नेहरू युवा केंद्र के द्वारा एसएम जैन पीजी कॉलेज में किया गया भाषण प्रतियोगिता का आयोजन

 एस एम जे एन के देव सूर्य वंशी करेंगे जनपद हरिद्वार का प्रतिनिधित्व


हरिद्वार 9 जनवरी एस एम जे एन पी जी कॉलेज हरिद्वार के सभागार में आज जिला युवा अधिकारी नेहरू युवा केंद्र हरिद्वार द्वारा मेरा भारत -विकसित भारत @2047 भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के दौरान भाषण प्रतियोगिता में सत्रह प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया । जिनमे एस एम जे एन पी जी कॉलेज ,गुरुकुलकांगड़ी विश्वविद्यालय,तथा रुड़की से आए हुए प्रतिभागी सम्मलित हुए।इस मौके पर महाविधालय के प्राचार्य प्रोफेसर सुनील कुमार बत्रा ने विकसित भारत हेतु किए जाने वाले प्रयासों के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की सराहना करते हुए प्रतिभागियों को अपनी शुभेच्छाऐं प्रेषित की कार्यक्रम का सफल संचालन अधिष्ठाता छात्र कल्याण डा.संजय माहेश्वरी ने किया।निर्णायक मंडल की भूमिका का निर्वाह धर्मेन्द्र चौहान प्रधानाचार्य आदर्श बाल विद्या मंदिर जटबहादुरपुर, डा.सुगंधा वर्मा तथा डा मोना शर्मा ने किया ।नेहरू युवा केंद्र संगठन के कार्यक्रम सहायक धर्म सिंह रावत ने बताया कि युवा कार्यक्रम खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जिला स्तरीय इस भाषण प्रतियोगिता का अगला चरण राज्यस्तरीय प्रतियोगिता के साथ संपन्न होगा जिसमें प्रथम स्थान के विजेता को राज्य स्तरीय भाषण प्रतियोगिता में ₹ एक लाख,द्वितीय विजेता को ₹ पचास हजार तथा तृतीय स्थान के दो विजेताओं को ₹ पच्चीस हजार,पच्चीस हजार  की पुरुस्कार राशि से सम्मानित किया जाएगा जनपद स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान देव सूर्य वंशी का रहा जो आगे हरिद्वार जनपद का  उत्तराखण्ड राज्य में प्रतिनिधित्व करेंगे। द्वितीय स्थान पर कुमारी अपराजिता,तृतीय स्थान पर कुमारी अर्शिका,चतुर्थ स्थान पर आयुष डंगवाल तथा पंचम स्थान पर जाह्नवी नरूला रहें।अन्य प्रतिभागियों में तनुज बहुगुणा,जहान्वी कपूर,योगिता दुबे,नितिशा अग्रवाल,अंजुम,भावेश कुमार,मुस्कान,रिया कश्यप,निहारिका,अदिति सौदई,अक्षरा अरोड़ा,मोहन श्याम वशिष्ठ सम्मिलित रहे।अंत में सभी विजेताओं को स्मृति चिन्ह् एवं सर्टिफ़िकेट देकर सम्मानित किया गया।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...