गुरुकुल कांगड़ी के छात्रों ने एन एस एस शिवर में किया रक्तदान


एनएसएस इकाई चार के  स्वयंसेवकों  ने विशेष शिविर के तीसरे दिन किया रक्तदान 


अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने स्वयंसेवकों को आपदा प्रबंधन के बताए नियम



हरिद्वार 16 मार्च गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय  इकाई चार  के एनएसएस स्वयसेवको ने 13 मार्च  से चल रहे  विशेष शिविर के अंतर्गत तीसरे दिन की शुरुवात योग  से की।   उसके बाद  स्वयंसेवकों एक दल ने सफाई कर श्रमदान किया । इस दौरान एक रक्तदान शिविर का आयोजित किया गया जिसमे कार्यक्रम अधिकारी डॉ० मयंक पोखरियाल सहित 13 स्वयंसेवकों ने रक्तदान किया।  स्वयंसेवक  अंकित, विवेक,  मेहुल गिरी, सुधांशु, अमोल  शुक्ला, प्रांजल ,दिलखुश, बिकास कुमार पंडित  ने श्रमदान  करते हुए गोबर और मिट्टी मिलाकर खाद तैयार की।  बौद्धिक सत्र के दौरान  आपदा प्रबंधन  एवम आकस्मिक सेवा पर विशेष व्याख्यान आयोजित किया गया जिसमे  मुख्य वक्ता के रूप में हरिद्वार के अग्निशमन अधिकारी भगवती प्रसाद पुरोहित  ने स्वयवको को आपात स्थिति में क्विक रिस्पॉन्स की महत्वपूर्ण जानकारी स्वयंसेवकों।  उन्होंने  आग बुझाने के लिए उपयोग में लाए जाने वाले सिलेंडर की विस्तृत जानकारी साझा की। उन्होंने संस्थाओं एवम भिन्न जगहों पर लगने वाली आग को बुझाने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी दी। सांस्कृतिक कार्यक्रम के शुभम गौतम, विश्वास, मोहित सांडिल्य, उमेर ने प्रेरक कविता पाठ,  देशभक्ति गीत , लक्ष्य गीत की प्रस्तुति दी। इस दौरान जिला  समन्वयक डॉ एस० पी० सिंह  ने  शिविर का निरीक्षण किया।  उन्होंने स्वयंसेवकों से शिविर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की जानकारी ली।  वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी डॉ० जगराम मीना ने स्वयंसेवकों का उत्साहवर्धन किया और उनको सांस्कृतिक प्रस्तुति  की प्रशंसा की।   कार्यक्रम अधिकारी डॉ० मयंक पोखरियाल ने निरीक्षण पर पहुंचे अधिकारी को विभिन्न कार्यक्रमो की जानकारी दी।  सांस्कृतिक कार्यक्रम का संचालन स्वयंसेवक संजीव कुमार एवम अयान  ने किया। कार्यक्रम के तीसरे दिन के सफल  आयोजन पर कुलपति प्रो० सोमदेव शतांशु एवम कुलसचिव प्रो० सुनील कुमार ने इकाई चार की शुभकामनाएं दी।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...