एसएम जै एन कॉलेज में वीर बाल दिवस पर हुआ आयोजन ,क्षय रोगियों को वितरित की गई पौष्टिक आहार किट

 *टीवी मुक्त बनाने के लिए निक्षय मित्र की योजना है कारगर : श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी*

 *काॅलेज में निक्षय पोष्टिक फूडकिट का वितरण*

*निक्षय पोष्टिक फूडकिट का द्वितीय चरण प्रारम्भ*

हरिद्वार 26 दिसम्बर, ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता गोविंद कृपा हरिद्वार ) एस.एम.जे.एन. काॅलेज में आज आन्तरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ द्वारा ‘प्रधानमंत्री टी.वी. मुक्त भारत अभियान-2.0  का आगा़ज आज अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद व काॅलेज प्रबन्ध समिति के अध्यक्ष श्री महन्त रविन्द्र पुरी जी महाराज, महामंडलेश्वर स्वामी रूपेन्द्र प्रकाश ,महामंडलेश्वर स्वामी प्रबोधानन्द गिरी जी महाराज, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. मनीष दत्त व काॅलेज के प्राचार्य प्रो. सुनील कुमार बत्रा माँ सरस्वती को पुष्प अर्पित कर एवं द्वीप प्रज्जवलित करके किया गया। 

प्रधानमंत्री टी.वी. मुक्त भारत अभियान’ के अन्तर्गत अध्यक्ष, काॅलेज प्रबन्ध समिति व अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी जी महाराज व काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा द्वारा क्षय रोगियों हेतु नि-क्षय पोष्टिक फूडकिट का वितरण किया गया। 

इस अवसर पर काॅलेज प्रबन्ध समिति के अध्यक्ष श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी महाराज जी ने माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रारम्भ किया गया टीबी मुक्त कराने के लिए इस अभियान की प्रंशसा की और कहा कि देश को टीवी मुक्त बनाने के लिए निक्षय मित्र की भूमिका काफी कारगर साबित हो रही है। अब इस योजना का द्वितीय चरण प्रारम्भ किया जा रहा है तथा   पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी, माँ मनसा देवी मन्दिर ट्रस्ट एवं एसएमजेएन पी जी कालेज के द्वारा 150 से अधिक पोष्टिक किटों का वितरण पुन: द्वितीय चरण का मासिक वितरण प्रारम्भ किया गया है। 

काॅलेज के प्राचार्य प्रो. डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने बताया आज काॅलेज परिवार द्वारा नि-क्षय मित्र योजना के अन्तर्गत  पौष्टिक फूडकिट किटों को क्षय रोगियों को सुपुर्द किया गया।

इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, हरिद्वार डाॅ. मनीष दत्त ने जानकारी देते हुए बताया कि  माँ मनसा देवी मन्दिर ट्रस्ट पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी एवं एस.एम.जे.एन. पी जी  कालेज ने पहले भी निक्षय मित्र योजना में बढ़-चढ़कर भाग लिया और  यह महाविद्यालय की इस परम्परा में एक ओर गौरवान्वित करने वाला क्षण है कि श्री मंहत रविन्द्र पुरी जी द्वारा  एक सौ पचास से अधिक क्षय रोगियों को गोद लिया जाना प्रस्तावित किया है।  पहले चरण में किये गए उल्लेखनीय कार्य के लिए राजभवन उत्तराखण्ड में महामहिम राज्यपाल महोदय द्वारा पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी एवं एसएमजेएन पी जी कालेज के प्राचार्य डॉ सुनील कुमार बत्रा को सम्मानित भी किया गया था। 

इस पहल के तहत नि-क्षय मित्र द्वारा टी.वी. रोगियों पोषण सहायता, नैदानिक सहायता और व्यवसायिक सहायता प्रदान की जा सकती है। उन्होंने बताया कि जो क्षय रोगियों को गोद लेकर पुष्टाहार के साथ भावनात्मक व सामाजिक सहयोग उपलब्ध करा रहे हैं, उन्होंने अन्य सामाजिक संगठनों व आम लोगों को भी क्षय रोगियों की मदद् के लिए आगे आने की अपील की। 

काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने बताया कि क्षय रोगियों को गोद लेकर भावनात्मक और सामाजिक सहयोग उपलब्ध कराये जाने के अच्छे परिणाम सामने आयेंगे। निक्षय मित्र मिलने से टीबी रोगियों को हौंसला बढ़ता है, जब उन्हें यह पता चलता है कि परिवार के अलावा समाज में ऐसे लोग हैं जो उनके साथ हैं और उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता करते हैं। वहीं नि-क्षय मित्र हर माह पुष्टाहार उपलब्ध करायेंगे। उन्होंने बताया कि  निक्षय मित्र योजना के अन्तर्गत फूडकिट वितरण कार्यक्रम में पोष्टिक किटों का वितरण भी किया गया। 

आन्तरिक गुणवत्ता प्रकोष्ठ प्रभारी डाॅ. संजय माहेश्वरी ने अपील की कि हम सभी का दायित्व है कि क्षय रोगियों को भावनात्मक सहयोग के साथ उन्हें पौष्टिक आहार उपलब्ध करवायें ताकि वे शीघ्र पूरी तरह से स्वस्थ हो सकें। यह सामुदायिक सहयोग से ही सम्भव हो सकता है। इस अवसर पर काॅलेज की डाॅ. अमिता मल्होत्रा तथा पूर्व छात्रा अनन्या भटनागर द्वारा अनेक भजन व देशभक्ति गीतों पर अपनी शानदार प्रस्तुति दी जिसकी समस्त अतिथियों ने मुक्तकण्ठ से प्रशंसा की। 

इस अवसर सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाईजर डाॅ. मौहम्मद सलीम,  डी टी ओ डाॅ. आर.के. सिंह, डाॅ. शादाब सिद्दकी, अनिल नेगी, मौ. सलीम, अवनीश कुमार, सौरभ कुमार, काॅलेज के डाॅ. जे.सी. आर्य, विनय थपलियाल, डाॅ. सुषमा नयाल, डाॅ. विनीता चौहान, श्रीमती रिचा मिनोचा, डाॅ. शिवकुमार चौहान, डाॅ. मनोज सोही, श्रीमती कविता छाबड़ा, श्रीमती रिंकल गोयल, डाॅ. लता शर्मा, डाॅ. आशा शर्मा, डाॅ. मोना शर्मा, डाॅ. रेनू सिंह, श्रीमती रूचिता सक्सेना, डाॅ. सुगन्धा वर्मा, डाॅ. सरोज शर्मा, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, प्रिंस श्रोत्रिय, विनीत सक्सेना, डाॅ. पुनीता शर्मा, कु. वन्दना सिंह मनोज मलिक, रंजीता आदि उपस्थित रहे।


*वीर बाल दिवस है सनातक संस्कृति की संघर्ष क्षमता का परिचायक : श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी*  

*वीर बाल दिवस पर आयोजित की गयी बौद्धिक गोष्ठी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम*

हरिद्वार 26 दिसम्बर, 2023  एस.एम.जे.एन.  पी जी काॅलेज में आज आन्तरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ द्वारा 10 वें सिक्ख गुरू गोविन्द सिंह जी के 04 वीर सुपुत्रों की शहादत की याद में माननीय प्रधानमंत्री द्वारा दिनांक 26 दिसम्बर, 2023 को प्रतिवर्ष वीर बाल दिवस मनाये जाने की घोषणा की गयी थी, उसी के तहत आज महाविद्यालय मे वीर बाल दिवस पर उनके संघर्ष, त्याग, वीरता एवं बलिदान पर महाविद्यालय स्तर पर एक सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस अवसर पर श्री महन्त रविन्द्र पुरी जी महाराज, अध्यक्ष अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद व काॅलेज प्रबन्ध समिति ने अपने सम्बोधन में महाविद्यालय प्रशासन को साधुवाद ज्ञापित किया और कहा कि  वीर बाल दिवस को सनातन संस्कृति की प्रतिरोधक क्षमता के रूप में देखा जाना चाहिए। 

