरिद्वार के चिकित्सा शिविरों के सेक्टर प्रभारी डा0 नरेश चौधरी को निर्देशित किया कि चिकित्सा शिविरों पर ड्यूटी करने वाले चिकित्सकों एवं अन्य कर्मचारियों को कोई समस्या नहीं होनी चाहिए यदि उनको कोई समस्या है तो उसको तुरन्त निस्तारित किया जाये तथा आवश्यक दवाईयों की आपूर्ति भी समय से होती रहे। मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 मनीष दत्त ने कहा कि कांवड़ मेले में अपने अपने दायित्वों का निर्वहन करना भी एक सच्ची सामाजिक सेवा है जिसका पुण्य सेवा करने वाले को प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से अवश्य मिलता है और जो आत्म संतुष्टि मिलती है वह अतुलनीय है तथा जीवन का सबसे बडा पुरस्कार है। सेक्टर प्रभारी डा0 नरेश चौधरी ने अवगत कराया कि जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल की विशेष पहल पर इस वर्ष इण्डियन रेडक्रास द्वारा सभी चिकित्सा शिविरों पर चिकित्सकों एवं कर्मचारियों के साथ स्वास्थ्य विभाग को विशेष सहयोग किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी स्वास्थ्य डा0 आर0 के0 सिंह ,  चिकित्सा सेक्टर प्रभारी डा0 नरेश चौधरी एवं व्यवस्था प्रभारी अवनीश कुमार उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...