योगी आदित्यनाथ की प्रोफाइल


 *बहुत से लोग सोचते हैं कि उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री भगवा पोशाक पहनते हैं*

*इसलिए  एक "सन्यासी" हैं,*

लेकिन उनके बारे में जो तथ्य सामने आए हैं वो ये हैं - पढ़ें

▪️अजय मोहन सिंह बिष्ट  (ओरिजिनल नाम)                        सन्यास के बाद

योगी आदित्यनाथ

▪️एचएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से उत्तर प्रदेश के इतिहास में सर्वाधिक अंक (100%)

▪️योगी जी गणित के छात्र हैं, जिन्होंने बीएससी गणित स्वर्ण पदक के साथ उत्तीर्ण किया है।

▪️1972 में यूपी के एक पिछड़े पंचूर गांव में एक बेहद गरीब परिवार में पैदा हुए। वह अब 50 साल के हैं।

▪️भारतीय सेना की सबसे पुरानी गोरखा रेजीमेंट के आध्यात्मिक गुरु हैं। * नेपाल में योगी समर्थक का विशाल समूह है जो योगी को गुरु के रूप में पूजते हैं।

▪️मार्शल आर्ट में अद्भुत उत्कृष्टता। चार लोगों को एकसाथ हराने का रिकार्ड।

▪️उत्तर प्रदेश के जाने-माने तैराक। कई विशाल नदियां पार की।

▪️एक लेखा विशेषज्ञ जो कंप्यूटर को भी हरा देता है। प्रसिध्द गणितज्ञ शकुंतला देवी ने भी योगीजी की तारीफ की।

 ▪️रात में केवल चार घंटे की नींद।  रोजाना सुबह 3:30 बजे उठ जाते हैं।

  ▪️योग, ध्यान गोशाला, आरती, पूजा प्रतिदिन की दिनचर्या है।

 ▪️दिन में दो बार ही खाते हैं..

 पूर्णतः शाकाहारी। भोजन में शामिल रहता है कन्द, मूल, फल और देशी गाय का दूध।

▪️वह अब तक किसी भी कारण से कभी अस्पताल में भर्ती नहीं हुए..

 ▪️योगी आदित्यनाथ एशिया के सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव प्रशिक्षकों में से एक हैं उन्हें वन्यजीवों से बहुत प्रेम है।।

▪️योगी का परिवार अभी भी उसी स्थिति में रहता है जैसा उनके सांसद या मुख्यमंत्री बनने के पहले रहता था।

▪️योगी सालों पहले सन्यास लेने के बाद सिर्फ एक बार घर गए हैं। 

▪️योगी का सिर्फ एक बैंक अकाउंट है और कोई जमीन संपत्ति उनके नाम नहीं है और न ही उनका कोई खर्च है।

▪️अपने भोजन कपडे का खर्च वो स्वयं के वेतन से करते हैं और शेष पैसा राहत कोष में जमा कर देते हैं।

*ये है योगी आदित्यनाथ की प्रोफाइल..*

भारत में एक सच्चे लीडर की प्रोफाइल ऐसी ही होनी चाहिए। 

ऐसे संत ही भारत को फिर से विश्व गुरु बना सकते हैं।              

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️


🌹🌹जय श्री कृष्ण 🌹🌹

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...