शांतिकुंज में पुनर्बोधन शिविर का हुआ समापन

 युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति से जोड़ें :- श्री महेन्द्र शर्मा

शांतिकुंज में पांच दिवसीय पुनर्बोधन शिविर का समापन, ११ राज्यों की रही भागीदारी




हरिद्वार २५ फरवरी। (अमर शदाणी संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) 

शांतिकुंज ने कोरोना महामारी के बाद जन सामान्य में उत्साह बढ़ाने के उद्देश्य से शृंखलाबद्ध यज्ञीय आयोजन की रूपरेखा की तैयारी की है। इस निमित्त शांतिकुंज एवं विभिन्न राज्यों के चयनित प्रतिभागियों का पांच दिवसीय पुनर्बोधन शिविर का आयोजन हुआ। इस शिविर में मप्र, उत्तराखण्ड, राजस्थान, उप्र, गुजरात सहित ११ राज्यों के प्रतिनिधि शामिल रहे। शिविर में कुल १४ सत्र हुए, जिसमें विषय विशेषज्ञों ने विस्तृत जानकारी दी।

शिविर के समापन सत्र को संबोधित करते हुए शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री महेन्द्र शर्मा ने कहा कि किसी भी राज्य व देश के कर्णधार संस्कृतिनिष्ठ, संवेदनशील युवा होते हैं। ऐसे युवाओं को समय-समय पर मार्गदर्शन की आवश्यकता पड़ती है, जिससे वे अपने कार्यों को और अधिक गति दे सकें। इन दिनों इसी अभियान गायत्री परिवार में जुटा है। श्री शर्मा ने कहा कि कोरोनाकाल के बाद युवाओं के साथ-साथ सभी आयु वर्ग के मन को और अधिक सुदृढ़ बनाये रखने के लिए प्रेरित प्रोत्साहित करने होंगे। इसी उद्देश्य से देश के विभिन्न राज्यों में शृंखलाबद्ध यज्ञीय व विभिन्न रचनात्मक आयोजन किये जा रहे हैं। शांतिकुंज की केन्द्रीय टोली गाँव-गाँव, घर-घर जायेगी और लोगों में धर्म और संस्कृति से जोड़ने का कार्य करेगी। व्यवस्थापक श्री शर्मा ने कहा कि धर्म और संस्कृति से जुड़कर समय की पाबंदी के साथ बड़े से बड़ा कार्य को सुगमतापूर्वक किया जा सकता है और भारतीय संस्कृति को पुनः विश्व संस्कृति बनाने की दिशा में अपना योगदान दे सकते हैं। उन्होंने पौधारोपण, जल संरक्षण जैसे विभिन्न रचनात्मक कार्यों में युवा पीढ़ी को जुड़ने का आवाहन किया।

कार्यक्रम विभाग समन्वयक श्री श्याम बिहारी दुबे ने बताया कि उप्र, उत्तराखण्ड, बिहार, झारखण्ड, दिल्ली, जम्मू, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा आदि सहित कुल २२ राज्यों में १ मार्च से १५ जून तक देवपरिवार विस्तार कार्यक्रम के तहत विभिन्न आयोजन होंगे। इनके संचालन के लिए उच्च प्रशिक्षित केन्द्रीय टोलियाँ रवाना होंगी। उन्होंने बताया कि गायत्री परिवार के प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं श्रद्धेया शैलदीदी टोली को विदाई देंगे। पांच दिन चले इस शिविर को डॉ. ओपी शर्मा, प्रो विश्वप्रकाश त्रिपाठी, श्री केदार प्रसाद दुबे, प्रो. प्रमोद भटनागर, श्री परमानन्द द्विवेदी, श्री कैलाश महाजन, श्री योगेन्द्र गिरी जी, श्री नमोनारायण पाण्डेय आदि ने संबोधित किया।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

डॉ विशाल गर्ग ने भागवत व्यास पीठ से लिया आशीर्वाद

  भागवत कथा के श्रवण से दूर होते हैं कष्ट-डा.विशाल गर्ग हरिद्वार, 18 जुलाई। राष्ट्रीय भागवत परिवार के राष्ट्रीय संरक्षक डा.विशाल गर्ग ने सुभ...