एस एम जे एन पीजी कॉलेज में यूक्रेन संकट पर हुआ गोष्ठी का आयोजन

 यूक्रेन संकट का शीघ्र समाधान विश्व में स्थिरता हेेतु आवश्यक

यूक्रेन संकट पर आन्तरिक गुणवत्ता प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित की गयी विचार गोष्ठी

हरिद्वार 26 फरवरी, 2022 ( आकांक्षा वर्मा संवाददाता  गोविंद कृपा हरिद्वार)   


 यूक्रेन संकट पर एस.एम.जे.एन. (पी.जी.) काॅलेज में आन्तरिक गुणवत्ता प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित की गयी विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया 

काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने अपने सम्बोधन में कहा कि यूक्रेन संकट का शीघ्र समाधान नहीं होने से भारत के मूलभूत राष्ट्रीय हितों को प्रभावित करेगा एवं शीघ्र ही इसका समाधान किया जाना आवश्यक है। इस विषय  विशेषज्ञों द्वारा विभिन्न बौद्धिक अथवा आर्थिक संगठनों के विचार अत्यन्त महत्वपूर्ण हैं। डाॅ. बत्रा ने भारत सरकार से आग्रह किया कि  अपने राष्ट्रहितों को ध्यान में रखते हुए आवश्यक तैयारियों को अंजाम दें। डॉ बत्रा ने आगे कहा कि रूस दुनिया में कच्चे तेल एवं गैस का प्रमुख निर्यातक है अगर पश्चिमी देश रूसी निर्यात पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाते हैं, तो इससे ईंधन की कीमतों में भारी वृद्धि हो सकती है विश्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, ईंधन आधारित वस्तुओं के रूसी निर्यात में 50 फीसदी से अधिक निर्भरता है

  रूस-यूक्रेन संकट के कारण ना केवल ईंधन की कीमतें बढ़ेंगी बल्कि इसका असर दूसरे कई अन्य उत्पादों पर भी पड़ेगा

 रूस दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण गेहूं उत्पादक देशों में से भी एक है युद्ध के कारण  खाद्य पदार्थ  भी महंगे हो जाएगें

अधिष्ठाता छात्र कल्याण डाॅ. संजय माहेश्वरी ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद उत्पन्न हुई शीत युद्ध की राजनीति और सोवियत संघ के विघटन की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालते कहा कि ऐतिहासिक अन्याय को पुनः आधार बनाकर रुस के द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण किया गया है और यह स्थिति अत्यन्त विचारणीय है जिससे भारत के मूलभूत राष्ट्रहितों को नुकसान पहुंच सकता है। उन्होंने कहा कि यह युद्ध स्थानीय से अन्तर्राष्ट्रीय न बने इसके लिए प्रयास किया जाना चाहिए। 

राजनीति विज्ञान के विभाग अध्यक्ष विनय थपलियाल ने कहा कि रुसी लोगों के राष्ट्रीय चरित्र के बारे में कहा जाता है कि वे राष्ट्रीय अपमान आसानी से भूलते नहीं और 1991 के बाद नाटो के पूर्व में प्रसार को रोकने का जो आश्वासन अमेरिका द्वारा दिया गया था उसके उल्लंघन होने के कारण पुतिन ने इस प्रकार की प्रतिक्रिया दी है। यद्यपि युद्ध को न्याय संगत नहीं ठहराया जा सकता तथा दोनों पक्षों को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आपसी वार्ता के आधार पर विवाद का समाधान करना चाहिए।

समाजशास्त्र विभाग के अध्यक्ष डाॅ. जगदीश चन्द्र आर्य ने अपने सम्बोधन में कहा कि लगभग 20000 छात्र-छात्राओं के यूक्रेन में फंसे होने के कारण भारत के राष्ट्रीय हितों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है तथा भारत सरकार को इनके यूक्रेन से सुरक्षित निकासी की प्रक्रिया सुनिश्चित करनी चाहिए। इसके अतिरिक्त आर्थिक प्रतिबन्धों का रुसी समाज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा जोकि रुस को अधिक से अधिक अन्तर्राष्ट्रीय व्यवस्था में अलग थलग कर सकता है। 

वैभव बत्रा और दिव्यांश शर्मा ने संयुक्त रुप से कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय विवाद का समाधान युद्ध के बजाए बातचीत की प्रक्रिया से निकाला जाना चाहिए एवं यही अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति को बनाये रखने का मूलभूत सिद्धान्त है। 

विचार गोष्ठी में मुख्य रुप से डाॅ. मन मोहन गुप्ता, डाॅ. सुषमा नयाल, डाॅ. अमिता श्रीवास्तव, श्रीमती रिंकल गोयल, डाॅ. सरोज शर्मा, डाॅ. आशा शर्मा, डाॅ. विनीता चैहान, डाॅ. मोना शर्मा, डाॅ. रेनू सिंह, अन्तिमा त्यागी, मोहन चन्द्र पाण्डेय सहित शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारी उपस्थित रहें

No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारत विकास परिषद पंचपुरी शाखा ने फलदार पौधे किये रोपित

 * भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया*    हरिद्वार 23 जुलाई भारत विकास परिषद की पंचपुरी शाखा ने हरेला पर्व ...