डॉ प्रणव पंड्या के सानिध्य में शांतिकुंज में मनाया गया योग दिवस


 शांतिकुंज ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस उत्साह के साथ मनाया

भारत, अमेरिका, इंग्लैण्ड सहित बीस से अधिक देशों में भी कराया योगाभ्यास 

निबंध प्रतियोगिता में गंभीर्या पटेल, तो योगासन में यथार्थ विजयी

हरिद्वार २१ जून।(अमर शदाणी संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) 


गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में आठवाँ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस उत्साह के साथ मनाया गया। इस मौके पर सभागार आयोजित कार्यक्रम का देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या एवं वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर शुभारंभ किया।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि योग केवल तन और मन को पुष्ट ही नहीं करता है। वरन् यह हमारी मानसिक और आध्यात्मिक विकास के लिए प्रगति के द्वार भी खोलता है। उन्होंने कहा कि भारतीय प्राच्य विद्या का कोश अनेकानेक रत्नों से भरा हुआ है। योगदर्शन उनमें से एक है, जो व्यक्ति की उच्च से उच्चतर, उच्चतम सोपानों पर चढ़ने की विद्या का प्रशिक्षण देता है। योग साधना जो योगदर्शन के अंतर्गत विभिन्न पद्धतियों के माध्यम से सिखाई जाती है जो एक  विशुद्ध विज्ञान है। 

इस अवसर पर विश्व स्वास्थ्य संगठन में योग विशेषज्ञ एवं प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि योग केवल तन को ही सुुदृढ़ ही नहीं बनाता, वरन् मन को एकाग्रता और स्थिर करने में सहायक है। योग जीवन की संभावनाओं को आगे बढ़ाता है। 

इससे पूर्व संगीत विभाग के भाइयों ने सुमधुर गीतों से उपस्थित साधकों, योगाचार्यों के तन मन को योग के मानसिक रूप से तैयार किया फिर देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के उच्च प्रशिक्षित योगाचार्यों ने भारत सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार योगाभ्सास कराया। इस अवसर पर देसंविवि द्वारा आनलाइन आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किये गये। सीधी मप्र के आलोकमणी शर्मा, बालोद छग की गंभीर्या पटेल, सीध मप्र के आलोकमणी, शांतिकुंज के चन्द्रेश साहू, अल्मोडा के यथार्थ जोशी, दीक्षा जोशी, हरियाणा के शिवम राज, अल्मोडा के हिमांशु परगाई ने अपने  अपने वर्ग में प्रथम स्थान प्राप्त किया। इनमें योगासन, निबंध, स्वरचित कविता, श्लोक पाठ, पोस्टर सहित विभिन्न प्रतियोगिताएँ शामिल हैं। 

वहीं शांतिकुंज मीडिया सेल के अनुसार देवसंस्कृति विश्वविद्यालय एवं शांतिकुंज परिवार के योगाचार्यों ने उत्तराखण्ड सहित कई राज्यों के राजभवन, देश भर के सामूदायिक भवनों, गायत्री शक्तिपीठों, जोन संगठन कार्यालय, उपजोनों सहित अमेरिका, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका, लातविया, लिथुआनिया, इंग्लैण्ड सहित बीस से अधिक देशों में योगाभ्यास कराया। 

गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. पण्ड्या से केन्द्रीय मंत्री ने की भेंट

केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री श्री गिरिराज सिंह एवं उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक शांतिकुंज पहुंचे। इस दौरान उन्होंने अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या व श्रद्धेया शैलदीदी से भेंट किया। प्रमुखद्वय ने केन्द्रीय मंत्री एवं पूर्व मुख्यमंत्री को युवाओं के विकास सहित समाज के प्रत्येक वर्ग को ध्यान में रखते हुए कार्य करने के लिए आवाहन किया। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि योग दिवस के मौके पर शांतिकुंज आकर मन को शांति एवं सुकुन मिला है। श्री निशंक ने कहा कि श्रद्धेय डॉ. साहब से मिलकर नई ऊर्जा मिलती है।

वहीं केन्द्रीय मंत्री एवं पूर्व मुख्यमंत्री ने देवसंस्कृति विवि शांतिकुंज स्थित बाल्टिक सेंटर का अवलोकन किया और प्रज्ञेश्वर महादेव की पूजा अर्चना की। इस दौरान उन्होंने देवसंस्कृति विवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या से भेंटकर विवि द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न प्रकल्पों की विस्तृत जानकारी ली। प्रतिकुलपति डॉ. पण्ड्या ने श्री सिंह जी एवं श्री निशंक जी को युग साहित्य एवं गायत्री मंत्र लिखित चादर ओढ़ाकर सम्मानित किया।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

श्री मानव कल्याण आश्रम में प्रारंभ हुआ ललिताम्बा वेद विद्यालय

 गोविंद गिरी देव ने किया ललिताम्बा वेद विद्यालय का शुभारंभ जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राज राजेश्वराश्रम महाराज की अध्यक्षता एवं श्रीमहंत देवा...