गणित जल्दी कैसे सीखे

Practice makes a man Perfect 

For Mastery in Any Subject You Have to do Practice as much as u can, But ya It Should be in a Right Direction.Read the Article it would definitely help you:-

 Set Your Goals:-


 लक्ष्यों को प्राप्त करने की कोशिश ही हमें बेहतर मानव बनाती है।

इसलिए सर्वप्रथम अपना लक्ष्य निर्धारित करें।इसका अर्थ है कि गणित को हल करने के लिए एक वर्ष,3 माह,एक माह,15 दिन,7 दिन तथा एक दिन के लक्ष्य निर्धारित करना है और उसमें तय करना है कि इतने समय में कितना सिलेबस कंप्लीट करना है?

लक्ष्य तय करने के बाद उसको पूरा करने के लिए आज से ही जुट जाइए।गणित के निर्धारित सिलेबस को पूरा करने के लिए अपनी दिनचर्या को उसके अनुसार विभाजित करें।

प्रात:काल की शुरुआत ध्यान व योग के साथ करें क्योंकि मन को एकाग्र,शांत करने के लिए ध्यान व योग आवश्यक है।

(2.)  कंसल्ट विद your टीचर or  गाइड (Consult a Mentor)-

गणित में आने वाली परेशानियों व समस्याओं को दूर करने के लिए एक परामर्शदाता की बहुत बड़ी अहमियत होती है।

इससे गणित की कई समस्याओं को हल करने में मदद मिलती है जिससे जीवन को सही दिशा मिलती है।

इसलिए आप भी गणित की कठिनाइयों को दूर करने के लिए परामर्शदाता या मेंटर का सहारा अवश्य लें।यह मेंटर आपका शिक्षक,मित्र तथा पुस्तकें हो सकती है।

आप अपनी कक्षा में अपने मित्रों से मधुर रिश्ते बनाकर रखें।उनके साथ गणित संबंधी समस्याओं को हल करने में वार्तालाप करें।इसके अलावा गणित से संबंधित नई-नई चीजों के बारे में अध्ययन करें।खुद को अपडेट रखने की कोशिश करें।इससे आगे बढ़ने के रास्ते खुद ब खुद बनते चले जाएंगे।

(3.)गणित में महारत हासिल करें (Mastery Mathematics)-

हर कार्यक्षेत्र में दक्षता की जरूरत होती है।ईमानदारी से कार्य करने पर ही इसे हासिल किया जा सकता है।

इसके लिए आपको खुद पहल करते हुए गणित में अपनी रुचि दिखानी होगी तभी गणित में महारत हासिल करने की ओर अग्रसर हो सकेंगे।

भविष्य के लिए आपने जो सपने देखे हैं रोज सुबह उठकर उन्हें स्मरण करें।अपने मन-मस्तिष्क को उसके अनुरूप तैयार करें ऐसा माने कि आप वह बन चुके हैं।

पूरे दिन में गणित में प्रगति के लिए क्या क्या कदम उठाए हैं,क्या अच्छा हासिल किया है,क्या गलतियां हुई इन सबका विश्लेषण रात को सोते समय करें और अगले दिन उसी के अनुरूप कार्य करें।अपने लक्ष्य के अनुरूप शरीर,दिमाग व मन को प्रशिक्षित करें।

आपने गणित में जो अच्छा किया है हमेशा अपने मित्रों के साथ शेयर करें।उन्हें कुछ और उनसे कुछ सीखें।यदि आपके किए गए अच्छे कार्य की प्रशंसा होती है तो उसे याद रखें जिससे आपके आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद मिलेगी।

(4.)स्वयं पर विश्वास रखें (Believe in yourself)-

क्या आपका दिल और दिमाग मानता है कि आपने गणित में जो लक्ष्य तय किया है,उसे हासिल कर सकते हैं?इसके लिए अपने आप पर विश्वास करना होगा।अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपने क्या तैयारी की है?उस पर ध्यान दें।

खुद में विश्वास पैदा करें कि आपने जो लक्ष्य बनाया है उसे प्राप्त कर सकते हैं।गणित में आगे बढ़ने का सबसे पहला कदम यही है।

गणित की समस्याओं को हल करने में अपने विश्वास और सहयोग से एक टीम बिल्डअप करें।निरंतर अभ्यास करने से आप परफेक्शन की ओर बढ़ते हैं।लगातार गणित को हल करते रहें ,असफल होने पर निराश ना हो।

Maths strong kaise kare

No comments:

Post a Comment

Featured Post

शांतिकुंज में प्रारंभ हुआ गंगा दशहरा गायत्री जयंती महापर्व

  अखण्ड जप के साथ दो दिवसीय गंगा दशहरा-गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ ऊँचा उठे, फिर न गिरे ऐसा हो इंसान का कर्म :- डॉ चिन्मय पण्ड्या हरिद्...