अखिल भारतीय साहित्य परिषद ने मनाया हरेला पर्व

 अखिल भारतीय साहित्य परिषद हरिद्वार ने गुरु महिमा तथा पौधारोपण के साथ मनाया उत्तराखंड का राज्य पर्व हरेला*         


   हरिद्वार 17जुलाई ( संजय वर्मा)  अखिल भारतीय साहित्य परिषद जिला हरिद्वार ईकाई के द्वारा रघुनाथ मंदिर गुघाल मार्ग ज्वालापुर में गुरु पूर्णिमा एवं उत्तराखण्ड के राज्यपर्व हरेला को उत्साह एवं श्रद्धा भाव से मनाया गया।

कार्यक्रम का विधिवत प्रारंभ डा. ऋतुध्वज, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, अखिल भारतीय साहित्य परिषद एवं अखिल भारतीय साहित्य परिषद हरिद्वार के जिला अध्यक्ष श्री सचिन प्रधान, महामंत्री डॉ विजय त्यागी, उपाध्यक्ष श्री सरिता, सचिव श्री अभिनंदन गुप्ता ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन के साथ किया। कार्यक्रम का संचालन महामंत्री डा. विजय त्यागी जी ने किया। सभी आगंतुक बंधुओं एवं भगिनी के द्वारा ध्वजपूजन करने के पश्चात प्रार्थना करके ध्वजावतरण किया गया।

इस अवसर पर अखिल भारतीय साहित्य परिषद की हरिद्वार ईकाई के द्वारा उत्तराखंड के लोकपर्व हरेला को श्री रघुनाथ मंदिर मंदिर परिसर में फल, फूल एवं छायादार पौधों को लगा कर पौधारोपण करके  हर्षोल्लास से मनाया गया । पर्यावरण को समर्पित एवं उत्तराखंड संस्कृति का प्रतीक पर्व हरेला  प्रकृति वंदन का श्रेष्ठ माध्यम है और वर्तमान समय की प्रासंगिकता भी। जिला अध्यक्ष सचिन प्रधान ने कहा कि प्रकृति हमारी माता का स्वरूप होती है वह सदैव निश्छल भाव से हमारा पालन-पोषण करती है । हमारा भी कर्तव्य बनता है कि हम सभी वृक्षारोपण करके स्वयं की जिम्मेदारी का निर्वाह करें। डा. विजय ने कहा कि पेड भले ही एक लगाएं परन्तु उसका संरक्षण जरूरी है। महाभारत में कहा है कि 'दसपुत्र समो द्रुमः' अर्थात एक वृक्ष 10 पुत्रों के समान होता है, अतः हमें पेड़ों को अपनी संतान के समान संरक्षित करना चाहिए। इस अवसर पर अभिनंदन जी, डा सुशील कुमार त्यागी, श्री रजत बहुखंडी, मनोज जी, अरविंद  कुशवाहा जी, अश्विनी चौहान जी ,उमा सिंघल जी, अंशिका जी, बबीता जी, शीतल जी एवं  सरिता सिंह जी उपस्थित रहे। प्रसाद वितरण के साथ कार्यक्रम का  समापन हुआ।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

श्री मानव कल्याण आश्रम में प्रारंभ हुआ ललिताम्बा वेद विद्यालय

 गोविंद गिरी देव ने किया ललिताम्बा वेद विद्यालय का शुभारंभ जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी राज राजेश्वराश्रम महाराज की अध्यक्षता एवं श्रीमहंत देवा...