शायरो की महफिल

 ग़ज़ल 


वो हमें क्या याद आने लग गए।

जख्म दिल के मुस्कुराने लग गए।।


बेयकींनी आज इतनी बढ़ गई।


यार हमको आजमाने लग गए।।


देखकर अहबाब सब हैरान हैं।

हम कमाने और खाने लग गए।।


भीड़ में हम और तन्हा हो गए।

वो हमें जब याद आने लग गए।।


याद जो उनकी दिलाते थे हमें।

अब के वो मौसम ठिकाने लग गए।।


हिचकियां ही हिचकियां आने लगी।

वो हमें जब भी भुलाने लग गए।।


खैर हो अब जिंदगी की खैर हो।

अब तो वो मिलने मिलाने लग गए।।


दर्द गढ़वाली, देहरादून 

09455485094

No comments:

Post a Comment

Featured Post

श्री मानव कल्याण आश्रम में प्रारंभ हुआ ललिताम्बा वेद विद्यालय

 गोविंद गिरी देव ने किया ललिताम्बा वेद विद्यालय का शुभारंभ जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राज राजेश्वराश्रम महाराज की अध्यक्षता एवं श्रीमहंत देवा...