पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण करें स्वयंसेवक. :-युद्धवीर सिंह

 *आरएसएस प्रान्त प्रचारक युद्ववीर ने किया ऋषिकुल विद्यापीठ में पौधारोपण* 

हरिद्वार। 2 फरवरी( वीरेंद्र शर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार) 


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारक युद्ववीर सिंह ने आज सुबह ऋषिकुल विद्यापीठ में पौधरोपण किया। 

इस मौके पर प्रान्त प्रचारक युद्ववीर ने स्वयंसेवको को पर्यावरण संरक्षण का संकल्प ध्यान दिलाते हुए कहा कि अब ठंड धीरे धीरे कम हो रही है। बसन्त आने वाला, प्रकृति भी अपने को पुनः सृजित करेगी। पेड़-पौधों पर पुराने पत्ते झाड़ कर नए पत्ते आएंगे, पौधे में नए फूल आएंगे। यह समय प्रकृति के अनुसार बेहद अनुकूल होता है। इसलिए सभी स्वयंसेवको को मिलाकर  पर्यावरण बचाने के लिए पौधरोपण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष नगर के स्वयंसेवको द्वारा पौधरोपण कर संरक्षण का हो बीड़ा उठाया था, वह अपने प्रयास से निरन्तर आगे बढ़ रहे है।इसी तरह सभी को मिलकर पर्यावरण संरक्षण की दिशा में प्रयास करना चाहिए। आरएसएस के नगर सञ्चालक डॉ. यतीन्द्र नाग्यान ने कहा सभी के सहयोग से पिछले वर्ष बैरागी कैंप-दक्षदीप आदि क्षेत्र में डेढ़ हजार से अधिक पीपल के वृक्ष लगाए गए। जिनमें समय-समय पर खाद पानी की चिंता स्वयंसेवकों द्वारा की जाती रही। परिणाम स्वरूप आज बैरागी कैंप से दक्ष दीप तक सैकड़ों की तादाद में वृक्ष 5-5,6-6 फुट के हो गए हैं. उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में निरंतर पेड़ों के संरक्षण व संवर्धन की योजना से कार्य किया जा रहा है। पर्यावरण प्रेमी डॉक्टर योगेश पांडे ने बताया कि ऋषिकुल विद्यापीठ में पिछले कई वर्षों से विभिन्न प्रजातियों के पेड़ पौधे लगाए जा रहे हैं। स्थानीय लोगों के सहयोग से ऋषिकुल विद्यापीठ में पौधारोपण का कार्य निरंतर चलता रहता है जो समाज के लिए प्रेरणादाई है। 

इस मौके पर आरएसएस के विभाग प्रचारक चिरंजीवी जी, जिला प्रचारक अमित कुमार, वरिष्ठ चिकित्सक डॉक्टर संजय शाह, नगर प्रचारक रमेश मुखर्जी, अमित त्यागी, उमेश मिश्रा, अनिल भारतीय, नवीन पंत, हर्षित त्रिपाठी, विशाल, ऋषभ, राजेंद्र आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारत विकास परिषद पंचपुरी शाखा ने फलदार पौधे किये रोपित

 * भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया*    हरिद्वार 23 जुलाई भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने हरेला पर्व ...