मुख्य वक्ता के रूप में पलजिन्दर सिंह जी, निर्मल संतपुरा ने अपने सम्बोधन में कहा कि वीर बाल दिवस वास्तव में आक्रमणकारियों, आतताइयों के विरूद्ध गुरू गोविन्द सिंह और उनके चार वीर सुपुत्रों के संघर्ष को दिखाता है और जोकि सच्चे अर्थों में सनातन संस्कृति के मजबूत आधार का परिचायक है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को इतिहास की सही समझ होनी चाहिए ताकि आगे आने वाले समय में वह ऐसी विचारधाराओं और व्यक्तियों से सतर्क रह सके, जिनसे कि उनके समाज व संस्कृति को व्यापक रूप से खतरा है। उन्होंने वाहे गुरू जी का खालसा और वाहे गुरू जी की फतेह, के मंत्र के उच्चारण के साथ अपना सम्बोधन श्रोत्राओं के सम्मुख रखा। 

इस अवसर पर महामण्डलेश्वर परम पूज्य प्रबोधानंद गिरि जी महाराज ने चमकोर के युद्ध 1704 एवं फतेह सिंह और जोरावर सिंह के बलिदान सन 1705 के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि ऐसा युद्ध विश्व के इतिहास में कभी देखने को नहीं मिलता जबकि 40 सिक्ख योद्धाओं ने अपने पराक्रम के बल पर दस लाख से अधिक की मुगल फौज को मात दी। 

महामण्डलेश्वर परम पूज्य रूपेन्द्र प्रकाश जी महाराज ने  कहा कि धर्मरक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले गुरु गोविंद सिंह जी के वीर साहिबजादो बाबा जोरावर सिंह और बाबा फतेह सिंह को उनके बलिदान दिवस पर नमन किया।

उन्होंने कहा कि वीर साहिबजादो का सर्वोच्च बलिदान मातृभूमि और स्वधर्म की रक्षा के लिए हम सभी को सदैव प्रेरणा प्रदान करता रहेगा।

महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. सुनील कुमार बत्रा ने वीर बाल दिवस पर सम्बोधित करते हुए कहा कि महाविद्यालय युवा मस्तिष्कों में इतिहास बोध उत्पन्न करने के लिए समय समय पर ऐसे कार्यक्रम कराता रहेगा।  उन्होने सरदार उधम सिंह की जयंती पर उन को नमन करते हुए श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि देश आज पहला वीर बाल दिवस मना रहा है। यह राष्ट्र के लिए एक नई शुरुआत का दिन है। जब हम सभी अतीत में दिए गए बलिदानों के लिए अपने सर झुकाने के लिए नतमस्तक हैं। यह दिवस अनंत प्रेरणा का स्रोत  है। वीर बाल दिवस हमें देश के सम्मान की रक्षा के लिए 10 सिख गुरुओं के महान योगदान और सिख परंपरा के बलिदान को स्मरण कराता रहेगा। 

   इस अवसर पर अनिल  कुमार शर्मा, डॉ सजंय कुमार माहेश्वरी कार्यक्रम संयोजक, राजनीति विज्ञान अध्यक्ष विनय थपलियाल, डाॅ. मोना शर्मा, डाॅ. विनीता चौहान, दिव्यांश शर्मा, डाॅ. मिनाक्षी शर्मा, डाॅ. सरोज शर्मा, डाॅ. आशा शर्मा, डाॅ. लता शर्मा, डाॅ. विजय शर्मा सहित काॅलेज के कार्यालय अधीक्षक मोहन चन्द्र पाण्डेय, डाॅ. मनोज कुमार सोही मनोज मलिक, रंजीता आदि उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया गायत्री जयंती गंगा दशहरा महापर्व

  शांतिकुंज में गायत्री जयंती-गंगा दशहरा के महापर्व से लाखों को मिली संजीवनी विद्या भारत का जीवन दर्शन है गायत्री और गंगा ः डॉ पण्ड्या गायत्...