भारत विकास परिषद का अधिवेशन हुआ संपन्न

 *मन की बात कहने का अधिकार सबका*: *श्याम शर्मा*            

हरिद्वार, 17 दिसम्बर। भारत विकास परिषद उत्तर मध्य क्षेत्र-1 के दो दिवसीय क्षेत्रीय अधिवेशन  के समापन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय महामंत्री श्याम शर्मा  ने कहा कि परिषद में सामान्य कार्यकर्ता को भी अपने मन की बात रखने का अवसर मिलना चाहिए। श्री शर्मा ने कहा कि पहले साधना से स्वयं को नियंत्रित करें फिर उसके बाद अन्य को नियंत्रित करने की सोचें। उन्होंने कहा कि वर्तमान में समाज में जो व्यापक परिवर्तन आ रहा है, उसे हम अपने कार्यकर्ताओं के माध्यम से देश भर में देखना चाहते हैं। राष्ट्रीय चेयरमैन प्रचार - प्रसार केशव दत्त गुप्ता ने कहा कि भारत इस समय संचार क्रांति का दौर चल रहा है जिसमें भारत विकास परिषद की भूमिका को रेखांकित किए जानें की आवश्यकता है। क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ तरुण शर्मा जी ने कहा कि देव भूमि हरिद्वार में इन दो दिनों में जो विचारों की गंगा बही, वह परिषद को एक नई ऊर्जा प्रदान करेंगी। तीनो क्षेत्रीय संयुक्त महामंत्री शरत चंद्रा, भगवान सहाय अग्रवाल और नवीन कुमार ने कहा कि भारत विकास परिषद का परिवार दिनोदिन बड़ा हो रहा है यह हमारे लिए गौरव की बात है।प्रांतीय अध्यक्ष बृज प्रकाश गुप्ता ने कहा कि भारत विकास परिषद का यह क्षेत्रीय अधिवेशन एक नई दिशा की ओर आगे बढ़ने का इशारा कर रहा है। उन्होंने ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज के मालवीय ऑडिटोरियम में आयोजित दो दिवसीय अधिवेशन को हरिद्वार में कर वाने के लिए परिषद के केंद्रीय पदाधिकारियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।अंतिम सत्र की शुरूआत करते हुए प्रांतीय महामंत्री मनीषा सिंहल ने कहा कि इस अधिवेशन में महिलाओं और युवा वर्ग ने इस तरह से बढ़चढ़ अपनी भागीदारी निभाई है वह परिषद परिवार के लिए शुभ संकेत है। संयुक्त रूप से मंच का संचालन करते रहते क्षेत्रीय महासचिव अनुराग दुबलिश ने कहा कि इस अधिवेशन में परिषद के पूरे भारत में से 8जोन की भागीदारी ने यह बात सिद्ध कर दी है कि भारत विकास परिषद हमेशा निम्नतम व्यक्ति की सेवा में समर्पित हैं। इस पूर्व कल शाम महिला सहभागिता सत्र में महिला एवं बाल विकास प्रकल्पों का परिचय और कार्यों पर परिचर्चा में मुख्य अतिथि के रूप में पंजाब नेशनल बैंक की सर्किल हेड श्रीमती सरिता सिंह ने कहा कि आज महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान बनाने में कामयाब हो रही है और परिषद महिलाओं के कल्याण हेतु जो प्रोग्राम चला रहा है उसमें हमारा बैंक हर क्षेत्र में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने को तैयार हैं। पीएनबी महिलाओं के लिए कई सारी योजनाएं चला रहा है। अब हमें परिषद परिवार से जुड़ कर अच्छा लग रहा है। वही तीनों क्षेत्रीय सचिव महिला एवं बाल विकास डॉक्टर संगीता सिंह, पाला मेहता, योगेश वशिष्ठ, प्रांतीय महासचिव मनीषा सिंहल तथा प्रांतीय महिला संयोजिका श्रीमती सुगंध जैन ने भी अपने विचार व्यक्त किए। वहीं दूसरी ओर कल देर शाम को बाहर से आये हुए अतिथियों के लिए एक सांस्कृतिक संध्या का भी भव्य आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व राज्य मंत्री डॉ प्रेम चंद्र शास्त्री ने भाग लेते हुए कहा कि आज युवा पीढ़ी को अपनी प्राचीन कला से पुनः जोड़ने की जरूरत है। सांस्कृतिक संध्या की शुरुवात भरत नाट्यम गुरु द्रोण शाखा देहरादून की सहज संगल ने गणेश वंदना से की। फिर विकास नगर देहरादून के बच्चों ने कई तरह के योग करतब दिखाए। संपर्क और अविरल गंगा शाखा रुड़की की ओर से प्रस्तुत की गई राम नृत्य नाटिका को देख कर अतिथि मंत्र मुग्ध हो गए। कोटद्वार शाखा की शिवानी गौड ने द्रोपदी संवाद नाटिका में अभिनय कर महाभारत काल की याद दिला कर सबका दिल जीत लिया। मेरठ प्रांत की शाखा ने शिवानी गौड को 5100रूपये का मंच पर ही नगद पुरस्कार दिया। रुचा का भक्ति गीत, मीनाक्षी आर्य के देश भक्ति गीत ने सभी को भावविभोर कर दिया। कत्थक गुरु संध्या जोशी ने गंगा अवतरण की मनमोहक नृत्य नाटिका से सब को झूमने पर मजबूर कर दिया। वही उत्तरकाशी की शाखा ने गढ़वाली लोक नृत्य प्रस्तुत कर उत्तराखंड की संस्कृति की याद दिला दी और अन्त में दुल्हन चली पर देश भक्ति नृत्य नाटिका प्रस्तुत कर महिला शक्ति का शानदार चित्रण किया। इस सांस्कृतिक संध्या में स्वागत अध्यक्ष की भूमिका पूर्व आई जी एस. एस.कोठियाल ने निभाई। इस अवसर पर प्रांतीय संयोजक अर्जुन दास भारद्वाज, डाक्टर रविंद्र कपूर,संगठन मंत्री ललित पांडे, प्रांतीय कोषाध्यक्ष रोहित कोचगवे ,प्रांतीय मीडिया प्रभारी अमित गुप्ता, विकास रत्न वैध एम.आर.शर्मा, बीना सिंह, अनिता गुप्ता,सीमा चौहान, अनुपमा गुप्ता,पंचपुरी शाखा अध्यक्ष एडवोकेट कुशलपाल सिंह चौहानआदि उपस्थित थे।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...