शायरों की महफिल

 ग़ज़ल 


यार उससा हमें जब मिला ही नहीं।

इश्क हमको दुबारा हुआ ही नहीं।।



आप क्यों उठ गए बज्म से क्या हुआ।

दिल हमारा अभी तो भरा ही नहीं।।


शाम ही शाम है जिस तरफ देखिए।

सुब्ह का कुछ यहां तो पता ही नहीं।।


अश्क बहते मुसलसल रहे आंख से।

कुछ किसी ने किसी से कहा ही नहीं।।


लोग सब तो यहां देवता हो गए।

आदमी का कहीं कुछ पता ही नहीं।।


आप क्यों इस तरह रूठकर चल दिए।

आप से तो हमें कुछ गिला ही नहीं।।


बस जिए जा रहे अनमने से सभी।

बात क्या है कोई बोलता ही नहीं।।


दर्द गढ़वाली, देहरादून 

09455485094

No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारत विकास परिषद पंचपुरी शाखा ने फलदार पौधे किये रोपित

 * भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया*    हरिद्वार 23 जुलाई भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने हरेला पर्व ...